आ गले लग जा (1994 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
आ गले लग जा
आ गले लग जा.jpg
आ गले लग जा का पोस्टर
निर्देशक हामिद अली खान
निर्माता सलीम अख्तर
लेखक सलीम ख़ान
अभिनेता जुगल हंसराज,
उर्मिला मातोंडकर,
अजीत,
रीमा लागू,
रंजीत,
परेश रावल,
अशोक सर्राफ
संगीतकार अनु मलिक
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1994
देश भारत
भाषा हिन्दी

आ गले लग जा 1994 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्माण सलीम अख्तर ने किया और इसकी कहानी सलीम खान ने लिखी। इसके कलाकार जुगल हंसराज, उर्मिला मातोंडकर, परेश रावल, अशोक सर्राफ, रंजीत, रीमा लागू, रज़ा मुराद और गुलशन ग्रोवर हैं। इस फिल्म से जुगल हंसराज ने पहली बार प्रमुख भूमिका निभाई।[1] उन्होंने 1980 के दशक में कई फिल्मों में पहले बाल कलाकार के रूप में काम किया था। संयोग से, उन्हेंने उर्मिला मातोंडकर के साथ फिल्म मासूम (1983) में उनके भाई की भूमिका निभाई थी।

संक्षेप[संपादित करें]

सूरज (जुगल हंसराज) अपने चाचा मामतरम (परेश रावल)‌ द्वारा पाला एक गरीब लड़का है। रोशनी (उर्मिला मातोंडकर) अपनी विधवा चाची शकुंतलादेवी (रीमा लागू) द्वारा पाली गई अमीर लड़की है। सूरज और रोशनी प्यार में पड़ते हैं, लेकिन उसकी चाची यह जानकर विवाह का विरोध करती है कि जुगल उर्मिला के पिता के ड्राइवर का बेटा है, जो उनका हत्यारे भी है। जुगल के चाचा ने पुष्टि की कि उसके असली पिता वास्तव में जेल में थे, लेकिन एक तेज ट्रक द्वारा रिहाई पर उन्हें मारा दिया गया था।

सूरज के सपने बिखर जाते हैं। अचानक, कोई रोशनी के पिता के व्यापार के भागीदारों की हत्या शुरू कर देता है। सूरज की ओर संदेह जाता है। हत्या के मामलों को पुलिस इंस्पेक्टर रामभजन सिंह (गुलशन ग्रोवर) को सौंपा गया है। यह समझने के बाद कि हत्यारा कोई तीसरा व्यक्ति है जिसके बारे में कोई नहीं जानता, इंस्पेक्टर उसके लिए एक जाल की व्यवस्था करता है।

यह पाया जाता है कि हत्यारा जुगल के मृत पिता है। वह सभी को बताता है कि उर्मिला के पिता के वास्तविक हत्यारे उनके व्यापारिक साझेदार थे, जो डरते थे कि उसके पिता उनकी धोखाधड़ी का पर्दाफाश करेंगे। उन्होंने जुगल के पिता फँसाया। इंस्पेक्टर द्वारा गिरफ्तार करने से पहले, जुगल के पिता अस्पताल में आखिरी साथी को मार देते हैं।

अंत में जुगल के पिता ने पुलिस को आत्मसमर्पण कर दिया और फिल्म समाप्त हो गई।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

फिल्म अपने मधुर गीतों के लिये जानी जाती है।

सभी अनु मलिक द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."आ गले लग जा"नवाब आरज़ूअभिजीत, कविता कृष्णमूर्ति7:47
2."आज हमें मालूम हुआ"अनवर सागरकुमार सानु, कविता कृष्णमूर्ति7:17
3."हम न होंगे जुदा"अनवर सागरउदित नारायण, साधना सरगम8:17
4."जिस जीवन में"ज़मीर काज़मीउदित नारायण, सुजाता गोस्वामी6:48
5."मैं आशिक हूँ" कुमार सानु, सुजाता गोस्वामी6:04
6."तेरे बगैर"गौहर कानपुरीकुमार सानु, साधना सरगम7:56
7."याद तेरी आती है"अनवर सागरकुमार सानु5:26

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ताम्रकर, समय (7 जुलाई 2014). "जुगल हंसराज ने शादी की". वेबदुनिया. अभिगमन तिथि 2 जून 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]