संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 47

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद
संकल्प संख्या
तिथि21 April 1948
वैठक सं.Meeting
कोडS/726 (Document)
विषयThe India-Pakistan Question
परिणामस्वीकृत

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 47, , कश्मीर संघर्ष के समाधान से सम्बंधित है। इसे 21 अप्रैल 1948 को अपनाया गया। भारत और पाकिस्तान दोनों से तर्क सुनने के बाद, परिषद ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 39 से पांच सदस्यों (अर्जेण्टीना, बेल्जियम, कोलम्बिया, चेकोस्लोवाकिया और संयुक्त राज्य अमेरिका [1] के प्रतिनिधियों के साथ) द्वारा स्थापित आयोग का आकार बढ़ा दिया, और आयोग को निर्देश दिया कि वह उपमहाद्वीप में जाए और भारत और पाकिस्तान की सरकारों को इस क्षेत्र में शांति-व्यवस्था बहाल करने और कश्मीर के भविष्य का फैसला करने के लिए जनमत तैयार करने में मदद करें।

साथ ही साथ इस प्रस्ताव ने विवाद के समाधान के लिए तीन-चरण की प्रक्रिया की सिफारिश की।[2][3]

  1. पहले चरण में, पाकिस्तान को कश्मीर से अपने सभी नागरिकों को वापस लेने के लिए कहा गया था।
  2. दूसरे चरण में, भारत को कानून और व्यवस्था के लिए अपनी सेना को न्यूनतम स्तर तक उत्तरोत्तर कम करने के लिए कहा गया था।
  3. तीसरे चरण में, भारत को संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित एक जनमत संग्रह प्रशासक नियुक्त करने के लिए कहा गया, जो एक स्वतंत्र और निष्पक्ष जनमत का संचालन करेगा।


इस प्रस्ताव के अनुच्छेद एक-एक करके अपनाये गए थे, प्रस्ताव पर कोई वोट नहीं लिया गया।

भारत और पाकिस्तान दोनों ने ही इसका विरोध किया, किंतु संयुक्त राष्ट्र आयोग की मध्यस्थता करने के लिए सराहना भी की।अपनी मध्यस्थता के माध्यम से, आयोग ने अपने स्वयं के दो प्रस्तावों को अपनाते हुए सुरक्षा परिषद प्रस्ताव को संशोधित और संशोधित किया, जिसे भारत और पाकिस्तान दोनों ने स्वीकार किया। इसके बाद, आयोग द्वारा 1949 की शुरुआत में संघर्ष विराम हासिल किया गया था। हालांकि, विसैन्यीकरण की प्रक्रिया पर असहमति के कारण एक संघर्ष नहीं हुआ। काफी प्रयासों के बाद, आयोग ने दिसंबर 1949 में अपनी विफलता घोषित की।

जम्मू और कश्मीर की पूर्व रियासत का नक्शा

यह भी देखें[संपादित करें]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  • Bose, Sumantra (2003), Kashmir: Roots of Conflict, Paths to Peace, Harvard University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-674-01173-2, मूल से 19 अगस्त 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2019
  • Das Gupta, Jyoti Bhusan (2012), Jammu and Kashmir, Springer, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-94-011-9231-6, मूल से 19 अगस्त 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2019
  • Korbel, Josef (May 1949), "The Kashmir Dispute and the United Nations", International Organization, 3 (2), JSTOR 2703744, डीओआइ:10.1017/s0020818300020610
  • Korbel, Josef (1953), "The Kashmir dispute after six years", International Organization, 7 (4), JSTOR 2704850, डीओआइ:10.1017/s0020818300007256
  • Korbel, Josef (1966) [first published 1954], Danger in Kashmir, Princeton University Press, मूल से 4 अगस्त 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2019
  • Raghavan, Srinath (2010), War and Peace in Modern India: A Strategic History of the Nehru Years, Palgrave Macmillan, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-137-00737-7, मूल से 19 अगस्त 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2019
  • Schaffer, Howard B. (2009), The Limits of Influence: America's Role in Kashmir, Brookings Institution Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8157-0370-9, मूल से 19 अगस्त 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2019
  • Subbiah, Sumathi (2004), "Security Council Mediation and the Kashmir Dispute: Reflections on Its Failures and Possibilities for Renewal", Boston College International and Comparative Law Review, 27 (1), मूल से 12 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2019
  • UNCIP (22 November 1948), First Interim Report of the UNCIP (S/1100)] (PDF), Archived at Program on Humanitarian Policy and Conflict Research, Harvard University, मूल (PDF) से 2 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 28 September 2016 Italic or bold markup not allowed in: |publisher= (मदद)
  • UNCIP (10 January 1949), Second Interim Report of the UNCIP (S/1196) (PDF), Archived at Program on Humanitarian Policy and Conflict Research, Harvard University, मूल (PDF) से 2 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 28 September 2016 Italic or bold markup not allowed in: |publisher= (मदद)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. "Text of 1949 UN Resolution Calling for Referendum on Kashmir". मूल से 7 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 September 2016.
  2. Raghavan, War and Peace in Modern India 2010, पृ॰ 131.
  3. Korbel, Danger in Kashmir 1966, पृ॰प॰ 113–114.