रक्ताधान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रक्ताधान रक्त या रक्त-आधारित उत्पादों को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के परिसंचरण तंत्र में स्थानांतरित करने की प्रक्रिया है। कुछ स्थितियों में, जैसे कि चोट लगने के कारण अत्यधिक रक्तस्राव होने पर, रक्ताधान जीवन-रक्षी हो सकता है, या शल्य-चिकित्सा के दौरान होने वाले रक्त की हानि की आपूर्ति करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है। रक्ताधान का उपयोग रक्त संबंधी बीमारी के द्वारा उत्पन्न गंभीर रक्तहीनता या बिम्बाणु-अल्पता (रक्त में प्लेटलेटों की संख्या में कमी) का उपचार करने के लिए भी किया जा सकता है। अधिरक्तस्राव (हीमोफ़ीलिया) या अर्द्धचन्द्राकार लाल रक्तकोशिका संबंधी बीमारी से प्रभावित व्यक्ति के लिए बहुधा रक्ताधान की आवश्यकता हो सकती है। प्रारंभिक रक्ताधानों में संपूर्ण रक्त का उपयोग होता था, लेकिन आधुनिक चिकित्सा प्रणाली आम तौर पर केवल रक्त के अवयवों का उपयोग करती हैं।

इतिहास[संपादित करें]

आरंभिक प्रयास[संपादित करें]

रक्ताधान के संबंध में प्रथम ऐतिहासिक प्रयास का सर्वप्रथम वर्णन 17वीं शताब्दी के इतिहास लेखक स्टीफैनो इन्फ़ेसुरा के द्वारा किया गया। इन्फ़ेसुरा चर्चा करता है कि, 1492 में, जब पोप इन्नोसेंट VIII गहन मूर्च्छा (कोमा) में चले गए, तो एक चिकित्सक के सुझाव पर मरते हुए पोप (बिशप) के शरीर में तीन लड़कों का रक्त डाला गया (मुख से, क्योंकि परिसंचरण की अवधारणा एवं अंतःशिरा प्रवेश की विधियां उस समय अस्तित्व में नहीं थी). लड़के दस वर्ष की उम्र के थे और उनमें से प्रत्येक को एक सोने के सिक्के देने का वचन दिया गया था। हालांकि, न केवल पोप मर गया, बल्कि उसके तीन बच्चे भी मर गए। कुछ लेखकों ने इन्फ़ेसुरा पर पोपवाद का विरोधी होने का आरोप लगाते हुए उसके विवरण को सही नहीं माना है।[1]

प्रत्यक्ष इंटर-हियुमन रक्ताधान के लिए द्वितीय विश्व युद्ध के शॉट.

हार्वे के रक्त परिसंचरण संबंधी प्रयोगों के साथ आरंभ करते हुए, रक्ताधान संबंधी परिष्कृत अनुसंधान 17 वीं सदी में शुरू हुआ, जिसमें पशुओं के बीच रक्ताधान संबंधी सफल प्रयोग हुए. हालांकि, मनुष्यों पर किए जाने वाले क्रमिक प्रयासों का परिणाम घातक बना रहा.

सर्वप्रथम पूर्ण रूप से दस्तावेजीकृत मानव रक्ताधान फ्रांस के सम्राट लुई XIV के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ॰ जीन बैप्टिस्ट डेनिस द्वारा जून 15, 1967 में किया गया। उन्होंने एक भेंड़ का रक्ताधान एक 15 वर्ष के लड़के में किया, जो रक्ताधान के बाद जीवित बच गया।[2] डेनिस ने एक मजदूर का भी रक्ताधान किया और वह भी जीवित बच गया। दोनों उदाहरण संभवत: रक्त की छोटी मात्रा के कारण थे जिसका वास्तव में इन लोगों में रक्ताधान किया गया था। इसने उन्हें ऐलर्जी संबंधी प्रतिक्रिया का सामना करने की अनुमति प्रदान की. रक्ताधान से गुजरने वाला डेनिस का तीसरा मरीज स्वीडिश व्यापारी बैरन बॉन्ड था। उन्होंने दो आधान प्राप्त किए. दूसरे आधान के बाद बॉन्ड की मृत्यु हो गई।[3] 1667 की सर्दियों में, डेनिस ने एन्टोइने मॉरॉय का बछड़े के रक्त के साथ कई बार आधान किया, जिनकी तीसरी बार मृत्यु हो गई।[4] उनकी मृत्यु से घिरे हुए कई विवाद हैं। मॉरॉय की पत्नी ने दृढ़तापूर्वक कहा कि डेनिस उसके पति की मृत्यु के लिए जिम्मेदार थे। लेकिन मॉरॉय की पत्नी को उसकी मौत का आरोप लगाया गया। यद्यपि बाद में यह निर्धारित हुआ कि वास्तव में मॉरॉय की मृत्यु आर्सेनिक की विषाक्तता से हुई, पशु रक्त के साथ डेनिस के प्रयोगों ने फ्रांस में एक गर्म विवाद छेड़ दिया.[3] अंतत: 1670 में, इस प्रक्रिया पर प्रतिबंध लगा दिया गया। सही समय पर, ब्रिटिश संसद और यहां तक कि पोप ने भी यही किया। रक्ताधान अगले 150 वर्षों के लिए गुमनामी में चला गया।

प्रथम सफल आधान[संपादित करें]

रिचर्ड लोअर ने परिसंचरण कार्य सम्बन्धी रक्त की मात्रा में परिवर्तन के प्रभावों का परीक्षण किया और बंद धमनीशिरापरक संयोजनों के द्वारा थक्के को हटाते हुए पशुओं में पार-परिसंचरण संबंधी अध्ययन की विधियों को विकसित किया। उनके नये तैयार किए गए उपकरणों से अंततः वास्तविक रक्त आधान संभव हुआ।

"उनके कई सहकर्मी उपस्थित थे। फ़रवरी 1665 के अंत तक [जब उन्होंने] एक मध्यम आकार के कुत्ते का चयन किया, उन्होंने उसके गले का शिरा खोला और इसकी शक्ति लगभग क्षीण होने तक उसका रक्त निकाल लिया। तब, इस कुत्ते को होने वाले रक्त की हानि की दूसरे रक्त द्वारा पूर्ति करने के लिए, उस प्रथम पशु के बगल में बांध कर रखे गए अपेक्षाकृत विशाल मैस्टिफ़ की ग्रीवा धमनी से रक्त निकाल कर उसका प्रयोग किया, जब तक कि बाद वाले पशु ने दर्शाया कि ..... यह अंतर्वाही रक्त से अतिपूरित हो गया था।" "बाद में उनके द्वारा गले का शिरा सिलने के बाद", पशु बिना किसी कष्ट या दू:ख के संकेत" के अच्छा हो गया।

लोअर ने जानवरों के बीच प्रथम रक्ताधान किया। तब उनसे "माननीय [रॉबर्ट] बॉयल के द्वारा रॉयल सोसायटी को सम्पूर्ण प्रयोग की प्रक्रिया से परिचित कराने का अनुरोध किया गया," जिसे उन्होंने 1665 के दिसंबर में सोसायटी के दार्शनिक कार्यसंपादन में किया। 15 जून 1667 को, उस समय पेरिस में प्राध्यापक, डेनिस ने मनुष्यों के बीच प्रथम आधान क्रियान्वित करने एवं इस तकनीक का श्रेय प्राप्त करने का दावा किया, लेकिन लोअर की प्राथमिकता को चुनौती नहीं दी जा सकती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

लंदन में छह महीने बाद, लोअर ने ब्रिटेन में प्रथम मानव आधान किया, जहां उन्होंने रॉयल सोसाइटी की बैठक में, अपनी किसी असुविधा के बिना [मरीज की] बांह में भेंड़ की रक्त के कुछ आउन्स के विभिन्न समय किए जाने वाले प्रयोग का निरीक्षण किया।" प्राप्तकर्ता " हानिरहित पागलपन के एक मरीज" आर्थर कोगा थे। प्रजातियों के बीच रक्ताधान के महत्त्व के संबंध में अटकलों के कारण भेड़ के खून का इस्तेमाल किया गया था, यह सुझाव दिया गया था कि एक सौम्य मेमने से लिया गया रक्त एक उत्तेजित व्यक्ति की तूफानी भावना को शांत कर सकता है और अधिक मिलनसार जीवों से लिए गए रक्त से शर्मीले व्यक्ति को बहिर्गामी बनाया जा सकता है। लोअर कोगा का अनेक बार उपचार करना चाहता था, लेकिन उसके मरीज ने अस्वीकार कर दिया. कोई और आधान नहीं किया गया। कुछ ही समय पहले, लोअर लन्दन आये थे, जहां उनके बढ़ते हुए पेशे ने उन्हें अनुसंधान का परित्याग करने के लिए अग्रसर किया।[5]

आरंभिक सफलता[संपादित करें]

रक्त आधान का विज्ञान 19 वीं सदी के प्रथम दशक के समय तक पुराना है जब भिन्न रक्त प्रकारों के परिणामस्वरूप आधान के पूर्व रक्त दाता एवं रक्त प्राप्तकर्ता के कुछ रक्त मिश्रित करने की परिपाटी शुरू हुई (परस्पर-मिलान का आरंभिक रूप).

1818 में, ब्रिटिश प्रसूति-विशेषज्ञ, डॉ॰ जेम्स ब्लूनडेल ने प्रसवोत्तर रक्तस्राव का उपचार करने के लिए मानव रक्त का प्रथम सफल रक्ताधान संपादित किया। उन्होंने मरीज के पति का दाता के रूप में उपयोग किया और उसकी पत्नी में आधान करने के लिए उसकी बांह से चार औंस रक्त निकाला. वर्ष 1825 और 1830 के दौरान, डॉ॰ ब्लून्डेल ने 10 आधान संपादित किए, जिनमें से पांच लाभप्रद रहे और उन्होंने उनका परिणाम प्रकाशित किया। उन्होंने रक्त के आधान के लिए कई उपकरणों का भी आविष्कार किया। अपने प्रयास से उन्होंने बहुत अधिक मात्रा में रुपया अर्जित किया, जो लगभग 50 मिलियन (1827 में लगभग 2 मिलियन) वास्तविक डॉलर (मुद्रास्फीति के लिए समायोजित) था।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

1840 में, सेंट जार्ज मेडिकल स्कूल, लंदन में डॉ॰ ब्लून्डेल की सहायता से, सैमुएल आर्मस्ट्रांग लेन ने प्रथम संपूर्ण रक्ताधान संपादित किया अधिरक्तस्राव का उपचार करने के लिए

ब्रैम स्टोकर के उपन्यास "ड्रेकुला" में, रक्त आधान की विभिन्न घटनाएं जानबूझ कर दी गई थीं। यह पुस्तक 1897 में प्रकाशित किया गया।

जॉर्ज वॉशिंगटन क्राइल को क्लीवलैंड क्लिनिक में सीधे रक्ताधान का उपयोग कर शल्य-चिकित्सा संपादित करने का श्रेय दिया जाता है।

1901 तक कई रोगियों की मृत्यु हो चुकी थी, जब ऑस्ट्रिया के कार्ल लैंडस्टेनर ने मानव रक्त समूहों की खोज की, जिससे कि रक्ताधान सुरक्षित हो गया। दो व्यक्तियों के रक्त का मिश्रण रक्त का एकत्रीकरण या संलग्नता उत्पन्न कर सकता है। एकत्रित लाल कोशिकाओं में दरार पड़ सकती है और वे विषाक्त प्रतिक्रियाएं उत्पन्न कर सकती हैं जिनके घातक परिणाम हो सकते हैं। कार्ल लैंडस्टेनर ने देखा कि रक्त का एकत्रीकरण एक रोगक्षमता संबंधी प्रक्रिया है जो उस समय उत्पन्न होता है जब रक्ताधान के प्राप्तकर्ता में दाता रक्त कोशिकाओं के विरुद्ध रोग-प्रतिकारक (ए, बी, ए एवं बी दोनों, या कोई भी नहीं) होते हैं। कार्ल लैंडस्टेनर के कार्य ने रक्त समूहों (ए, बी, एबी, ओ) के निर्धारण को संभव बना दिया एवं इस प्रकार सुरक्षित रूप से रक्ताधान क्रियान्वित करने का मार्ग प्रशस्त कर दिया. इस खोज के लिए उन्हें 1930 में शरीर विज्ञान एवं चिकित्सा के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

रक्त संग्रहण का विकास[संपादित करें]

जबकि प्रथम आधान सीधे दाता से प्राप्तकर्ता में स्कन्दन (थक्का बनने) के पहले किया गया था, 1910 में यह खोज किया गया कि स्कन्दनरोधी मिलाकर और रक्त को ठंडा कर इसे कुछ दिनों के लिए जमाना संभव था, जिससे रक्त बैंकों के लिए मार्ग खुल गया। प्रथम गैर-प्रत्यक्ष आधान मार्च 27, 1914 को बेल्ज़ियम के चिकित्सक अल्बर्ट हस्टिन के द्वारा संपादित किया गया, जिन्होंने स्कन्दरोधी के रूप में सोडियम साइट्रेट का उपयोग किया। जमा कर एवं ठंडा कर रखे गए रक्त का प्रयोग कर प्रथम रक्त आधान 1 जनवरी 1916 में संपादित किया गया। एक चिकित्सा शोधकर्ता और अमेरिकी सेना के अधिकारी ओस्वाल्ड होप रॉबर्ट्सन को आम तौर पर प्रथम विश्व युद्ध के दौरान फ्रांस की सेवा करते हुए प्रथम रक्त बैंक स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है।

रक्ताधान के विज्ञान को समर्पित पहले शैक्षणिक संस्था की स्थापना अलेक्जेंडर बोग्डैनोव के द्वारा मॉस्को में 1925 में की गई। बोग्डैनोव कुछ हद तक, एक चिरस्थायी युवावस्था की तलाश से प्रेरित था और संपूर्ण रक्त के 11 आधान प्राप्त करने के बाद अपनी दृष्टि में सुधार, गंजेपन की रोक, एवं अन्य सकारात्मक लक्षण के बाद उसने संतुष्टि के साथ टिप्पणी की.

वास्तव में, व्लादिमीर लेनिन की मृत्यु के बाद, मृत बोल्शेविक नेता को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से, बोग्डैनोव को लेनिन के मस्तिष्क के अध्ययन का कार्य सौंपा गया। अपने एक प्रयोग के परिणामस्वरूप बोग्डैनोव की 1928 में उस समय मृत्यु हो गई जब एक आधान में मलेरिया एवं तपेदिक से पीड़ित एक छात्र का रक्त उसके शरीर में डाल दिया गया। कुछ विद्वानों (जैसे कि लॉरेन ग्राहम) ने अनुमान लगाया कि उनकी मृत्यु एक आत्महत्या हो सकती है, जबकि अन्य इसे रक्त समूह की असंगति को इसका कारण बताते हैं जिसे उस समय पूर्ण रूप से नहीं समझा गया।[6]

आधुनिक युग[संपादित करें]

बोग्डैनोव के नमूने का अनुसरण करते हुए, सोवियत संघ ने 1930 के दशक में रक्त बैंकों की एक राष्ट्रीय प्रणाली की स्थापना की. सोवियत अनुभव की खबर संयुक्त राज्य अमेरिका में पहुंची जहां 1937 में शिकागो में कूक काउंटी हॉस्पीटल के चिकित्सा शास्त्र के निदेशक बर्नार्ड फ़ैन्टस ने संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रथम अस्पताल ब्लड बैंक की स्थापना की. दाता के रक्त को संरक्षित एवं जमा करने वाले एक अस्पताल प्रयोगशाला की स्थापना करने के समय, फ़ैन्टस ने "रक्त बैंक" शब्द का आरंभ किया। कुछ ही वर्षों के भीतर, पूरे संयुक्त राज्य अमेरिका में अस्पताल और सामुदायिक रक्त बैंकों को स्थापित किया गया।

1930 के अंतिम दशक एवं 1940 के दशक के आरंभ में, डॉ॰ चार्ल्स आर. ड्रियू के अनुसंधान ने इस खोज को जन्म दिया कि रक्त को रक्त प्लाज्मा एवं लाल रक्त कोशिकाओं में विभाजित किया जा सकता है एवं प्लाज़्मा को अलग से जमाया जा सकता है। इस तरह से जमाया गया रक्त अधिक लंबे समय तक कायम रहा एवं उसके दूषित हो जाने की संभावना बहुत कम थी।

1939-40 में एक और महत्वपूर्ण सफलता मिली जब कार्ल लैंडस्टेनर, एलेक्स वीनर, फिलिप लेविन, एवं आर.ई. स्टेटसन ने रीसस रक्त समूह प्रणाली की खोज की, जिसे उस समय तक आधान संबंधी बहुसंख्यक प्रतिक्रियाओं का कारण माना गया। तीन साल बाद, जे.एफ. लूटिट एवं पैट्रिक एल. मॉलिसन के द्वारा स्कन्दनरोधी की मात्रा को कम करने वाले एसिड- साइट्रेट-डेक्स्ट्रोज (एसीडी) के घोल के व्यवहार ने, अधिक परिमाण में रक्ताधान एवं दीर्घावधि तक भंडारण की अनुमति प्रदान की.

कार्ल वाल्टर और डब्ल्य़.पी.मर्फी, जूनियर ने 1950 में रक्त संग्रह के लिए प्लास्टिक बैग के व्यवहार की शुरूआत की. भंगुर कांच के बोतलों की जगह टिकाऊ प्लास्टिक बैग के व्यवहार ने खून की एक संपूर्ण यूनिट से बहु रक्त अवयव की सुरक्षित एवं सरल तैयारी के लिए सक्षम एक संग्रह प्रणाली के विकास की अनुमति प्रदान की.

कैंसर संबंधी शल्य-चिकित्सा के क्षेत्र में रक्त की भारी हानि को पूरा करना एक प्रमुख समस्या बन गया। हृदय गति रूकने की दर बहुत अधिक थी। डॉ॰ सी. पॉल बॉयन और विलियम हॉलैंड ने पता लगाया कि रक्त का तापमान और आधान की दर ने जीवित रहने की दर को बहुत अधिक प्रभावित किया और अधिक नर्म रक्त का जन्म हुआ। (संदर्भ: 1. बॉयन सीपी, हॉलैंड डब्ल्यू.एस. कार्डीऐक ऐरेस्ट ऐन्ड टेम्पेरेचर ऑफ बैंक ब्लड. जैमा. 1963 जनवरी 5, 183:58-60. 2. संपादक रूपर्ह्ट जे, वैन लिबर्ग एम जे, अर्डमैन डब्ल्यू. एनेस्थेसिया: ईसेज ऑन इत्स हिस्ट्री. स्प्रिन्गर-वर्लैग, बर्लिन, 1985, पीपी 99-101..)

जमा किये गए रक्त के सुरक्षित रखे जाने की अवधि में विस्तार करने वाला एक स्कन्दनरोधी परिरक्षक, सीपीडीए-1 था, जिसकी शुरूआत 1979 में की गई, जिसने रक्त की आपूर्ति में वृद्धि की और ब्लड बैंकों के बीच संसाधनों के आदान-प्रदान को सहज बनाया.

2006 से, संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रति वर्ष चढ़ाए जाने वाले रक्त उत्पाद लगभग 15 मिलियन इकाई थी।[7]

सावधानियां[संपादित करें]

संगतता (अनुकूलता)[संपादित करें]

आरएच समूह का प्रमुख महत्व भ्रूण और नवजात शिशु के रक्तलायी रोग में इसकी भूमिका है। जब एक आरएच निगेटिव मां एक पॉजिटिव भ्रूण धारण करती है, तो वह आरएच प्रतिजन (ऐन्टिजिन) के विरुद्ध प्रतिरक्षित हो सकती है। यह आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान महत्वपूर्ण नहीं होता है, लेकिन बाद के गर्भधारणों में वह आरएच प्रतिजन (ऐन्टिजिन) के प्रति एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित कर सकती है। मां की प्रतिरक्षा प्रणाली अपरा (प्लैसेंटा) के द्वारा शिशु की लाल कोशिकाओं पर हमला कर सकती है। एचडीएफएन (HDFN) के हल्के मामले विकलांगता उत्पन्न कर सकते हैं, लेकिन कुछ गंभीर मामले घातक हो सकते हैं। आरएच-डी (Rh-D) एचडीएफएन में सबसे अधिक सामान्य रूप से शामिल लाल कोशिका वाला प्रतिजन है, लेकिन लाल कोशिका वाले अन्य प्रतिजन भी यह स्थिति पैदा कर सकते हैं। सुने हुए रक्त प्रकारों में "पॉजिटिव" या "निगेटिव" जैसे कि "ओ पॉजिटिव" आरएच-डी प्रतिजन होता है।

आधान संचारित संक्रमण[संपादित करें]

अनेक संक्रामक रोग (जैसे कि अन्य रोगों में एच आई वी, उपदंश, हेपाटाइटिस बी एवं हैपाटाइटिस सी) दाता से प्राप्तकर्ता को संचारित हो सकते हैं।

आधान के माध्यम से संचारित होने वाले रोगों में शामिल हैं:

  • एचआईवी-1 और एचआईवी-2
  • ह्यूमन टी-लिम्फोट्रोपिक वायरस (लसीका कोशिका के प्रति आकर्षित) (एचटीएलवी-1 और एचटीएलवी-2)
  • हेपाटाइटिस सी वायरस (आधान के बाद होने वाले>90% हेपाटाइटिस के लिए जिम्मेदार)
  • हेपाटाइटिस बी
  • ट्रेपोनीमा पैलीडम
  • मलेरिया
  • चागस रोग
  • परिवर्तनशील क्रुएट्ज़्फ़ेल्ड्ट-जैकब (Creutzfeldt-Jakob) डिजीज या "मैड काऊ डिजीज" को रक्त उत्पादों में संचार्य दिखाया गया है। इसके लिए कोई जांच उपलब्ध नहीं है, लेकिन इसके जोखिमों को कम करने के लिए अनेक उपाय किये गए हैं।

जब किसी व्यक्ति के आधान की जरूरत का पूर्वानुमान किया जाता है, जैसा कि निर्धारित शल्य-चिकित्सा में होता है, तो बीमारी के संचारण से रक्षा करने और रक्त प्रकार की संगतता (अनुकूलता) की समस्या दूर करने के लिए के लिए उसी जीव से संबंधित दान का उपयोग किया जा सकता है। एचआईवी के आरंभिक वर्षों के दौरान प्राप्तकर्ता को ज्ञात दाताओं से दान एक आम बात थी। इस प्रकार के दान अभी भी विकासशील देशों में आम बात हैं।

आधान से पहले रक्त उत्पादों का प्रसंस्करण[संपादित करें]

संग्रह करने के बाद दान में दिए गए रक्त का आमतौर पर प्रसंस्करण किया जाता है, जिससे कि इसे विशिष्ट रोगी जनसंख्या में उपयोग के लिए उपयुक्त बनाया जा सके. उदाहरणों में शामिल हैं:

  • घटक का अलगाव : लाल कोशिकाओं, प्लाज्मा और प्लेटलेट्स (अपरा) को अलग-अलग पात्रों में रखा जाता है और उपयुक्त स्थितियों में संग्रहित किया जाता है ताकि उनका उपयोग मरीज की विशिष्ट जरूरतों के अनुरूप हो सके. लाल कोशिका ऑक्सीजन परिवाहक के रूप में काम करते हैं, प्लाज्मा का उपयोग स्कन्दनरोधी कारकों के पूरक के रूप में किया जाता है और प्लेटलेट्स का आधान उस समय किया जाता है जब उनकी संख्या बहुत कम हो जाती है या उनके कार्य बुरी तरह बिगड़ जाते है। आमतौर पर रक्त घटकों को अपकेन्द्री विधि द्वारा तैयार किया जाता है।
  • ल्यूकोरिडक्शन, जिसे ल्यूकोडिप्लीशन भी कहा जाता है, निस्पंदन द्वारा रक्त उत्पाद से श्वेत रक्त कोशिकाओं को हटाना है। श्वेत रक्त कोशिका की कमी वाले रक्त में ऐलोइम्युनाइजेशन (विशिष्ट रक्त प्रकारों के विरुद्ध रोग-प्रतिकारकों का विकास) उत्पन्न करने की संभावना अपेक्षाकृत कम होती है, एवं उनमें ज्वरीय आधान संबंधी प्रक्रिया उत्पन्न करने की संभावना अपेक्षाकृत कम होती है।
    • चिरकालिक रूप से आधान किए गए मरीज
    • संभावित प्रत्यारोपण संबंधी प्राप्तकर्ता
    • पूर्व में ज्वरीय रक्तलायी आधान के प्रति प्रतिक्रिया दर्शाने वाले मरीज
    • वंशानुगत प्रतिरक्षा संबंधी कमियों वाले मरीज
    • निर्देशित-दान कार्यक्रमों में रिश्तेदारों से रक्ताधान प्राप्त करने वाले मरीज.
    • कीमोथेरपी की उच्च खुराक प्राप्त करने वाले मरीज, जिनका स्टेम सेल प्रत्यारोपण किया जा रहा है, या एड्स (विवादास्पद) के मरीज.
  • कुछ गुणवत्ता नियंत्रण संबंधी विषयों जैसे कि रोग या संदूषण संबंधी जांच

नवजात आधान[संपादित करें]

बाल चिकित्सा वाले रोगियों में रक्त आधान की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, अस्पताल संक्रमण से बचने के लिए अतिरिक्त एहतियात बरत रहे हैं और वे विशेष रूप से जांच की गई उन इकाईयों का उपयोग करना पसंद करते हैं जो साइटोमेगैलोवायरस के लिए निगेटिव घोषित किया जा चुका है। अधिकांश दिशानिर्देश नवजातों या कम वजन वाले शिशुओं के लिए, जिनमें प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्ण रूप से विकसित नहीं हुई है, सिर्फ श्वेत रक्त कोशिका की कमी वाले (ल्यूकोरिड्यूस्ड) घटकों की नहीं बल्कि सीएमवी-निगेटिव रक्त घटकों के उपयोग की सलाह देते हैं।[8] ये विशिष्ट आवश्यकताएं उन रक्त दाताओं पर अतिरिक्त प्रतिबंध लगाती हैं जो नवजात उपयोग के लिए दान कर सकते हैं।

आम तौर पर नवजात आधान निम्नांकित दो श्रेणियों में से किसी एक श्रेणी में पड़ते हैं:

  • जांच संबंधी हानियों का स्थान लेने वं रक्तहीनता में सुधार करने के लिए "टॉप-अप" आधान.
  • विनिमय (या आंशिक विनिमय) आधान बिलिरूबिन को हटाने, रोग-प्रतिकारकों को हटाने एवं लाल कोशिकाओं (जैसे कि रक्तसंलायी रक्ताल्पता से कम प्रभावकारी रक्तहीनता एवं अन्य हीमोग्लोबिनविकृतियों के लिए) के प्रतिस्थापन के लिए किया जाता है।[9]

रक्ताधान पूर्व संगतता परीक्षण[संपादित करें]

जांच के लिए टाइप और स्क्रीन शब्दों का उपयोग किया जाता है जो (1) रक्त समूह (एबीओ संगतता) को निर्धारित करता है एवं (2) जो समान प्रजाति के व्यक्तियों के बाह्य ऊतक के विरुद्ध स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने वाले रोग-प्रतिकारकों की जांच करता है।[10] इसे पूरा करने में लगभग 45 मिनट (प्रयोग की जाने वाली विधि के आधार पर) लगते हैं। मरीज की पूर्व के पहचान किये गए रोग-प्रतिकारक को जानने के लिए रक्त बैंक के प्रौद्योगविज्ञ मरीज की विशेष आवश्यकताओं एवं इतिहास की भी जांच करते हैं।

एक पॉजिटिव जांच एक रोग-प्रतिकारक के पैनल/अन्वेषण को न्यायसंगत ठहराता है। एक रोग-प्रतिकारक (एंटीबॉडी) पैनल में दाताओं के रक्त से वाणिज्यिक रूप से तैयार किया गया समूह O लाल कोशिका वाले निलम्बन होते हैं जिन्हें आम तौर सामना किये गए एवं नैदानिक रूप से महत्वपूर्ण रूप जो समान प्रजाति के व्यक्तियों के बाह्य ऊतक के विरुद्ध स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने वाले रोग-प्रतिकारकों के प्रति समलक्षणी बनाया जाता है। दाता कोशिकाओं में समयुग्मजी (जैसे कि K + K-), विषमयुग्मजी (K + K +) व्यंजक या विभिन्न प्रतिजनों (K-k+) के कोई भी व्यंजक नहीं होते हैं। परीक्षण किये जाने वाले सभी दाता कोशिकाओं के समलक्षणियों को एक चार्ट में दर्शाया गया है। वृद्धि पद्धति का उपयोग कर रोगी के सीरम की विभिन्न दाता कोशिकाओं के विरुद्ध जांच की जाती है, जैसे जेल या एलआईएसएस. दाता कोशिकाओं के विरुद्ध मरीज के सीरम की प्रतिक्रियाओं के आधार पर, एक या अधिक रोग-प्रतिकारकों की उपस्थिति की पुष्टि करने के लिए एक पद्धति उभर कर सामने आएगी. सभी रोग-प्रतिकारक नैदानिक रूप से महत्वपूर्ण (अर्थात्‌ आधान संबंधी प्रतिक्रियाएं, एचडीएन आदि उत्पन्न करते हैं) नहीं होते हैं। एक बार मरीज के अंदर नैदानिक रूप से महत्वपूर्ण रोग-प्रतिकारक (एंटीबॉडी) विकसित हो गया है तो यह आवश्यक है कि मरीज प्रतिजन निगेटिव समलक्षणी लाल रक्त कोशिकाएं प्राप्त करे जिससे कि भविष्य में आधान संबंधी प्रतिक्रियाएं नहीं हो. रोग-प्रतिकारक (एंटीबॉडी) संबंधी जांच के एक हिस्से के रूप में एक प्रत्यक्ष ग्लोबुलिनरोधी परीक्षण (डीएटी) भी किया जाता है।[11]

एक बार टाइप और प्रकार स्क्रीन पूरा हो जाने पर, संभावित दाता इकाईयों को मरीज के रक्त समूह के साथ संगतता, विशेष आवश्यकताओं (जैसे कि सीएमवी निगेटिव, या विकिरणित या धोया हुआ) एवं प्रतिजन निगेटिव (एक रोग-प्रतिकारक की स्थिति में) के आधार पर चुना जायेगा. यदि कोई भी रोग-प्रतिकारक उपस्थित नहीं रहता है या उसकी संभावना नहीं होती है, तो तत्काल स्पिन या सीएसी (कम्प्यूटर द्वारा सहायता प्राप्त क्रॉसमैच) विधि का इस्तेमाल किया जा सकता है।

तत्काल स्पिन विधि में, एक परख नली में दाता कोशिकाओं के 3-5% वाले निलम्बन की एक बूंद के विरुद्ध मरीज के दो बूंद सीरम की जांच की जाती है और एक सेरोफ़्युग में घुमाया जाता है। परख-नली में रक्त का एकत्रीकरण या रक्त संलयन एक सकारात्मक प्रतिक्रिया है और इकाई नहीं चढ़ाई जानी चाहिए.

यदि कोई रोग-प्रतिकारक (एंटीटीबॉडी) संदिग्ध है, तो संभावित दाता इकाइयों को समलक्षणी बनाकर संगत प्रतिजन के लिए उनकी जांच की जानी चाहिए. तब प्रतिक्रियाशीलता में वृद्धि करने एवं जांच को पढ़ने में सरल बानाने के लिए प्रतिजन निगेटिव इकाईयों की जांच मरीज के प्लाज्मा के विरुद्ध 37 डिग्री सेल्सियस पर ग्लोबुलिनरोधी/अप्रत्यक्ष क्रॉसमैच तकनीक का प्रयोग कर की जाती है।

यदि कोई समय नहीं हो तो रक्त को "बिना क्रॉस-मिलान किया हुआ रक्त" कहा जाता है। बिना क्रॉस-मिलान किया हुआ रक्त O पॉजिटिव या O निगेटिव होता है। आमतौर पर O निगेटिव का उपयोग बच्चों और प्रसव उम्र की महिलाओं के लिए किया जाता है। प्रयोगशाला के लिए यह बेहतर है कि इन मामलों में एक पूर्व-आधान नमूना प्राप्त किया जाए जिससे कि मरीज के वास्तविक रक्त समूह का निर्धारण करने और समान प्रजाति के व्यक्तियों के बाह्य ऊतक के विरुद्ध स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने वाले रोग-प्रतिकारकों की जांच करने के लिए टाइप एवं स्क्रीन की प्रक्रिया अपनायी जा सकती है।

प्रक्रिया[संपादित करें]

रक्ताधान को उनके स्रोत के आधार पर दो मुख्य प्रकारों में बांटा जा सकता है:

  • समजात आधान, या अन्य व्यक्तियों के संग्रहित रक्त का उपयोग करते हुए आधान. इन्हें अक्सर समजात के बजाय आनुवंशिक रूप से भिन्न कहा जाता है।
  • समजीवी आधान, या मरीज के अपने संग्रहित रक्त का उपयोग करते हुए आधान.

जीवाणु संबंधित वृद्धि को रोकने के लिए कोशिकीय चयापचय को धीमा करने के लिए दाता के रक्त की इकाईयों को प्रशीतित रखा जाना चाहिए. इकाई को नियंत्रित भंडारण से बाहर ले जाने के 30 मिनट के भीतर आधान शुरू करना चाहिए.

रक्त केवल अंतःशिरात्मक रूप से ही दिया जा सकता है। इसलिए एक उपयुक्त क्षमता वाली प्रवेशनी डालने की आवश्यकता होती है।

आधान संबंधी प्रतिक्रियाओं के जोखिमों को कम से कम करने के लिए रक्त देने के पूर्व, मरीज के व्यक्तिगत विवरणों का आधान किए जाने वाले रक्त के साथ मिलान किया जाता है। लिपिकीय त्रुटि आधान प्रतिक्रियाओं का एक महत्वपूर्ण स्रोत है और शय्या पार्श्व में होने वाली मिलान प्रक्रिया में अतिरेक का निर्माण करने के प्रयास किए गए हैं।

आम तौर पर 4 घंटे की अवधि तक रक्त की एक इकाई (500 मिलीलीटर तक) दी जाती है। रक्ताधिक्य संबंधी हृदय की विफलता की जोखिम वाले मरीजों में, कई चिकित्सक तरल पदार्थ के अधिभार को रोकने के लिए मूत्रस्राववर्द्धक औषधि देते हैं, जिस स्थिति को आधान संबंधी परिसंचारी अधिभार या टीएसीओ कहा जाता है। आधान संबंधी अन्य प्रकार की प्रतिक्रियाओं को रोकने के लिए कभी-कभी आधान के पूर्व एसिटामिनोफेन और/या एक हिस्टामीन के प्रभाव को निष्फल करने वाली औषधि जैसे कि डिस्फेनहाइड्रामीन दिये जाते हैं।

रक्तदान[संपादित करें]

सबसे आम तौर पर रक्त दान संपूर्ण रक्त के रूप में नस में नालशलाका (कैथीटर) लगाकर एवं इसे गुरुत्व के माध्यम से एक प्लास्टिक के बैग में (स्कन्दनरोधी मिलाकर) संग्रहित किया जाता है। तब संग्रहित रक्त को घटकों में विभाजित किया जाता है ताकि इसका सर्वश्रेष्ठ उपयोग किया जा सके. लाल रक्त कोशिका, प्लाज्मा और प्लेटलेट के अतिरिक्त, परिणामी रक्त घटक उत्पादों में एल्बुमिन प्रोटीन, थक्के बनाने वाले कारक का सान्द्रण, घुलनशील पदार्थ के ठंडा होने पर बने अवक्षेप, फाइब्रिनोजेन सान्द्रण, एवं इम्यूनोग्लोबुलिन (रोग-प्रतिकारक) भी शामिल होते हैं। लाल कोशिकाओं, प्लाज्मा और प्लेटलेट्स का भी एक अधिक जटिल प्रक्रिया एफेरेसिस के द्वारा व्यक्तिगत रूप से दान दिया जा सकता है।

विकसित देशों में, आमतौर पर दान प्राप्तकर्ता के लिए अनाम होते हैं, लेकिन किसी रक्त बैंक में उत्पाद हमेशा दान के संपूर्ण चक्र, परीक्षण, घटकों में अलगाव, भंडारण, एवं प्राप्तकर्ता को दिए जाने के माध्यम से व्यक्तिगत रूप से पता लगाने योग्य होते हैं। यह किसी संदिग्ध आधान संबंधित रोग के संचारण या आधान प्रतिक्रिया के प्रबंधन एवं जांच को सक्षम बनाता है। विकासशील देशों में दाता कभी-कभी विशेष रूप से प्राप्तकर्ता के द्वारा या प्राप्तकर्ता के लिए, आमतौर पर परिवार का कोई सदस्य, नियुक्त होता है और आधान से ठीक पहले दान किया जाता है।

प्राप्तकर्ता को जोखिम[संपादित करें]

रक्ताधान प्राप्त करने से जुड़े हुए जोखिम होते हैं और इन्हें अनुमानित लाभ के विरुद्ध संतुलित किया जाना चाहिए. रक्ताधान की सबसे आम प्रतिकूल प्रतिक्रिया ज्वरीय गैर-रक्तसंलायी प्रतिक्रिया है, जिसमें ज्वर होता है जो स्वयं ठीक हो जाता है और वह कोई स्थायी समस्याएं या अनुषंगी-प्रभाव उत्पन्न नहीं करता है।

रक्तसंलायी प्रतिक्रियाओं में शामिल हैं ठंड लगना, सिर दर्द, पीठ में दर्द, सांस फूलना, श्यावता (नीलरोग), सीने में दर्द, हृद्‌क्षिप्रता (हृदय की गति में असामान्य वृद्धि) एवं निम्नरक्तचाप.

रक्त उत्पाद शायद ही जीवाणु से दूषित हो सकते हैं; 2002 से, 50,000 प्लेटलेट आधानों में से 1, एवं 50,000 रक्त कोशिका आधानों में से 1 व्यक्ति में गंभीर जीवाणु संक्रमण एवं रक्तपूतिता का जोखिम अनुमानित है।[12]

इस बात का जोखिम है कि दिए गए रक्ताधान से इसके प्राप्तकर्ता में विषाणु संक्रमण संचारित होगा. 2006 से, संयुक्त राज्य अमेरिका में रक्त आधान के माध्यम से हेपैटाइटिस बी होने का जोखिम 250,000 चढ़ायी गई इकाइयों में 1 है और रक्ताधान के माध्यम से संयुक्त राज्य अमेरिका में एचआईवी या हेपैटाइटिस सी होने का जोखिम 2,000,000 (2 मिलियन) चढ़ायी गई इकाइयों में 1 है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] आधान संचारित रोगों के दूसरी एवं तीसरी पीढ़ी के जांचों के आगमन के पूर्व पहले ये जोखिम अधिक बड़े थे। सदी 2000 के आरंभ में न्यूक्लिक अम्ल जांच या "एनएटी" के क्रियान्वयन ने जोखिमों को और अधिक बढ़ा दिया है, एवं यह पुष्टि की है कि विकसित विश्व में रक्त आधान द्वारा विषाणु संक्रमण अत्यंत दुर्लभ है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

आधान-संबंधी एक्यूट फेंफड़ा संबंधी जख्म (टीआरएएलआई) रक्त आधान से संबंधित तेजी से बढती हुई मान्य प्रतिकूल घटना है। टीआरएएलआई (TRALI) तीव्र श्वसन संबंधी कष्ट वाला सहलक्षण है, जो अक्सर ज्वर, गैर-हृदय जनित फुफ्फुसीय़ शोफ (पानी वाली सूजन), एवं निम्नरक्तचाप से जुड़ा होता है, जो 2000 आधानों में से 1 में उत्पन्न हो सकता है।[13] लक्षण हल्के से प्राणघातक हो सकते हैं, लेकिन अधिकांश मरीज 96 घंटे के भीतर पूर्ण रूप से चंगे हो जाते हैं, एवं इस स्थिति से होने वाली मृत्यु दर 10% से कम है।[14] हालांकि टीआरएएलआई के कारण बहुत स्पष्ट नहीं हैं, यह निरंतर एचएलए रोधी एंटीबॉडी के साथ जुड़ा रहा है। क्योंकि एचएलए रोधी गर्भावस्था के साथ गहरे रूप से जुड़े हुए हैं, कई आधान संगठनों (ब्लड एंड टिश्यू बैंक ऑफ कैंटाब्रिया, स्पेन, नेशनल हेल्थ सर्विस इन ब्रिटेन) ने आधान के लिए केवल पुरुषों से प्लाज्मा का इस्तेमाल करने का फैसला किया है।

रक्त आधान प्राप्त करने से जुड़े हुए अन्य जोखिमों में शामिल हैं मात्रा अधिभार, लौह अधिभार (बहु लाल रक्त कोशिका आधान सहित), आधान से जुड़े निरोप-बनाम-परपोषी रोग, तीव्रग्राहिता संबंधी प्रतिक्रियाएं (IgA की कमी वाले लोगों में), एवं एक्यूट रक्तसंलायी प्रतिक्रियाएं (अधिक आम तौर पर बेमेल रक्त प्रकारों के प्रयोग के कारण).

क्या आधान संबंधी जोखिमें भंडारण समय के द्वारा बढ़ जाती है, इस बात की चिंताएं भी उभर के सामने आ रही हैं, हालांकि रक्त युग के महत्त्व के संबंध में अभी तक आम सहमति नहीं हो पाई है।[15] संबंधित रूप से, कुछ अतिसंवेदनशील रोगी समूहों जैसे कि गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति के लिए आधानों की अनिश्चित एवं असंगत क्षमता के संबंध में प्रश्न उठाये गए हैं, फिर भी अध्ययन निरंतर उम्र को एकमात्र निर्णायक कारक नहीं मानते हैं।[16] इस समय 17 बिलियन डॉलर में अनुमानित, अक्सर-अप्रत्याशित आधान प्रभावहीनता से निपटने में लगी लागत क्रय, परीक्षण/उपचार करने, एवं रक्ताधान करने की संयुक्त लागतों से बहुत अधिक है।[17]

कोपेनहेगन विश्वविद्यालय में काम कर रहे वैज्ञानिकों ने अप्रैल 2007 में पत्रिका प्रकृति जैव प्रौद्योगिकी (नेचर बायोटेक्नोलोजी) में एंजाइमों की खोज करने का पता लगाया, जो संभवतः समूह ए, बी और एबी से रक्त को ओ समूह में परिवर्तित करने में सक्षम बनाता है। ये एंजाइम रक्त के आरएच समूह को प्रभावित नहीं करते हैं।

रक्त आधान के संबंध में आपत्तियां[संपादित करें]

रक्ताधान के संबंध में आपत्तियां व्यक्तिगत, चिकित्सा, या धार्मिक कारणों से उत्पन्न हो सकती है। उदाहरण के लिए, जेहोवा के गवाह मुख्य रूप से धार्मिक कारणों से रक्त के आधान का विरोध करते हैं - वे मानते हैं कि रक्त पवित्र है, हालांकि उन्होंने आधान से जुड़ी हुई संभावित जटिलताओं पर प्रकाश डाला है।

गैर-मनवीय रक्ताधान[संपादित करें]

पशुचिकित्सक भी अन्य जानवरों में आधान का प्रयोग करते हैं। एक संगत मिलान सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न प्रजातियों को परीक्षण के विभिन्न स्तरों की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, बिल्ली के 3 ज्ञात प्रकार होते हैं, मवेशी के 11, कुत्तों के 12, सुअर के 16 एवं घोड़ों के 34 रक्त प्रकार होते हैं। हालांकि, कई प्रजातियों में (विशेष रूप से घोड़ों और कुत्तों में) प्रथम आधान के पूर्व पार मिलान (क्रॉस मैचिंग) की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि गैर आत्म कोशिका की सतह के प्रतिजन के विरुद्ध रोग-प्रतिकारक मूलभूत रूप से अभिव्यक्त नहीं होते हैं - अर्थात्‌ चढ़ाये गए (आधानित) रक्त के विरुद्ध एक प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया अपनाने के लिए जानवर को संवेदनशील बनाना चाहिए.

अंतर प्रजातीय रक्ताधान की दुर्लभ और प्रयोगात्मक कार्यप्रणाली विषमनिरोध का एक रूप है।

रक्ताधान के स्थानापन्न[संपादित करें]

2009 से, मनुष्य के लिए कोई भी व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले ऑक्सीजन-वाहक रक्त स्थानापन्न नहीं हैं, हालांकि, गैर-रक्त मात्रा विस्तारक एवं अन्य रक्त-बचत तकनीक व्यापक रूप से उपलब्ध हैं। ये सहायक चिकित्सक एवं शल्य-चिकित्सक रोग संचारण एवं और प्रतिरक्षा दमन के जोखिम से बचते हैं, क्रोनिक रक्त दाता की कमी की चर्चा करते हैं और जेहोवा के गवाहों एवं अन्य लोगों की चिंताओं पर ध्यान देते हैं, जिनकी आधानित (चढ़ाये गए रक्त) को प्राप्त करने में धार्मिक आपत्तियां हैं।

वर्तमान में रक्त के कई स्थानापन्न नैदानिक मूल्यांकन के चरण में है। रक्त के एक उपयुक्त विकल्प की तलाश करने के अधिकांश प्रयासों ने अभी तक कोशिका-रहित हीमोग्लोबिन के समाधान के तरीकों पर ध्यान केन्द्रित किया है। रक्त के स्थानापन्न आधानों को आपातकालीन औषधि में और अस्पताल-पूर्व ईएमएस देखभाल में अधिक सरलता से उपलब्ध करा सकते हैं। सफल होने पर, रक्त के ऐसे स्थानापन्न कई जीवनों को बचा सकते हैं, विशेष रूप से आघात होने पर जहां अत्यधिक रक्तस्राव होता है। हीमोप्योर, हीमोग्लोबिन आधारित चिकित्सा दक्षिण अफ्रीका में उपयोग के लिए मान्य है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • आरनॉल्ट तज़ाक

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. पिटर दे रोस्सा द्वारा "विकार्स ऑफ़ क्राइस्ट"
  2. "This Month in Anesthesia History". http://www.anesthesia.wisc.edu/AHA/Calendar/June.html. अभिगमन तिथि: 2009-06-15. 
  3. "Red Gold . Innovators & Pioneers . Jean-Baptiste Denis". PBS. http://www.pbs.org/wnet/redgold/innovators/bio_denis.html. अभिगमन तिथि: 2010-02-09. 
  4. एच क्लेन, डी एनसटी द्वारा "नैदानिक चिकित्सा में मोललीसन का रक्ताधान" (2005), पृष्ठ 406
  5. http://www.annals.org/cgi/reprint/132/5/420.pdf
  6. बर्नैस गलाटज़र रोज़ेनथल. नियु मिथ, नियु वर्ल्ड: फ्रॉम नेइत्ज़्श टू स्टैलीनिज़्म, पेन्सिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी, 2002, आइएसबीएन (ISBN) 0-271-02533-6 पीपी. 161-162.
  7. Laura Landro (2007-01-10). "New rules may shrink ranks of blood donors". Wall Street Journal. http://www.post-gazette.com/pg/07010/752655-28.stm. 
  8. "Red blood cell transfusions in newborn infants: Revised guidelines". Canadian Paediatric Society (CPS). http://www.cps.ca/english/statements/fn/fn02-02.htm#What%20type%20of%20RBCs%20should%20be%20used. अभिगमन तिथि: 2007-02-02. 
  9. KM Radhakrishnan, Srikumar Chakravarthi, S Pushkala, J Jayaraju (2003 Aug). "Component therapy". Indian J Pediatr 70 (8): 661–6. doi:10.1007/BF02724257. PMID 14510088. 
  10. रक्त प्रसंस्करण. यूटाह विश्वविद्यालय. http://library.med.utah.edu/WebPath/TUTORIAL/BLDBANK/BBPROC.html में उपलब्ध है। 15 दिसम्बर 2006 को उपलब्ध हुआ।
  11. Harmening, D. (1999), Modern Blood Banking and Transfusion Practices (4th ed.), Philadelphia: F. A. Davis, ISBN 080360419X .
  12. Blajchman M (2007). "Incidence and significance of the bacterial contamination of blood components". Dev Biol (Basel) 108: 59–67. doi:10.2478/v10036-007-0007-1. PMID 12220143. 
  13. Silliman C, Paterson A, Dickey W, Stroneck D, Popovsky M, Caldwell S, Ambruso D (1997). "The association of biologically active lipids with the development of transfusion-related acute lung injury: a retrospective study". Transfusion 37 (7): 719–26. doi:10.1046/j.1537-2995.1997.37797369448.x. PMID 9225936. 
  14. Popovsky M, Chaplin H, Moore S (1992). "Transfusion-related acute lung injury: a neglected, serious complication of hemotherapy". Transfusion 32 (6): 589–92. doi:10.1046/j.1537-2995.1992.32692367207.x. PMID 1502715. 
  15. Wang, Shirley S. (2009-12-01). "Focus on Age of Blood in Transfusions - WSJ.com". Online.wsj.com. http://online.wsj.com/article/SB10001424052748703939404574567771148801570.html. अभिगमन तिथि: 2010-02-09. 
  16. Marik, P. E. & Corwin, H. L. (2008), "Efficacy of red blood cell transfusion in the critically ill: a systematic review of the literature", Critical Care Medicine, 36 (9): 2667–2674, doi:10.1097/CCM.0b013e3181844677 .
  17. शनडेर ए, होफमैन ए, गोमबोट्ज़ एच, थिउसिंगर ओएम्, स्फान डीआर. रक्त के भूत, भविष्य और वर्तमान संचालन के दाम का अनुमान. सर्वश्रेष्ठ प्राक्ट रेस क्लीन एनेसथेतोल 2007; 21:271-289.

आगे पढ़ें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]