सदस्य:Divya kanodia

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Divya kanodia
Divya kanodia.jpg
नाम दिव्या कनोडिया
जन्मनाम

दिव्या

real_name =दिव्या कनोडिया
लिंग स्त्री
जन्म तिथि १२ ११ १९९७
जन्म स्थान कोलकाता
निवास स्थान बेंगलूर्
देश Flag of India.svg भारत
नागरिकता भारतीय
जातियता भारतीय
शिक्षा तथा पेशा
पेशा छात्रा
महाविद्यालय हेम शिला मोडेल स्कूल
विश्वविद्यालय क्राइस्ट यूनिवर्सिटी
शौक, पसंद, और आस्था
शौक संगीत सुनना, किताब पढना,बॅटमिन्टन खेलना
धर्म हिन्दु
राजनीती स्वतंत्र
चलचित्र तथा प्रस्तुति हिंदी
पुस्तक हर तरह के

मे १८ वर्ष की छात्रा दिव्या कानोडिया हू ।दिव्या शब्द का अर्थ अलोकिक हॅ ।यह नाम मुझे मेरी मां ने दिया हॅ ।मुझे अपना नाम बहुत प्रिय हॅ ।मेरा जन्म १२ नवम्बर ,१९९७ मे हुआ हॅ । मेरे मित्र मुझे प्रेम से दिब्बा बुलाते हॅ । मेरे पिताजी का नाम श्री संतोष कानोडिया हॅ ।वे एसेयन्स पेंत्स के व्यापारी ऑर समाज सेवक हॅ । मेरी माताजी का नाम श्रीमती सुधा कानोडिया हॅ ।वे एक ग्रिहिणी हॅ ।मेरी माताजी हर तरह के काम करना जानती हॅ ।मेरा एक छोटा भाइ भी हॅ जिसका नाम चिराग हॅ। वह दसवी मे हॅ ।मेरे जीवन मे मेरे पिताजी ने मेरे अभिनेत्र का रोल निभाया हॅ ।जब भी मेरे जीवन में कोई भी परेशानी होती हॅ ,तो सबसे पहले उन्हे ग्यात हो जाता हॅ। जब भी कोई परेशानी होती हॅ ,वे किसी को भी पता नही देते हॅ ।मेरे मन की बातो को वे बिना कहे समझ जाते हॅ ।आज -कल के माता -पिता अपने बच्चो को समय नही दे पाते हॅ ,पर मेरे पिताजी ने हमेशा मेरे लिए समय निकाला हॅ ।उन्होने हमेशा मुझपे भरोसा दिखाया हॅ ।मेरे किसी मित्र के पिताजी ने अपने बच्चो को दुर्गापूर से बॅंगलॉर इतनी दुर परने नही भेजा पर मेरे पिताजी ने मुझे भेजा क्योकी मॅ चाहती थी ।मॅ अपने परिवार वालो से बहुत प्रेम करती हु ।जब जब मॅ दुखी हुआ करती थी तब वे हमेशा मेरे साथ हुआ करते हॅ ।जब मेरे बारहवी का परिणाम निकलने वाला था ,तब मॅ बहुत डरी हुई थी ,पर मेरे परिवार वालो ने हमेशा मुझे हिम्मत दी ।मेरा भाई जो मुझसे तीन साल छोटा हॅ ,उसने हमेशा मेरा साथ दिया । मेरी मां बहुत अच्छे से जानती हॅ कब मॅ खुश होती हु ऑर कब दुखी । मेरा जन्म कोमकाता में हुआ था ।बचपन से मॅं अपने माता-पिता ,दादा-दादी ऑर चाचा के साथ रही हु ।मॅने अपने सुरुआती शिछा कोलकाता में पायी हॅ। दुसरी कछा तक मॅं कोलकाता के अग्रेसन बालिका सिछा सदन विद्यालय में परि हु ।जब मॅं दुसरी कछा में थी तो मेरे पिताजी का तबादला हो गया दुर्गापूर मे जिसके वजय से हमे भी दुर्गापूर मे स्थानान्तरण करना परा ।जॅसे की हमे बर्रे नगर से छोटे नगर जाना परा तो हमे बहुत कष्ट हुआ था ।मेरे सारे दोस्तो बिछर जए थे ।नए विध्यालय मे जाकर फिर मॅने नए मित्र बनाए जिसमे काफी समय भी लग गया परंतु धिरे धिरे हमने प्रकर्ति को अपना लिया । शुरुआती शीछा मॅने कोलकाता मे पायी ,फिर मॅने अपनी दसवी,दुर्गापूर के सेन्ट माइकम स्कूल से किया ।दसवी में मॅ ८५% लायी थी ।बाद मे फिर मेरा दाखिला दुर्गापूर के हेम शीमा मोदेल स्कुल में हो गया।वहा मॅने कोमर्स लिया था ।मॅ ९५ %लायी थी बारहवी मॅं ,पुरे स्कुल मे मॅ चोथे स्थान पर आयी थी ।दो साल तक मॅ वहा थी ।फिर मेरा दाखिला क्राईस्ट युनिवर्सिटी,बॅगलोर मे हो गया ।आज मॅं बी.कॉम कर रही हु । आगे मॅ बी.कॉम के बाद एम.बी.ए करना चाहती हु ।भविष्य मे मॅ एक सफल प्रबंध कर्ता बनना चाहती हु । मेरी कई अच्छी बाते भी हॅ ।मुझे हमेशा मिल-झुलकर रहना पसंद हॅ ।मॅ जल्दी दुसरो से झगर नही पाती हु ।मुझे नए लोगो से मिलना ,नए मित्र बनाना बहुत पसंद हॅ ।मॅ थोरी प्रतियोगी स्वभाव की हु ।मुझे खाना बनाने का भी बहुत शॉक हॅ ।जॅसे कि मॅ अकेले अभी बॅंगलोर मे रह रही हु ,इस कारण मुझे कई घरेलु काम भी आते हॅ ।मेरी कई कमजोरिया भी हे ।मॅ दुसरो की बातो का बहुत जल्दी बुरा मान जाती हु ।मुझमे सहनशीलता बहुत ही कम हॅ ।मॅ दुसरो से अच्छे से व्यवहार करती हु ,जिस वजय से दुसरे कई बार मॉके का फायदा भी उथा लेते हॅ । मॅ कई चीजो मे रुचि रखती हु ।मुझे रंगोली बनाना ,बॅटमिन्टन खेलना ,न्रित्य करना बहुत पसंद हॅ ।मॅ हर साल दिपावली पर रंगोली बनाती हु ऑर हर साल हमारे कोलोनी मे होने वाले र्ंगोली प्रतियोगिता मे भी मॅ अपना नाम देती हु ।मुझे बचपन से ही हर तरह के खेलो मे रुचि हॅ ,चाहे वह बॅटमिन्टन हो,या क्रिकेट या बास्केटबोल पर मुझे बॅटमिन्ट्न बहुत प्रिय हॅ। हर शाम मॅ अपने मित्रो के साथ बॅटमिन्ट्न खेलती हु ।मॅने बास्केटबोल के प्रतियोगिता मे भाग लिया था ऑर फिनाले तक खेला पर फिनाले मे हार गए थे ।मुझे बचपन से न्रित्य का बरा शोक हॅ ।मॅने बचपन से न्रित्य सिखा भी हॅ ।मॅने हमेशा अपने स्कुल के वार्षिक प्रतियोगिता मे भाग भी लिया हॅ । मॅने कई पुरस्कार भी जीते हॅ ।जब मॅ दस वर्ष की थी ,तब मुझे न्रिन्य के लिए प्रथम पुरस्कार मिला था ।पिछले तीन वर्षो से मुझे अपनी कोलोनी के होली प्रतियोगिता मे सबसे बहतरीन रंगोली का पुरस्कार प्राप्त हुआ हॅ ।बारहवी कछा मे चोथी स्थान पर आने पर मुझे मेडल ऑर सरतीफिकेट मिला ।दसवी कछा मे मुझे कला के लिए भी सरतीफिकेट मिला था । दुर्गापूर मे मेरे कई मित्र थॅ ।आज भी मॅ उन्हे बहुत याद करती हु ,वे मेरे घर आया करते थे,मेरी मां उनके लिए खाना बनाती थी ।हम साथ में घुमते थे,मॉज करते थे,एक दुसरॅ को सारी बातॅ बताया करते थे ।कॅसे वे दो साल निकल गए हमे पता भी नही चला ।मेरे प्रिय मित्रो का नाम ऋतु,चांदनी ऑर नुपुर हॅ ।बारहवी के बाद हम सब अलग -अलग हो गए ।हम एक दुसरे का मदद किया करते थे ।आज भी हम मिलते हॅ,पुरानी बातो को याद करते हॅ ऑर अपनी नादानियो पर हसते हॅ ।हम हमेशा एक दुसरो का साथ देंगे ।मॅ ऑर नुपुर १२ साल से मित्र हॅ ।हम साथ मे साइकल चलाते थे ऑर एक ही विद्यालय मे परते थे ।ऋतु ऑर चांदनी ११ कछा मे मेरे मित्र बने ,वे हमेशा मेरा ख्याल रखते हॅ ।अगर हमरे बिच कोइ अन्न -बन्न हो जाती हॅ ,तो हम हसते हसते टीक कर लेते हॅ । जॅसे की मॅने आगे बताया कि मॅ क्राइस्ट युनिवर्सिटी मे अध्ययन कर रही हु। यहा भी मॅने कैई मित्र बनाए। उदिसा, जिसके नाम का ही अर्थ हॅ उगते सूर्य की किरने, वह मेरी ज़िन्दगी मे वॅसे ही आयी। मॅ बहुत डरी हुइ रहती थी क्योकि यह एक नया माहोल था। उरने मुझे रहना सिखाया ।वह मेरा बहुत ख्याल रखती हॅ। पहले वह मेरे साथ रहती थी परंतु उसका परिसर बदल गया ऑर वह दुसरे जगह चली गयी जो मेरे घर से 7.6 किमी दुर हॅ।पहले लगा था कि यह दुरी से हमारी दोस्ती भी कम हो जायेगी परंतु एसा नही हुआ। हम हर सप्ताह मिलते हॅ ऑर पहले की तरह ही मिलते हॅ। वह बहुत अच्छी है । आज वी उसे पता चले की मॅ दुखी हु,वह तुर्ंत आ जाती हॅ। वह एसे मेरा ख्याल रखती हॅ जॅसे कि मॅ बच्ची हु वॅसे तो वो मुझे बच्ची ही बुलाती हॅ। उसे देखने के बाद लगता हॅ कि दुनिया मे अच्छे लोग भी होते हे।मॅ उससे बहुत प्रेम करती हु। मैं बंगलौर में उसकी तरह एक दोस्त पाकर बहुत भाग्यशाली महसुस करती हूं। मॅ एक बहुत खुशाल जीवन जी रही हो ।मुझे यह बताते हुए बहुत प्रसन्नता होती हॅ कि मेरे पास वह सब कुछ हॅ जो एक मानव को चाहिये होता हॅ ।मॅ अपने माता -पिता से बहुत प्रेम करती हु ।मॅ चाहती हु की मॅ हमेशा अपने माता -पिता का नाम एसे ही गर्वित करु ।