कोरोनावायरस से सम्बंधित ग़लत जानकारी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चीन में संक्रमण फैलने का चलित मानचित्र (animated map)। इसमें देखा जा सकता है कि यह बीमारी बीजिंग और शंघाई में भी फैली है, जबकि यह अफ़वाह फैलाई जा रही है कि इन क्षेत्रों में यह इसलिए नहीं फैला क्योंकि यह चीन की एक साज़िश है।

कोरोनावायरस रोग 2019 (COVID-19) के प्रारंभिक प्रकोप के बाद, कई अफ़वाहें (गलत सूचना और दुस्सूचना) फैली हैं, जिनका सम्बंध अक्सर रोग की उत्पत्ति, विदेशी षड्यन्त्रों, रोग-उपचार रोकथाम, और रोग के अन्य पहलुओं से होता है।[1][2][3][4] ऑनलाइन सोशल मीडिया, [5] पाठ संदेश (text message), [6] [7] और कुछ चीनी,[7] और रूसी और ईरानी सरकारी मीडिया एजेंसियों द्वारा गलत सूचना फैलाई गई है।[8] कुछ गलत सूचना और दुष्प्रचार में यह दावा किया गया कि वायरस एक जैव हथियार है जिसका टीका पेटेंट हो चुका है, या यह एक जनसंख्या नियंत्रण योजना है, या एक का जासूसी आपरेशन का परिणाम है।[9]

कोरोनोवायरस बीमारी को रोकने, उपचार और आत्म निदान के तरीकों के बारे में चिकित्सा-संबंधी गलत सूचना भी सोशल मीडिया पर प्रसारित हुई। [10] विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वायरस के बारे में गलत जानकारी को एक "infodemic" घोषित किया है, जो वैश्विक स्वास्थ्य के लिए जोखिम पैदा करता है।

उपचार सम्बंधी ग़लत सूचना[संपादित करें]

बीमारी का आत्म-परीक्षण, वायरस को मारने, रोकने या बनाने के गलत तरीके[संपादित करें]

सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से परिचालित पोस्टों ने (अन्य चीजों के साथ) निम्नलिखित बातों का गलत दावा किया है:

  • 'खाली पेट उबले हुए अदरक का सेवन कोरोनोवायरस को मार सकता है', [11]
  • नींबूपानी पीने से कोरोनोवायरस और कैंसर को रोका जा सकता है, क्योंकि यह विटामिन सी के स्तर को बढ़ाता है [12], [13]
  • 10 सेकंड के लिए किसी की सांस रोकना कोरोनोवायरस के लिए एक प्रभावी आत्म-परीक्षण है। [14]
  • 'गर्म सौना (sauna) और हेयर ड्रायर कोरोनोवायरस को मार सकते हैं', [15]
  • 'प्राचीन श्रीलंकाई जड़ीबूटी कोरोनोवायरस को रोक सकती है' [16]
  • 'हल्दी और लाइफबॉय ब्रांड साबुन' [17]
  • यूवी-सी लाइट, क्लोरीन, और उच्च तापमान (56° C से अधिक) का उपयोग कोरोनोवायरस को मारने के लिए मनुष्य पर किया जा सकता है। [18]

उपरोक्त सभी दावे झूठे हैं। उदाहरण के लिए, अदरक किसी भी वायरल बीमारी को ठीक करने में कारगर साबित नहीं हुआ है, और विटामिन सी भी कोरोना वायरस के खिलाफ प्रभावी साबित नहीं हुआ है।

मेथनॉल[संपादित करें]

ईरान में यह झूठी ख़बर फैल गई कि मेथनॉल पीने से कोरोनावायरस रोग ठीक हो जाता है।[19] चूँकि ईरान में शराब पर प्रतिबंध है, बहुतेरे लोग औद्योगिक कार्यों में प्रयुक्त होने वाला मेथनॉल (एक प्रकार का ज़हरीला ऐल्कहॉल) पी गए। [20] परिणामस्वरूप, मेथनॉल विषाक्तता से 300 से अधिक लोग मारे गए। कोरोनावायरस से संबंधित मेथनॉल पीने की घटनाएँ व्हिस्की और शहद से संबंधित पर एक ब्रिटिश टैब्लॉइड कहानी के साथ (कथित और पर) जुड़ी हुई हैं। इसके पीछे यह तर्क दिया गया कि कोरोनोवायरस से बचने के लिए हैंड-सैनिटाइज़र का प्रयोग करने (हाथ साफ़ रखने के लिए) की सलाह दी जाती है, जिसमें ऐल्कहॉल होता है। [19][20][21]

तुर्की में भी इसी तरह की घटनाएं हुई हैं, जिसमें कोरोनोवायरस से संबंधित मेथनॉल विषाक्तता से 30 तुर्कमेन नागरिक मारे गए। [22][23]

मास्क का अप्रभावी होना[संपादित करें]

फरवरी 2020 में अमेरिकी सर्जन जनरल जेरोम एडम्स और मार्च 2020 में अलाना शेख सहित कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने सार्वजनिक रूप से लोगों से मास्क न पहनने की अपील करते हुए यह कहा कि ये प्रभावी नहीं हैं।[24][25][26][27] उनकी सलाह सार्वजनिक महामारी विज्ञान के उपायों, अतीत और भविष्य के खिलाफ जाती है।[28][29][30][31]

टीके की मौजूदगी[संपादित करें]

सोशल मीडिया पर यह झूठी साज़िश काफ़ी फैली कि इस बीमारी का टीका (वैक्सीन) और वायरस के बारे में जानकारी पहले से मौजूद है, लेकिन समस्या को जान-बूझकर बढ़ने दिया जा रहा है। PolitiFact और FactCheck.org ने कहा कि वर्तमान में COVID -19 के लिए कोई टीका मौजूद नहीं है। विभिन्न सोशल मीडिया पोस्टों द्वारा उद्धृत पेटेंट आनुवांशिक अनुक्रमों के लिए मौजूदा पेटेंट और सार्स कोरोनावाइरस (SARS coronavirus) जैसे कोरोनोवायरस के अन्य उपभेदों के लिए टीके मौजूद होने का हवाला देते हैं। [32][33] डब्लूएचओ ने 5 फरवरी, 2020 तक बताया कि वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज के लिए खोजी जा रही "सफल" दवाओं की खबरों के बीच कोई ज्ञात प्रभावी उपचार नहीं था; [34] इसमें एंटीबायोटिक्स और हर्बल उपचार शामिल नहीं थे। [35] वैज्ञानिक एक टीका विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं, लेकिन 18 मार्च, 2020 तक, किसी भी टीका उम्मीदवारों ने नैदानिक परीक्षण पूरा नहीं किया जा सका है।

पालतू जानवर[संपादित करें]

चीन और अन्य जगहों के सैकड़ों पालतू जानवरों को इस डर के कारण उनके मालिकों ने छोड़ दिया गया कि कुत्ते और बिल्लियों जैसे सामान्य घरेलू पालतू जानवर संक्रमित हो सकते हैं और बीमारी फैला सकते हैं।[36][37][38]इस बात के बहुत कम प्रमाण हैं कि कुत्ते वायरस से संक्रमित (infected) हो सकते हैं और इसे फैला सकते हैं। हालाँकि, यह सच है कि कुत्ते वायरस से दूषित (contaminated) हो सकते हैं।[39][40][41][42]

कोकीन से इलाज[संपादित करें]

कई ऐसे ट्वीट्स वायरल हुए, जो बताते हैं कि कोकीन सूँघने से एक नथुना निष्फल हो जाएगा, जिससे कोरोनावायरस संक्रमण नहीं होगा। जवाब में, फ्रांसीसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस दावे को खारिज किया, जैसा कि पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने किया था।[43]

अफ़्रीकी प्रतिरोध[संपादित करें]

11 फरवरी से शुरू हुई, रिपोर्ट्स, फेसबुक के माध्यम से तेजी से फैली, यह अनुमान लगाया गया कि चीन में कैमरून की एक छात्रा अपनी अफ्रीकी आनुवंशिकी के कारण वायरस से पूरी तरह से ठीक हो गई थी, जबकि उस छात्र का सफलतापूर्वक इलाज किया गया था, अन्य मीडिया स्रोतों ने उल्लेख किया है कि कोई भी सबूत नहीं है कि अफ्रीकियों के पास वायरस से लड़ने की अधिक प्रतिरोधी क्षमता है और इस तरह के दावों को गलत जानकारी के रूप में खंडित किया गया है।[44] केन्या के स्वास्थ्य सचिव मुताहि कागवे ने स्पष्ट रूप से अफवाहों का खंडन किया कि "काली त्वचा वाले लोग कोरोनोवायरस नहीं पा सकते हैं", जब उन्होंने १३ मार्च को केन्या के पहले मामले की घोषणा की। [45]

5G[संपादित करें]

फरवरी 2020 में, बीबीसी ने बताया कि सोशल मीडिया समूहों पर साजिश रचने वालों ने कोरोनोवायरस और 5 जी मोबाइल नेटवर्क के बीच एक लिंक होने का आरोप लगाया। इसमें दावा किया गया कि वूहान और डायमंड प्रिंसेस जहाज़ सीधे विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र और 5जी और वायरलेस प्रौद्योगिकियों की शुरूआत के कारण हुआ। कुछ साजिश सिद्धांतकारों ने यह भी आरोप लगाया कि कोरोनोवायरस का प्रकोप 5जी से संबंधित बीमारी के लिए कवर अप था।[46] मार्च 2020 में, थॉमस कोवान, (एक समग्र चिकित्सक) जो एक चिकित्सक के रूप में प्रशिक्षित थे और मेडिकल बोर्ड ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया के साथ प्रोबेशन पर काम करते थे, ने आरोप लगाया कि कोरोनोवायरस 5जी के कारण होता है, इस बात के आधार पर कि अफ्रीकी देश, जहाँ 5G क्षेत्र नहीं था, वहाँ बीमारी नहीं फैली। [47][48] कोवान ने यह भी गलत आरोप लगाया कि वायरस कोशिकाओं से अपशिष्ट होते हैं जो विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र और ऐतिहासिक वायरल महामारी द्वारा जहर छोड़ते हैं जो रेडियो प्रौद्योगिकी में प्रमुख विकास के साथ मेल खाते हैं।[48] उनके आरोपों का वीडियो वायरल हुआ; [47][48] दोनों दावे और वीडियो, जो गायक केरी हिलसन द्वारा समर्थित थे, की सोशल मीडिया पर आलोचना की गई और मीडिया एजेंसी रॉयटर्स ,[49]यूएसए टुडे, [50] फ़ुल फ़ैक्ट[51] और अमेरिकन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन कार्यकारी निदेशक जार्ज सी° बेंजामिन[47][52] ने इसकी आलोचना की।

विश्ववार गलत जानकारी[संपादित करें]

भारत[संपादित करें]

  • राजनीतिक कार्यकर्ता स्वामी चक्रपाणि और विधान सभा सदस्य सुमन हरिप्रिया ने दावा किया कि गोमूत्र पीने और शरीर पर गोबर लगाने से कोरोनवायरस का इलाज हो सकता है।[53][54] विश्व स्वास्थ्य संगठन की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने इस तरह के दावों को खारिज किया और गलत सूचना फैलाने के लिए इन राजनेताओं की आलोचना की।[55]
  • भारतीय जनता पार्टी के सांसद रमेश बिधुरी ने दावा किया कि कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि अभिवादन के रूप में नमस्ते का प्रयोग करने से कोविड-19 नहीं फैलता, लेकिन आदाब या अस्सलामु अलैकुम जैसे अरबी अभिवादन का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे हवा मुंह में जाती है।[56][57]
  • यह गलत जानकारी, कि (भारत में लगने वाले) जनता कर्फ्यू के दौरान सरकार देश में "एंटी-कोरोना" दवा फैला रही है, सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है।[58]
  • यह अफ़वाह भी काफ़ी फैली कि जनता कर्फ्यू के दौरान एक साथ ताली बजाने से उत्पन्न कंपन (vibration) वायरस को मार देगा, मीडिया ने इसका खंडन किया।[59]
  • एक वायरल मैसेज में कहा गया कि कोरोनावायरस का जीवनकाल केवल 12 घंटे का होता है और जनता कर्फ्यू के दौरान 14 घंटे घर में रहने से प्रसारण की श्रृंखला (chain of transmission) टूट जाएगी।[60]
  • एक अन्य संदेश में दावा किया गया कि जनता कर्फ्यू का पालन करने से कोरोनवायरस के मामलों में 40% की कमी आएगी।[60]


नाइजीरिया[संपादित करें]

इस बीमारी का पहला मामला यहाँ 28 फरवरी को सामने आया था, जिसके बाद से ही कई बिना परीक्षण वाले दवाओं और उपचार के बारे में लोगों ने वाट्सएप आदि प्लेटफॉर्म पर ऐसी गलत जानकारी फैलाना शुरू कर दिया।[61]

अफ़वाहों से बचने के लिए कुछ तथ्य[संपादित करें]

रोग के प्रसार और स्वास्थ्य संस्थानों में रोगियों के इलाज की क्षमता के बारे में जानकारी देने वाला चार्ट।[62] सामाजिक दूरीकरण जैसे समझदारीपूर्ण निर्णय लेकर समाज आपदा प्रबंधन में सहायक हो सकता है।
  • दुनिया भर के विभिन्न स्वास्थ्य संगठनों ने बीमारी और संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए तरीक़े बताए हैं। इन तरीकों में अन्य कोरोनोवायरस रोग शामिल हैं: घर पर रहना, सार्वजनिक स्थानों पर यात्रा नहीं करना, साबुन और पानी से बार-बार हाथ धोना; हाथ धोए बिना आँखें, नाक और मुँह न पकड़ें; और श्वसन अंगों को साफ रखने के उपाय।[63][64]
  • कुछ चुनिंदा देश (जहाँ वायरस सबसे ज़्यादा तेज़ी से फैल रहा है) छोड़कर बाक़ी देशों के स्वस्थ लोगों को मुँह पर मास्क पहनने की आवश्यकता नहीं होती है।[65][66][67] यह तथ्य इसलिए भी ध्यान देने योग्य है क्योंकि अधिक लोगों के अनावश्यक रूप से मास्क मंगाने पर उन लोगों को इसकी कमी पड़ सकती है, जिन्हें इसकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत है, जैसे चिकित्साकर्मी और पीड़ित मरीज़।
  • संक्रमित लोगों को सलाह दी जाती है कि वे चिकित्सा उपचार के बिना घर से बाहर न निकलें और उपचार करने से पहले रिपोर्ट करें; सार्वजनिक रूप से मुंह और नाक को ढंकने वाला मास्क पहनें; एक रूमाल के साथ छींकने और खांसी; अपने हाथों को नियमित साबुन और पानी से धोने की सलाह दी जाती है और दूसरों के साथ व्यक्तिगत वस्तुओं का उपयोग न करें।[68]
  • इसके अलावा, कम से कम 5 सेकंड के लिए साबुन से हाथ धोने की सलाह दी जाती - विशेष रूप से शौचालय जाने के बाद, बिस्तर से पहले, और जब सर्दी-खांसी होती है।[69] अल्कोहल युक्त हाथ धोने के तरल पदार्थ (जिसमें कम से कम 5% अल्कोहल होते हैं) से बचने की सलाह भी दी गई है।[70]
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन ने फ़रवरी २०२० में यह बताया गया था कि कोरोनावायरस का वैक्सीन बनकर सामूहिक तौर पर उपलब्ध होने में कम से कम १८ महीने लग सकते हैं।[71]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "China coronavirus: Misinformation spreads online about origin and scale". BBC News. January 30, 2020. मूल से February 4, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 8, 2020.
  2. Taylor, Josh (January 31, 2020). "Bat soup, dodgy cures and 'diseasology': the spread of coronavirus misinformation". The Guardian. मूल से February 2, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 3, 2020.
  3. Natasha Kassam (March 25, 2020). "Disinformation and coronavirus". The Interpreter. Lowy Institute. मूल से 8 मई 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  4. "Here's A Running List Of Disinformation Spreading About The Coronavirus". Buzzfeed News. मूल से February 6, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 8, 2020.
  5. Jessica McDonald (January 24, 2020). "Social Media Posts Spread Bogus Coronavirus Conspiracy Theory". factcheck.org. मूल से February 6, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 8, 2020.
  6. Hannah Murphy, Mark Di Stefano & Katrina Manson (March 20, 2020). "Huge text message campaigns spread coronavirus fake news". Financial Times. मूल से 25 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  7. Mihir Zaveri (March 16, 2020). "Be Wary of Those Texts From a Friend of a Friend's Aunt". मूल से 26 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  8. Frantzman, Seth (March 8, 2020). "Iran's regime pushes antisemitic conspiracies about coronavirus". The Jerusalem Post. मूल से March 10, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 11, 2020.
  9. Ghaffary, Shirin; Heilweil, Rebecca (January 31, 2020). "How tech companies are scrambling to deal with coronavirus hoaxes". Vox. मूल से February 8, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 8, 2020.
  10. Robert H. Shmerling (February 1, 2020). "Be careful where you get your news about coronavirus". Harvard Health Blog. मूल से 2 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 25, 2020.
  11. "Doctors refute misleading online claim that consuming boiled ginger can cure novel coronavirus infections". AFP Fact Check. February 13, 2020. मूल से 15 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  12. "False claims that drinking water with lemon can prevent COVID-19 circulate online". AFP Fact Check. March 10, 2020. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  13. "False claims that drinking water with lemon can prevent COVID-19 circulate online". AFP Fact Check. March 10, 2020. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  14. "World Health Organization refutes viral claims that holding your breath can test for COVID-19". AFP Fact Check. March 4, 2020. मूल से 19 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  15. "Hot air from saunas, hair dryers won't prevent or treat COVID-19". AFP Fact Check. March 19, 2020. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  16. "Health experts refute claim that ancient medicinal herbs are an effective coronavirus remedy". AFP Fact Check. March 17, 2020. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  17. "Indian youth swear by turmeric, crave for Lifebuoy to keep COVID-19 at bay". The Week. March 13, 2020. मूल से 26 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  18. "Misleading report claims UV light, chlorine and high temperatures can kill COVID-19". AFP Fact Check. March 19, 2020. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  19. Trew, Bel (March 27, 2020). "Coronavirus: Hundreds dead in Iran from drinking methanol amid fake reports it cures disease". The Independent. मूल से 28 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 27, 2020.
  20. Hannon, Elliot (March 27, 2020). "Hundreds Die in Iran From Bootleg Alcohol Being Peddled Online as Fake Coronavirus Remedy". Slate. मूल से 29 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 28, 2020.
  21. "In Iran, False Belief a Poison Fights Virus Kills Hundreds". The New York Times. March 27, 2020. मूल से 28 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 28, 2020.
  22. "9 kişi daha saf alkolden öldü". CNN Türk (Turkish में). March 25, 2020. मूल से 28 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 28, 2020.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  23. Aydın, Çetin (March 20, 2020). "Katil: Sahte alkol". Hürriyet Daily News (Turkish में). मूल से 28 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 28, 2020.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  24. Coren, Michael J. "Every expert opinion you've heard about wearing masks is right". Quartz (अंग्रेज़ी में). मूल से 30 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-03-30.
  25. "Twitter". mobile.twitter.com. अभिगमन तिथि 2020-03-30.
  26. "YouTube". www.youtube.com. अभिगमन तिथि 2020-03-30.
  27. Shaikh, Alanna, Coronavirus is our future | Alanna Shaikh | TEDxSMU (अंग्रेज़ी में), अभिगमन तिथि 2020-03-30
  28. Sim, Shin Wei; Moey, Kirm Seng Peter; Tan, Ngiap Chuan (2014-3). "The use of facemasks to prevent respiratory infection: a literature review in the context of the Health Belief Model". Singapore Medical Journal. 55 (3): 160–167. PMC 4293989. PMID 24664384. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0037-5675. डीओआइ:10.11622/smedj.2014037. मूल से 26 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  29. "Physical Interventions to Interrupt or Reduce the Spread of Respiratory Viruses: Systematic Review". BMJ. मूल से 22 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  30. Coren, Michael J. "Every expert opinion you've heard about wearing masks is right". Quartz (अंग्रेज़ी में). मूल से 30 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-03-30.
  31. Feng, Shuo; Shen, Chen; Xia, Nan; Song, Wei; Fan, Mengzhen; Cowling, Benjamin J (2020-03). "Rational use of face masks in the COVID-19 pandemic". The Lancet Respiratory Medicine. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 2213-2600. डीओआइ:10.1016/s2213-2600(20)30134-x. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  32. Washington, District of Columbia 1100 Connecticut Ave NW Suite 1300B; Dc 20036. "PolitiFact – No, there is no vaccine for the Wuhan coronavirus". @politifact. मूल से February 7, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 7, 2020.
  33. Jessica McDonald (January 24, 2020). "Social Media Posts Spread Bogus Coronavirus Conspiracy Theory". factcheck.org. मूल से February 6, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 8, 2020.
  34. "WHO: 'no known effective' treatments for new coronavirus". Reuters. February 5, 2020. मूल से February 5, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 6, 2020.
  35. "Dispelling the myths around the new coronavirus outbreak". Al Jazeera. मूल से February 6, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 8, 2020.
  36. Williams, Sophie (February 29, 2020). "Coronavirus: Rescuing China's animals during the outbreak". BBC News. मूल से 4 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020 – वाया bbc.com.
  37. Kim, Allen. "Cats and dogs abandoned at the start of the coronavirus outbreak are now starving or being killed". CNN. मूल से 29 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 27, 2020.
  38. "China's Coronavirus Lockdown Sees Surge in Abandoned Pets". Time. मूल से 4 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 27, 2020.
  39. "Coronavirus and Pets: FAQs for Owners - Veterinary Medicine at Illinois". मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 29, 2020.
  40. Higgins-Dunn, Noah (February 28, 2020). "A dog in Hong Kong tests positive for the coronavirus, WHO officials confirm". CNBC. मूल से 2 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  41. Brulliard, Karin. "Dog with 'low-level' coronavirus infection remains quarantined after blood test, Hong Kong officials say". The Washington Post. मूल से 29 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2020.
  42. Mole, Beth (March 25, 2020). "Don't Panic: The comprehensive Ars Technica guide to the coronavirus". Ars Technica. मूल से 29 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 25, 2020.
  43. Crellin, Zac (March 9, 2020). "Sorry to the French People Who Thought Cocaine Would Protect Them From Coronavirus". Pedestrian.TV. मूल से March 11, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 11, 2020.
  44. "Black people aren't more resistant to novel coronavirus". AFP Fact Check. February 12, 2020. मूल से February 16, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 16, 2020.
  45. Alberti, Mia; Feleke, Bethlehem (March 13, 2020). "Minister rejects false rumors that 'those with black skin cannot get coronavirus' as Kenya records first case". CNN. मूल से March 19, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 15, 2020.
  46. Cellan-Jones, Rory (February 26, 2020). "Coronavirus: Fake news is spreading fast". BBC. मूल से March 17, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 20, 2020.
  47. Wynne, Kelly (March 19, 2020). "Youtube Video Suggests 5G Internet Causes Coronavirus and People Are Falling For It". Newsweek. अभिगमन तिथि March 20, 2020.
  48. Nicholson, Katie; Ho, Jason; Yates, Jeff (March 23, 2020). "Viral video claiming 5G caused pandemic easily debunked". Canadian Broadcasting Corporation. मूल से 26 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 26, 2020.
  49. "False claim: 5G networks are making people sick, not Coronavirus". Reuters. March 17, 2020. मूल से March 20, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 20, 2020.
  50. O'Donnell, Bob (March 21, 2020). "Here's why 5G and coronavirus are not connected". USA Today. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 22, 2020.
  51. Krishna, Rachael (March 13, 2020). "These claims about the new coronavirus and 5G are unfounded". Full Fact. मूल से 20 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 22, 2020.
  52. Finley, Taryn (March 16, 2020). "No, Keri Hilson, 5G Did Not Cause Coronavirus". HuffPost. मूल से March 19, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 20, 2020.
  53. "Coronavirus: Can cow dung and urine help cure the novel coronavirus?". The Times of India. मूल से February 6, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 5, 2020.
  54. "Novel coronavirus can be cured with gaumutra, gobar claims Assam BJP MLA Suman Haripriya". Firstpost. मूल से 4 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 5, 2020.
  55. "Novel Coronavirus Outbreak: "India's Response And Surveillance Has Been Quite Robust," Says WHO's Chief Scientist". NDTV. March 3, 2020. अभिगमन तिथि March 5, 2020.
  56. "Coronavirus: Saying aadab sends infected air into the mouth, claims BJP leader Ramesh Bidhuri". Scroll.in. मूल से 17 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 15, 2020.
  57. "Experts have said namaskar, not adaab or assalamu alaikum, will help prevent coronavirus, says BJP MP Ramesh Bidhuri". Deccan Herald. March 7, 2020. मूल से March 17, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 15, 2020.
  58. "Is government spraying coronavirus vaccine using airplanes? No, it's fake news". Hindustan Times. March 20, 2020. मूल से 20 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 22, 2020.
  59. "संग्रहीत प्रति". thenewsminute.com. मूल से 23 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 22, 2020.
  60. DelhiMarch 21, Ratna New; March 21, Ratna New; Ist, Ratna New. "Fact Check: Social media users give misleading twist to PM Modi's concept of 'Janta curfew'". India Today. मूल से 22 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि March 22, 2020.
  61. Kazeem, Yomi. "Nigeria's biggest battle with coronavirus will be beating misinformation". Quartz Africa. मूल से February 29, 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि February 28, 2020.
  62. Wiles, Siouxsie (9 March 2020). "The three phases of Covid-19 – and how we can make it manageable". The Spinoff. मूल से 27 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 March 2020.
  63. "Coronavirus | About | Prevention and Treatment | CDC". www.cdc.gov (अंग्रेज़ी में). 2020-02-03. मूल से 15 December 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-02-10.
  64. "Advice for public". www.who.int (अंग्रेज़ी में). मूल से 26 January 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-02-10.
  65. Australian Government Department of Health (2020-01-21). "Coronavirus (COVID-19)". Australian Government Department of Health (अंग्रेज़ी में). मूल से 9 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-02-15.सीएस1 रखरखाव: authors प्राचल का प्रयोग (link)
  66. "MOH | Updates on 2019 Novel Coronavirus (2019-nCoV) Local Situation". www.moh.gov.sg. मूल से 12 जुलाई 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-02-11.
  67. Australian Government Department of Health (2020-01-21). "Novel coronavirus (2019-nCoV)". Australian Government Department of Health (अंग्रेज़ी में). मूल से 9 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-02-11.सीएस1 रखरखाव: authors प्राचल का प्रयोग (link)
  68. CDC (2020-02-11). "What to do if you are sick with 2019 Novel Coronavirus (2019-nCoV)". Centers for Disease Control and Prevention (अंग्रेज़ी में). मूल से 14 February 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-02-13.
  69. CDC (2020-02-11). "Coronavirus Disease 2019 Prevention & Treatment". Centers for Disease Control and Prevention (अंग्रेज़ी में). मूल से 15 दिसंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-03-05.
  70. "Advice for public". www.who.int (अंग्रेज़ी में). मूल से 26 जनवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-03-05.
  71. Grenfell R, Drew T (17 February 2020). "Here's Why It's Taking So Long to Develop a Vaccine For The New Coronavirus". Science Alert. मूल से 28 February 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 February 2020.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]