सामग्री पर जाएँ

राम राघोबा राणे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
मेजर
राम राघोबा राणे
परमवीर चक्र
जन्म 26 जून 1918
चेंडिया, कारवार, कर्नाटक
देहांत 11 जुलाई 1994(1994-07-11) (उम्र 76)
निष्ठा भारत भारत
सेवा/शाखा भारतीय सेना
सेवा वर्ष 1947–1968
उपाधि सेकेंड लेफ्टिनेंट, बाद में मेजर
सेवा संख्यांक IC-7244[1]
दस्ता बाम्बे सैपर्स
युद्ध/झड़पें भारत-पाकिस्तान युद्ध 1947
सम्मान परमवीर चक्र

सेकेंड लेफ़्टीनेंट राम राघोबा राणे परमवीर चक्र से सम्मानित[2] भारतीय सैनिक थे। इन्हें यह सम्मान सन् 1948 मे मिला था।[3]

१९१८ में पैदा हुए श्री राणे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश भारतीय सेना में कार्यरत थे। युद्ध के बाद की अवधि के दौरान वह सेना में रहे और १५ दिसंबर १९४७ को भारतीय सेना के कोर ऑफ इंजीनियर्स के बॉम्बे सैपर्स रेजिमेंट में नियुक्त किये गये। अप्रैल १९४८ में, १९४७ के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान श्री राणे ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कई बाधाओं और खनन क्षेत्रों को साफ करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर भारतीय सेना द्वारा राजौरी का कब्जा कर उनके कार्यों ने भारतीय टैंकों को आगे बढ़ाने के लिए रास्ता स्पष्ट करने में मदद की। उनकी वीरता के लिए ८ अप्रैल १९४८ को उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। वे १९६८ में भारतीय सेना से एक प्रमुख के रूप में सेवानिवृत्त हुए। सेना के साथ अपनी २८ साल की सेवा के दौरान, उन्हें पांच बार डेस्पैप्स में वर्णित किया गया था। १९९४ में ७६ वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया।

प्रारंभिक जीवन

[संपादित करें]

श्री राम राघोबा राणे का जन्म 26 जून 1918 को कर्नाटक के करवार जिले में हावेरी गांव में हुआ था।[4] उनके पिता राघोबा पी राणे कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले के चंदिया गांव से पुलिस कांस्टेबल थे। श्री राणे की प्रारंभिक शिक्षा, ज्यादातर जिला स्कूल में हुई, क्योंकी उनके पिता का लगातार स्थानान्तरण होता रहता था। 1930 में, वह असहयोग आंदोलन से प्रभावित हुए, जो ग्रेट ब्रिटेन से भारतीय स्वतंत्रता के लिए उत्तेजित था। आंदोलन के साथ उनकी भागीदारी ने उनके पिता को चिंतित कर दिया, और उनके पिता, चंदिया में अपने पैतृक गांव में अपने परिवार को वापस ले गये।

सैन्य वृत्ति

[संपादित करें]

जून २०१८ में पैदा हुए श्री राणे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश भारतीय सेना में कार्यरत थे। युद्ध के बाद की अवधि के दौरान वह सेना में रहे और १५ दिसंबर १९४७ को भारतीय सेना के कोर ऑफ इंजीनियर्स के बॉम्बे सैपर्स रेजिमेंट में नियुक्त किये गये। अप्रैल १९४८ में, १९४७ के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान श्री राणे ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कई बाधाओं और खनन क्षेत्रों को साफ करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर भारतीय सेना द्वारा राजौरी का कब्जा कर उनके कार्यों ने भारतीय टैंकों को आगे बढ़ाने के लिए रास्ता स्पष्ट करने में मदद की। उनकी वीरता के लिए ८ अप्रैल १९४८ को उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। वे १९६८ में भारतीय सेना से एक प्रमुख के रूप में सेवानिवृत्त हुए। सेना के साथ अपनी २८ साल की सेवा के दौरान, उन्हें पांच बार डेस्पैप्स में वर्णित किया गया था। १९९४ में ७६ वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया।

भारत सरकार के शिपमेंट मंत्रालय के तत्वावधान में, भारतीय नौवहन निगम (एससीआई) ने परम वीर चक्र प्राप्तकर्ताओं के सम्मान में एस.सी.आय. के 15 कच्चे तेल टैंकरों को नामित किया गया। एम.टी. लेफ्टिनेंट राम राघोबा राणे नामक कच्चे तेल के टैंकर को पीवीसी को 8 अगस्त 1984 को एससीआई को सौंप दिया गया था। 25 साल की सेवा के बाद टैंकर को समाप्त किया गया था।

7 नवंबर 2006 को कर्नाटक के रबिंद्रनाथ टैगोर समुद्रतट में अपने गृहनगर कारवार में आईएनएस चैपल युद्धपोत संग्रहालय के साथ एक समारोह में श्री राणे की स्मृति में एक प्रतिमा का अनावरण किया गया। इसका उद्घाटन स्मॉल इंडस्ट्रीज के पूर्व मंत्री शिवानंद नाइक ने किया, और यह पश्चिमी कमांड के वाइस एडमिरल संग्राम सिंह बायस के फ्लैग आफिसर कमांडर-इन-चीफ की अध्यक्षता में हुआ।

सन्दर्भ

[संपादित करें]
  1. "Maj Rama Raghoba Rane, PVC (now deceased) Details". twdi.in. मूल से 21 मार्च 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 October 2016.
  2. "RAMA RAGHOBA RANE". Gallantry Awards (अंग्रेज़ी में). मूल से 2 अप्रैल 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २अप्रैल २०१८. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  3. "Param Vir Chakra winners since 1950 - Times of India". Times of India. मूल से 11 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 September 2016.
  4. https://timesofindia.indiatimes.com/india/Param-Vir-Chakra-winners-since-1950/articleshow/2731710.cms Archived 2017-11-15 at the वेबैक मशीन Param Vir Chakra winners since 1950 (अंग्रेजी भाषा) अभिगमन तिथि:२ अप्रेल २०१८