तुलू भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

तुलू भारत के कर्नाटक राज्य के पश्चिमी किनारे में स्थित दक्षिण कन्नड़ और उडुपि जिलों में तथा उत्तरी केरल के कुछ भागों में प्रचलित भाषा है। पहले तुलू ब्राह्मण वैदिक और संस्कृत साहित्य लिखने के लिये 'तिगलारि' नामक लिपि को उपयोग करते थे। लेकिन बहुत कम साहित्य तुलू भाषा में मिला है। पर आज इस लिपि को जाननेवाले बहुत कम हैं। पुरानी तिगलारि लिपि मलयालम लिपि से बहुत मिलती है। अब तुलू लिखने के लिये कन्नड़ लिपि का प्रयोग किया जाता है। यह पंच द्राविड भाषाओं में एक है। दक्षिण कन्नड और उडुपी जिलों की अधिकांश लोगों की मातृभाषा तुळु है। इसलिए ये दोनो जिले सम्मिलित रूप से तुलुनाडु नाम से जाने जाते हैं। केरल के कासरगोड जिले में भी बहुत लोग तुलू भाषा बोलते हैं।

कृतियाँ[संपादित करें]

उडुपि जिले के एक ब्राह्मण ने तिगळारि लिपि का प्रयोग करके 'भागवत' नाम का एक ग्रन्थ की रचना की है। कवि मन्दार केशव भट ने 'मन्दार रामायण' नाम का एक आधुनिक महाकाव्य लिखा है।

तुलू की शैलियाँ[संपादित करें]

भाषाविदों के अनुसार तुलू की चार प्रमुख रूप या शैलियाँ हैं :

शिवल्लि - तुलू ब्राह्मणों की बोलनेवाली शैली।

जैन - तुलुनाडु के अत्तरी भागों के जैनों की बोलनेवाली शैली।

सामान्य - तुलुनाडु के ज्यादातर लोगों की बोलनेवाली शैली। वाणिज्य, कला, मनोरंजन में इस शैली की उपयोग होती है।

आदिवासी - आदिवासी लोगों की बोलनेवाली शैली।

तुलुनाडु[संपादित करें]

कर्नाटक के मानचित्र में प्राचीन अल्वाखेडा राज्य

कुछ पुरानी मलयालम कृतियों के अनुसार जो क्षेत्र कासरगोड के चन्द्रगिरी नदी से लेकर उत्तर कन्नड के गोकर्ण तक व्यापित है वो तुलुनाडु नाम से जानाजाता था। पर आज का तुलुनाडु दक्षिण कन्नड़ और उडुपी जिलों तक ही सीमित है। फिर भी केरल के कासरगोड तथा महाराष्ट्र के मुम्बई और थाने में तुलू बोलनेवाले बहुत लोग पाये जाते हैं।

लिपि[संपादित करें]

वर्तमान समय में तुलुभाषिक साहित्य लिखने के कार्य में कन्नड़ लिपि का उपयोग होता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]