रक्त के प्रकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख Blood type के इस संस्करण से अनूदित किया गया है।

रक्त के प्रकार (या रक्त समूह) का निर्धारण, एक भाग में, लाल रक्त कोशिकाओं पर उपस्थित ABO रक्त समूह प्रतिजनों के द्वारा किया जाता है।

रक्त प्रकार (जो रक्त समूह भी कहलाता है), लाल रक्त कोशिकाओं (RBCs) की सतह पर उपस्थित आनुवंशिक प्रतिजनी पदार्थों की उपस्थिति या अनुपस्थिति पर आधारित रक्त का वर्गीकरण है। ये प्रतिजन रक्त समूह तंत्र के आधार पर प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, ग्लाइकोप्रोटीन, या ग्लाइकोलिपिड होते हैं और कुछ प्रतिजन अन्य प्रकार के ऊतक की कोशिकाओं पर भी मौजूद हो सकते हैं

इनमें से अनेक लाल रक्त कोशिकाओं की सतह के प्रतिजन, जो एक एलील (या बहुत नजदीकी से जुड़े हुआ जीन) से व्युत्पन्न होते हैं, सामूहिक रूप से एक रक्त समूह तंत्र बनाते हैं।[1]

रक्त के प्रकार वंशागत रूप से प्राप्त होते हैं और माता व पिता दोनों के योगदान का प्रतिनिधित्व करते हैं।अंतर्राष्ट्रीय रक्ताधन सोसाइटी (ISBT) के द्वारा अब कुल 30 मानव रक्त समूह तंत्रों की पहचान की जा चुकी है।[2]

बहुत गर्भवती महिलाओं में उपस्थित भ्रूण का रक्त समूह उनके अपने रक्त समूह से अलग होता है और मां भ्रूणीय लाल रक्त कोशिकाओं के विरुद्ध प्रतिरक्षियों का निर्माण कर सकती है। कभी कभी यह मातृ प्रतिरक्षी IgG होते हैं। यह एक छोटा इम्यूनोग्लोब्युलिन है, जो अपरा (प्लासेन्टा) को पार करके भ्रूण में चला जाता है और भ्रूणीय लाल रक्त कोशिकाओं के रक्त विघटन (हीमोलाइसिस) का कारण बन सकता है। जिसके कारण नवजात शिशु को रक्त अपघटन रोग हो जाता है, यहभ्रूणीय रक्ताल्पता की एक बीमारी है जो सौम्य से गंभीर हो सकती है।[3]

सीरम विज्ञान[संपादित करें]

यदि एक व्यक्ति ऐसे रक्त समूह प्रतिजन के संपर्क में आता है जो इसके अपने प्रतिजन के रूप में नहीं पहचाना जाता है, प्रतिरक्षा तंत्र ऐसे प्रतिरक्षी बना देता है जो विशेष रूप से उस विशिष्ट रक्त समूह प्रतिजन के साथ बंध बना लेते हैं और उस प्रतिजन के विरुद्ध एक प्रतिरक्षी स्मृति का निर्माण हो जाता है।

व्यक्ति उस रक्त समूह प्रतिजन के लिए संवेदी बन जाता है। ये प्रतिरक्षी उस व्यक्ति को चढाये गए रक्त में उपस्थित लाल रक्त कोशिकाओं (या अन्य उतक कोशिकाओं) की सतह पर उपस्थित प्रतिजनों के साथ बंध बना सकते हैं, जिससे अक्सर प्रतिरक्षा तंत्र के अन्य अवयवों के द्वारा कोशिकाओं का विनाश होने लगता है।

जब IgM प्रतिरक्षी चढाये गए रक्त की कोशिकाओं के साथ बंध जाते हैं, तो इस प्राप्त किये रक्त की कोशिकाएं समूहित होकर गुच्छे (थक्के) बनाने लगती हैं। यह बहुत आवश्यक है कि रक्ताधान के लिए सन्गत रक्त का और अंग प्रत्यारोपण के लिए संगत ऊतक का चयन किया जाएरक्ताधान प्रतिक्रियाएं जिनमें मामूली प्रतिजन या क्षीण प्रतिरक्षी शामिल होते हैं, मामूली समस्याओं को जन्म दे सकती हैं। हालांकि और अधिक गंभीर असंगतियां गंभीर प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया का कारण बन सकती हैं, जिससे लाल रक्त कोशिकाओं का बहुत अधिक विनाश हो जाता है, रक्त चाप कम हो जाता है और यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है।

ABO और Rh रक्त समूहीकरण[संपादित करें]

एंटी--A और एंटी-B, जो ABO रक्त समूह प्रणाली के RBC सतह के प्रतिजनों के लिए आम IgM प्रतिरक्षी हैं, उन्हें कभी कभी "प्राकृतिक रूप से उत्पन्न" के रूप में वर्णित किया जाता है; हालांकि यह एक मिथ्या है, क्योंकि इन प्रतिरक्षियों का निर्माण नवजात अवस्था में संवेदीकरण के द्वारा उसी प्रकार से होता है जैसे अन्य प्रतिराक्षियों का निर्माण होता है।

इन प्रतिरक्षियों का विकास कैसे हुआ, इसे स्पष्ट करने वाला सिद्धांत बताता है कि A और B प्रतिजन के समान प्रतिजन, भोजन. पौधों और जीवाणु सहित प्रकृति में पाए जाते हैं। जन्म के पश्चात नवजात शिशु की आहार नाल में सामान्य वनस्पति समूहीकृत हो जाती है, जो इन A -की तरह के और B की तरह के प्रतिजन को स्पष्ट करते हैं, जिसके कारण प्रतिरक्षा तंत्र उन प्रतिजनों के लिए प्रतिरक्षियों का निर्माण कर लेता है जो लाल रक्त कोशिकाओं में नहीं होते हैं।

इसलिए जिन लोगों का रक्त समूह A होता है वे एंटी-B प्रतिरक्षी बनाते हैं, जिनका रक्त समूह B होता है वे एंटी-A प्रतिरक्षी बनाते हैं, रक्त समूह O में एंटी-A और एंटी-B दोनों प्रकार के प्रतिरक्षी होते हैं और रक्त समूह AB में कोई भी प्रतिरक्षी नहीं होता है।

इन तथा-कथित "प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले" और प्रत्याशित प्रतिरक्षियों के कारण यह महत्वपूर्ण है कि रोगी को किसी रक्त समूह का रक्त चढाने से पहले उसके रक्त समूह का ठीक प्रकार से निर्धारण किया जाये.

ये प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले प्रतिरक्षी IgM वर्ग के होते हैं, जिनमें रक्त वाहिनियों के भीतर लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट करने और रक्त के स्कंदन (थक्का बनाना या एग्लूटिनेशन) की क्षमता होती है, जिससे सम्भवतया मृत्यु भी हो सकती है। किसी अन्य रक्त समूह का निर्धारण करना आवश्यक नहीं होता है क्योंकि लगभग सभी लाल कोशिकाओं के प्रतिरक्षी केवल सक्रिय प्रतिरक्षण के माध्यम से ही विकसित होते हैं, जो पूर्व में चढाये गए रक्त या गर्भावस्था के कारण ही हो सकता है। जिन रोगियों को लाल रक्त कोशिकाओं के आधान की आवश्यकता होती है उनमें हमेशा प्रतिरक्षी स्क्रीन नामक परीक्षण किया जाता है और यह परीक्षण चिकित्सकीय रूप से उपयुक्त लाल कोशिका प्रतिरक्षियों का पता लगता है।

एक व्यक्ति के रक्त समूह के निर्धारण में RhD प्रतिजन भी महत्वपूर्ण है। शब्द "धनात्मक" या "ऋणात्मक" RhD प्रतिजन की उपस्थिति या अनुपस्थिति को बताता है, यह इस बात से सम्बंधित नहीं है कि रीसस तंत्र के कौन से अन्य प्रतिजन उपस्थित या अनुपस्थित हैं। एंटी-A और एंटी-B प्रतिरक्षियों के विपरीत एंटी-RhD आम तौर पर प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला प्रतिरक्षी नहीं होता है। RhD प्रतिजन का मिलान भी बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि RhD प्रतिजन प्रतिजनिक होता है, अर्थात एक व्यक्ति जो RhD ऋणात्मक है, वह RhD प्रतिजन के संपर्क में आने पर एंटी-RhD बना लेता है (ऐसा संभवतया रक्ताधन या गर्भावस्था के कारण हो सकता है).

एक बार जब कोई व्यक्ति RhD प्रतिजन के लिए संवेदी हो जाता है, तो उसके रक्त में RhD IgG प्रतिरक्षी बन जाते हैं, जो RhD धनात्मक लाल रक्त कोशिकाओं के साथ बंध बना लेते हैं और अपरा को पार कर सकते हैं।

रक्त समूह प्रणाली[संपादित करें]

अंतर्राष्ट्रीय रक्ताधन सोसाइटी (ISBT) के द्वारा कुल 30 मानव रक्त समूह प्रणालियों की पहचान की गयी है।[2] एक पूर्ण रक्त प्रकार लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर 30 पदार्थों के एक पूर्ण समुच्चय का वर्णन करता है और एक व्यक्ति का रक्त समूह, रक्त समूह प्रतिजनों के कई संभव संयोजनों में से एक है।

30 रक्त समूहों में, 600 से अधिक विभिन्न रक्त समूह प्रतिजन पाये गए हैं,[4] लेकिन इन में से कई बहुत विरले हैं या फिर मुख्य रूप से कुछ जातीय समूहों में पाये जाते हैं

लगभग हमेशा, एक व्यक्ति का रक्त समूह पूरे जीवन काल में एक ही बना रहता है, लेकिन बहुत कम ऐसा भी हो सकता है कि एक व्यक्ति का रक्त समूह बदल जाये, ऐसा संक्रमण में एक प्रतिजन के बढ़ने या दमन के द्वारा, एक दुर्दमता के द्वारा, या एक स्व प्रतिरक्षी रोग के द्वारा हो सकता है।[5][6][7][8] इस दुर्लभ घटना का एक उदाहरण है एक ऑस्ट्रेलियाई नागरिक, डेमी ली ब्रेनन का एक मामला, जिसका रक्त समूह यकृत प्रत्यारोपण के बाद बदल गया। [9][10] रक्त समूह बदल जाने का एक अन्य आम कारण है अस्थि मज्जा का प्रत्यारोपण.

अस्थि मज्जा का प्रत्यारोपण ल्यूकेमिया (रक्त कैंसर) और लिम्फोमा सहित कई अन्य बीमारियों के लिए किया जाता है। यदि एक व्यक्ति किसी ऐसे व्यक्ति का अस्थि मज्जा प्राप्त करता है, जिसका ABO प्रकार अलग है, (उदाहरण के तौर पर प्रकार A से युक्त रोगी, प्रकार O से युक्त अस्थि मज्जा प्राप्त करता है), रोगी का रक्त प्रकार अंततः दाता के प्रकार में परिवर्तित हो जायेगा.

रक्त के कुछ प्रकार अन्य रोगों की वंशागति से सम्बंधित होते हैं; उदाहरण के लिए केल प्रतिजन कभी कभी मेकलिओड सिंड्रोम से सम्बंधित होता है।[11] विशिष्ट रक्त समूह संक्रमण के लिए संवेदनशीलता को प्रभावित कर सकते हैं, इसका एक उदाहरण है जिन व्यक्तियों में डफी प्रतिजन की कमी होती है उनमें मलेरिया की विशेष प्रजाति के लिए प्रतिरोध देखा जा सकता है।[12] डफी प्रतिजन संभवतया प्राकृतिक वरण का परिणाम है, जो मलेरिया की उच्च संभाव्यता के क्षेत्रों के जातीय समूहों में कम आम है।[13]

ABO रक्त समूह प्रणाली[संपादित करें]

ABO रक्त समूह तंत्र- कार्बोहाइड्रेट श्रृंखला को प्रर्दशित करता हुआ एक चित्र जो ABO रक्त समूह का निर्धारण करता है।

ABO प्रणाली मानव रक्त आधान में सबसे महत्वपूर्ण रक्त समूह प्रणाली है। इससे सम्बंधित एंटी-A प्रतिरक्षी और एंटी-B प्रतिरक्षी आम तौर पर "इम्यूनोग्लोबिन M" हैं, जिन्हें संक्षेप में IgM प्रतिरक्षी कहा जाता है। ABO IgM प्रतिरक्षियों का निर्माण जीवन के पहले वर्ष में पर्यावरण तत्वों जैसे खाद्य पदार्थ, जीवाणु और वायरस के लिए संवेदीकरण के द्वारा होता है।

ABO में "O" को अन्य भाषाओँ में अक्सर शून्य (जीरो/नल) कहा जाता है।[14]

लक्षण प्रारूप जीन प्रारूप
A AA अथवा AO
B BB अथवा BO
AB AB
O OO

रीसस रक्त समूह प्रणाली[संपादित करें]

रीसस प्रणाली मानव रक्त आधान में दूसरी सबसे महत्वपूर्ण रक्त समूह प्रणाली है। सबसे महत्वपूर्ण रीसस प्रतिजन RhD प्रतिजन है क्योंकि यह पाँच मुख्य रीसस प्रतिजनों में सबसे अधिक इम्यूनोजेनिक है। सामान्यतया RhD ऋणात्मक व्यक्तियों में एंटी-RhD IgG या IgM प्रतिरक्षी नहीं होते हैं, क्योंकि एंटी-RhD प्रतिरक्षी आम तौर पर वातावरणीय पदार्थों के विरुद्ध संवेदीकरण के द्वारा निर्मित नहीं होते हैं।

हालांकि RhD-ऋणात्मक व्यक्ति एक संवेदीकरण घटना के बाद IgG एंटी-RhD प्रतिरक्षी बना सकते हैं: ऐसा संभवतया गर्भावस्था के दौरान भ्रूण से मां में रक्त के स्थानान्तरण से या कभी कभी RhD धनात्मक लाल रक्त कोशिकाओं से युक्त रक्त के स्थानान्तरण से होता है।Rh रोग इन मामलों में विकसित हो सकता है।

देश के द्वारा ABO और Rh वितरण[संपादित करें]

ABO और Rh रक्त प्रकारों का राष्ट्रों के द्वारा वितरण (जनसंख्या औसत)
देश O+ A+ B+ AB+ O A B AB
ऑस्ट्रेलिया[15] 40% 31% 8% 2% 9% 7% 2% 1%
ऑस्ट्रिया[16] 30% 33% 12% 6% 7% 8% 3% 1%
बेल्जियम[17] 38% 34% 8.5% 4.1% 7% 6% 1.5% 0.8%
ब्राजील[18] 36% 34% 8% 2.5% 9% 8% 2% 0.5%
कनाडा[19] 39% 36% 7.6% 2.5% 7% 6% 1.4% 0.5%
डेनमार्क[20] 35% 37% 8% 4% 6% 7% 2% 1%
एस्टोनिया[21] 30% 31% 20% 6% 4.5% 4.5% 3% 1%
फिनलैंड[22] 27% 38% 15% 7% 4% 6% 2% 1%
फ्रांस[23] 36% 37% 9% 3% 6% 7% 1% 1%
जर्मनी[24] 35% 37% 9% 4% 6% 6% 2% 1%
चीन[25] 40% 26% 27% 7% 0.31% 0.19% 0.14% 0.05%
आइसलैंड[26] 47.6% 26.4% 9.3% 1.6% 8.4% 4.6% 1.7% 0.4%
भारत[27] 36.5% 22.1% 30.9% 6.4% 2.0% 0.8% 1.1% 0.2 %
आयरलैंड[28] 47% 26% 9% 2% 8% 5% 2% 1%
इज़राइल[29] 32% 34% 17% 7% 3% 4% 2% 1%
न्यूजीलैंड[30] 38% 32% 9% 3% 9% 6% 2% 1%
नॉर्वे[31] 34% 42.5% 6.8% 3.4% 6% 7.5% 1.2% 0.6%
पोलैंड[32] 31% 32% 15% 7% 6% 6% 2% 1%
सऊदी अरब[33] 48% 24% 17% 4% 4% 2% 1% 0.23%
स्पेन[34] 36% 34% 8% 2.5% 9% 8% 2% 0.5%
स्वीडन[35] 32% 37% 10% 5% 6% 7% 2% 1%
नीदरलैंड[36] 39.5% 35% 6.7% 2.5% 7.5% 7% 1.3% 0.5%
तुर्की[37] 29.8% 37.8% 14.2% 7.2% 3.9% 4.7% 1.6% 0.8%
ब्रिटेन[38] 37% 35% 8% 3% 7% 7% 2% 1%
संयुक्त राज्य अमेरिका[39] 37.4% 35.7% 8.5% 3.4% 6.6% 6.3% 1.5% 0.6%

रक्त समूह B की उच्चतम आवृति उत्तरी भारत और इसके पडौसी मध्य भारत में पायी जाती है, तथा पश्चिम व पूर्व की और इसकी आवृति कम है। और स्पेन में इसकी आवृति केवल 1 अंक की प्रतिशतता तक गिर जाती है।[40][41] ऐसा माना जाता है मूल अमेरिकी और ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी जनसंख्या में, इन क्षेत्रों में यूरोपीय लोगों के आने से पहले, यह पूर्ण रूप से अनुपस्थित था।[41][42]

रक्त समूह A की आवृति यूरोप में अधिक पायी जाती है, विशेष रूप से स्केनडीनेविया और मध्य यूरोप में, यद्यपि इसकी उच्चतम आवृति कुछ ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी आबादियों और मोंटाना के ब्लैक फुट भारतीयों में पायी जाती है।[43][44]

अन्य रक्त समूह प्रणालियां[संपादित करें]

अंतर्राष्ट्रीय रक्ताधान सोसाइटी ने वर्तमान में 30 रक्त समूह प्रणालियों की पहचान की है (जिसमें ABO और Rh प्रणालियां शामिल हैं).[2] इस प्रकार, ABO और रीसस प्रतिजनों के अलावा, लाल रक्त कोशिका की सतही झिल्ली पर कई अन्य प्रतिजनों की उपस्थिति भी व्यक्त हुई है।

उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति AB RhD धनात्मक हो सकता है और इसके साथ ही M और N धनात्मक (MNS प्रणाली), K धनात्मक (केल प्रणाली), Lea या Leb ऋणात्मक (लुईस प्रणाली) भी हो सकता है और इसी प्रकार से प्रत्येक रक्त समूह प्रणाली प्रतिजन के लिए धनात्मक या ऋणात्मक हो सकता है।

अधिकांश रक्त समूह प्रणालियों के नाम उन रोगियों पर रखे गए जिन में सम्बंधित प्रतिरक्षी को सबसे पहले पाया गया।

नैदानिक महत्व[संपादित करें]

रक्ताधान या रक्त चढाना[संपादित करें]

रक्ताधान चिकित्सा हिमेटोलोजी की एक विशेष शाखा है जो रक्त समूहों के अध्ययन से सम्बंधित है, इसके साथ ही इसमें रक्त बैंक का कार्य भी शामिल है, जो रक्त और अन्य रक्त उत्पादों के लिए रक्ताधान सेवा उपलब्ध कराते हैं। दुनिया भर में, अन्य दवाईयों की भांति रक्त उत्पादों की सलाह भी एक चिकित्सक (लाइसेंस युक्त चिकित्सक या शल्य चिकित्सक) के द्वारा ही दी जाती है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में, रक्त उत्पादों का सख्त विनियमन यू एस फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के द्वारा किया जाता है।
गलत मिलन किये गए रक्त समूह के कारण तीव्र रक्त अपघटन अभिक्रिया के मुख्य लक्षण. [69] [70]

रक्त बैंक के अधिकांश नियमित कार्य में शामिल है दाता और ग्राही दोनों के रक्त की जांच करना ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ग्राही को जो रक्त दिया जा रहा है वह सुसंगत है और यथासंभव सुरक्षित भी.

यदि असंगत रक्त की एक इकाई को दाता से ग्राही में स्थानांतरित कर दिया जाता है, रक्त अपघटन (हीमोलाईसिस या लाल रक्त कोशिकाओं का विनाश) से युक्त गंभीर तीव्र हीमोलाइटिक अभिक्रिया, वृक्क की असफलता और आघात होने की संभावना होती है और मृत्यु हो सकती है।

प्रतिरक्षी बहुत अधिक सक्रिय हो सकते हैं और लाल रक्त कोशिकाओं तथा पूरक प्रणाली से बंधित अवयवों पर हमला कर सकते हैं, जिससे स्थानांतरित रक्त का अपघटन (हीमोलाईसिस) हो जाता है।

आधान प्रतिक्रिया की संभावना को कम करने के लिए रोगी को उसका अपना रक्त प्रकार या प्रकार विशिष्ट रक्त उत्पाद ही प्राप्त करना चाहिए।

रक्त की क्रोस मिलान के द्वारा खतरे को कम किया जा सकता है, लेकिन जब आपात स्थिति में रक्त की जरुरत हो तब इसे टाला जा सकता है। क्रोस मिलान में ग्राही के सीरम को दाता की लाल रक्त कोशिकाओं के एक नमूने के साथ मिलाया जाता है और जांच की जाती है कि मिश्रण का स्कंदन हो रहा है या नहीं, या इसके गुच्छे बन रहे हैं या नहीं।

यदि नग्न आंखों से स्कंदन स्पष्ट ना हो, तो रक्त बैंक के तकनीकविद् आम तौर पर उसे जांचने की लिए सूक्ष्मदर्शी का प्रयोग करते हैंयदि स्कंदन होता है, उस विशेष दाता का रक्त उस विशेष ग्राही को नहीं चढाया जा सकता है। रक्त बैंक में आवश्यक है कि सभी रक्त नमूनों की सही पहचान की जाये, इसी लिए बारकोड प्रणाली का उपयोग करते हुए नाम पत्रण का मानकीकरण किया जाता है। यह प्रणाली ISBT 128 के नाम से भी जानी जाती है।

रक्त समूह को पहचान पत्रों पर अंकित किया जा सकता है या सैन्य कर्मियों द्वारा टेटू के रूप में पहना जा सकता है। यह आपातकालीन रक्त आधान की आवश्यकता की स्थिति में लाभदायक होता है।

सीमावर्ती ज़र्मन वेफ़न-एस एस ने द्वितीय विश्व युद्घ के दौरान रक्त समूह का टेटू पहना हुआ था।

दुर्लभ प्रकार के रक्त समूह की आपूर्ति रक्त बैंकों और अस्पतालों के लिए समस्या का कारण हो सकती है।

उदाहरण के लिए डफी-ऋणात्मक रक्त की आवृति अफ्रीकी मूल के लोगों में अधिक होती है,[45] और शेष जनसंख्या में इस रक्त समूह की दुर्लभता के परिणामस्वरूप अफ्रीकी जातीय रोगियों के लिए डफी ऋणात्मक रक्त की कमी हो जाती है।

इसी प्रकार RhD ऋणात्मक लोगों के लिए, दुनिया के ऐसे भागों में यात्रा करना जोखिम भरा रहता है जहां RhD ऋणात्मक रक्त की आपूर्ति दुर्लभ है, विशेष रूप से पूर्वी एशिया में, जहां रक्त सेवाएं पश्चिमी लोगों को रक्त दान के लिए उत्साहित कर सकती हैं।[46]

नवजात शिशु का रक्त अपघटन (हीमोलाइसिस) रोग (HDN)[संपादित करें]

एक गर्भवती महिला IgG रक्त समूह प्रतिरक्षियों का निर्माण कर सकती है यदि उसके भ्रूण के रक्त समूह का प्रतिजन उससे अलग है।

यह तब हो सकता है जब भ्रूण की कुछ रक्त कोशिकाएं मां के रक्त परिसंचरण में प्रवेश कर जाती हैं (उदाहरण बच्चे के जन्म या प्रसूति हस्तक्षेप के समय एक छोटा मातृ-भ्रूणीय रक्त-स्राव), या कभी कभी एक चिकित्सकीय रक्ताधान के बाद होता है। यह वर्तमान गर्भावस्था और/ या इसके बाद की गर्भावस्था में नवजात शिशु को Rh रोग या रक्त अपघटन रोग के किसी अन्य रूप का कारण हो सकता है। यदि एक गर्भवती महिला में एंटी-RhD प्रतिरक्षी पाए जाते हैं, तो भ्रूण में Rh रोग के जोखिम को कम कने के लिए मां के प्लाज्मा में भ्रूणीय DNA के विश्लेषण के द्वारा भ्रूण के RhD रक्त प्रकार की जांच की जा सकती है।[47] बीसवीं शताब्दी की उपलब्धियों में एक मुख्य उपलब्धि थी RhD ऋणात्मक मां के द्वारा एंटी-Rh प्रतिरक्षी के निर्माण को रोग कर इस बीमारी को रोकना, इसके लिए Rho(D) इम्यून ग्लोब्युलिन को इंजेक्शन की सहायता से दिया जाने लगा। [48][49] कुछ रक्त समूहों से सम्बंधित प्रतिरक्षी गंभीर HDN पैदा कर सकते हैं, कुछ अन्य केवल सौम्य HDN का कारण होते हैं और शेष HDN पैदा करने के लिए नहीं जाने जाते हैं।[3]

संगतता[संपादित करें]

रक्त उत्पाद[संपादित करें]

प्रत्येक रक्तदान से अधिकतम लाभ प्रदान करने के लिए और भण्डारण अवधि बढ़ाने के लिए, रक्त बैंक पूर्ण रक्त को कई उत्पादों में विभाजित कर देते हैं। इन उत्पादों में सबसे आम हैं पैक की हुई लाल रक्त कोशिकाएं, प्लाज्मा, प्लेटलेट्स, क्रायोप्रेसिपीटेट और ताजा जमा हुआ प्लाज्मा (fresh frozen plasma /FFP).अस्थिर स्कंदन कारकों V और VIII को बनाये रखने के लिए FFP को तुंरत जमा दिया जाता है, ये स्कंदन कारक उन मरीजों को दिए जाते हैं जिनमें किसी कारण से घातक स्कंदन की समस्या होती है जैसे उन्नत यकृत रोग, प्रतिस्कन्दक की जरुरत से ज्यादा खुराक, या प्रसरित अन्तर्वाहिनी स्कंदन (DIC).

लाल रक्त कोशिकाओं की पैक इकाइयों को बनाने के लिए पूर्ण रक्त ईकाई में से अधिकतम संभव प्लाज्मा को हटा दिया जाता है।

आधुनिक पुनः संयोजक तरीकों के द्वारा संश्लेषित स्कंदन कारक अब नियमित रूप से हीमोफिलिया की चिकित्सा में प्रयुक्त किये जाते हैं, सहभाजी रक्त उत्पादों से होने वाले संक्रमण के संचरण को जोखिम को रोकने की कोशिश की जाती है।

लाल रक्त कोशिका संगतता[संपादित करें]

  • रक्त समूह AB वाले व्यक्तियों की लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर A और B दोनों प्रतिजन होते हैं और उन के रक्त सीरम में A और B प्रतिजन के ख़िलाफ़ कोई प्रतिरक्षी नहीं होता। इसलिए, रक्त समूह AB वाला व्यक्ति किसी भी समूह से रक्त प्राप्त कर सकता है (AB को प्राथमिकता दी जायेगी), लेकिन केवल AB प्रकार वाले व्यक्ति को ही रक्त दान कर सकता है।
  • रक्त समूह A वाले व्यक्ति की लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर प्रतिजन A होता है और रक्त सीरम में B प्रतिजन के ख़िलाफ़ IgM प्रतिरक्षी होते हैंइसलिए, रक्त समूह A वाला व्यक्ति केवल रक्त समूह A या O वाले व्यक्तियों से रक्त प्राप्त कर सकता है (A को प्राथमिकता दी जायेगी) और A या AB रक्त समूह वाले व्यक्तियों को रक्त दान कर सकता है।
  • रक्त समूह B वाले व्यक्ति की लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर B प्रतिजन होता है और रक्त सीरम में A प्रतिजन के ख़िलाफ़ IgM प्रतिरक्षी होते हैंइसलिए, रक्त समूह B वाला व्यक्ति केवल रक्त समूह B या O वाले व्यक्तियों से रक्त प्राप्त कर सकता है (B को प्राथमिकता दी जायेगी) और B या AB रक्त समूह वाले व्यक्तियों को रक्त दान कर सकता है।
  • रक्त समूह O (या कुछ देशों में रक्त समूह जीरो) वाले व्यक्तियों की लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर A और B दोनों प्रतिजन नहीं होते हैं लेकिन उन के रक्त सीरम में A और B प्रतिजन के ख़िलाफ़ IgM एंटी-A प्रतिरक्षी और एंटी-B प्रतिरक्षी होते हैं। इसलिए, रक्त समूह O वाला एक व्यक्ति केवल रक्त समूह O वाले व्यक्ति से ही रक्त प्राप्त कर सकता है, लेकिन किसी भी ABO रक्त समूह वाले व्यक्ति (यानि A, B, O या AB) को रक्त दान कर सकता है। यदि किसी को भयानक आपात स्थिति में एक रक्ताधान की जरूरत है, ग्राही के रक्त की जांच आदि की प्रक्रिया को पूरी करने से हानिकारक देरी हो सकती है तो तुंरत O ऋणात्मक रक्त जारी कर दिया जाता है।
RBC संगतता चार्ट एक ही रक्त समूह को दान करने के अलावा; O रक्त समूह के दाता, A, B और AB वाले व्यक्तियों को रक्त दे सकते हैं; A और B रक्त समूह के व्यक्ति AB वाले व्यक्ति को रक्त दे सकते हैं

लाल रक्त कोशिका संगतता सारणी
[50][51]
ग्राही [1] दाता[1]
O- O+ A- A+ B- B+ AB- AB+
O- Check markY शैली = "चौडाई: 3em"
O+ Check markY Check markY
A- Check markY Check markY
A+ Check markY Check markY Check markY Check markY
B- Check markY Check markY
B+ Check markY Check markY Check markY Check markY
AB- Check markY Check markY Check markY Check markY
AB+ Check markY Check markY Check markY Check markY Check markY Check markY Check markY Check markY

सारणी नोट
1.असामान्य प्रतिरक्षियों की अनुपस्थिति को मानते हुए, जो ग्राही और दाता के बीच एक असंगतता का कारण होगी, जैसा कि क्रोस मिलान के द्वारा चयनित रक्त के लिए आम होता है।

एक RhD ऋणात्मक रोगी जिस में कोई एंटी-RhD प्रतिरक्षी नहीं हैं (पहले कभी भी RhD धनात्मक लाल रक्त कोशिकाओं के लिए संवेदी नहीं बना है), वह एक बार RhD धनात्मक रक्त को प्राप्त कर सकता है, लेकिन इससे वह RhD प्रतिजन के लिए संवेदी बन जायेगा और एक महिला रोगी में प्रसव के समय रक्त अपघटन रोग का जोखिम उत्पन्न हो जायेगा.

अगर एक RhD ऋणात्मक रोगी ने एंटी-RhD प्रतिरक्षी विकसित कर लिए हैं, तो इसके बाद RhD धनात्मक रक्त से संभावित खतरनाक आधान प्रतिक्रिया का जोखिम हो सकता हैRhD धनात्मक रक्त को कभी भी ऐसी RhD ऋणात्मक महिला को नहीं देना चाहिए जिसकी उम्र गर्भवती होने की हो या ऐसे रोगियों को भी यह रक्त नहीं दिया जा सकता जिनमें RhD प्रतिरक्षी हों. इसलिए रक्त बैंकों को ऐसे रोगियों के लिए रीसस ऋणात्मक रक्त का भण्डार रखना चाहिए।
चरम परिस्थितियों में जैसे बहुत अधिक रक्त स्राव हो जाने पर यदि रक्त बैंक में RhD ऋणात्मक रक्त की काई का स्टॉक बहुत कम है, तब RhD धनात्मक रक्त को ऐसी RhD ऋणात्मक महिला को दिया जा सकत है जिसकी उम्र गर्भवती होने की उम्र से अधिक हो, या RhD ऋणात्मक पुरुष को तब दिया जा सकत है जब एंटी-RhD प्रतिरक्षी न हों. ताकि RhD ऋणात्मक रक्त के स्टॉक को रक्त बैंक में संरक्षित रखा जा सके। 

इस का विपरीत सही नहीं है: RhD धनात्मक रोगी RhD ऋणात्मक रक्त के साथ कोई प्रतिक्रिया नहीं करता.

प्लाज्मा संगतता[संपादित करें]

चित्र:Plasma-donation.svg
प्लाज्मा अनुकूलता चार्ट एक ही रक्त समूह को दान करने के अलावा; AB रक्त समूह के प्लाज्मा को A, B और O वाले व्यक्तियों को दिया जा सकता है; A और B रक्त समूह के प्लाज्मा को O वाले व्यक्ति को दिया जा सकता है।

ग्राही समान रक्त समूह का प्लाज्मा प्राप्त कर सकते है, लेकिन लाल रक्त कोशिकाओं के मामले में रक्त प्लाज्मा के लिए दाता ग्राही संगतता विपरीत होती है: रक्त समूह AB से निष्कर्षित किया गया प्लाज्मा किसी भी रक्त समूह के व्यक्ति को दिया जा सकता है; रक्त समूह के व्यक्ति किसी भी रक्त समूह के प्लाज्मा को प्राप्त कर सकते हैं; और O प्रकार का प्लाज्मा केवल O प्रकार के ग्राही के द्वारा ही उपयोग किया जा सकता है।

प्लाज्मा संगतता सारणी
ग्राही दाता[1]

! शैली = "चौडाई: 3em" | O ! शैली = "चौडाई: 3em" | A ! शैली = "चौडाई: 3em" | B ! शैली = "चौडाई: 3em" | AB | -- ! O

| Check markY[113]
| Check markY[114]

| Check markY[115]

| Check markY[116]

| -- ! A | | Check markY[117] | | Check markY[118] | -- ! B | | | Check markY[119] | Check markY[120] | -- ! AB | | | | Check markY[121] |)

सारणी नोट
1.दाता के प्लाज्मा में असामान्य प्रतिरक्षियों को अनुपस्थित माना गया है।

रीसस D प्रतिरक्षी असामान्य हैं, इसीलिए आमतौर पर एंटी-Rh प्रतिरक्षी न तो RhD धनात्मक रक्त में होते हैं और न ही RhD ऋणात्मक रक्त में. यदि रक्त बैंक में प्रतिरक्षी स्क्रीनिंग के दौरान एक दाता में एंटी-RhD प्रतिरक्षी या कोई प्रबल अप्रारुपिक रक्त समूह प्रतिरक्षी पाए जाते हैं, तो उसे एक दाता के रूप में स्वीकृत नहीं किया जायेगा (या कुछ रक्त बैंकों में रक्त को ले लिय जायेगा लेकिन उत्पाद को उपयुक्त तरीके से नामांकित किया जायेगा); इसलिए एक रक्त बैंक के द्वारा जारी दाता का रक्त प्लाज्मा RhD प्रतिरक्षियों से मुक्त होने के लिए और अन्य अप्रारुपिक प्रतिरक्षियों से मुक्त होने के लिए चयनित किया जा सकता है और एक रक्त बैंक से जारी किया गया ऐसे दाता का प्लाज्मा एक ऐसे ग्राही के लिए उपयुक्त होगा जो RhD धनात्मक या ऋणात्मक हो, जब तक रक्त प्लाज्मा और ग्राही ABO संगत हों.

सार्वत्रिक दाता और सार्वत्रिक ग्राही[संपादित करें]

पूरे रक्त या पैक लाल रक्त कोशिकाओं के आधान के सन्दर्भ में, O ऋणात्मक प्रकार के रक्त वाले व्यक्ति अक्सर सार्वत्रिक दाता कहलाते हैं और AB धनात्मक रक्त प्रकार वाले व्यक्ति सार्वत्रिक ग्राही कहलाते हैं; हालांकि, ये शब्द आधानित लाल रक्त कोशिकाओं के ग्राही के एंटी-A और एंटी-B प्रतिरक्षियों की संभव प्रतिक्रिया के सन्दर्भ में ही सत्य हैं और साथ ही RhD प्रतिजन के लिए संभव संवेदीकरण के लिए भी सत्य हैं।

अपवाद में hh प्रतिजन प्रणाली से युक्त व्यक्ति शामिल हैं (बोम्बे रक्त समूह भी कहलाते हैं), जो अन्य hh दाताओं से सुरक्षित रूप से रक्त प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि वे H पदार्थों के विरुद्ध प्रतिरक्षी बनाते हैं।[52][53]

विशेष रूप से प्रबल एंटी-A, एंटी-B, या अप्रारुपिक रक्त समूह प्रतिरक्षी से युक्त रक्त दाताओं को रक्त दान से अलग रखा गया है।

ग्राही के आधानित रक्त की लाल रक्त कोशिकाओं में उपस्थित एंटी-A, एंटी-B प्रतिरक्षियों की संभव अभिक्रिया पर विचार करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि प्रतिरक्षियों से युक्त प्लाज्मा की अपेक्षाकृत अल्प मात्रा को स्थानांतरित किया जाता है,


उदाहरण के द्वारा: ऐसा मानते हुए कि O RhD ऋणात्मक रक्त (सार्वत्रिक दाता रक्त) का स्थानान्तरण A RhD धनात्मक रक्त समूह के ग्राही में किया जा रहा है, ग्राही के एंटी-B प्रतिरक्षियों और आधानित लाल रक्त कोशिकाओं के बीच एक प्रतिरक्षी अभिक्रिया की उम्मीद नहीं की जाती है।

हांलांकि, चढाए गए रक्त में प्लाज्मा की अपेक्षाकृत अल्प मात्रा में एंटी- A प्रतिरक्षी होते हैं, जो ग्राही की लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर A प्रतिजन के साथ क्रिया कर सकते हैं, लेकिन तनुकरण कारकों के कारण एक महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया की संभावना नहीं होती है।

रीसस D संवेदीकरण प्रत्याशित नहीं है।

इसके अलावा, A, B और Rh D के अतिरिक्त लाल रक्त कोशिका के सतह प्रतिजन, प्रतिकूल प्रतिक्रिया या संवेदीकरण का कारण हो सकते हैं, यदि वे एक प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया उत्पन्न करने के लिए सम्बंधित प्रतिरक्षी के साथ बांध बना सकते हैं।

आधान आगे और पेचीदा हो जाते हैं क्योंकि प्लेटलेट्स और श्वेत रक्त कोशिकाओं (WBCs) की सतह प्रतिजनों की अपनी प्रणालियां होती हैं, आधान के परिणामस्वरूप प्लेटलेट्स या श्वेत रक्त कोशिकाओं के प्रतिजनों के लिए संवेदीकरण हो सकता है।

प्लाज्मा के आधान के सन्दर्भ में, अथिति विपरीत होती है। O प्रकार का प्लाज्मा केवल O ग्राही को ही दिया जा सकता है, जबकि AB प्लाज्मा (जिस में एंटी-A या एंटी-B प्रतिरक्षी नहीं होते) ABO रक्त वर्ग के किसी भी रोगी को दिया जा सकता है

रुपान्तरण[संपादित करें]

अप्रैल 2007 में एक पद्धति की खोज हुई जो एंजाइमों का उपयोग करते हुए रक्त प्रकार A, B और AB को O में परिवर्तित कर सकती है। यह पद्धति अभी भी प्रयोगात्मक है और परिणामी रक्त को अभी मानव पर परीक्षण करना है।[54][55] इस विधि में विशेष रूप से लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर उपस्थित प्रतिजनों को हटा दिया जाता है या रूपांतरित कर दिया जाता है, इसलिए अन्य प्रतिजन और प्रतिरक्षी बने रहते हैं। यह प्लाज्मा संगतता में मदद नहीं करता है, लेकिन यह ज्यादा विचार का मुद्दा नहीं है क्योंकि रक्ताधन में प्लाज्मा की चिकित्सकीय उपयोगिता सिमित होती है और इसे संरक्षित करना आसान है।

इतिहास[संपादित करें]

रक्ताधान के साथ प्रारंभिक प्रयोगों के दौरान दो सबसे महत्वपूर्ण रक्त समूह प्रणालियों की खोज की गयी: 1901 में ABO समूह[56] और 1937 में[57].[57] 1945 में कूंब्स परीक्षण का विकास हुआ,[58] रक्ताधन चिकित्सा के आगमन और नवजात शिशु में रक्त अपघटन के रोग के बारे में समझ से अधिक रक्त समूहों की खोज हुई और अंतर्राष्ट्रीय रक्ताधन सोसाइटी (ISBT) के द्वारा 30 मानव रक्त समूह प्रणालियों की पहचान कर ली गयी है,[2] और 30 रक्त समूहों में 600 से अधिक भिन्न रक्त समूह प्रतिजन पाए गए हैं,[4] लेकिन इनमें से अधिकांश बहुत दुर्लभ हैं या विशेष जातीय समूहों में ही पाए जाते हैं। रक्त समूहों का उपयोग फोरेंसिक विज्ञान में और पितृत्व का परीक्षण करने में किया जाता है, लेकिन ये दोनों उपयोग आनुवंशिक फिंगर प्रिंटिंग के द्वारा प्रतिस्थापित किये जा रहे हैं, जो अधिक विश्वसनीयता प्रदान करते हैं।

सांस्कृतिक मान्यताएं[संपादित करें]

जापानी संस्कृति में रक्त प्रकारव्यक्तित्व के जापानी रक्त प्रकार सिद्धांत में एक प्रचलित विश्वास है कि व्यक्ति का ABO रक्त प्रकार उस के व्यक्तित्व, चरित्र और दूसरों के साथ सुसंगति का पूर्वानुमान लगता है। यह विश्वास दक्षिण कोरिया में भी व्यापक है[59].

ऐतिहासिक वैज्ञानिक नस्लवाद के विचारों से व्युत्पन्न, सिद्धांत 1927 में जापान में एक मनोवैज्ञानिक रिपोर्ट में पहुँच गया और समकालीन सैनिकवादी सरकार ने बेहतर सैनिकों के प्रजनन के लिए एक अध्ययन किया।[तथ्य वांछित][136]

यह विश्वास 1930 में इसके अवैज्ञानिक आधार के कारण फीका पड़ गया। इस सिद्धांत को कब से वैज्ञानिकों द्वारा अस्वीकार कर दिया गया था, लेकिन इसे 1970 के दशक में मासाहिको नोमी ने पुनर्जीवित किया। वे एक प्रसारक थे जिनकी कोई चिकित्सकीय पृष्ठभूमि नहीं थी।[तथ्य वांछित][137]

जापान में किसी से उस का रक्त प्रकार पूछना उतना ही आम माना जाता है जैसे उस की राशि पूछना.जापान में बने वीडियो खेल (विशेषकर रोल-प्लेइंग खेल) और मंगा श्रृंखला में रक्त प्रकार के साथ चरित्र वर्णन किया जाना एक आम बात है।[तथ्य वांछित][138]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Maton, Anthea; Jean Hopkins, Charles William McLaughlin, Susan Johnson, Maryanna Quon Warner, David LaHart, Jill D. Wright (1993). Human Biology and Health. Englewood Cliffs, New Jersey, USA: Prentice Hall. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-13-981176-1.
  2. "Table of blood group systems". International Society of Blood Transfusion. 2008. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  3. E.A. Letsky; I. Leck, J.M. Bowman (2000). "Chapter 12: Rhesus and other haemolytic diseases". Antenatal & neonatal screening (Second संस्करण). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-262827-7 |isbn= के मान की जाँच करें: checksum (मदद).
  4. "American Red Cross Blood Services, New England Region, Maine, Massachusetts, New Hampshire, Vermont". American Red Cross Blood Services - New England Region. 2001. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008. there are more than 600 known antigens besides A and B that characterize the proteins found on a person's red cells
  5. Dean, Laura. "The ABO blood group". Blood Groups and Red Cell Antigens. online: NCBI. A number of illnesses may alter a person's ABO phenotype
  6. Stayboldt C, Rearden A, Lane T (1987). "B antigen acquired by normal A1 red cells exposed to a patient's serum". Transfusion. 27 (1): 41–4. PMID 3810822. डीओआइ:10.1046/j.1537-2995.1987.27187121471.x.
  7. Matsushita S, Imamura T, Mizuta T, Hanada M (1983). "Acquired B antigen and polyagglutination in a patient with gastric cancer". Jpn J Surg. 13 (6): 540–2. PMID 6672386. डीओआइ:10.1007/BF02469500.
  8. Kremer Hovinga I, Koopmans M, de Heer E, Bruijn J, Bajema I (2007). "Change in blood group in systemic lupus erythematosus". Lancet. 369 (9557): 186–7, author reply 187. PMID 17240276. डीओआइ:10.1016/S0140-6736(07)60099-3.
  9. [18] ^ डेमी-ली ब्रेन्नन हेस चेंज्ड ब्लड टाइप्स एंड इम्यून सिस्टम कटे सिकोरा, दी डेली टेलीग्राफ, 25 जनवरी 2008
  10. ऑस्ट डॉकटर्स हेल टीन'स ट्रांसप्लांट 'मिराकल' सीन रुबिन्स्तीन-डनलप, ABC न्यूज़, (ऑस्ट्रेलिया), 24 जनवरी 2008
  11. ऐलन एफएच जे, क्रब्बे एस एम्, कोरकोरन, पीऐ, अ न्यू फिनोटाईप (मेक लिओड) इन दी केल ब्लड ग्रुप सिस्टम . Vox Sang.1961 सितम्बर 6:555-60. पीएमआईडी 13477267
  12. [21] ^ मिलर एलएच, मेसन एसजे, क्लिदे डीएफ, मेक गिनीस एमएच. " "दी रेसिस्टेंस फैक्टर टू प्लाजमोडियम वाइवेक्स इन ब्लाक्स. डफी-ब्लड ग्रुप जीनोटाइप, FyFy." N Engl J Med. 1976 अगस्त 5, 295 (6) :302-4 पी एम आई डी 778616
  13. Kwiatkowski, DP (2005). "How Malaria Has Affected the Human Genome and What Human Genetics Can Teach Us about Malaria". Am J Hum Genet. 77 (2): 171–192. PMID 16001361. डीओआइ:10.1086/432519. पीएमसी: 1224522. अभिगमन तिथि 16 नवंबर 2006. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)"α थैलेसीमिया, G6PD की कमी, ओवेलो साइटोसिस और डफी ऋणात्मक रक्त समूह का भिन्न भौगौलिक वितरण उस सामान्य सिद्धांत का उदाहरण है कि भिन्न आबादियों ने मलेरिया से लड़ने के लिए भिन्न आनुवंशिक भिन्नताओं को विकसित कर लिया है। "
  14. "Your blood – a textbook about blood and blood donation" (PDF). पृ॰ 63. मूल (PDF) से 27 अगस्त 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008.
  15. [28] ^ रक्त के समूह- वे क्या हैं?, ऑस्ट्रेलियाई रेड क्रॉस
  16. [29] ^ ऑस्ट्रियाई रेड क्रॉस - रक्त दाता जानकारी
  17. [30] ^ रोड क्रूज वील्सबेके- रक्त दाता जानकारी सामग्री
  18. [31] ^ तिपोस सेन्ग्युनिओज
  19. [32] ^ प्रकार और Rh प्रणाली, कनाडा रक्त सेवाएँ
  20. [33] ^ डेनिश जनसंख्या में मुख्य रक्त समूहों की आवृति
  21. [34] ^ वेरेग्रुप्पीदे एसिनेमिसजेदास ईस्तिस
  22. [35] ^ सुओमालाइस्ते वेरिरिह्मजकौमा
  23. "Les groupes sanguins (système ABO)". Centre Hospitalier Princesse GRACE - Monaco (फ़्रेंच में). C.H.P.G. MONACO. 2005. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008.
  24. [38] ^ डे: ब्लुटग्रुप्पे # हफिजकीत डेर ब्लुट ग्रुप्पेन
  25. [39] ^ रक्तदान, हांगकांग रेड क्रॉस
  26. [40] ^ Blóðflokkar
  27. [41] ^ अभ्यास करने वाले चिकित्सकों के लिए भारतीय पत्रिका
  28. [42] ^ आयरिश रक्ताधान सेवा / आयरिश रक्त समूह प्रकार आवृत्ति वितरण
  29. [43] ^ इसराइल में राष्ट्रीय बचाव सेवा
  30. [44] ^ रक्त समूह क्या हैं? - NZ ब्लड
  31. नॉर्वेजियन रक्त दाता संगठन
  32. [46] ^ Regionalne Centrum Krwiodawstwa iKrwiolecznictwa we Wrocławiu
  33. [47] ^ सऊदी अरब के पूर्वी क्षेत्र में ABO रक्त समूहों की आवृति
  34. [48] ^ Federación Nacional de Donantes de Sangre / la sangre / Grupos
  35. [49] ^ स्वीडन की जनसंख्या में प्रमुख रक्त समूहों की आवृति
  36. "Voorraad Erytrocytenconcentraten Bij Sanquin" (डच में). अभिगमन तिथि 27 मार्च 2009.
  37. [52] ^ तुर्की रक्त समूह साइट.
  38. [53] ^ ब्रिटेन में प्रमुख रक्त समूहों की आवृति
  39. [54] ^ अमेरिका में रक्त के प्रकार
  40. Blood Transfusion Division, United States Army Medical Research Laboratory (1971), Selected contributions to the literature of blood groups and immunology. 1971 v. 4, United States Army Medical Research Laboratory, Fort Knox, Kentucky, ... In northern India, in Southern and Central China and in the neighboring Central Asiatic areas, we find the highest known frequencies of B. If we leave this center, the frequency of the B gene decreases almost everywhere ...
  41. Encyclopaedia Britannica (2002), The New Encyclopaedia Britannica, Encyclopaedia Britannica, Inc., आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0852297874, ... The maximum frequency of the B gene occurs in Central Asia and northern India. The B gene was probably absent from American Indians and Australian Aborigines before racial admixture occurred with the coming of the white man ...
  42. Carol R. Ember, Melvin Ember (1973), Anthropology, Appleton-Century-Crofts, ... Blood type B is completely absent in most North and South American Indians ...
  43. Laura Dean, MD (2005), Blood Groups an Red Cell Antigens, National Center for Biotechnology Information, United States Government, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1932811052, ... Type A is common in Central and Eastern Europe. In countries such as Austria, Denmark, Norway, and Switzerland, about 45-50% of the population have this blood type, whereas about 40% of Poles and Ukrainians do so. The highest frequencies are found in small, unrelated populations. For example, about 80% of the Blackfoot Indians of Montana have blood type A ...
  44. Technical Monograph No. 2: The ABO Blood Group System and ABO Subgroups (PDF), Biotec, मार्च 2005, मूल (PDF) से 6 फरवरी 2007 को पुरालेखित, ... The frequency of blood group A is quite high (25-55%) in Europe, especially in Scandinavia and parts of central Europe. High group A frequency is also found in the Aborigines of South Australia (up to 45%) and in certain American Indian tribes where the frequency reaches 35% ...
  45. Nickel, RG; Willadsen SA, Freidhoff LR; एवं अन्य (1999). "Determination of Duffy genotypes in three populations of African descent using PCR and sequence-specific oligonucleotides". Hum Immunol. 60 (8): 738–42. PMID 10439320. डीओआइ:10.1016/S0198-8859(99)00039-7. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  46. Bruce, MG (2002). "BCF - Members - Chairman's Annual Report". The Blood Care Foundation. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008. As Rhesus Negative blood is rare amongst local nationals, this Agreement will be of particular value to Rhesus Negative expatriates and travellers नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  47. Daniels G, Finning K, Martin P, Summers J (2006). "Fetal blood group genotyping: present and future". Ann N Y Acad Sci. 1075: 88–95. PMID 17108196. डीओआइ:10.1196/annals.1368.011.
  48. "Use of Anti-D Immunoglobulin for Rh Prophylaxis". Royal College of Obstetricians and Gynaecologists. 2002. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  49. "Pregnancy - routine anti-D prophylaxis for RhD-negative women". NICE. 2002. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  50. "RBC compatibility table". American National Red Cross. 2006. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  51. [85] ^ रक्त प्रकार और संगतता bloodbook.com
  52. Fauci, Anthony S.; Eugene Braunwald, Kurt J. Isselbacher, Jean D. Wilson, Joseph B. Martin, Dennis L. Kasper, Stephen L. Hauser, Dan L. Longo (1998). Harrison's Principals of Internal Medicine. New York: McGraw-Hill. पृ॰ 719. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-07-020291-5.
  53. [124] ^ यूनिवर्सल स्वीकर्ता और दाता समूह
  54. "Blood groups 'can be converted'". बीबीसी न्यूज़. 2007. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  55. Liu Q, Sulzenbacher G, Yuan H, Bennett E, Pietz G, Saunders K, Spence J, Nudelman E, Levery S, White T, Neveu J, Lane W, Bourne Y, Olsson M, Henrissat B, Clausen H (2007). "Bacterial glycosidases for the production of universal red blood cells". Nat Biotechnol. 25: 454. PMID 17401360. डीओआइ:10.1038/nbt1298.
  56. Landsteiner K. Zur Kenntnis der antifermentativen, lytischen und agglutinierenden Wirkungen des Blutserums und der Lymphe . Zentralblatt Bakteriologie 1900; 27:357-62.
  57. लेनडसटीनर के, वीनर ऐ एस, रीसस रक्त के प्रतिरोधी सीरा के द्वारा पहचाने गए मानव रक्त में स्कंदन कारक प्रोकसोक ऍक्स्प बयोलमेड 1940; 43:223-224.
  58. कोम्बस RRA, मोरान्त AE, रेस RR. क्षीण और "अपूर्ण" रक्त स्कंदन की जांच के लिए एक नया परीक्षण . ब्रिट जे एक्सप पाथ. 1945;26:255-66.
  59. Associated Press (6 मई 2005). "Myth about Japan blood types under attack". AOL Health. अभिगमन तिथि 29 दिसंबर 2007. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)

इसके अतिरिक्त पठन[संपादित करें]

  • Dean, Laura. "Blood Groups and Red Cell Antigens, a guide to the differences in our blood types that complicate blood transfusions and pregnancy" (HTML, also PDF, Flash and PRC versions). NCBI. अभिगमन तिथि September 15 2006. नामालूम प्राचल |dateformat= की उपेक्षा की गयी (मदद); |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  • मोल्लिसन पी एल, एन्गाल्फ्रीत और कोंट्रेरस एम "ब्लड ट्रांसफ्यूजन इन क्लिनिकल मेडीसिन."1997. 10 वां संस्करण.ब्लैकवेल विज्ञान, ऑक्सफोर्ड, ब्रिटेन. आईएसबीएन 0-86542-881-6

बाहरी संबंध[संपादित करें]

  • BGMUT रक्त समूह प्रतिजन जीन उत्परिवर्तन डेटाबेस NCBI में, NIH के पास जीनों, प्रोटीनों और इसके कारण विभिन्नताओं का विस्तृत वर्णन है, जो रक्त समूहों के लिए उत्तरदायी है।
  • Online 'Mendelian Inheritance in Man' (OMIM) 110300 (ABO)
  • Online 'Mendelian Inheritance in Man' (OMIM) 111680 (रीसस D)
  • Farr, A D (1979). "Blood group serology—the first four decades (1900--1939)". Med Hist. 23 (2): 215–226. PMID 381816. पीएमसी: 1082436. नामालूम प्राचल |day= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |accessmonthday= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |accessyear= की उपेक्षा की गयी (|access-date= सुझावित है) (मदद); नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  • "Blood group test, Gentest.ch" (HTML, JavaScript). Gentest.ch GmbH. नामालूम प्राचल |accessyear= की उपेक्षा की गयी (|access-date= सुझावित है) (मदद)
  • "Blood typing systems other than ABO". BloodBook.com. 10 सितंबर 2005. अभिगमन तिथि 15 जुलाई 2008.
  • "Blood Facts". LifeShare Blood Centers. अभिगमन तिथि September 15 2006. पाठ " Rare Traits " की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |dateformat= की उपेक्षा की गयी (मदद); |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  • "Modern Human Variation: Distribution of Blood Types" (HTML). Dr. Dennis O'Neil, Behavioral Sciences Department, Palomar College, San Marcos, California. 6 जून 2001. अभिगमन तिथि November 23 2006. नामालूम प्राचल |dateformat= की उपेक्षा की गयी (मदद); |archive-url= ख़राब फारमेट में है: timestamp (मदद); |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  • "Racial and Ethnic Distribution of ABO Blood Types - BloodBook.com, Blood Information for Life". bloodbook.com. अभिगमन तिथि September 15 2006. नामालूम प्राचल |dateformat= की उपेक्षा की गयी (मदद); |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  • "Molecular Genetic Basis of ABO". अभिगमन तिथि July 31 2008. नामालूम प्राचल |dateformat= की उपेक्षा की गयी (मदद); |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  • रक्त प्रकार कैलकुलेटर -इस कैलकुलेटर का उपयोग उस बच्चे के रक्त समूह का निर्धारण करने के लिए किया जाता है जब माता पिता का रक्त समूह ज्ञात हो।

साँचा:HDN