कॉमिक्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कॉमिक्स (अंग्रेजी; Comics/शब्दार्थ; चित्रकथा) एक माध्यम है जहाँ विचारों को व्यक्त करने के लिए सामान्य पाठ्यक्रम के अपेक्षा चित्रों, एवं बहुधा शब्दों के मिश्रण तथा अन्य चित्रित सूचनाओं की सहायता से पढ़ा जाता है। काॅमिक्सों में निरंतर किसी भी विशिष्ट भंगिमाओं एवं दृश्यों को चित्रों के पैनल द्वारा जाहिर किया जाता रहा है। अक्सर शाब्दिक युक्तियों को स्पीच बैलुनों, अनुशीर्षकों (कैप्शन), एवं अर्थानुरणन जिनमें संवाद, वृतांत, ध्वनि प्रभाव एवं अन्य सूचनाओं को भी इनसे व्यक्त करते हैं। चित्रित पैनलों के आकार एवं उनकी व्यवस्थित संयोजन से कहानी को व्याख्यान करने से पढ़ना सरल हो जाता है। कार्टूनिंग एवं उनके ही अनुरूप किया गया इल्सट्रैशन द्वारा चित्र बनाना काॅमिक्स का सामान्यतः अनिवार्य अंग रहा है; फ्युमेटी एक विशेष फाॅर्म या शैली हैं जिनमें पहले से खिंची फोटोग्राफिक चित्रों का इस्तेमाल कर काॅमिक्स का रूप दिया जाता है। सामान्य फाॅर्मों में काॅमिक्स को हम काॅमिक्स स्ट्रिप (पट्टी या कतरनों), संपादकीय या गैग (झुठे) कार्टूनों तथा काॅमिक्स पुस्तकों द्वारा पढ़ा करते हैं। वहीं गत २०वीं शताब्दी तक, अपने सीमित संस्करणों जैसे ग्राफिक उपन्यासों, काॅमिक्स एलबम, और टैंकोबाॅन के रूप में इसने सामान्यतया काफी उन्नति पायी है और अब २१वीं सदी में ऑनलाइन वेबकाॅमिक्स के तौर पर भी काफी कामयाब साबित हुई है।

काॅमिक्स इतिहास का विविध विकास भी सांस्कृतिक विविधता की देन है। बुद्धिजीवी मानते है कि इस तरह की शुरुआत हम प्रागैतिहासिक युग के लैस्काउक्स की गुफा चित्रों से अंदाजा लगा सकते हैं। वहीं २०वीं के मध्य तक, काॅमिक्स का विस्तार संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, पश्चिमी युरोपीय प्रांतों (विशेषकर फ्रांस एवं बेल्जियम), और जापान में खूब निखार आया। युरोपीय काॅमिक्स के इतिहास में गौर करें तो १८३० में रुडोल्फ टाॅप्फेर की बनाई कार्टून स्ट्रिप काफी लोकप्रिय थे, जो आगे चलकर उनकी बनाई द एडवेंचर ऑफ टिनटिन १९३० तक स्ट्रिप एवं पुस्तक के रूप काफी कामयाब रही थी। अमेरिकी काॅमिक्स ने सार्वजनिक माध्यम पाने के लिए २०वीं के पूर्व तक अखबारों के काॅमिक्स स्ट्रिप द्वारा पैठ जमाई; पत्रिका-शैली की काॅमिक्स पुस्तकें भी १९३० में प्रकाशित होने लगी, और १९३८ में सुपरमैन जैसे प्रख्यात किरदार के आगमन बाद सुपरहीरो पीढ़ी का एक नया दौर उदय हुआ। वहीं जापानी काॅमिक्स या कार्टूनिंग (मैंगा) का मूल इतिहास तो १२वीं शताब्दी के पूर्वाद्ध से भी पुराना है। जापान में आधुनिक काॅमिक्स स्ट्रिप का उदय २०वीं में ही हुआ, और काॅमिक्स पत्रिकाओं एवं पुस्तकों का भारी उत्पादन भी द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान हुआ जिसमें ओसामु तेज़ुका जैसे कार्टूनिस्टों को काफी शोहरत दिलाई। हालाँकि काॅमिक्स का इतिहास तब तक दोयम दर्जे के रूप में जाना जाता रहा था, लेकिन २०वीं सदी के अंत तक आते-आते जनता तथा शैक्षिक संस्थाओं ने जैसे इसे तहे दिल से स्वीकृति दे दी।

वहीं "काॅमिक्स" अंग्रेजी परिभाषा में एकवचन संज्ञा के तौर पर देखा जाता है जब इसका तात्पर्य किसी मध्यम और बहुवचन को विशेष उदाहरणों व घटनाओं को, व्यक्तिगत स्ट्रिपों अथवा काॅमिक्स पुस्तकों के जरीए प्रस्तुत किया जाता है। यद्यपि अन्य परिभाषा इन हास्यकारक (या काॅमिक) जैसे कार्य पूर्व अमेरिकी अखबारों के काॅमिक्स स्ट्रिपों पर प्रबल रूप से प्रयोग होता था, पर जल्द इसने गैर-हास्य जैसे मापदंडों का भी निर्माण कर लिया। अंग्रेजी में सामान्य तौर पर काॅमिक्स के उल्लेख की तरह ही विभिन्न संस्कृतियों में भी उनकी मूल भाषाओं में उपयोग होता रहा है, जैसे जापानी काॅमिक्स को मैन्गा, एवं फ्रेंच भाषा की काॅमिक्सों को बैन्डिस डेसीनीस कहा जाता हैं। लेकिन अभी तक काॅमिक्स की सही परिभाषा को लेकर विचारकों तथा इतिहासकारों के मध्य आम सहमति नहीं बनी है; कुछेक अपने तर्क पर बल देते हैं कि यह चित्रों एवं शब्दों का संयोजन हैं, कुछ इसे अन्य चित्रों से संबंधित या क्रमबद्ध चित्रों की कहानी कहते है, और कुछ अन्य इतिहासकार स्वीकारते है यह किसी व्यापक पैमाने के पुनरुत्पादन की तरह है जिसमें किसी विशेष पात्र की निरंतर आवृति होती रहती है। विभिन्न काॅमिक्स संस्कृति एवं युग द्वारा बढ़ते इस मिश्रित-परागण से इसकी व्याख्या देना भी अब काफी जटिल हो चुका है।

उद्गम[संपादित करें]

युरोपियन, अमेरिकी तथा जापानी काॅमिक्स की परंपराएँ विभिन्न मार्गों से होकर गुजरी हैं।[1] जैसे युरोपियन परंपरा की शुरुआत स्विस रोडोल्फे टाॅप्फेर के साथ 1827 से देखी जा सकती है और वहीं अमेरिकीयों द्वारा इसकी उद्गम को रिचर्ड आउटकाउल्ट द्वारा 1890 के अखबार के स्ट्रिप में प्रकाशित द येलो किड के जरिए देख सकते हैं, हालाँकि ज्यादातर अमेरिकी, टाॅप्फेर को ही इसे लाने की तरजीह देते रहे है।साँचा:Sfnm जापान में इस तरह के व्यंग्यात्मक कार्टूनों का एक लंबा प्रागैतिहासकाल रहा है तथा द्वितीय विश्वयुद्ध के साथ काॅमिक्सों का युग रचा गया था। युकियो-ए आर्टिस्ट होकुसाई ने जापानी शैली में बने काॅमिक्स तथा मैंगा, कार्टून, 19वीं शताब्दी से काफी पहले लोकप्रिय हुआ करते थे।[3] वहीं युद्ध के दौरान आए आधुनिक युग से जापानी काॅमिक्स का विकास शुरू होने लगा जब ओसामु तेज़ुका ने इसके फलदायी कार्य के निर्माण का हिस्सा बने।[4] 20वीं शताब्दी के आखिरी पड़ाव तक, यह तीन भिन्न परंपराओं ने एकसाथ ही काॅमिक्स को किताब की शक्ल में झुकाव दिया:जैसे युरोप में काॅमिक्स एलबम, जापान में द तैंकोबोन[a], और अंग्रेज़ी भाषी देशों में ग्राफिक नाॅवेल।[1] वहीं बाह्य तौर पर काॅमिक्स को लेकर वंशवालियों, काॅमिक्स विचारकों एवं इतिहासकारों ने इसे लैस्काउक्स के गुफा चित्रों की प्रेरणा का उदाहरण देते हैं[5] जैसा कि फ्रांस में (कुछ इन्हें तस्वीरों की कालक्रमिक दृश्यों के प्रभावों को बताते हैं), मिश्र के चित्र-लिपियों, रोम में ट्राजन के स्तंभ,[6] 11वीं शताब्दी की नाॅर्मैन बेयेक्स टैपेस्ट्री,[7] के बनाए 1370 बोइस प्रोटेट की वुडकट्स, 15वीं शताब्दी की अर्स मोरिएन्दी और ब्लाॅक बुक्स, माइकलेंजलो की द सिस्टाइन चैपल में रचित द लास्ट जजमेंट,[6] और विलियम होगार्थ की 17वीं शताब्दी में बनी सिलसिलेवार नक्काशी,[8] तथा बीच में ऐसे अन्य कई उदाहरण।[6][b]

अंतरराष्ट्रीय काॅमिक्स प्रकाशक एवं उनके काॅमिक्स पात्र[संपादित करें]

जापानी कॉमिक्स[संपादित करें]

देखिये : माँगा (en:Manga)

भारतीय कॉमिक्स[संपादित करें]

भारतीय काॅमिक्स के प्रमुख प्रकाशन कंपनियों एवं उनके लोकप्रिय पात्रों की निम्नलिखित सूची ।

कोरियाई कॉमिक्स[संपादित करें]