बौद्ध धर्म का कालक्रम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बौद्ध धर्म

की श्रेणी का हिस्सा

Dharma Wheel.svg
बौद्ध धर्म का इतिहास
· बौद्ध धर्म का कालक्रम
· बौद्ध संस्कृति
बुनियादी मनोभाव
चार आर्य सत्य ·
आर्य अष्टांग मार्ग ·
निर्वाण · त्रिरत्न · पँचशील
अहम व्यक्ति
शाक्यमुनि बुध ·
गौतम बुद्ध · बोधिसत्व
क्षेत्रानुसार बौद्ध धर्म
दक्षिण-पूर्वी बौद्ध धर्म
· चीनी बौद्ध धर्म
· तिब्बती बौद्ध धर्म ·
पश्चिमी बौद्ध धर्म
बौद्ध साम्प्रदाय
थेरावाद · महायान
· वज्रयान
बौद्ध साहित्य
त्रिपतक · पाळी ग्रंथ संग्रह
· विनय
· पाऴि सूत्र · महायान सूत्र
· अभिधर्म · बौद्ध तंत्र

बौद्ध धर्म का कालक्रम, गौतम बुद्ध के जन्म से लेकर अब तक बौद्ध धर्म के विकास का विवरण है।

घटनाओं का समय[संपादित करें]

समयरेखा: बौद्ध परम्पराओं का विकास और विस्तार (लगभग ४५० ई॰पू॰ – लगभग १३०० ई॰)

  ४५० ई॰पू॰ २५० ई॰पू॰ १०० ई॰ ५०० ई॰ ७०० ई॰ ८०० ई॰ १२०० ई॰

 

भारत

प्रारम्भिक
संघ

 

 

 

शुरुआती बौद्ध मत महायान वज्रयान

 

 

 

 

 

श्रीलंका &
दक्षिण एशिया

 

 

 

 

थेरवाद

 

 

 

 

तिब्बती बौद्ध धर्म

 

ञिङमा

 

कदम
कग्यु

 

दंपो
सक्या
  जोनंग

 

पूर्व एशिया

 

शुरुआती बौद्ध मत
और महायान
(रेशम मार्ग से
चीन और महासागर में
भारत से वियतनाम तक)

Tangmi

Nara (Rokushū)

Shingon

Chan

 

Thiền, Seon
  Zen
Tiantai / Jìngtǔ

 

Tendai

 

 

Nichiren

 

Jōdo-shū

 

मध्य एशिया & टैरिम बेसिन

 

Greco-Buddhism

 

 

रेशम मार्ग बौद्ध धर्म

 

  ४५० ई॰पू॰ २५० ई॰पू॰ १०० ई॰ ५०० ई॰ ७०० ई॰ ८०० ई॰ १२०० ई॰
  कुंजी:   = थेरवादा   = महायान   = वज्रयान   = विभिन्न / समधर्मी


काल[संपादित करें]

गौतम बुद्ध[संपादित करें]

गौतम बुद्ध का जन्म और निधन अनिश्चित हैं। २०वीं सदी के पूर्वार्द्ध के अधिकतर इतिहासकारों ने उनके जीवनकाल को लगभग ५६३ ई॰पू॰ से ४८३ ई॰पू॰ तक बताया।[1][2] पिछले कुछ वर्षों में उनका निधन ४११ से ४०० ई॰पू॰ के मध्य बताया गया जबकि १९८८ में इस विषय पर रखी गयी विचार गोष्ठी में उनके निधन को ४०० ई॰पू॰ के आसापास के २० वर्षों में होने पर बहुमत दिखाई दिया।[1][3][note 1] हालांकि ये वैकल्पिक घटनाक्रम सभी इतिहासकारों द्वारा स्वीकृत नहीं हुई।[5][6][note 2]

ईसा पूर्व[संपादित करें]

ईसोपरान्त[संपादित करें]

टिप्पणी[संपादित करें]

  1. * 411-400: Paul Dundas: "[...], as is now almost universally accepted by informed Indological scholarship, a re-examination of early Buddhist historical material, [...], necessitates a redating of the Buddha's death to between 411 and 400 BCE, [...]" —Paul Dundas, The Jains, 2nd edition, (Routledge, 2001).[web 1]
    • 405: Richard Gombrich
      • Richard Gombrich (1992), Dating the Buddha: a red herring revealed. In: Heinz Bechert, editor, The Dating of the Historical Buddha / Die Datierung des historischen Buddha, Part 2 (Symposien zur Buddhismus forschung, IV, 2), Gottingen: Vandenhoeck and Ruprecht, 1992, pp. 237-59. See also [1] & [2]
      • Richard Gombrich (2000), Discovering the Buddha's date. In: Lakshman S. Perera (ed.), Buddhism for the New
    Millennium. London: World Buddhist Foundation, 2000, pp. 9-25.
    • Around 400: See the consensus in the essays by leading scholars in The Date of the Historical Śākyamuni Buddha (2003) Edited by A. K. Narain. B. R. Publishing Corporation, New Delhi. ISBN: 81-7646-353-1
    • According to Pali scholar K. R. Norman, a life span for the Buddha of c। 480 to 400 BCE (and his teaching period roughly from c. 445 to 400 BCE) "fits the archaeological evidence better".[4]
    See also Notes on the Dates of the Buddha Íåkyamuni.
  2. in 2013, archaeologist Robert Coningham found the remains of a Bodhigara, a tree shrine, dated to 550 BCE at the Maya Devi Temple, Lumbini, speculating that it may possible be a Buddhist shrine. If so, this may push back the Buddha's birth date.[web 2] Archaeologists caution that the shrine may represent pre-Buddhist tree worship, and that further research is needed.[web 2]
    Richard Gombrich has dismissed Coningham's speculations as "a fantasy", noting that Coningham lacks the necessary expertise on the history of early Buddhism.[web 3]
    Geoffrey Samuels notes that several locations of both early Buddhism and Jainism are closely related to Yaksha-worship, that several Yakshas were "converted" to Buddhism, a well-known example being Vajrapani,[lower-roman 1] and that several Yaksha-shrines, where trees were worshipped, were converted into Buddhist holy places.[7]

उपटिप्पणी

  1. See "Ambattha Sutta", Digha Nikaya 3, where Vajrapani frightens an arrogant young Brahman, and the superiority of Kshatriyas over Brahmins is established.[web 4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Cousins 1996.
  2. Schumann 2003, पृ॰ 10-13.
  3. Prebish 2008, पृ॰ 2.
  4. Norman 1997, पृ॰ 33.
  5. Schumann 2003, पृ॰ xv.
  6. Wayman 1993.
  7. Samuels 2010, पृ॰ 140-152.
  8. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Historical_Buddha नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।


सन्दर्भ त्रुटि: "web" नामक सन्दर्भ-समूह के लिए <ref> टैग मौजूद हैं, परन्तु समूह के लिए कोई <references group="web"/> टैग नहीं मिला। यह भी संभव है कि कोई समाप्ति </ref> टैग गायब है।