प्यार झुकता नहीं

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
प्यार झुकता नहीं
प्यार झुकता नहीं.jpg
प्यार झुकता नहीं का पोस्टर
निर्देशक विजय सदाना
निर्माता के॰ सी॰ बोकाड़िया
लेखक एस॰ एच॰ बिहारी
पार्थो मुखर्जी
अमीर शामजी
अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती,
पदमिनी कोल्हापुरे,
डैनी डेन्जोंगपा,
बिन्दू,
असरानी
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 11 जनवरी, 1985
देश भारत
भाषा हिन्दी

प्यार झुकता नहीं 1985 में बनी हिन्दी भाषा की फ़िल्म है। मिथुन चक्रवर्ती, पद्मिनी कोल्हापुरे, डैनी डेन्जोंगपा, असरानी और बिन्दू मुख्य भूमिका निभाते हैं। यह फिल्म 1973 की हिन्दी फिल्म आ गले लग जा की रीमेक है। बॉक्स ऑफिस पर यह बहुत बड़ी हिट थी। इसके गीत भी लोकप्रिय रहे थे।

संक्षेप[संपादित करें]

प्रीति (पद्मिनी कोल्हापुरे) एक समृद्ध लड़की है जो एक मध्यम वर्ग के फोटोग्राफर अजय (मिथुन चक्रवर्ती) से प्यार करती है। उसके माता-पिता शुरुआत में विवाह के लिए असहमत थे लेकिन बेटी उन्हें शादी के लिए तैयार करने का प्रबंधन करती है। प्रीति के पिता भान (डैनी डेन्जोंगपा) अजय को एक शीर्ष श्रेणी के फोटोग्राफर बनाते हैं और उसका वेतन बढ़ता है। बाद में अजय ने पता लगाया कि भानु ने उसकी पदोन्नति किया है और इससे उसके आत्म सम्मान को ठेस पहुँची है। प्रीति और अजय अलग हो जाते हैं।

यद्यपि प्रीति और अजय दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं, भानु उन्हें अपने कारण की गई गलतफहमी से तलाक दिलाता है। भानु ने अजय को विश्वास दिलाया है कि प्रीती तलाक चाहती है और इसके विपरीत भी किया। तब प्रीति को अजय के बच्चे के साथ गर्भवती पाया जाता है। भानु अजय को यह नहीं बताता है, और इसके बजाय प्रसव के लिए शिमला में प्रीति को ले जाता है ताकि कोई भी न जान पाए कि उसने बच्चे को जन्म दिया है। अस्पताल में, भानु अजय से मिलता है और उसे बच्चे के बारे में बताता है। भानु इस आधार पर बच्चे को अजय को देने के लिए सहमत है कि अजय कभी भी प्रीति से संपर्क न करें, क्योंकि वह एक नए व्यक्ति के साथ एक नया जीवन चाहती है। अजय सहमत होता है, लेकिन भानु बाद में अपने दिमाग में बदलाव करता है और बच्चे को अनाथालय में देता है। हालांकि, अजय उसके पीछे आता है और अनाथालय से अपना बच्चा लेता है।

कहानी कुछ सालों तक आगे बढ़ती है और प्रीति नहीं मान रही है कि उसका बच्चा मर चुका है, जिसके परिणामस्वरूप धीरे-धीरे उसकी मानसिक स्थिरता जा रही है। वह अपने हाथों में एक गुड़िया रखती है, मानती है कि वह उसका अपना बेटा है। परिणामस्वरूप उसके माता-पिता तेजी से चिंतित हो जाते हैं। हालांकि, प्रीति कुछ सुधार दिखाती है जब वह एक तस्वीर देखती है जिसे उसने शिमला में खींचा था जब वह अजय के साथ थी। परिणामस्वरूप माता-पिता उसे वापस शिमला ले जाते हैं। अजय शिमला में रहता है और अपने बच्चे को उसने खुद ही पाला है। एक मौके पर, बच्चा प्रीति से मिलता है और दोनों के बीच एक लगाव होता है। अजय की मदद से, बाद में वह उसे अपनी मां के रूप में पहचानता है। वह उसके पास लौट आया और उसे अजय के पास ले आया और उन्होंने अपनी गलतफहमी को दूर किया। दोनों भानु के कारण उनके दिमाग में गलतफहमी का पर्दाफाश करते हैं। वे एक दूसरे के लिए अपने प्यार को सुलझाने और व्यक्त करने में सक्षम होते हैं और उसके बाद अपने बच्चे के साथ खुशी से रहते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत एस॰ एच॰ बिहारी द्वारा लिखित; सारा संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."चाहे लाख तूफान आए"शब्बीर कुमार, लता मंगेशकर6:24
2."हो दिलबर हो दिलबर जानिये"शब्बीर कुमार, लता मंगेशकर3:56
3."तुम्हें अपना साथी बनाने से पहले"लता मंगेशकर, शब्बीर कुमार8:15
4."तुमसे मिलकर ना जाने क्यों" (डुएट)शब्बीर कुमार, लता मंगेशकर6:53
5."तुमसे मिलकर ना जाने क्यों" (महिला)कविता कृष्णमूर्ति6:13
6."तुमसे मिलकर ना जाने क्यों" (पुरुष)शब्बीर कुमार4:32

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1986 पद्मिनी कोल्हापुरे फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामित
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित
शब्बीर कुमार ("तुमसे मिलकर ना जाने क्यों") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित
कविता कृष्णमूर्ति ("तुमसे मिलकर ना जाने क्यों") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]