रक्तदान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रक्तदान का चित्रीय आरेख

रक्तदान तब होता है जब एक स्वस्थ व्यक्ति स्वेच्छा से अपना रक्त देता है और रक्त-आधान (ट्रांसफ्यूजन) के लिए उसका उपयोग होता है या फ्रैकशेनेशन नामक प्रक्रिया के जरिये दवा बनायी जाती है।

विकसित देशों में, अधिकांश रक्तदाता अवैतनिक स्वयंसेवक होते हैं, जो सामुदायिक आपूर्ति के लिए रक्त दान करते हैं। गरीब देशों में, स्थापित आपूर्ति सीमित हैं और आमतौर पर परिवार या मित्रों के लिए आधान की जरूरत होने पर ही रक्तदाता रक्त दिया करते हैं। अनेक दाता दान के रूप में रक्त देते हैं, लेकिन कुछ लोगों को भुगतान किया जाता है और कुछ मामलों में पैसे के बजाय काम के समय में सवैतनिक छुट्टी के रूप में प्रोत्साहन दिए जाते हैं। कोई दाता अपने भविष्य के उपयोग के लिए रक्त दान कर सकता है। रक्त दान अपेक्षाकृत सुरक्षित है, लेकिन कुछ दाताओं को उस जगह खरोंच आ जाती है जहां सूई डाली जाती है या कुछ लोग मूर्छा महसूस कर सकते है।

संभावित दाताओं का मूल्यांकन किया जाता है ताकि उनके खून का उपयोग असुरक्षित न रहे। जांच में एचआईवी और वायरल हैपेटाइटिस जैसी बिमारियों के परीक्षण शामिल हैं जो रक्त-आधान के जरिये संक्रमित हो सकते हैं। दाता से उसके चिकित्सा इतिहास के बारे में भी पूछा जाता है और दाता के स्वास्थ्य पर दान से कोई क्षतिकारक प्रभाव नहीं पड़े, यह सुनिश्चित करने के लिए उसकी एक संक्षिप्त शारीरिक जांच की जाती है। कितनी बार एक दाता दान कर सकता है यह दिनों और महीनों में भिन्न हो सकता है, यह इस बात पर निर्भर है कि वह क्या दान कर रहा या कर रही है और किस देश में दान दिया-लिया जा रहा है। उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में एक दाता को पूर्ण रक्त दानों के बीच 8 हफ्ते (56 दिन) का इंतजार करना पड़ता है, लेकिन प्लेटलेटफेरेसिस दानों के लिए सिर्फ तीन दिनों का। [1]

दिए जाने वाले रक्त की मात्रा और तरीके अलग-अलग हो सकते है, लेकिन एक आदर्श दान पूरे खून का 450 मिलीलीटर (या लगभग एक यूएस पिंट)[2] होता है। इसे मैनुअली या स्वचालित उपकरण से संग्रहित किया जा सकता है जो कि केवल खून के विशिष्ट भाग को लेता है। आधान के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले खून के अधिकांश घटक का छोटा अचल जीवन होता है और लगातार आपूर्ति बनाये रखना एक स्थायी समस्या है।

दान के प्रकार[संपादित करें]

चित्र:Blood Drive Bus 2008 मार्च MA.JPG
मैससाचुसेट्स के विनिर्माण सुविधा में बोस्टन के बच्चों के अस्पताल में एक रक्त संग्रह करती हुई बस (मोबाइल रक्त वाहन).अस्थिर सुविधा में दान प्रदान करने के लिए रक्त बैंको कभी कभी एक संशोधित बस या इसी तरह के बड़े वाहन का उपयोग करती है।

संग्रहित रक्त को कौन प्राप्त करेगा, इस पर रक्त दान को समूहों में विभाजित किया गया है।[3] एक एलोजेनिक (होमोलॉगस भी कहा जाता है) दान उसे कहते हैं जब कोई दाता किसी अनजान व्यक्ति के आधान लिए ब्लड बैंक में भंडारण करने के लिए खून देता है। एक निर्देशित दान उसे कहते हैं जब कोई व्यक्ति, अक्सर एक पारिवारिक सदस्य, किसी व्यक्ति विशेष के आधान के लिए रक्त दान करता है।[4] निर्देशित दान अपेक्षाकृत विरल होते हैं।[5] एक प्रतिस्थापन दाता दान दो का एक मिश्रण है और घाना जैसे विकासशील देशों में आम है।[6] इस मामले में, संग्रहीत रक्त का उपयोग आधान में प्रयुक्त रक्त का प्रतिस्थापन करने के लिए प्राप्तकर्ता का दोस्त या पारिवारिक सदस्य रक्तदान करता है ताकि रक्त की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित हो। जब एक व्यक्ति का रक्त संग्रहित कर लिया जाता है और उसे बाद में दानकर्ता को वापस चढ़ा दिया जाता है, आमतौर पर सर्जरी के बाद, तो यह ऑटोलॉगस कहलाता है।[7] एलोजेनिक दान या फिर दवा के निर्माण के लिए विशेष रूप से किए जानेवाले दान से मिले रक्त का उपयोग दवा बनाने के लिए किया जा सकता है।[8]

वास्तविक प्रक्रिया देश के कानूनों के अनुसार बदलती रहती है और दाताओं के लिए अनुशंसा रक्त इकट्ठा करनेवाले अलग-अलग संगठन के हिसाब से बदलती रहती है।[9][10][11] विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रक्त दान नीतियों की अनुशंसाएं प्रदान की है,[12] लेकिन विकासशील देश इनमें से कइयों का पालन नहीं कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, परीक्षण के लिए प्रयोगशाला की सुविधाओं, प्रशिक्षित कर्मचारी और विशेषज्ञ अभिकर्मकों की आवश्यकता की अनुशंसा की गयी है, विकासशील देशों में हो सकता है ये सब उपलब्ध न हों या बहुत ही महंगे हों.[13]

ऐसे कार्यक्रम जहां दानकर्ता एलोजेनिक रक्त देते हों, कभी-कभी यह रक्त ड्राइव या रक्तदान सत्र कहलाता है। ऐसे कार्यक्रम रक्त बैंक में हो सकते हैं, लेकिन अक्सर ये लोग इसका आयोजन किसी सामुदायिक स्थान जैसे शौपिंग सेंटर, कार्यस्थल, विद्यालय या पूजा स्थल में करते हैं।[14]

जांच[संपादित करें]

आमतौर पर इस पूरी प्रक्रिया के लिए दानदाताओं को सहमति देने की आवश्यकता होती है और इस आवश्यकता का मतलब यह है कि नाबालिग अपने माता पिता या अभिभावक की अनुमति के बिना दान नहीं कर सकते.[15] कुछ देशों में, पहचान को गुमनाम बनाये रखने के लिए, जवाब दानकर्ता के रक्त से जुड़ा होता है, न कि रक्त दाता के नाम से; लेकिन कुछ अन्य देशों में जैसे कि संयुक्त राज्य अमेरिका में अयोग्य दाताओं की सूचियां बनाने के लिए नाम रखे जाते हैं।[16] यदि एक संभावित दाता इन मानदंडों को पूरा नहीं करते हैं तो उन्हें विलंबित कर दिया जाता है। इस शब्द का प्रयोग किया जाता है क्योंकि बहुत सारे दानकर्ता जो अयोग्य हैं बाद में उन्हें रक्तदान की अनुमति दी जा सकती है।

दाता की नस्ल या जातीय पृष्ठभूमि कभी-कभी महत्वपूर्ण हो जाती है, चूंकि कभी कभी कुछ रक्त के प्रकार, खासतौर पर दुर्लभ किस्म के रक्त, किन्हीं जातीय समूह में बहुत आम होते हैं।[17] ऐतिहासिक रूप से, दानकर्ताओं को नस्ल, धर्म या जातीयता के आधार पर अलग किया गया था, लेकिन अब ऐसा नहीं होता है।[18]

प्रापक की सुरक्षा[संपादित करें]

स्वास्थ्य जोखिम के लिए दाताओं का परीक्षण किया जाता है क्योंकि हो सकता है प्रापक के लिए वह दान असुरक्षित हो। इस तरह के कुछ प्रतिबंध विवादास्पद होते हैं, जैसे कि ऐसे पुरुषों से रक्त दान पर प्रतिबंध है जिनका एचआईवी जोखिम वाले किसी पुरुष के साथ यौन संबंध हैं।[19] चूंकि दाता वही व्यक्ति है जो रक्त का प्रापक होगा इसीलिए दाताओं की सुरक्षा समस्या के लिए ऑटोलॉगस दाताओं की जांच हमेशा नहीं होती है।[20] दाताओं से दवा सेवन, खास तौर पर डुस्टैस्टराइड, के बारे में भी पूछताछ की जाती है क्योंकि प्रापक गर्भवती महिला के लिए यह खतरनाक हो सकता है।[21]

ऐसी बीमारियों, जैसे एचआईवी, मलेरिया या वायरल हैपेटाटिस जिनका संक्रमण रक्त आधान के माध्यम से हो सकता है, के संकेत व लक्षणों के लिए रक्त दाताओं का परीक्षण किया जाता है। परीक्षण के दौरान विभिन्न बीमारियों के जोखिम कारकों के बारे में भी सवाल पूछे जा सकते हैं, जैसे कि ऐसे देश की यात्रा के बारे में जहां मलेरिया या वैरिएंट क्रेयुटज्फेलडेट-जैकोब डिजीज (vCJD) का खतरा है।[22] ये सवाल अलग-अलग देश में भिन्न होते है। उदाहरण के लिए, क्यूबेक, पोलैंड, और US उन दाताओं को विलंबित कर सकता है जो vCJD के जोखिमवाले यूनाइटेड किंगडम में रहते थे,[23][24] जबकि यूनाइटेड किंगडम में केवल vCJD के जोखिम वाले दाता पर प्रतिबंध हैं अगर उन्होंने यूनाइटेड किंगडम में रक्त आधान कराया है तो.[25]

दाता की सुरक्षा[संपादित करें]

यह सुनिश्चित करने के लिए कि रक्तदान उसके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक न हो, दाता का भी परीक्षण होता है और उसके चिकित्सा इतिहास के बारे में भी कुछ सवाल पूछे जाते हैं। दाता के हेमाटोक्रिट या (hematocrit) या हीमोग्लोबिन स्तर की जांच यह सुनिश्चित करने के लिए की जाती है कि रक्त निकल जाने से यह उन्हें रक्ताल्पता से पीडि़त कर देगा और यह जांच दाता को अयोग्य ठहराने के लिए बहुत ही आम है।[26] नब्ज रक्तचाप और शरीर का तापमान का भी मूल्यांकन किया जाता है। बुजुर्ग दाताओं की केवल उम्र को देखते हुए स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं की वजह से मना कर दिया जाता है।[27] गर्भावस्था के दौरान रक्त दान की सुरक्षा पर ठीक तरह से अध्ययन नहीं किया गया है, इसीलिए गर्भवती महिलाओं को आमतौर पर मना कर दिया जाता है।[28]

रक्त परीक्षण[संपादित करें]

अगर रक्त आधान के लिए प्रयोग किया जाना है तो दाता के रक्त के प्रकार को जरूर सुनिश्चित करना चाहिए। संग्राहक एजेंसी आमतौर पर खून का प्रकार ए, बी, एबी, या ओ और दाता के (Rh (D) के प्रकार की पहचान करती है तथा विरल एंटीजेन के एंटीबॉडीज के लिए परीक्षण किया जाएगा. इसके अलावा क्रॉसमैच सहित अन्य परीक्षण, आधान से पहले आमतौर पर किये जाते हैं। ग्रुप ओ अक्सर "सार्वभौम दाता" के रूप में जाना जाता है,[29] पर केवल लाल कोशिका के आधान के लिए इसकी सम्मति दी जाती है। प्लाज्मा के आधान के लिए प्रणाली विपरीत हो जाती है और एबी सार्वभौमिक दाता हो जाता है।[30]

अधिकांशत: कुछ एसटीडी समेत विभिन्न बीमारियों के लिए रक्त का परीक्षण किया जाता है।[31] परीक्षण में उच्च-संवेदनशील स्क्रीनिंग टेस्ट का इस्तेमाल किया जाता है और कोई वास्तविक निदान नहीं होता है। कुछ परीक्षण के परिणाम में बाद में और भी विशिष्ट परीक्षण का उपयोग किए जाने पर वे फर्जी घनात्मक पाये जाते हैं।[32] फर्जी ऋणात्मक विरले ही होते हैं, लेकिन दाताओं को अनजान एटीडी स्क्रिनिंग के कारण रक्त दान करने से हतोत्साहित किया जाता है, क्योंकि एक फर्जी ऋणात्मक होने के मतलब ईकाई का दूषित हो जाना है। अगर जांच घनात्मक है जो उस रक्त को नष्ट कर दिया जाता है, लेकिन कुछ अपवाद भी हैं; जैसे कि ऑटोलॉगस रक्त दान. दाता को आम तौर पर परीक्षण परिणाम के बारे में सूचित कर दिया जाता है।[33]

दान किए गए रक्त का कई तरह से परीक्षण किया जाता है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा चार मुख्य परीक्षण सुझाये गए हैं:

  • हिपैटाइटिस बी सतही एंटीजेन
  • हेपेटाइटिस सी के लिए एंटीबॉडी
  • एचआईवी के एंटीबॉडी, आमतौर पर 1 और 2 उपप्रकार के
  • उपदंश के लिए सेरोलॉजिक परीक्षण

2006 में WHO ने कहा कि सर्वेक्षण में पाया गया है कि 124 में 56 देश सभी रक्त दानों में बुनियादी परीक्षण का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं।[13]

आधान संचरित संक्रमणों के लिए अन्य विभिन्न प्रकार के परीक्षण का उपयोग अक्सर स्थानीय आवश्यकताओं के आधार पर किया जाता है। अतिरिक्त परीक्षण महंगा होता है और कुछ मामलों में परीक्षण की लागत की वजह से इसे लागू नहीं किया जाता है।[34] इन अतिरिक्त परीक्षणों में अन्य संक्रामक बीमारी जैसे वेस्ट नील वायरस भी शामिल हैं।[35] प्रत्येक परीक्षण की सीमाओं को देखते हुए कभी-कभी एक ही बीमारी के लिए कई तरह के परीक्षण का इस्तेमाल किया जाता है। उदाहरण के लिए, एचआईवी एंटीबॉडी परीक्षण हाल के संक्रमित दाता का पता नहीं लगाएगा, इसीलिए कुछ रक्त बैंक उस अवधि के दौरान संक्रमित दाता का पता लगाने के लिए एंटीबॉडी परीक्षण के अलावा p24 एंटीजेन या एचआईवी न्यूक्लिक एसिड का इस्तेमाल करते हैं। दाता के परीक्षण में साइटोमैगालोवायरस एक विशेष मामला है, इसमें बहुत सारे दाताओं का परीक्षण सकारात्मक होगा। [36] एक स्वस्थ प्राप्तकर्ता के लिए वायरस कोई खतरा नहीं है, लेकिन ये नवजात शिशुओं[37] और रोग-प्रतिरोध क्षमता में कमजोर अन्य प्राप्तकताओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं।[36]

रक्त प्राप्त करना[संपादित करें]

दान के विभिन्न चरणों में एक दाता का बांह.बाईं तरफ में एक रक्तचाप कफ पर दो तस्वीरें एक तुर्निकेट के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।

दाता से रक्त प्राप्त करने के दो मुख्य तरीके हैं। अपरिवर्तित रक्त के रूप में सीधे शिरा से ज्यादातर रक्त ले लिया जाता है। आम तौर पर इस रक्त को अलग भागों में, ज्यादातर लाल रक्त कोशिकाओं और प्लाज्मा में विभाजित किया जाता है, क्योंकि अधिक से अधिक प्राप्तकर्ताओं को केवल एक घटक विशेष की जरूरत होती है। अन्य तरीका दाता से रक्त लेने का है, इसमें एक अपकेंद्रित्र (सेंट्रफ्यूज) या एक फिल्टर का उपयोग कर इसे अलग कर वांक्षित हिस्सों को संचित कर लिया जाता है और बाकी दाता को वापस दे दिया जाता है। यह प्रक्रिया अफेरेसिस (apheresis) कहलाती है और अक्सर यह काम इसके लिए विशेष रूप से तैयार मशीन के जरिए किया जाता है।

सीधे रक्त आधान के लिए शिरा का उपयोग किया जाता है, लेकिन बदले में रक्त धमनी से लिया जा सकता है।[38] इस मामले में, रक्त संचित नहीं किया जाता है, बल्कि दाता से सीधे प्राप्तकर्ता में पंप कर दिया जाता है। रक्त आधान का यह पुराना तरीका है और आज के समय में शायद ही कभी इसका इस्तेमाल किया जाता है।[39] रसद और घायल सैनिकों का इलाज करके लौटे डॉक्टर जब नागरिक जीवन में लौट जाते हैं तब संचित रक्त के लिए बैंक की स्थापना की समस्या के कारण द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान चरणबद्ध रूप से इसे बंद कर दिया गया।[40]

स्थल की तैयारी और रक्त निष्कासन[संपादित करें]

लंबे हाथ की त्वचा के नजदीकी शिरा से रक्त लिया जाता है, आमतौर पर कोहनी के भीतर माध्यिका प्रकोष्टीय शिरा से. त्वचा के बैक्टेरिया से संचित रक्त को दूषित होने से रोकने[41] और साथ में दाता की त्वचा में जहां सूई लगायी जाती है वहां से संक्रमण के रोकथाम के लिए रक्त वाहिका के ऊपर की त्वचा को आयोडीन या क्लोर्हेक्सीडाइन[41] जैसे एंटीसेप्टिक से साफ किया जाता है।[42]

छेदन के बल को कमतर करने के लिए एक बड़ी[43] सूई (16-17 गेज की) का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि जब लाल रक्त कोशिकाएं सूई से होकर बहती है तो उनको नुकसान हो सकता है।[44] इस प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए और हाथ की शिरा के रक्तचाप में वृद्धि के लिए कभी-कभी एक टूनिकेट ऊपरी बांह में लपेट दिया जाता है। दाता को किसी वस्तु को हाथ में पकड़ने या मुट्ठी को कसते रहने के लिए भी कहा जा सकता है, ऐसा बार-बार करने से शिरा में रक्त प्रवाह तेज होता है।

अपरिवर्तित रक्त[संपादित करें]

दाता शिरा से एक कंटेनर में रक्त एकत्रित करना सबसे आम तरीका है। किसी देश के आधार पर निष्कासित रक्त की मात्रा 200 मिलीलीटर से 550 मिलीलीटर तक होती है, लेकिन आमतौर पर 450-500 मिलीलीटर तक होती है।[36] रक्त आमतौर पर लचीले प्लास्टिक की थैली में संग्रहित किए जाते हैं, जिसमें सोडियम साइट्रेट (sodium citrate), फॉस्फेट (phosphate), डेक्सट्रोज (dextrose) और कभी-कभी एडेनाइन (adenine) भी होता है। यह संयोजन भंडारण के दौरान रक्त को थक्के बनने से बचाता है और संरक्षित रखता है।[45] अन्य रसायन कभी कभी प्रसंस्करण के दौरान जोड़े जाते हैं।

अपरिवर्तित रक्त से प्लाज्मा का इस्तेमाल आधान के लिए प्लाजमा बनाने में किया जा सकता है या फ्रैक्शनेशन (fractionation यानि किसी पदार्थ अथवा मिक्‍श्‍चर के घटकों का पृथक करना) करके प्रसंस्करण कर इसका इस्तेमाल अन्य औषधि बनाने में किया जा सकता है। सूखे प्लाज्मा का विकसित रूप है, जिसका इस्तेमाल द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जख्मों का इलाज करने में किया गया और इसका भिन्न रूप अब भी विभिन्न किस्म के औषधि बनाने में किया जाता है।[46] [47]

अफेरेसिस[संपादित करें]

एक अपेक्षाकृत बड़ी सुई रक्त दान के लिए प्रयुग किया जाता है।

अफेरेसिस रक्तदान का एक तरीका है, जहां रक्त एक उपकरण के माध्यम से होकर गुजरता है जो एक घटक विशेष को अलग करता है और बाकी बचे घटकों को दाता को वापस कर दिया जाता है। आमतौर पर लौटया जानेवाला घटक लाल रक्त कोशिकाएं होती हैं, जितनी मात्रा में रक्त लिया जाता है उसे वापस करने में लंबा समय लग जाता है। इस तरीके का इस्तेमाल कर कोई व्यक्ति सुरक्षित रूप से प्लाज्मा या बिंबाणु (प्लेटलेट्स) अधिक से अधिक बार दान कर सकता है, बनिस्पत अपरिवर्तित रक्त दान के.[48] एक ही दान में प्लाज्मा और बिंबाणु दोनों देनेवाले दाता के साथ इन दोनों को जोड़ा जा सकता है।

बिंबाणु को भी अपरिवर्तित रक्त से अलग किया जा सकता हैं, लेकिन वे बहुत सारे दानों से इकट्ठा किया जाना चाहिए। उपचारात्मक खुराक के लिए रक्त की तीन से दस इकाइयों की आवश्यकता होती है।[49] प्लेटलेटफेरेसिस (Plateletpheresis) प्रत्येक दान से कम से कम एक पूर्ण खुराक प्रदान करता है।

प्लाजमाफेरेसिस (Plasmapheresis) का बार-बार इस्तेमाल प्लाज्मा स्रोतइकट्ठा करने के लिए होता है, जिसका उपयोग अपरिवर्तित रक्त से प्लाजमा बनाने की तरह औषधियों के निर्माण में होता है। प्लेटलेटफेरेसिस के समय ही प्लाज्मा इकट्ठा करने को कभी-कभी समवर्ती प्लाज्मा भी कहा जाता है।

सामान्य एकल दान और आधान के लिए श्वेत रक्त कोशिका को इकट्ठा करने की तुलना में अफेरेसिस का भी ज्यादा इस्तेमाल लाल रक्त कोशिकाएं इकट्ठा करने में होता है।[50][51]

आरोग्य लाभ और दान के बीच समय का अंतर[संपादित करें]

दाताओं को दान के बाद आमतौर पर दान स्थल में 10-15 मिनट तक रखा जाता है, क्योंकि सबसे अधिक प्रतिकूल प्रतिक्रिया दान के दौरान या दान के तुरंत बाद होती है।[52] रक्त केंद्र आमतौर पर आरोग्य लाभ के लिए दाता को चाय और विस्कुट जैसी हल्की-फुलकी वस्तुएं खाने-पीने को देते हैं या दोपहर के भोजन के लिए भत्ता प्रदान करते हैं।[53] सूई लगाये जानेवाले स्थान को बैंडेज से ढंक दिया जाता है और दाता को कई घंटे तक बैंडेज बांधे रखने का निर्देश दिया जाता है।[2]

दान दिया गया प्लाज्मा 2-3 दिनों के बाद वापस दे दिया जाता है।[54] लाल रक्त कोशिकाओं को धीमी दर से स्वस्थ वयस्क पुरुषों में औसतन 36 दिन में अस्थि मज्जा द्वारा परिसंचारण प्रणाली में प्रतिस्थापित कर दिया जाता हैं। उस अध्ययन में आरोग्य लाभ की सीमा 20 से 59 दिन थी।[55] ऐसे प्रतिस्थापना की दर का आधार इस बात पर होता है कि दाता कितनी बार रक्त दे सकता है।

प्लाजमाफेरेसिस और प्लेटलेटफेरेसिस दाता बार-बार दे सकता है, क्योंकि उनमें अति महत्वपूर्ण लाल रक्त कोशिकाओं की मात्रा कम नहीं होतीं. दाता कितनी बार दान दे सकता है, इसका सटीक दर अलग-अलग देशों में भिन्न होता है। उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में प्लाजमाफेरेसिस दाता को एक सप्ताह में दो बार बड़ी मात्रा में दान करने की अनुमति है और साल में सामान्य तौर पर 83 लीटर (लगभग 22 गैलेन) दे सकते हैं, जबिक यही दाता जापान में हर एक वैकल्पिक सप्ताह के बाद दान दे सकता है और साल में 16 लीटर (लगभग 4 गैलेन) दान दे सकता है।[56] अपरिवर्तित रक्त दाता के लिए लाल रक्त कोशिकाएं सीमित होती है, इसलिए दान की आवृत्ति को विस्तृत अंतर होता है। हांग कांग में यह तीन से छह महीने में बनता है,[57] ऑस्ट्रेलिया में यह बारह सप्ताह में,[58] संयुक्त राज्य अमेरिका में यह आठ सप्ताह में[59] और ब्रिटेन में यह आमतौर पर सोलह सप्ताह में, लेकिन यह बारह से कम हो सकता है।[60]

जटिलताएं[संपादित करें]

दाताओं के स्वास्थ्य समस्याओं की जांच की जाती है, ताकि गंभीर जटिलताओं के कारण दान उन्हें जोखिम में न डाल दे. पहली बार दान देनेवाले दाताओं, किशोरों और महिलाओं में प्रतिक्रिया का अधिक खतरा होता हैं।[61][62] एक अध्ययन से पता चला है कि 2% दाताओं में दान करने के बाद एक प्रतिकूल प्रतिक्रिया हुई। [63] ये प्रतिक्रियाएं ज्यादातर मामूली थीं। 194,000 दान पर हुए एक अध्ययन में केवल एक दाता में लंबी अवधि की जटिलताएं पायी गयीं.[64] संयुक्त राज्य अमेरिका में, संभवत: रक्तदान से जुड़ी किसी मौत का रिपोर्ट देना रक्त बैंक के लिए जरूरी होता है। अक्टूबर 2004 से सितंबर 2006 तक 22 कार्यक्रमों की सभी रिपोर्ट का विश्लेषण किया गया और दान से संबंधित मौत नहीं पायी गयी, लेकिन फिर भी संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है।[65]

रक्तचाप में तेजी से परिवर्तन होने के कारण हाइपोवोल्मिक (Hypovolemic) प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं। आम तौर पर बेहोशी की सबसे खराब समस्या सामना करना पड़ा.[66]

इस तरीके में शिरा छेदन (phlebotomy) जैसा अन्य तरह का जोखिम है। सुई लगाने से हाथ में लगी जख्म सबसे आम चिंता का विषय है। एक अध्ययन में यह समस्या 1% से भी कम दाताओं में पाई गयी।[67] रक्तदान से विरल किस्म की जटिलताओं की संख्या का पता अभी नहीं चला है। इनमें धमनी में पंक्चर, देर तक खून बहना, स्नायु में जलन, स्नायु में चोट, शिरा में जख्म, थ्रोमबोफेबिटिस (thrombophlebitis) और एलर्जी प्रतिक्रियाएं शामिल हैं।[68]

रक्त को थक्का बनाने की अफेरेसिस संग्रह की प्रक्रिया में कभी-कभी दाताओं को सोडियम साइट्रेट के प्रयोग से प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो जाती है। चूंकि संग्रह नहीं किये गये रक्त घटकों के साथ थक्कारोधी वापस दाता के पास आ जाता है, ऐसे में यह कैल्शियम को बांध सकता है और हाइपोकैल्सिमिया का कारण बन सकता है।[69] इन प्रतिक्रियाओं से होठों में झुनझुनी हो सकती है, लेकिन ऐंठन या अधिक गंभीर समस्या भी पैदा हो सकती है। इस पार्श्व प्रभाव को रोकने के लिए रक्त दान के दौरान दाताओं को कभी-कभी कैल्शियम अनुपूरक दिया जाता है।[70]

एफेरेसिस प्रक्रियाओं में, लाल रक्त कोशिकाएं अक्सर लौट आती हैं। अगर यह मैनुअल रूप से किया जाता है और किसी अलग व्यक्ति से दाता रक्त प्राप्त करता है, तब एक आधान प्रतिक्रिया (transfusion reaction) हो सकती है। इस जोखिम के कारण विकसित विश्व में मैनुअल एफेरेसिस बहुत ही दुर्लभ है और स्वचालित प्रक्रियाएं पूरे रक्त दान जैसी ही सुरक्षित हैं।[71]

रक्त दाताओं के लिए अंतिम जोखिम ऐसे उपकरण होते हैं जिन्हें विसंक्रमित (sterilized) नहीं किया गया हो। ज्यादातर मामलों में, खून के साथ सीधे संपर्क में आये उपकरणों को त्याग दिया जाता है।[72] 1990 के दशक में चीन में फिर से इस्तेमाल किये जाने वाले उपकरण एक बड़ी समस्या थे, क्योंकि 250,000 तक रक्त प्लाज्मा दाता ऐसे उपकरणों से एचआईवी से पीड़ित हुए हो सकते हैं।[73][74]

भंडारण, आपूर्ति और मांग[संपादित करें]

एकत्रित रक्त आमतौर पर अलग घटकों के रूप में संग्रहित किये जाते हैं और इनमें से कुछ का कम शेल्फ जीवन होता है। बिम्बाणुओं (platelets) को अधिक समय तक रखे रहने के लिए कोई भंडारण उपाय नहीं हैं, हालांकि कुछ पर 2008 से अध्ययन किया जा रहा है,[75] और इस्तेमाल किये गये सबसे अधिक शेल्फ जीवन की उम्र सात दिन की रही है।[76] सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाली लाल रक्त कोशिकाओं का रेफ्रीजेरेटर के तापमान में शेल्फ जीवन 35-42 दिन है।[77][78] ग्लिसरॉल के एक मिश्रण के साथ खून को जमाकर यह अवधि बढायी जा सकती है,[36] लेकिन यह प्रक्रिया महंगी है, सो कभी-कभी ही इसका उपयोग होता है और इसके भंडारण के लिए अत्यधिक ठंडा फ्रीजर जरुरी है। प्लाज्मा को अधिक समय तक जमाकर रखा जा सकता है और एक साल[79] तक इसका इस्तेमाल किया जा सकता है और इसकी आपूर्ति कोई बड़ी समस्या नहीं है।

सीमित भंडारण समय का मतलब है कि किसी आपदा की तैयारी के लिए खून की बड़ी मात्रा का भंडारण मुश्किल है। अमेरिका में 11 सितम्बर के हमले के बाद इस विषय पर विस्तृत चर्चा की गयी और आम सहमति यह बनी कि किसी आपदा के समय खून जमा करना अव्यावहारिक है और हर वक्त पर्याप्त आपूर्ति के लिए प्रयासों पर ध्यान केन्द्रित किया जाना चाहिए। [80] अमेरिका में रोजाना के रक्त आधान की मांग को तीन दिनों तक पूरा कर पाने में रक्त केन्द्रों को अक्सर कठिनाई हुआ करती है।[81]

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हर साल विश्व रक्त दाता दिवस के रूप में मनाने के लिए 14 जून का दिन तय किया है। यह ABO रक्त समूह प्रणाली की खोज करने वाले वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टेनर का जन्मदिन है।[82] 2008 तक, विश्व स्वास्थ्य संगठन का अनुमान है कि हर साल 81 मिलियन रक्त इकाई जमा की जाती रही है।[83]

लाभ और प्रोत्साहन[संपादित करें]

1997 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने स्वयंसेवी अभुक्त दाताओं से सभी रक्तदान किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया था,[13] लेकिन 2006 तक, सर्वेक्षण किये गये 124 में से सिर्फ 49 देशों में यह एक मानक के रूप में स्थापित हो पाया। संयुक्त राज्य अमेरिका में कुछ प्लाज्माफेरेसिस दाताओं को दान के लिए अब भी भुगतान किया जाता है।[84] पर्याप्त आपूर्ति बनाये रखने के लिए कुछ देश पदत्त दाताओं पर भरोसा करते हैं।[85] तंजानिया जैसे कुछ देशों ने इस मानक की दिशा में लंबी छलांग लगायी है, 2005 में वहां सिर्फ 20 फीसदी अभुक्त दाता थे जो 2007 में 80 फीसदी हो गये,[6] लेकिन वि.स्वा.सं. द्वारा किये गये सर्वेक्षण के 124 में से 68 देशों ने इस दिशा में थोड़ी या एकदम कोई प्रगति नहीं की है। कुछ देशों में, उदाहरण के लिए ब्राजील,[86] रक्त दान या अन्य मानव ऊतकों के लिए मौद्रिक या और कोई मुआवजा लेना गैर-कानूनी है।

लौह के अतिआवेशित प्रवण रोगियों को, रक्त दान विषाक्त मात्रा के संचय से बचाता है।[87] संयुक्त राज्य अमेरिका के रक्त बैंकों में चिकित्साधीन दाताओं से लिए गये खून में लेबल लगाना जरुरी है, इसलिए अधिकांश लोग किसी रक्त रोग से पीड़ित दाता का रक्त स्वीकार नहीं करते.[88] अन्य, जैसे कि ऑस्ट्रेलियाई रेड क्रॉस सेवा हेमोक्रोमाटोसिस दाताओं के रक्त स्वीकार करते हैं। यह एक आनुवंशिक विकार है जो खून की सुरक्षा को प्रभावित नहीं करता है।[89] रक्तदान हृदय रोग के जोखिम को पुरुषों में कम कर सकता है,[90] लेकिन यह संबंध दृढ़ता से स्थापित नहीं किया गया है।

इटली में, रक्त दाताओं को रक्त दान दिवस की वेतन सहित छुट्टी मिलती है।[91] नियोक्ताओं द्वारा कभी-कभी अन्य प्रोत्साहन भी दिए जाते हैं, आमतौर पर दान प्रयोजनों के लिए टाइम ऑफ दिया जाता है।[92] रक्त केंद्र भी कभी-कभी प्रोत्साहन दिया करते हैं, जैसे कि यह आश्वासन कि कमी के दौरान उन्हें प्राथमिकता दी जायेगी, मुफ्त टी-शर्ट या अन्य सस्ती वस्तुएं (मसलन, फर्स्ट ऐड किट, विंडशील्ड स्क्रैपर, कलम आदि), या फिर दाताओं के लिए इनाम और सफल आयोजन के लिए आयोजकों को पारितोषिक.[93] अधिकांश एलोजेनिक दाता परोपकार के रूप में रक्त दान किया करते हैं और इस दान के बदले में कोई सीधा लाभ नहीं लेते.[94]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • मोबाइल रक्त वाहन
  • रक्तदान एजेंसियों की सूची
  • रक्ताधान
  • प्लेटेलेटफेरेसिस
  • रक्तपात
  • एमएसएम (MSM) रक्त दाता विवाद
  • रक्त स्थानापन्न

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "FAQs About Donating Blood". American Red Cross Biomedical Services. http://www.givelife2.org/donor/faq.asp#3. 
  2. लुआ त्रुटि package.lua में पंक्ति 80 पर: module 'Module:Citation/CS1/Suggestions' not found।
  3. ऍम.इ. ब्रेचेर, संपादक (2005), एएबीबी (AABB) तकनीकी मैनुअल, पन्द्रहवें संस्करण, बेथेस्डा, एमडी: एएबीबी आइएसबीएन 1-56935-19607, पृष्ट.98-103
  4. "Directed Donation". Mayo Clinic. Retrieved 2008-06-25. 
  5. Wales PW, Lau W, Kim PC (May 2001). "Directed blood donation in pediatric general surgery: Is it worth it?". J. Pediatr. Surg. 36 (5): 722–5. doi:10.1053/jpsu.2001.22945. PMID 11329574. 
  6. टी.ब्राउन "अफ्रीका सिस्टम में रक्त को मजबूत बनाना: पेपफार के तहत शेष प्रगति और चुनौतियां" एएबीबी समाचार . अप्रैल, 1998:पृष्ठ 30
  7. "Autologous (self-donated) Blood as an Alternative to Allogeneic (donor-donated) Blood Transfusion". AABB. Retrieved 2008-06-25. 
  8. "Recovered Plasma". AABB. Retrieved 2008-06-25. 
  9. "Giving Blood -> What to Expect". Australian Red Cross Blood Service. Retrieved 2007-10-06. 
  10. "The Donation Experience". Canadian Blood Services. Retrieved 2006-12-17. 
  11. "Tips for a Good Donation Experience". American Red Cross. Retrieved 2006-12-17. 
  12. "WHO Blood Safety and Donation". World Health Organization. Retrieved 2008-06-01. 
  13. "World Blood Donor Day 2006". World Health Organization. Retrieved 2008-06-26. 
  14. "Sponsoring a Blood Drive". American Red Cross. Retrieved 2008-06-25. 
  15. "Parental consent form" (PDF). Australian Red Cross Blood Service. Archived from the original (pdf) on 2008-06-25. Retrieved 2008-06-01. 
  16. "FDA regulations on donor deferral". US Food and Drug Administration. Retrieved 2008-06-01. 
  17. Severo, Richard (1990-01-13). "Donors' Races to Be Sought To Identify Rare Blood Types". New York Times. http://query.nytimes.com/gst/fullpage.html?res=9C0CEEDC123DF930A25752C0A966958260. अभिगमन तिथि: 2008-06-01. 
  18. "Red Gold, Innovators and Pioneers". Public Broadcasting Service (United States). Retrieved 2008-06-01. 
  19. "Drug Agency Reaffirms Ban on Gay Men Giving Blood". New York Times. 2007-05-24. http://www.nytimes.com/2007/05/24/washington/24blood.html?_r=2&oref=slogin. अभिगमन तिथि: 2009-03-26. 
  20. Heim MU, Mempel W (1991). "[The need for thorough infection screening in donors of autologous blood]" (German में). Beitr Infusionsther 28: 313–6. PMID 1725645. 
  21. "Avodart consumer information". US Food and Drug Administration. Retrieved 2008-06-01. 
  22. "AABB Full-Length Donor History Questionnaire (UDHQ)". AABB, U.S. Food and Drug Administration. Retrieved 2008-06-25. 
  23. "Donor Qualification criteria". Héma-Québec, Canada. Retrieved 2006-12-17. 
  24. "Permanent exclusion criteria / Dyskwalifikacja stała" (in Polish). RCKiK Warszawa. Retrieved 2010-03-03. 
  25. "Guidelines for UK Blood Services". UK Blood and Tissue Services. Retrieved 2008-06-01. 
  26. Gómez-Simón A, Navarro-Núñez L, Pérez-Ceballos E, et al. (Jun 2007). "Evaluation of four rapid methods for hemoglobin screening of whole blood donors in mobile collection settings". Transfus. Apher. Sci. 36 (3): 235–42. doi:10.1016/j.transci.2007.01.010. PMID 17556020. 
  27. Goldman M, Fournier E, Cameron-Choi K, Steed T (May 2007). "Effect of changing the age criteria for blood donors". Vox Sang. 92 (4): 368–72. doi:10.1111/j.1423-0410.2007.00897.x. PMID 17456161. 
  28. "Donating - Frequently Asked Questions". Blood Bank of Alaska. Retrieved 2008-06-01. 
  29. "Blood Type Test". WebMD.com. Retrieved 2008-06-01. 
  30. "Plasma fact sheet" (PDF). American Red Cross. Archived from the original (PDF) on 2008-06-25. 
  31. Bhattacharya P, Chandra PK, Datta S, et al. (Jul 2007). "Significant increase in HBV, HCV, HIV and syphilis infections among blood donors in West Bengal, Eastern India 2004-2005: exploratory screening reveals high frequency of occult HBV infection". World J. Gastroenterol. 13 (27): 3730–3. PMID 17659734. http://www.wjgnet.com/1007-9327/13/3730.asp. 
  32. "Testing of Donor Blood for infectious disease". AABB. Retrieved 2008-06-25. 
  33. R. Miller, P.E. Hewitt, R. Warwick, M.C. Moore, B. Vincent (1998). "Review of counselling in a transfusion service: the London (UK) experience". Vox Sang 74 (3): 133–9. doi:10.1046/j.1423-0410.1998.7430133.x. PMID 9595639. 
  34. "Advisory Committe on MSBTO, 28 जून 2005" (PDF). Retrieved 2008-06-01. 
  35. "Precautionary West Nile virus blood sample testing". Héma-Québec, Canada. Retrieved 2006-12-17. 
  36. "Circular of Information for use of Blood and Blood Products" (PDF). AABB, ARC, America's Blood Centers. Archived from the original (pdf) on 2006-06-18. 
  37. "Red blood cell transfusions in newborn infants: Revised guidelines". Canadian Paediatric Society (CPS). Retrieved 2007-02-02. 
  38. Sagi E, Eyal F, Armon Y, Arad I, Robinson M (Nov 1981). "Exchange transfusion in newborns via a peripheral artery and vein". Eur. J. Pediatr. 137 (3): 283–4. doi:10.1007/BF00443258. PMID 7318840. http://www.springerlink.com/content/u18xn2491012nr8x/. 
  39. "Blood on the Hoof". Public Broadcasting Service. Retrieved 2008-06-25. 
  40. "ISBT Quarterly Newsletter, June 2006, "A History of Fresh Blood", page 15" (PDF). International Society of Blood Transfusion (ISBT/SITS). Archived from the original (pdf) on 2006-08-13. Retrieved 2008-07-31. 
  41. Lee CK, Ho PL, Chan NK, Mak A, Hong J, Lin CK (Oct 2002). "Impact of donor arm skin disinfection on the bacterial contamination rate of platelet concentrates". Vox Sang. 83 (3): 204–8. doi:10.1046/j.1423-0410.2002.00219.x. PMID 12366760. http://www.blackwell-synergy.com/doi/abs/10.1046/j.1423-0410.2002.00219.x. 
  42. M. L. Turgeon (2004). Clinical Hematology: Theory and Procedures (fourth सं॰). Lippincott Williams & Wilkins. पृ. 30. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0781750075. http://books.google.com/?id=v2iyQBKx00kC&pg=PA30&lpg=PA30&dq=phlebotomy+complications. अभिगमन तिथि: 2008-06-21. 
  43. एक संग्रह सेट के प्रमुख निर्माता के आकार का उपयोग करता है एक 16 गज (1.651 मिमी)"Blood banking laboratory supplies" (PDF). Genesis BPS. Archived from the original (PDF) on 2008-06-25. Retrieved 2008-06-01. 
  44. "What is Hemolysis?" (PDF). Becton-Dickinson. Retrieved 2008-06-01. 
  45. Akerblom O, Kreuger A (1975). "Studies on citrate-phosphate-dextrose (CPD) blood supplemented with adenine". Vox Sang. 29 (2): 90–100. doi:10.1111/j.1423-0410.1975.tb00484.x. PMID 238338. 
  46. "Plasma Equipment and Packaging, and Transfusion Equipment". Office of Medical History (OTSG). Retrieved 2008-06-19. 
  47. "Medicines derived from human plasma". Sanquin Blood Supply Foundation. Retrieved 2008-06-01. 
  48. कॉमपोनेन्ट डोनेशन ब्रिटेन राष्ट्रीय रक्त सेवा. 26-10-2009 को पुनःप्राप्त किया गया
  49. "Indications for Platelet Transfusion Therapy". Southeastern Community Blood Center. Retrieved 2008-06-10. 
  50. ""Double Up to Save Lives"". United Blood Services. Retrieved 2007-02-23. 
  51. ""Double the Difference"". American Red Cross (Greater Chesapeake and Potomac). Retrieved 2007-02-23. 
  52. Eder AF, Hillyer CD, Dy BA, Notari EP, Benjamin RJ (May 2008). "Adverse reactions to allogeneic whole blood donation by 16- and 17-year-olds". JAMA 299 (19): 2279–86. doi:10.1001/jama.299.19.2279. PMID 18492969. 
  53. "Report on the promotion by Member States of voluntary unpaid blood donation" (PDF). Commission of the European Communities. Archived from the original (PDF) on 2008-08-03. Retrieved 2008-06-26. 
  54. "Donating Apheresis and Plasma". Community Blood Center. Retrieved 2008-06-11. 
  55. Pottgiesser T, Specker W, Umhau M, Dickhuth HH, Roecker K, Schumacher YO (Jul 2008). "Recovery of hemoglobin mass after blood donation". Transfusion 48 (7): 1390–7. doi:10.1111/j.1537-2995.2008.01719.x. PMID 18466177. 
  56. "Blood Products Advisory Committee, 12 दिसम्बर 2003". Retrieved 2008-06-01. 
  57. "Blood Donation". Hong Kong Red Cross Blood Transfusion Service. Retrieved 2008-06-01. 
  58. "Before and after giving blood". Australian Red Cross Blood Service. Retrieved 2008-06-01. 
  59. "Donating Whole Blood". Lane Memorial Blood Bank. Retrieved 2008-06-01. 
  60. "Who can't give blood". National Blood Service for England and Wales. Retrieved 2009-02-026.  Check date values in: |access-date= (help)
  61. A.F. Eder, C.D. Hillyer, B.A. Dy, E.P. Notari, R.J. Benjamin (May 2008). "Adverse reactions to allogeneic whole blood donation by 16- and 17-year-olds". JAMA 299 (19): 2279–86. doi:10.1001/jama.299.19.2279. PMID 18492969. http://jama.ama-assn.org/cgi/content/full/299/19/2279. 
  62. Yuan S, Gornbein J, Smeltzer B, Ziman AF, Lu Q, Goldfinger D (Jun 2008). "Risk factors for acute, moderate to severe donor reactions associated with multicomponent apheresis collections". Transfusion 48 (6): 1213–9. doi:10.1111/j.1537-2995.2008.01674.x. PMID 18346014. 
  63. "Adverse Effect of Blood Donation, Siriraj Experience" (PDF). American Red Cross. Archived from the original (PDF) on 2008-06-25. Retrieved 2008-06-01. 
  64. B. Newman, S. Graves (2001). "A study of 178 consecutive vasovagal syncopal reactions from the perspective of safety". Transfusion 41 (12): 1475–9. doi:10.1046/j.1537-2995.2001.41121475.x. PMID 11778059. 
  65. "Fatalities Reported to FDA". US Food and Drug Administration. Retrieved 2008-06-01. 
  66. Wiltbank TB, Giordano GF, Kamel H, Tomasulo P, Custer B (May 2008). "Faint and prefaint reactions in whole-blood donors: an analysis of predonation measurements and their predictive value". Transfusion 48 (9): 1799. doi:10.1111/j.1537-2995.2008.01745.x. PMID 18482188. 
  67. Ranasinghe E, Harrison JF (Jun 2000). "Bruising following blood donation, its management and the response and subsequent return rates of affected donors". Transfus Med 10 (2): 113–6. doi:10.1046/j.1365-3148.2000.00240.x. PMID 10849380. http://www.blackwell-synergy.com/openurl?genre=article&sid=nlm:pubmed&issn=0958-7578&date=2000&volume=10&issue=2&spage=113. 
  68. Working Group on Complications Related to Blood Donation JF (2008). [http://web.archive.org/web/20100215092521/http://www.isbt-web.org/members_only/files/society/StandardSurveillanceDOCO.pdf "Standard for Surveillance of Complications Related to Blood D Donation"]. European Haemovigilance Network: 11. Archived from the original on 2010-02-15. http://web.archive.org/web/20100215092521/http://www.isbt-web.org/members_only/files/society/StandardSurveillanceDOCO.pdf. 
  69. Bolan CD, Greer SE, Cecco SA, Oblitas JM, Rehak NN, Leitman SF (Sep 2001). "Comprehensive analysis of citrate effects during plateletpheresis in normal donors". Transfusion 41 (9): 1165–71. doi:10.1046/j.1537-2995.2001.41091165.x. PMID 11552076. http://www.blackwell-synergy.com/openurl?genre=article&sid=nlm:pubmed&issn=0041-1132&date=2001&volume=41&issue=9&spage=1165. 
  70. "Jerome H. Holland Laboratory for the Biomedical Sciences Volunteer Research Blood Program (RBP)". American Red Cross. Retrieved 2008-06-01. 
  71. Wiltbank TB, Giordano GF (Jun 2007). "The safety profile of automated collections: an analysis of more than 1 million collections". Transfusion 47 (6): 1002–5. doi:10.1111/j.1537-2995.2007.01224.x. PMID 17524089. 
  72. "Blood Donor Information Leaflet". Irish Blood Transfusion Service. Retrieved 2008-06-01. 
  73. "Keeping China's blood supply free of HIV". US Embassy, Beijing. Retrieved 2008-06-01. 
  74. Cohen J (Jun 2004). "HIV/AIDS in China. An unsafe practice turned blood donors into victims". Science (journal) 304 (5676): 1438–9. doi:10.1126/science.304.5676.1438. PMID 15178781. http://www.sciencemag.org/cgi/content/summary/304/5676/1438. 
  75. "In Vitro Evaluation of Buffy Coat Derived Platelet Concentrates in SSP+ Platelet Storage Medium". Transfusion Medicine (Blackwell Publishing. Retrieved 2008-06-01. 
  76. "Transfusion Handbook, summary information for Platelets". National Blood Transfusion Committee. Retrieved 2008-06-02. 
  77. Lockwood WB, Hudgens RW, Szymanski IO, Teno RA, Gray AD (Nov 2003). "Effects of rejuvenation and frozen storage on 42-day-old AS-3 RBCs". Transfusion 43 (11): 1527–32. doi:10.1046/j.1537-2995.2003.00551.x. PMID 14617310. http://www.blackwell-synergy.com/openurl?genre=article&sid=nlm:pubmed&issn=0041-1132&date=2003&volume=43&issue=11&spage=1527. 
  78. "Transfusion handbook, Summary information for Red Blood Cells". National Blood Transfusion Committee. Retrieved 2008-06-02. 
  79. "Transfusion of Fresh Frozen Plasma, products, indications" (PDF). Agence française de sécurité sanitaire des produits de santé. Retrieved 2008-06-02. 
  80. "Maintaining an Adequate Blood Supply Is Key to Emergency Preparedness" (PDF). Government Accountability Office. Retrieved 2008-06-01. 
  81. "Current status of America's Blood Centers blood supply". America's Blood Centers. 
  82. "World Blood Donor Day". World Health Organization. Retrieved 2008-06-01. 
  83. "Blood safety and donation". World Health Organization. http://www.who.int/mediacentre/factsheets/fs279/en/. अभिगमन तिथि: 2009-10-26. 
  84. "Blood Plasma Safety" (PDF). GAO. Retrieved 2008-06-01. 
  85. G. A. Schmunis (corresponding author for PAHO) (Jan 2005). "Safety of the Blood Supply in Latin America". Clinical Microbiology Reviews 18 (1): 12. doi:10.1128/CMR.18.1.12-29.2005. PMC 544183. PMID 15653816. 
  86. एल फसको "फ्रॉम लैटिन अमेरिका टू एशिया, राइज़िंग अबव डिफीकलटिज़, अचिविंग नियु हाइट्स" एएबीबी न्यूज़ . अप्रैल, 1998:पृष्ठ 30
  87. Fields AC, Grindon AJ (1999). "Hemochromatosis, iron, and blood donation: a short review". Immunohematology 15 (3): 108–12. PMID 15373512. 
  88. "Variances for Blood Collection from Individuals with Hereditary Hemochromatosis". US Food and Drug Administration. Retrieved 2007-07-18. 
  89. "Hereditary Hemochromatosis: Perspectives of Public Health, Medical Genetics, and Primary Care". CDC Office of Public Health Genomics. Retrieved 2008-06-03. 
  90. Tuomainen TP, Salonen R, Nyyssönen K, Salonen JT (Mar 1997). "Cohort study of relation between donating blood and risk of myocardial infarction in 2682 men in eastern Finland". BMJ 314 (7083): 793–4. PMC 2126176. PMID 9080998. http://bmj.bmjjournals.com/cgi/content/full/314/7083/793. 
  91. "Legge 21 ottobre 2005, n. 219 (Law 21st October 2005, n.219)". Italian Parliament. Retrieved 2009-09-04. 
  92. "Guidelines for Implementation of Employee Blood Donation Leave" (PDF). New York State Department of Labor. Retrieved 2008-06-01. 
  93. "Incentives program for blood donors and organizers". American Red Cross Connecticut Blood Services Region. Retrieved 2008-06-01. 
  94. Steele WR, Schreiber GB, Guiltinan A, et al. (Jan 2008). "The role of altruistic behavior, empathetic concern, and social responsibility motivation in blood donation behavior". Transfusion 48 (1): 43–54. doi:10.1111/j.1537-2995.2007.01481.x. PMID 17894795. 

आगे पढ़ें[संपादित करें]