ट्रांजिस्टर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अलग-अलग रेटिंग के कुछ प्रथनक

ट्रान्जिस्टर (प्रथनक) एक अर्धचालक युक्ति है जिसे मुख्यतः प्रवर्धक (Amplifier) के रूप में प्रयोग किया जाता है। कुछ लोग इसे बीसवीं शताब्दी की सबसे महत्वपूर्ण खोज मानते हैं।

ट्रान्जिस्टर का उपयोग अनेक प्रकार से होता है। इसे प्रवर्धक, स्विच, वोल्टेज नियामक (रेगुलेटर), संकेत न्यूनाधिक (सिग्नल माडुलेटर), थरथरानवाला (आसिलेटर) आदि के रूप में काम में लाया जाता है। पहले जो कार्य ट्रायोड से किये जाते थे वे अधिकांशत: अब ट्रान्जिस्टर के द्वारा किये जाते हैं।

प्रकार[संपादित करें]

ट्रांजिस्टर दो प्रकार के होते हैं।

(1) एनपीएन (NPN)
(2) पीएनपी (PNP)
  • फिल्ड इफेक्ट ट्रांजिस्टर या फेट (FET)
(1) जेफेट (JFET)
(2) मॉसफेट (MOSFET)
BJT symbol NPN.svg
BJT symbol PNP.svg
JFET N-Channel Labelled.svg
JFET P-Channel Labelled.svg
NPN-ट्रांजिस्टर PNP-ट्रांजिस्टर n-चैनेल जेफेट p-चैनेल जेफेट


IGFET P-Ch Enh Labelled.svg IGFET P-Ch Enh Labelled simplified.svg IGFET P-Ch Dep Labelled.svg P-channel
IGFET N-Ch Enh Labelled.svg IGFET N-Ch Enh Labelled simplified.svg IGFET N-Ch Dep Labelled.svg N-channel
MOSFET इन्हाइन्समेन्त MOSFET डिप्लीशन

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]