५जी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

५॰जी॰ या पाँच जी॰ बेतार मोबाइल फ़ोन सेवा की पाँचवीं पीढ़ी है। इससे पिछली २॰जी॰, ३॰जी॰ और ४॰जी॰ पीढ़ियां थीं। ५॰जी॰ की रफ़्तार कम-अज़-कम ४-५ गीगाबाइट प्रति सैकंड होगी। 5॰जी॰ टेक्नोलॉजी के बाद इंटरनेट के उपयोगकर्ताओं को डाटा की हाई डेन्सिटी मिलने लगेगी। बेहतर कवरेज मिलेगा और मोबाइल उपकरणों की बैटरी भी कम खर्च होगी। मई 2013 से ही इस टेक्नोलॉजी पर काम शुरू हो गया था।

5॰जी॰[मृत कड़ियाँ] टेक्नोलॉजी हमारे वर्तमान ४॰जी॰ नेटवर्क की तुलना में तेज़ रफ़्तार, तुच्छ विलंबता (अंतराल), बेहतर विश्वसनीयता, बड़े पैमाने पर नेटवर्क क्षमता, बढ़ी हुई उपलब्धता और वर्तमान 4॰जी॰ नेटवर्क से बेहतर अनुभव प्रदान करने का वादा करती है।

५॰जी॰ का आगमन[1][संपादित करें]

5॰जी॰ टेक्नोलॉजी के रिसर्च एंड डवलपमेंट में चीन अग्रणी देश है। चीन ने 5॰जी॰ के तीसरे चरण पर काम शुरू कर दिया है। चाइना मोबाइल और वाहवे टेक्नोलॉजीज़ कंपनी लिमिटेड इस अनुसंधान में सबसे आगे हैं। उम्मीद है कि जून 2019 में 5॰जी॰ मानकों का पहला पूर्व वाणिज्यिक प्रॉडक्ट आ जाएगा।

नेटवर्क[संपादित करें]

५॰जी॰ जिस तरह से तैयार किया जा रहा है उसके अनुसार यह वर्तमान एल॰टी॰ई॰ नेटवर्क पर काम कर सकेगा। इसके अधिकतर फ़ीचर एल॰टी॰ई॰ एडवांस मानकों पर काम कर सकेंगे। एक अनुमान के अनुसार वर्ष 2025 तक दुनिया की एक-तिहाई आबादी को 5॰जी॰ नेटवर्क से कवरेज मिलेगा।

5॰जी॰ नेटवर्क में एक बिलकुल ही नए रेडियो स्पेक्ट्रम बैंड पर काम करता है, 5॰जी॰ मिलीमीटर वेव्स इस्तेमाल करता है, इसके बाद एक फ़्रीक्वेंसी को ब्रॉडकास्ट करता है, जो 30 से 300 गीगाहर्ट्ज़ पर काम करता है, इसके पहले यह 6 गीगाहर्ट्ज़ पर काम करता है। अभी तक इस तकनीक को सेटलाइट और राडार सिस्टम के बीच में संपर्क के लिए इस्तेमाल किया जाता था,  हालाँकि मिलीमीटर वेव्स किसी भी इमारत या अन्य किसी ठोस वस्तु के बीच में से आसानी से पार नहीं जा सकती हैं, इसके कारण ही 5॰जी॰ को स्मॉल सेल्स का भी लाभ मिलता है।[2]

वर्तमान 4॰जी॰ नेटवर्क की तुलना में 100 गुना बेहतर प्रदान करने के लिए है। दुनिया की कनेक्टिविटी[मृत कड़ियाँ] की ज़रूरतों में काफ़ी बदलाव आ रहा है ।

5॰जी॰[मृत कड़ियाँ] की आवश्यकता को माइक्रोवेव बैंड 3.3 गीगाहर्ट्ज़-4.2 गीगाहर्ट्ज़ में नए स्पेक्ट्रम द्वारा पूरा किए जाने की उम्मीद है, और एम॰एम॰-वेव बैंड में उपलब्ध बड़े बैंडविड्थ का उपयोग करना, बड़े एंटीना सरणी और 3-डी॰एम॰ओ॰, नेटवर्क डेन्सिफ़िकेशन, और नए तरंग रूपों के माध्यम से स्वतंत्रता की स्थानिक डिग्री में वृद्धि, और नए तरंग रूप जो 5॰जी॰[मृत कड़ियाँ] सेवाओं की अलग-अलग मांगों को पूरा करने के लिए स्केलेबिलिटी और लचीलापन प्रदान करते हैं।

५॰जी॰ फ़ॉरम[संपादित करें]

५॰जी॰ टेक्नोलॉजी के विकास के लिए ५॰जी॰ फ़ॉरम बड़े स्तर पर काम कर रही है। इन फ़ॉरम पर सॉफ़्टवेयर इंजीनियर, वायरलेस कम्युनिकेशन एक्सपर्ट, मोबाइल हैंडसेट कम्पनियाँ, मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर कम्पनियाँ, विभिन्न देशों की सरकारें आपसी समन्वय और सहयोग से काम कर रहे हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "5G : कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी का भविष्य". मूल से 23 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 फ़रवरी 2018.
  2. Singh, Rajeevkumar (2016-10-06). "जानिए क्या है 5G इंटरनेट, 4G से 20 गुना ज्यादा है इसकी स्पीड". https://hindi.oneindia.com. मूल से 14 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-11-27. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)