चुम्बकीय परिपथ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
केवल एक लूप वाला चुम्बकीय परिपथ

चुंबकीय परिपथ (magnetic circuit) एक या अधिक बंद लूप वाले मार्गों से बना होता है जिनमें चुंबकीय फ्लक्स होता है। यह फ्लक्स प्राय: किसी स्थाई चुम्बक या विद्युत चुम्बक द्वारा पैदा किया जाता है। इन मार्गों में स्थित लौहचुम्बकीय पदार्थों के कारण फ्लक्स इन मार्गों में ही सीमित रहता है तथा मार्ग के बाहर फ्लक्स की मात्रा नगण्य ही रहती है।

चुम्बकीय परिपथ का कांसेप्ट विद्युतचुम्बकीय युक्तियों की डिजाइन में बहुत सुविधा प्रदान करता है। यह विभिन्न स्थानों से होकर गुजरने वाले फ्लक्स की मात्रा आदि की गणना में बहुत उपयोगी है। चूंकि विद्युत परिपथ और चुम्बकीय परिपथ में समानता है, इस कारण विद्युत परिपथ के विश्लेषण के सभी औजार (जैसे KCL, KVL, suparposition आदि) चुम्बकीय परिपथ के विश्लेषण में काम आ जाते हैं।

रिलक्टेंस (reluctance)[संपादित करें]

चुम्बकीय फ्लक्स को वायु सहित बहुत से पदार्थों से होकर गुजरने में कठिनई होती है। (Magnetic flux is reluctant to travel through air.) किन्तु लोहा आदि कुछ पदार्थों से होकर यह बहुत आसानी से गुजरता है। इसी बात को यों कहते हैं कि वायु का प्रतिष्तम्भ (रिलक्टेंस) अधिक है और लोहे आदि का बहुत कम। यह वैसे ही है जैसे विद्युत परिपथ में प्रतिरोध

जहाँ अधिक फ्लक्स पैदा करने की आवश्यकता होती है वहाँ लोहा आदि पदार्थों का उपयोग करके चुम्बकीय फ्लक्स के लिये कम रिलक्टेंस का मार्ग बनाया जाता है। फ्लक्स बढ़ाने का दूसरा तरीका फ्लक्स को पैदा करने वाला चुम्बकीय वाहक बल (MMF) का मान बढ़ाना भी है जिसके लिये धारा या फेरों की संख्या (number of turns बढ़ायी जा सकती है।

चुम्बकीय परिपथ एवं विद्युतीय परिपथ में समतुल्यता (analogy)[संपादित करें]

ट्रान्सफॉर्मर, जिसमें दो परस्पर समानान्तर चुम्बकीय परिपथ देख सकते हैं।
चुम्बकीय परिपथ एवं विद्युत परिपथ में समतुल्यता
तुल्य चुम्बकीय राशि प्रतीक मात्रक तुल्य विद्युतीय राशि प्रतीक
Magnetomotive force (MMF) \mathcal{F}= \int \mathbf{H}\cdot\,d\mathbf{l} एम्पीयर-टर्न EMF की परिभाषा \mathcal{E}= \int \mathbf{E}\cdot\,d\mathbf{l}
चुम्बकीय क्षेत्र H अम्पीयर/मीटर विद्युत क्षेत्र E
चुम्बकीय फ्लक्स φ वेबर विद्युत धारा I
हॉप्किन्सन का नियम या रोलैण्ड का नियम \mathcal{F} = \phi \mathcal{R}_m ओम का नियम \mathcal{E} = IR
चुंबकीय प्रतिष्टम्भ \mathcal{R}_m 1/हेनरी विद्युत प्रतिरोध R
अगतिशीलता (Permeance) \mathcal{P} = 1/\mathcal{R}_m हेनरी विद्युत चालकता इकाई: सिमेंस
B तथा H में सम्बन्ध \mathbf{B} = \mu \mathbf{H} सूक्ष्म ओम का नियम \mathbf{J} = \sigma \mathbf{E}
चुम्बकीय क्षेत्र घनत्व B B टेसला धारा घनत्व J
चुम्बकीय पारगम्यता μ हेनरी/मीटर विद्युत चालकता σ

इन्हें भी देखें[संपादित करें]