रंगीला रसूल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रंगीला रसुल १९२० के दशक में प्रकाशित पुस्तक है जो लाहौर के राजपाल एण्ड सन्स ने प्रकाशित की थी। इसके लेखक 'चामुपति एम ए' या किशन प्रसाद प्रताब नामक आर्यसमाजी थे किन्तु लेखक का नाम प्रकाशन ने कभी नहीं बताया। यह पुस्तक बहुत विवादास्पद सिद्ध हुई। इसमें पैगम्बर मुहम्मद के विवाह एवं गृहस्थ जीवन का सत्यता से वर्णन किया गया है। यह पुस्तक मूलतः उर्दू में छपी थी किन्तु बाद में इसका हिन्दी संस्करण भी प्रकाशित हुआ। यह पुस्तक आज तक भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में प्रतिबन्धित है।

इसके जवाब में मुसलमानों के लगभग सभी गुटों की तरफ से मौलाना सनाउल्‍लाह अमृतसरी ने उर्दू में मुकददस रसूल बजवाब रंगीला रसूल लिखी जो हिंदी में भी प्रकाशित हुई।

1929 में प्रकाशक "रंगीला रसूल" के क़त्ल के जुर्म में इल्म-उद-दीन को मृत्यु की सज़ा मिली थी।[1] [2]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. VIEW: The Ilam Din fiasco and lies about Jinnah — Yasser Latif Hamdani
  2. Soli J. Sorabjee (25 June 2006). "Insult to religion". Indian Express (newspaper). अभिगमन तिथि 22 April 2019.