कोरवा भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Korwa
Koraku
बोलने का  स्थान India
तिथि / काल 2011 census
समुदाय Korwa (75%), Kodaku (25%)
मातृभाषी वक्ता 28,453
भाषा परिवार
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 इनमें से एक:
ksz – Kodaku
kfp – Korwa

कोरवा, या कोडकू / कोरकू , छत्तीसगढ़ और झारखंड में बोली जाने वाली भारत की एक मुंडा भाषा है।

मौजूदा कोरवा भाषाई प्रलेखन में बहल (1962) भी शामिल है, जो डुमरटोली गांव, बागीचा ब्लॉक, तहसील जशपुरनगर, रायगढ़ जिला, छत्तीसगढ़ की कोरवा बोली पर आधारित है।

विविध रूप[संपादित करें]

कोरवा के अन्तर्गत एक दूसरे से मिलती-जुलती कई बोलियाँ हैं। इसकी दो मुख्य बोलियाँ हैं - कोरवा (कोरबा) और कोरकू (कोडाकु) हैं। कोरवा को कोरवा लोग बोलते हैं जबकि करकू को कोडकु लोग। इसमें भी पहाडियों पर रहने वाले कोरवा ही अब भी कोरवा भाषा बोलते हैं, जबकि अन्य कोरवा अब क्षेत्रीय भाषाएं बोलने लगे हैं। झारखंड के कोडाकु अपनी भाषा को "कोरवा" कहते हैं। कोरवा और कोडकु दोनों सदरी, कुरुख या छत्तीसगढ़ी को दूसरी भाषा के रूप में बोलते हैं। कुछ कुछ ममलों में सदरी उनकी पहली भाषा है।

ग्रेगरी एंडरसन (2008: 195) ने निम्नलिखित स्थानों को कोरोवा और कोराकु के क्षेत्र के रूप में चिह्नित किया है-

सिंह और डंडा (1986: 1) के अनुसार, "एक कोडाक्कू अपने और कोरवा के बीच के अंतरों के बारे में बहुत स्पष्ट है और एक स्पष्ट कटौती तब की जाती है जब एक कोरवा अपने जनजाति के बारे में कोडाकू से पूछता है, और इसके विपरीत।"

संदर्भ[संपादित करें]

  • एंडरसन, ग्रेगरी डीएस (एड)। 2008। मुंडा भाषाएँ । रूटलेज भाषा परिवार श्रृंखला 3। न्यूयॉर्क: रूटलेज। आईएसबीएन 0-415-32890-एक्स
  • बहल, काली चरण। 1962। कोरवा लेक्सिकन । एमएस, 148pp।
  • सिंह, बागेश्वर और अजीत के। डंडा। 1986। सर्गुजा का कोडैकु । कलकत्ता: मानव विज्ञान सर्वेक्षण।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]