मौडिहा, बिहार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मौडिहा बक्सर जिला में, बिहार
—  गाँव  —
Map of बिहार with मौडिहा बक्सर जिला में, बिहार marked
Location of मौडिहा बक्सर जिला में, बिहार
 मौडिहा बक्सर जिला में, बिहार 
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य बिहार
ज़िला बक्सर
मुखिया मंजुशा देवी (2016 में नव निर्वाचित)
पंचायत सोनबरसा
जनसंख्या
घनत्व
1,419 (2011 के अनुसार )
• 730/किमी2 (1,891/मील2)
आधिकारिक भाषा(एँ) हिंदी, इंग्लिश, भोजपुरी भाषा, उर्दू भाषा
क्षेत्रफल 1.95 कि.मी² (1 वर्ग मील)

निर्देशांक: 25°26′18″N 84°19′00″E / 25.438222°N 84.316639°E / 25.438222; 84.316639

मौडिहा भारत के बिहार राज्य के बक्सर जिला में एक गांव है। यह बिहिया रेलवे स्टेशन से 25 किमी दूर और आरा रेलवे स्टेशन से 42 किमी दूर है। यह आरा-मोहनिया रोड (NH 30) पर स्थित है।

बक्सर जिले में मौडिहा गांव[संपादित करें]

मौडिहा बक्सर जिले के सभी गांवों में से एक है। दुनिया के नक्शे पर यह 25°26'17.6"N 84°18'59.9"E समन्वय पर पाया जा सकता है। खेती की भूमि सभी दिशाओं से इस गांव को घेरे हुए है। पूर्व-दक्षिण में एक नहर (जिसे यहाँ अहरा कहा जाता है) है। यह गांव नवंबर में हरे धान की फसलों से घिर जाता है। यह गांव मोहन मिया (मुस्लिम)के द्वरा स्थापित किया गया था ,जो पास के मनकी नामक गांव के रहने वाले थे। अन्य जाति और समुदाय के लोगों के साथ उन्होने गांव की स्थापना की। आम तौर पर सभी मुसलिम परिवार एक समुदाय से हैं और एक पूर्वज से संबंधित है। उनमें से कुछ अन्य पूर्वज से हैं।

भूगोल[संपादित करें]

मुख्य सड़क (NH30) पर महादेवगन्ज़ बस पड़ाव के साथ यह गांव मौडिहा रोड (यह पक्की रोड, जो गांव में दक्षिणी छोर से प्रवेश करता है) के द्वारा जुड़ा हुआ है। पूर्वी हिस्से में भी यह गावं भदवर- इटौडाह ग्राम रोड और टिकपोखर ग्राम रोड के द्वारा मुख्य सड़क मार्ग से जुड़ा है। इस गांव के लिए रेलवे कनेक्टिविटी बिहिया (सुदूर पूर्व में बहुत निकटतम लगभग 25 किमी), डुमराँव(लगभग 43.4 किमी दूर पश्चिम में उत्तर की ओर),आरा (42 किमी दूर पूर्व में) रेलवे स्टेशन से है। लालू प्रसाद यादव जब भारत के रेल मंत्री थे, एक नई रेल लाइन कम्युनिकेशन इस गांव में प्रस्तावित किया गया था। पश्चिमी दिशा में खैरा नदी बहती है। खैरा नदी गांव से करीब एक किलोमीटर दूर है। गांव के पूर्वी भागों में बागों का बगीचा है। इस गांव में पेड़, बांस , आम, सिसम, सिरिस या महुआ, नीम का भरमार है।

प्रशासनिक विवरण[संपादित करें]

प्रशासनिक संबन्धी विवरण निचे दिया हुआ है:

देश- भारत

राज्य- बिहार

जिला- बक्सर

ब्लॉक- नावानगर

थाना- नावानगर

डाक- सलसला

पिन- 802125

सीमा[संपादित करें]

चौहद्दी नीचे दिया हुआ है:

उत्तर- डिहरी

दक्षिण- करऊनिया

पूरब- टिकपोखर

पश्चिम - सलसला

मतदाता[संपादित करें]

यह मौडीहा गांव (बक्सर ज़िला में अवस्थित) बक्सर लोक सभा और डुमराव बिधानसभा के अंतर्गत आता है। 11/03/2016 को प्रकशित विवरण के अनुसार वोटर लिस्ट इस प्रकार हैं :

लोकसभा क्षेत्र - बक्सर

विधानसभा क्षेत्र- 201, डुमराँव

बूथ संख्या- 191, हल्का गोदाम, मौडिहा

बूथ संख्या 191 के अंतर्गत क्षेत्र- मौडिहा और बरहमटोला

कुल मतदाता-: 1063

पुरुष मतदाता- 586

महिला मतदाता- 476

तृतीय लिंग- 1

जनगणना-अभिलेख[संपादित करें]

2011 के जनगणना[1] के अनुसार= 248819 और सीरियल नॅ - 2149 से 2153

  • कुल घरों की संख्या : 242
जनसँख्या लोग पुरुष महिला
कुल 1,419 695 724
उम्र समुह 0–6 साल 285 141 144
अजा (SC) 328 (23.11 %) 154 174
अजजा (ST) 13 ( 0.92 %) 7 6
शिक्षित 756 (66.67 %) 442 (79.78 %) 314 (54.14 %)
अशिक्षित 663 253 410
कुल कामगर 312 293 19
पुरुष कामगार 160 152 8
पुरुष कामगार-कृषक 33 33 0
मुख्य कामगार - कृषि मजदूर 89 85 4
मुख्य कामगार - अन्य 37 33 4

लिंग अनुपात[संपादित करें]

चूँकि यहाँ की जनसंख्या 1,419 है जिसमें 695(49%) पुरुष और 724(51%) महिला हैं। इसके अलावा 6 साल से कम बच्चो की संख्या 285है जिसेमें 141 लड़के और 144 लड़कियां हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

प्राथमिक विद्यालय:एक प्राथमिक बिद्यालय इस ग्राम में उत्तर के तरफ स्थित है , जिसका नाम है सरकारी प्राथमिक बिद्यालय।

मदरसा : हक़्क़ानी मस्जिद के बगल में एक मदरसा भी स्थित है।.

उच्च बिद्यालय और कॉलेज: मध्य बिद्यालय और उच्चतम बिद्यालय के लिए बिद्यार्थियों को दूसरे शिक्षण संस्थानों की तरफ जाना पड़ता है जो मुख्य सड़क NH30 की ओर हैं जो काफि नजदीक हैं ज्यादा दूर नहीं।

    • भारत सरकार ने भी ग्रामीणों में आधारभूत शिक्षा को प्रसारित करने के लिए आंगनवाड़ी केंद्र संचालित किये हैं।।।

मस्जिद / धार्मिक स्थानों[संपादित करें]

यहाँ इस गाँव में हक़्क़ानी अंजुमन की एक हक़्क़ानी मस्जिद है जहाँ हर नमाज के बाद(5 नमाज) के बाद सभी मौजूद नमाजियों के साथ हक़्क़ानी वज़ीफ़ा पढ़ा जाता है। हक्कानी अंजुमन

    • तालाब के किनारे उत्तर - पश्चिम की तरफ एक दुर्गा मंदिर भी है।

बाजार[संपादित करें]

    • यहाँ अनेक किराना के दूकान हैं। जिसमें सरताज किराना दुकान,मुस्लिम किराना दूकान मुख्य हैं।
    • शब्जी, कपड़ा , दवा का कोई बड़ा दूकान का इस गाव में अभाव है। लेकिन ये सब बड़ी आसानी से मुख्या रोड के पास मिल जायेंगे। बड़ा बाज़ार सोनबरसा में मौजुद है जो लगभग 5 km यहाँ से दूर है।

आधारिक संरचना[संपादित करें]

  • बीजली की आपूर्ती जुलाई 2015 में बहाल कर दी गयी है। क्षेत्रीय अधिकारीयों के सहयोग से यहाँ सोलर पैनल लगाया है ताकि रास्तों पर रौशनी बनी रहे।
  • लालू प्रसाद यादव जब भारत के रेल मंत्री थे, एक नई रेल लाइन कम्युनिकेशन इस गांव में प्रस्तावित किया गया था।

कृषि[संपादित करें]

गाँव के अधिकतर लोग कृषि कार्य में लगे हुए हैं। लेकिन आज कल इस गाँव के लोग नौकरी के तलाश में विदेश (अमेरिका, सऊदी अरब, क़तर , संयुक्त अरब अमीरात इत्यादि) जाने लगे हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. India Census Record of 2011

25°26′18″N 84°19′00″W / 25.438222°N 84.316639°W / 25.438222; -84.316639