द सेटेनिक वर्सेज़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
द सेटेनिक वर्सेज़  
चित्र:1988 Salman Rushdie The Satanic Verses.jpg
लेखक सलमान रश्दी
देश United Kingdom
भाषा English
प्रकार Magic realism
मीडिया प्रकार Print (Hardcover and Paperback)
पृष्ठ 546 (first edition)
आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-670-82537-9
ओ॰सी॰एल॰सी॰ क्र॰ 18558869
पूर्ववर्ती Shame
उत्तरवर्ती Haroun and the Sea of Stories
लाइब्रेरी ऑफ़ कॉंग्रेस
वर्गीकरण
PR6068.U757 S27 1988

द सेटेनिक वर्सेज़ (हिन्दी अर्थ : शैतानी आयतें) सलमान रश्दी द्वारा सन् १९८८ में लिखित उपन्यास है जो इस्लामी जगत में अत्यन्त विवाद का विषय बना और अब भी विवादित है।[1]

द सेटेनिक वर्सेज़ सलमान रुश्दी का चौथा उपन्यास है, जिसे पहली बार 1988 में प्रकाशित किया गया था और इस्लाम के पैगंबर मुहम्मद के जीवन से प्रेरित था। रुश्दी नेपनी इस् पुस्तक में जादुई यथार्थवाद का उपयोग किया और समकालीन घटनाओं और समकालीन लोगों को अपने पात्र बने। इस पुस्तक के नाम में कुरान की उन आयतों को "शैतानी आयतें" कहा गया है जो मक्का की तीन देवियों अल्लात, उज्जा और मनात से सम्बन्धित हैं। [2] "शैतानिक छंद" से संबंधित कहानी का हिस्सा इतिहासकार अल-वकिदी और अल-ताबारी के खातों पर आधारित था।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "सलमान रुश्‍दी का ये नॉवल भारत में बैन, पर ऑनलाइन उपलब्‍ध है..."
  2. John D. Erickson (1998). Islam and Postcolonial Narrative. Cambridge, UK: Cambridge University Press.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]