सदस्य:Divya kanodia/छठ पूजा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
छठ पूजा

छठ पूजा हिन्दी वैदिक त्योहार माना जाता हॅ। छठ पूजा छैठ, छठी, छठ पर्व, छठ पुजा, डाला छठ, डाला पुजा, सूर्य षष्ठी आदि के नाम से वी जाना जाता है। छठ पूजा पूर्वी उत्तर प्रदेश, भारत के उत्तरी बिहार और नेपाल के मिथिला राज्य मे मनाया जाता हॅ। छठ पूजा पर हम पृथ्वी पर जीवन का समर्थन करने के लिए सूर्य और उनकी पत्नी उषा को धन्यवाद करते हॅ। हिंदू धर्म में हम मानते हॅ कि सूरज कई गंभीर स्वास्थ्य की स्थिति, दीर्घायु, समृद्धि, प्रगति और कल्याण सुनिश्चित करता है।यह विक्रम संवत् में कर्थिका के महीने के छठे दिन मनाया जाता है। यह पर्व सिर्फ बिहार मे या उन जगहो जिनका नाम दिया हॅ, वहा हि नही मनाया जाता हॅ बल्कि यह भारत के अन्य जगहो पर वी मनाया जाता हॅ। छठ पूजा बंगाल,मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात, बेंगलुरु, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़ आदि जगहो पर भी किया जाता हॅ।छठ पूजा साल मे दो बार मनाया जाता हॅ। एक बार अप्रैल-मई ऑर दुसरी बार अक्टूबर-नवंबर मे।

इतिहास[संपादित करें]

Praying Devotees - Chhath Puja Ceremony - Baja Kadamtala Ghat - Kolkata 2013-11-09 4290.JPG

यह माना जाता है कि छठ पूजा से पहले से ही प्राचीन वेद ग्रंथों में ऋग्वेद में सूर्य भगवान की पूजा भजन होती थी और इसी तरह के अनुष्ठानों का वर्णन भी किया हुआ हॅ ।महाभारत मे द्रौपदी ने भी ऍसा उपवास किया था। द्रौपदी और पांडवों, इंद्रप्रस्थ के शासकों ने भी महान ऋषि धॉम्य की सलाह पर छठ अनुष्ठान किया था। सूर्य भगवान की उसकी पूजा के माध्यम से द्रौपदी केवल उस समय की तत्काल समस्याओं को हल करने में सक्षम नही थी बल्कि यह भी मदद हुइ की पांडव बाद में उनके खोए राज्य को फिर से हासिल कर पाये थे। काल के ऋषि इस विधि का इस्तेमाल बाहर के किसी भी भोजन का सेवन किए बिना रह कर वे सूरज की किरणों से सीधे ऊर्जा प्राप्त करने मे सक्षम रहते थे। यह छठ विधि के माध्यम से किया गया था। छठ पूजा का जश्न मना पीछे एक और इतिहास भगवान राम की कहानी है।यह माना जाता है कि भारत के राम और मिथिला की सीता ने उपवास रखा था और शुक्ला पक्ष में कार्तिक के महीने में भगवान सूर्य की पूजा की पेशकश की थी। उन्होने यह पूजा उनकी ताजपोशी के दौरान निर्वासन के १४ साल के बाद अयोध्या लौटने के बाद की थी। उस समय से, छठ पूजा हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण और पारंपरिक त्योहार बन गया हॅ और सीता की मातृभूमि जनकपुर में एक ही तारीख में हर वर्ष मनाया जाता है और बिहार के भारतीय राज्यों मे भी शुरू कर दिया गया हॅ।

छठ मॅया[संपादित करें]

Chhath Puja time.JPG

देवी जो प्रसिद्ध छठ पूजा के दौरान पूजी जाती है,वह छठी मैया के रूप मेंजा जानी जाती हॅ।छठी मैया वेदों में उषा नाम से जानी जाती है। वह सूर्य के प्रिय युवा पत्नी मानी जाती है। यह केवल पर्व है जो बढ़ती सूर्य और साथ ही सूरज की स्थापना दोनों का प्रतीक है। छठ पूजा एक ऐसा श्रेष्ठतम पर्व हैं जहाँ डूबते हुए सूर्य से प्रार्थना करते हुए व्रत का प्रारंभ होता है एवं सूर्योदय कि पूजा के पश्चात व्रत सम्पूर्ण होता हैं "जैसे कि जीवन के संचालन के लिए रात्रि का उतना ही महत्व है जितना दिन का।

रस्में और परंपराओं[संपादित करें]

Chhath Puja Koshi Bihar India.jpg

छठ स्नान और पूजा का त्योहार है,कि चार दिनों के लिए मुख्य घर से संयम और पूजा के अलगाव की अवधि का प्रकार है। इस अवधि के दौरान,पूजा पवित्रता देखने को मिलती है, और जो पूजा करते हॅ, वे एक कंबल पर फर्श पर सोते है। यही केवल एक पवित्र त्योहार है जिसमे किसी भी पंडित की कोई भागीदारी नही होती है। भक्त डूबते सूर्य को उनकी प्रार्थना की पेशकश करते हॅ और फिर अपनी महिमा मानते हुए उगते सूरज को पुजते हॅ क्योकि मौत के साथ ही नया जन्म शुरू होता है । यह सूर्य पूजन सबसे गौरवशाली फार्म के रूप में देखा जाता है।

नहाय खाए/कद्दु भात[संपादित करें]

छठ पूजा के पहले दिन,श्रद्धालुओं स्नान करते हैं कोसी नदी में, करनाली मे,या गंगा मे। फिर घर इन ऐतिहासिक नदियों के पवित्र जलको मे जाकर प्रसाद तैयार करते हॅ। वे अपना घर और आसपास राजनीति को साफ करते हैं।महिलाओं व्रता अवलोकन व्रातिन खुद को इस दिन पर केवल एक भोजन के लिए अनुमति देने का आह्वान किया करती हॅ। उस भोजन मे भी वह सिर्फ कद्दु भात ही खाती हॅ।

लोहनदा ऑर खर्ना[संपादित करें]

छठ पूजा के दूसरे दिन,व्रतिन पुरे दिन उपवास रखती हॅ, जो से सूर्यास्त के बाद शाम में समाप्त होता है। बस सूर्य और चंद्रमा की पूजा करने के बाद,खीर (चावल विनम्रता) का प्रसाद है, और रोटी(गेहूं के आटे की)ऑर केले परिवार और दोस्तों के बीच वितरित कर रहे हैं। व्रतिन २ दिन शाम को प्रसाद (खीर) के बाद ३६ घंटे के लिए पानी के बिना उपवास करती हॅ। जब वे खीर का प्रसाद खाती हॅ हॅ तो माना जाता हॅ की कोइ शोर नही होना चाहिए अगर होता हॅ तो व्रतिन आगे खाना नही खाती हॅ।

संध्या अर्घ्य / पहला अर्घ्य[संपादित करें]

इस दिन घर पर प्रसाद की तैयारी करते करते पुरा दिन खर्च किया जाता है। इस दिन की पूर्व संध्या पर, घर के सब लोग व्रतिन को एक नदी किनारे या तालाब के पास ले जाते हॅ जिससे वह डूबते सूर्य को प्रसाद (अर्घ्य) प्रस्ताव कर सके। यह छठ पूजा का वह चरण हॅ जिसमे भक्त सिर्फ डूबते सूर्य की पूजा करते है। इस अवसर लगभग एक कार्निवल है। व्रतिन के अलावा, वहाँ मित्रों और परिवार होते हैं,और कई प्रतिभागियों और दर्शकों,सभी मदद और पूजा का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए जाते हॅ। लोक गीत छठ की शाम को गाया करते हॅ।

उषा अर्घ्य / दूसरा अर्घ्य[संपादित करें]

छठ पूजा के अंतिम दिन,भक्त, परिवार और दोस्तों के साथ साथ, नदी किनारे सूर्योदय से पहले चले जाते हॅ उगते सूरज को प्रसाद (अर्घ्य) चराने के लिए। त्योहार व्रतिन द्वारा उपवास के टूटने के साथ समाप्त होता है। दोस्त, रिश्तेदार भक्तों के घरों जाते हॅ प्रसाद प्राप्त करने के लिए।

निष्कर्ष[संपादित करें]

Thekua Prasadam of Chhath Puja.jpg

मुख्य उपासक को परवैतिन बुलाया जाता हॅ, वे आमतौर पर महिलाएं होती हैं। हालांकि, पुरुषों की एक बड़ी संख्या को भी इस त्योहार का पालन करती हॅ। उनके परिवार की भलाई के लिए परवैतिन प्रार्थना करती हॅ,और उनके समृद्धि के लिए भी। एक बार एक परिवार छठ पूजा शुरू कर देता है,यह उनका कर्तव्य बन जाता हॅ हर साल प्रदर्शन करने के लिए और यह निम्नलिखित पीढ़ी को पारित कर दिया जाता हॅ।

सन्दर्भ[संपादित करें]

[1] [2][3]

  1. http://www.varanasi.org.in/chhath-pooja
  2. https://en.wikipedia.org/wiki/Chhath
  3. http://indiatoday.intoday.in/story/chhath-puja-bihar-hindu-fast-ganga-sun-god-rituals-kheer-culture-lifest/1/802653.html