गैनिमीड (उपग्रह)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अगर आप के इस से मिलते-जुलते नाम के क्षुद्रग्रह (ऐस्टेरोयड) के बारे में जानकारी ढूंढ रहे हैं तो १०३६ गैनिमीड वाला लेख देखिये
गैनिमेड
True-color image taken by the Galileo probe
गैलिलीयो यान द्वारा ली गयी गैनिमेड के उस रुख़ की तस्वीर जो बृहस्पति से दूर है - हल्के रंगों के क्षेत्रों में बर्फ़ की मात्रा अधिक है और गाढ़े रंग के क्षेत्र पथरीले ज़्यादा हैं।
खोज
खोज कर्ता गैलीलियो गैलिली
खोज की तिथि January 7, 1610[1][2][3]
उपनाम
प्रावधानिक नामJupiter III
विशेषण Ganymedian, Ganymedean
पेरिएप्सिस 1,069,200 km[a]
एपोऐप्सिस1,071,600 km[b]
अर्ध मुख्य अक्ष 1,070,400 km[4]
विकेन्द्रता 0.0013[4]
परिक्रमण काल 7.15455296 d[4]
औसत परिक्रमण गति 10.880 km/s
झुकाव 0.20° (to Jupiter's equator)[4]
स्वामी ग्रह Jupiter
भौतिक विशेषताएँ
माध्य त्रिज्या 2634.1 ± 0.3 km (0.413 Earths)[5]
तल-क्षेत्रफल 87.0 million km2 (0.171 Earths)[c]
आयतन 7.6 km3 (0.0704 Earths)[d]
द्रव्यमान 1.4819 kg (0.025 Earths)[5]
माध्य घनत्व 1.936 g/cm3[5]
विषुवतीय सतह गुरुत्वाकर्षण1.428 m/s2 (0.146 g)[e]
पलायन वेग2.741 km/s[f]
घूर्णन synchronous
अक्षीय नमन 0–0.33°[6]
अल्बेडो0.43 ± 0.02[7]
सतह का तापमान
   K
न्यूनमाध्यअधि
70[9]110[9]152[10]
सापेक्ष कांतिमान 4.61 (opposition)[7]
4.38 (in 1951)[8]
वायु-मंडल
सतह पर दाब trace
संघटन oxygen[11]
गैनीमीड का अंदरूनी ढांचा - सब से बाहर सख़्त बर्फ़ की पर्त, फिर पानी का महासागर, फिर एक पथरीला गोला और केंद्र में लोहे और अन्य धातुओं का गोला

गैनिमीड हमारे सौर मण्डल के पाँचवे ग्रह बृहस्पति का सब से बड़ा उपग्रह है और यह पूरे सौर मंडल का भी सब से बड़ा चन्द्रमा है। इसका व्यास (डायामीटर) 5,268 किमी है, जो बुध ग्रह से भी 8% बड़ा है।[12] इसका द्रव्यमान भी सौर मंडल के सारे चंद्रमाओं में सबसे ज़्यादा है और पृथ्वी के चन्द्रमा का 2.2 गुना है।[13]

अन्य भाषाओँ में[संपादित करें]

गैनिमीड को अंग्रेज़ी में "Ganymede" लिखा जाता है। गैनिमीड प्राचीन यूनानी धार्मिक कथाओं का एक पात्र था जो यूनानी धर्म के देवों को शराब परोसता था (यानि साक़ी की भूमिका निभाता था)।

बनावट[संपादित करें]

गैनिमीड लगभग बराबर मात्रा के पत्थर और पानी की बर्फ़ का बना हुआ है और इसके केन्द्रीय भाग में पिघला हुआ लोहा है। इस पिघले लोहे की वजह से गैनिमीड सौर मंडल का इकलौता चन्द्रमा है जिसका अपना चुम्बकीय गोला है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इसकी सतह के क़रीब 200 किमी नीचे दो बर्फ़ीली पर्तों के दरमयान एक पानी का महासागर है। इसकी सतह में हल्के और गाढ़े रंग के क्षेत्र देखे जा सकते हैं। माना जाता है के हल्के रंग के क्षेत्रों में नई बर्फ़ की मात्रा अधिक है और इन इलाक़ों में खाईयाँ और चट्टानें मौजूद हैं जिनकी वजह बृहस्पति के भयंकर गुरुत्वाकर्षण से पैदा हुए ज्वारभाटा बल द्वारा की गयी उथल-पुथल को बताया जाता है। गाढ़े रंग की सतह की उम्र बहुत पुरानी लगती है और अनुमान है कि इस पर जगह-जगह पर उल्कापिंडों के गिरने से प्रहार क्रेटर बनाने के सिवाय यह पिछले 4 अरब सालों में ज़्यादा नहीं बदली।

वायुमंडल[संपादित करें]

गैनिमीड का अपना पतला-सा वायुमंडल है जिसमें अधिकतर आक्सीजन के तीन भिन्न रूप हैं - आक्सीजन के परमाणु (O), आणविक आक्सीजन (O2) और ओज़ोन (O3)। इस वायुमंडल में कम मात्रा में हाइड्रोजन गैस भी मौजूद है।[11]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; SidereusNuncius नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Wright नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; NASA नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  4. "Planetary Satellite Mean Orbital Parameters". Jet Propulsion Laboratory, California Institute of Technology. Archived from the original on 6 मई 2014. Retrieved 24 मई 2013. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  5. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Showman1999 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  6. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Bills2005 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  7. Yeomans, Donald K. (2006-07-13). "Planetary Satellite Physical Parameters". JPL Solar System Dynamics. Archived from the original on 18 जनवरी 2010. Retrieved 2007-11-05. Check date values in: |archive-date= (help)
  8. Yeomans and Chamberlin. "Horizon Online Ephemeris System for Ganymede (Major Body 503)". California Institute of Technology, Jet Propulsion Laboratory. Archived from the original on 2 फ़रवरी 2014. Retrieved 2010-04-14. Check date values in: |archive-date= (help) (4.38 on 1951-Oct-03)
  9. Delitsky, Mona L.; Lane, Arthur L. (1998). "Ice chemistry of Galilean satellites" (PDF). J.of Geophys. Res. 103 (E13): 31, 391–31, 403. Bibcode:1998JGR...10331391D. doi:10.1029/1998JE900020. Archived (PDF) from the original on 4 मार्च 2016. Retrieved 24 मई 2013. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  10. Orton, G.S.; Spencer, G.R.; et al. (1996). "Galileo Photopolarimeter-radiometer observations of Jupiter and the Galilean Satellites". Science. 274 (5286): 389–391. Bibcode:1996Sci...274..389O. doi:10.1126/science.274.5286.389.
  11. Hall, D.T.; Feldman, P.D.; McGrath, M.A.; et al. (1998). "The Far-Ultraviolet Oxygen Airglow of Europa and Ganymede". The Astrophysical Journal. 499 (1): 475–481. Bibcode:1998ApJ...499..475H. doi:10.1086/305604. Explicit use of et al. in: |author2= (help)CS1 maint: multiple names: authors list (link)
  12. "Ganymede Fact Sheet". www2.jpl.nasa.gov. Archived from the original on 8 दिसंबर 2009. Retrieved 2010-01-14. Check date values in: |archive-date= (help)
  13. "Ganymede". nineplanets.org. October 31, 1997. Archived from the original on 4 फ़रवरी 2012. Retrieved 2008-02-27. Check date values in: |archive-date= (help)


सन्दर्भ त्रुटि: "lower-alpha" नामक सन्दर्भ-समूह के लिए <ref> टैग मौजूद हैं, परन्तु समूह के लिए कोई <references group="lower-alpha"/> टैग नहीं मिला। यह भी संभव है कि कोई समाप्ति </ref> टैग गायब है।