शाओमी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
श्याउमी निगम
मूल नाम 小米集团
प्रकार सार्वजनिक
व्यापार करती है साँचा:SEHK
उद्योग उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स
कंप्यूटर हार्डवेयर
स्थापना अप्रैल 6, 2010; 12 वर्ष पहले (2010-04-06)
संस्थापक ली जुन
मुख्यालय बीजिंग, चीन
क्षेत्र विश्वव्यापी
प्रमुख व्यक्ति ली जुन (सीईओ)
लिन बिन (林斌) (अध्यक्ष)
मनु कुमार जैन (वैश्विक उपाध्यक्ष)
उत्पाद मोबाइल फोन
स्मार्टफोन
टैबलेट कंप्यूटर
स्मार्ट होम उपकरण
लैपटॉप
स्मार्ट टीवी
राजस्व वृद्धि CN¥ 291.49 billion US$43.36 billion
(2020)[1]
प्रचालन आय वृद्धि CN¥ 24.03 billion US$3.68 billion (2020)[1]
निवल आय वृद्धि CN¥ 20.31 billion US$3.11 billion (2020)[1]
कुल संपत्ति वृद्धि CN¥ 253.68 billion US$38.83 billion (2020)[1]
कुल इक्विटी वृद्धि CN¥ 124.01 billion US$18.98 billion (2019)[1]
कर्मचारी 22,074 (31 December 2020)[1][2]
सहायक कंपनियाँ रेडमी
YI Technology
Roborock
Roidmi
Viomi
VH
Huami
Mijia
Aqara
Yeelight
ब्लैकशार्क
पोकोफोन/पोको(भारत)
Youpin
वेबसाइट mi.com

श्याउमी निगम, चीनी: 小米|; पिनयिन: Xiǎomĭ; अनुवाद "बाजरा", एक चीनी डिज़ाइनर और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स और संबंधित सॉफ़्टवेयर, घरेलू उपकरणों और गृहोपयोगी सामान का निर्माता है। सैमसंग के बाद, यह दुनिया में स्मार्टफ़ोन का दूसरा सबसे बड़ा निर्माता है, जिनमें से अधिकांश एमआइयूआइ प्रचालन तन्त्र चलाते हैं। कंपनी 338वें स्थान पर है और फॉर्चून 500 में सबसे युवा कंपनी है।

श्याउमी की स्थापना 2010 में बीजिंग में अब बहु-अरबपति लेई जून द्वारा की गई थी, जब वह छह वरिष्ठ सहयोगियों के साथ 40 वर्ष के थे। लेई ने किङसॉफ़्ट के साथ-साथ Joyo.com की स्थापना की थी, जिसे उन्होंने 2004 में एमाज़ॉन को $75 मिलियन में बेच दिया था। अगस्त 2011 में, श्याउमी ने अपना पहला स्मार्टफोन जारी किया और, 2014 तक, चीन में बेचे जाने वाले स्मार्टफ़ोन का सबसे बड़ा बाज़ार हिस्सा था। प्रारंभ में कंपनी ने केवल अपने उत्पादों को ऑनलाइन बेचा; हालाँकि, बाद में इसने ईंट और मोर्टार स्टोर खोल दिए। 2015 तक, यह उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स की एक विस्तृत श्रृंखला विकसित कर रहा था। 2020 में, कंपनी ने 146.3 मिलियन स्मार्टफोन बेचे और इसके MIUI प्रचालन तन्त्र के 500 मिलियन से अधिक मासिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं। कैनालिस के अनुसार, 2021 की दूसरी तिमाही में, श्याउमी ने 17% बाजार हिस्सेदारी के साथ दुनिया भर में स्मार्टफोन का दूसरा सबसे बड़ा विक्रेता बनने के लिए एप्पल इंक॰ को पीछे छोड़ दिया। यह अपने इंटरनेट ऑफ थिंग्स और श्याउमी स्मार्ट होम उत्पाद पारिस्थितिकी तंत्र का उपयोग करते हुए दूरदर्शन, टॉर्च, मानव रहित विमान, और वायु शोधक सहित उपकरणों का एक प्रमुख निर्माता है।

आरोप[संपादित करें]

गोपनियता[संपादित करें]

शाओमी पर आरोप लगते रहे हैं कि उसके फोन चुपके से यूज़र डेटा को रिमोट सर्वर पर भेजते हैं। सिक्यॉरिटी सॉफ्टवेयर और सल्यूशंस कंपनी एफ-सिक्यॉर ने आरोप लगाया था कि उसके फोन बिना उपयोगकर्ता के जानकारी के उसके निजी जानकारी को अपने चीन में स्थित सर्वर में भेज रही है। एफ-सिक्यॉर कंपनी ने इसके एक फोन रेडमी को जाँच के लिए चुना और उसमें संपर्क जानकारी, कॉल आदि की जानकारी डाली और यह सभी जानकारी सभी सर्वर के द्वारा चले गए। फोन यह कार्य तब भी करती है जब कोई क्लाउड खाता बनाता है।

पहले कंपनी ने इससे इंकार कर दिया की यह कोई भी जानकारी नहीं भेजती। लेकिन बाद में जब एफ-सिक्यॉर ने यह साबित किया की शाओमी उपयोगकर्ता की जानकारी को चीनी सर्वर में बिना बताए भेजती है तो वह मान जाती है और कहती है कि यह केवल क्लाउड सक्रिय रहने से ही करती है। लेकिन शाओमी के गोपनियता के लेख में यह लिखा हुआ है कि कंपनी उपयोगकर्ता की जानकारी जैसे कॉल, संदेश उसके इंतिहास आदि को ले सकती है और उससे वह कंपनी को बेहतर बनाने के लिए उपयोग करती है।[3]

वहीं भारतीय वायु सेना ने चेतावनी जारी किया की यह कंपनी भारतीय लोगों की निजी जानकारी चीनी सरकार तक पहुँचाती है। भारतीय वायु सेना ने कहा है कि शाओमी स्मार्टफोन्स पर यूज़र डेटा को चीन के सर्वर में भेजने के आरोप लगते रहे हैं, जिससे कि इसकी वजह से जासूसी हो सकती है। सेना ने अपने अधिकारियों को एक अलर्ट जारी करके शाओमी स्मार्टफोन्स इस्तेमाल न करने के लिए कहा है।

इसके अलावा फोनअरीना के जाँच में यह पता चला की यह फोन 42.62.48.0-42.62.48.255 के बीच आने वाले एक जालस्थल पर जानकारी भेजता है। यह www.cnnic.cn की वैबसाइट है जिसके जो चीन की एक कंपनी मिनिस्ट्री ऑफ इन्फर्मेशन इंडस्ट्री है।[4]

भारत में प्रतिबंधित[संपादित करें]

दिल्ली उच्च न्यायालय ने 9 दिसम्बर 2014 को एफ़आरएएनडी के तहत शाओमी को भारत में चीन से मोबाइल लाकर बेचने पर 5 फरवरी 2015 तक प्रतिबंधित कर दिया। लेकिन 16 दिसम्बर को उसे न्यायालय से क्वालकॉम वाले फोन बेचने का अधिकार मिल गया। लेकिन उसने उसके बिना दूसरे चिपसेट के साथ कई फोन बेचे। लेकिन उसने इस बात को मानने से इंकार कर दिया।[5]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Annual Results" (PDF). अभिगमन तिथि 25 March 2021.
  2. "Xiaomi Corporation: Private Company Information - Bloomberg". www.bloomberg.com. मूल से 17 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 फ़रवरी 2019.
  3. "शाओमी ने मानी डेटा भेजने की गड़बड़ी, एफ-सिक्यॉर ने लगाया था आरोप". मूल से 17 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 अप्रैल 2015.
  4. "शाओमी स्मार्टफोन्स को भारतीय वायु सेना ने बताया सुरक्षा के लिए खतरा". मूल से 24 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 अप्रैल 2015.
  5. "Xiaomi banned in India following Delhi High Court injunction". the techportal.in. 2014-12-10. मूल से 15 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-04-08.

Best MI Phones under 15000 Archived 2020-08-10 at the Wayback Machine