रसल की चायदानी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रसल की चायदानी (अंग्रेज़ी: Russell's teapot) या आकाशीय चायदानी, बर्ट्रैंड रसल (१८७२-१९७० ई.) द्वारा गढ़ा गया एक उपमान है। इसका यह दरशाने के लिये प्रयोग किया जाता है की दर्शनशास्त्रिय सबूत का बोझ उस व्यक्ति पर है जो वैज्ञानिक दृष्टि से झूठाया न जा सकने वाला दावा कर रहा हो। इस उपमान का उपयोग विशेष रूप से धर्म के मामले में किया जाता है।[1]

"क्या भगवान हैं?" नामक लेख में रसल कहते हैं:

हिन्दी अनुवाद: कई रूढ़ीवादी व्यक्ति समझते हैं कि यदि कोई व्यक्ति उनकी बातों पर विश्वास नहीं करता है तो उन बातों को गलत सिद्ध करना उस व्यक्ति का काम है। यह एक गलती है। अगर मैं कहता हूँ कि चीनी मिट्टी से बनी एक चायदानी पृथ्वी और मंगल के बीच एक अंडाकार कक्षा में सूर्य की परिक्रमा कर रही है, सभी कहेंगे कि मेरी बात ऊटपटांग है। पर अगर मैं कहूँ कि वह चायदानी इतनी छोटी है कि दुनिया की सबसे शक्तिशाली दूरबीन भी उसे नहीं देख सकती है, तो कोई भी व्यक्ति मुझे गलत नहीं सिद्ध कर पाएगा। यदि मैं कहूँ कि क्योंकि मेरी बात को कोई गलत नहीं सिद्ध कर सकता है, तो इस पर संदेह करना गलत है, सभी कहेंगे कि मैं बकवास कर रहा हूँ। पर यदि ऐसी चायदानी के बारे मे प्राचीन किताबों में लिखा होता, और यदि इसके बारे में मन्दिरों मे बताया जाता, बच्चों को विद्यालयों में सिखाया जाता, तो इस चायदानी पर विश्वास करने में जो व्यक्ति संदेह करता, उसे सनकी समझा जाता। और जो व्यक्ति इस चायदानी पर विश्वास नहीं करता, आज के युग में उसे मनोचिकित्सक के पास भेजा जाता, और प्राचीन युग में न्यायधीश के पास।[2]

१९५८ ई. में रसल अपनी नास्तिकता के लिए इस उपमान को कारण बताते हैं:

हिन्दी अनुवाद: मुझे खुद को अज्ञेयवादी कहना चाहिए, पर मैं सभी व्यावहारिक रूपों से नास्तिक हूँ। मैं नहीं समझता कि ईसाई ईश्वर के होने कि संभावना ओलिंपस या वलहाला के देवताओं के होने से अधिक है। उदाहरण के रूप में: यह कोई नहीं सिद्ध कर सकता है कि चीनी मिट्टी से बनी एक चायदानी पृथ्वी और मंगल के बीच एक अंडाकार कक्षा में सूर्य की परिक्रमा नहीं कर रही है, पर कोई नहीं समझता है कि यह होने की संभावना है। मुझे लगता है कि ईसाई ईश्वर के होने की भी इतनी ही संभावना है। [3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Fritz Allhoff,Scott C. Lowe. The Philosophical Case Against Literal Truth: Russell's Teapot // Christmas - Philosophy for Everyone: Better Than a Lump of Coal. — John Wiley and Sons, 2010. — Т. 5. — P. 65-66. — 256 p. — (Philosophy for Everyone). — ISBN 9781444330908.
  2. Russell, Bertrand. "Is There a God? [1952]" (PDF). The Collected Papers of Bertrand Russell, Vol. 2: Last Philosophical Testament, १९४७-६८ ई. Routledge. पपृ॰ ५४७-५४८. अभिगमन तिथि १ दिसंबर २०१३.
  3. Garvey, Brian (२०१० ई.). "Absence of evidence, evidence of absence, and the atheist's teapot" (PDF). Ars Disputandi. १०: ९–२२. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)