ताइज़ प्रान्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ताइज़​
تعز‎ \ Ta'izz
मानचित्र जिसमें ताइज़​ تعز‎ \ Ta'izz हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : ताइज़
क्षेत्रफल : १२,६०५ किमी²
जनसंख्या(२०१२):
 • घनत्व :
२८,१७,६९६
 २२३.५४/किमी²
उपविभागों के नाम: ज़िले
उपविभागों की संख्या: २३
मुख्य भाषा(एँ): अरबी


ताइज़​ प्रान्त (अरबी: تعز‎, अंग्रेज़ी: Ta'izz) यमन का एक प्रान्त है।[1][2] इर प्रान्त की राजधानी भी ताइज़ नामक शहर है जो यमन का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। लाल सागर पर लगा मोख़ा बंदरगाह भी इसी प्रान्त में है जिसके ऊपर विश्व-प्रसिद्ध 'मोका' कॉफ़ी (mocha) का नाम पड़ा है। यहाँ 'ताइज़ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा' भी है जहाँ से यमन के अन्य भागों और पड़ोसी देशों से उड़ानें आती-जाती हैं।

विवरण[संपादित करें]

हालांकि प्रान्त का क्षेत्रफल काफ़ी कम है और भारत के हरियाणा राज्य का केवल एक-चौथाई है, इसका भूगोल बहुत विविध है। पश्चिमी भाग तिहामाह तटवर्ती क्षेत्र है जहाँ मौसम गर्म और नम और ज़मीन शुष्क रहती है। पूर्वी भाग इसका उल्टा है और बहुत पहाड़ी है। यहाँ ताइज़ शहर के पास ३,०७० मीटर ऊँचा जबल साबेर खड़ा है ('जबल' अरबी भाषा में 'पहाड़' का अर्थ रखता है)। पहाड़ों में बादल और अन्य नमी फंसकर बारिश के रूप में गिरती है। पहाड़ों में तापमान दिन को तो ऊँचा (गर्म) होता है लेकिन ऊँचाइयों में रात को -५°सेंटीग्रेड (यानि शून्य से ५ डिग्री कम) तक गिर सकता है।

प्रान्त की कृषि व्यवस्था में भी भूमि की विविधता दिखती है। तिहामाह में कपास, ज्वार और तिल उगाया जाता है लेकिन उसके लिए सिंचाई की ज़रुरत होती है। पहाड़ों में आम, पपीता, केला, कॉफ़ी और 'क़ात' उगाया जाता है। क़ात एक पौधा है जिसके पत्ते चबाने से हल्का नशा चढ़ता है और यह पूरे दक्षिणी अरबी प्रायद्वीप में चबाया जाता है। पहाड़ों में अंगूर भी पैदा किये जाते हैं हालांकि यमन में शराब पर पाबंदी होने से इनकी किशमिश ही बनाई जाती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.world-gazetteer.com Archived 2012-12-04 at archive.today, Yemen, divisions
  2. Central Statistical Organisation of Yemen. General Population Housing and Establishment Census 2012 Final Results [1] Archived 2013-05-21 at the Wayback Machine, Statistic Yearbook 2005 of Yemen [2] Archived 2010-06-20 at the Wayback Machine