अल खिज्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

अल-खिज्र पवित्र कुरान के अनुसार, अल-खिद्र ज्ञान के साथ भगवान का सेवक है। कई ग्रंथों में खिद्र को दूत, पैगम्बर, देवदूत के रूप में वर्णित किया गया है जो समुद्र की रक्षा करते हैं, संकट में उनकी मदद करते हैं और गुप्त ज्ञान प्रदान करते हैं। (अल्लाह कबीर) के मंत्र की शक्ति, जब अली ने बदर युद्ध में जीतने के लिए अल-खिज्र (अल्लाह कबीर) से आशीर्वाद मांगा था , तो उसने अली को एक शब्द (मंत्र) दिया। इसका जाप करके अली ने मुहम्मद और उसके विरोधियों के बीच हुए युद्ध को भी जीत लिया था । संत गरीबदास जी ने अपनी अमृतवाणी में कहा है कि अली अल्लाह के शेर हैं। यदि आप तलवार उठाते हैं, तो वह आकाश को छूती है। यह सब अद्भुत भगवान की कृपा और वर्णित मंत्र की शक्ति के कारण था। अल-खिज्र जी यानि कबीर अल्लाह का सच्चा मंत्र "अली" के कर्म की सजा को भी खत्म कर सकता है, मुसलमान को भी अल-खिज्र मील होना चाहिए।[1] उसका नाम लिया और कहा कि यह नाम (मंत्र) असंख्य पापों को भी समाप्त कर देगा। आज वही शक्तिशाली मंत्र बब्बर पूर्ण संत कह रहे हैं कि जन्म-मरण का रोग समाप्त हो जाता है और यहां सुख की भी प्राप्ति होती है। कुरान ज्ञान देने वाला भी, अल-खिज्र (कबीर अल्लाह) की शरण में जाने को कह रहा है। इसका प्रमाण कुरान शरीफ सूरा 18 आयत 60-82 में प्रमाण है कि हज़रत मूसा के पास अल्लाह था, जो उससे अधिक इल्म (सच्चा दर्शन) रखने वाला था। भेजता है जिसका नाम अल-खिद्र (कबीर जी) है। हज़रत मूसा का अल्लाह किसी अन्य ईश्वर को बताता है।[2]

अल-खिज्र की 17वीं सदी की मुगल पेंटिंग

हजरत मूसा को अल्लाह का आदेश[संपादित करें]

हजरत मूसा का अल्लाह मूसा से कहता है की तू मूसा से ज्यादा ज्ञानी व्यक्ति के पास जा जिसका नाम "अल-खिज्र" (कबीर साहेब) है। कुछ इस्लामिक किताबों में खिज्र और खजीर, अल-खिज्र का नाम भी लिखते हैं। अल्लाह कबीर अल-खिज्र है।[3] मूसा के अल्लाह का ज्ञान अधूरा है, जो अल-खिज्र (खिजर) के ज्ञान से आगे कुछ भी नहीं है। अल्लाह ने जो ज्ञान दिया है वह बाइबिल और कुरान में है। कबीर स्वयं ईश्वर हैं जो अल-खिज्र के नाम से लीला करने इस संसार में आते हैं। अल-खिज्र (कबीर भगवान) के ज्ञान के सामने मूसा का ज्ञान कुछ और नहीं, कुरान और बाइबिल का ज्ञान देने वाला, अल्लाह एक ही है, वह अपने भक्त मूसा से कहता है कि जो ज्ञान मैंने तुमसे कहा है (जबर में)। इस ज्ञान का अल-खिज्र (कबीर परमेश्वर) के ज्ञान से कोई लेना-देना नहीं है। अल-खिज्र को जिंदा पीर भी कहा जाता है। मुस्लिम देशों में अल-खिज्र (कबीर जी) की कई यादें हैं। वह शाश्वत ईश्वर है। कबीर परमेश्वर अनेक रूप बनाकर अनेक लीलाएं करता रहता है। अल-खिज्र (खिजर) स्वयं कबीर परमेश्वर हैं। वह जीवित पीर के रूप में मुस्लिम देशों में अपने सच्चे ज्ञान का प्रचार करते थे। अल-खिज्र (कबीर भगवान) को विभिन्न सभ्यताओं में अलग-अलग नामों से जाना और पूजा जाता है। अल-खिज्र (कबीर परमेश्वर) कभी बूढ़ा नहीं होता। अल-खिज्र (कबीर जिंदा पीर) मुहम्मद जी अपने जीवनकाल में दो बार मिले। पहले जवानी में और फिर बुढ़ापे में। अल-खिज्र की उम्र बिल्कुल नहीं बदली। वह शाश्वत ईश्वर है। इससे सिद्ध होता है कि अल-खिज्र (कबीर जी) अविनाशी है। अल्लाह कबीर अल-खिज्र है। "अल-खिज्र" को आज विभिन्न सभ्यताओं में अलग-अलग नामों से जाना और पूजा जाता है। अल-खिज्र का जिक्र 55 हदीसों में मिलता है। मुस्लिम विद्वानों का मानना है कि अल-खिज्र को कई लोग अपने कोमल हाथों से पहचान सकते हैं। ईश्वर/अल्लाह/अल-खिज्र कबीर जी वाणी करते हैं:- हाड़ चाम लहु ना मेरे कोई जाने सतनाम उपासी। तारन तरन अभय पद दाता, मैं हूँ कबीर अविनाशी।। उन्होंने अल-खिज्र की लीला भी की है। आपत्ति के समय कबीर परमेश्वर ने राम और कृष्ण जी की भी गुप्त रूप से सहायता की थी । वे अवतार के रूप में भी उपस्थित थे (मुनिन्द्र और करुणामय के रूप में)। उनके अनंत करोड़ अवतार हुए हैं। वह दिन में सौ बार अपने सतलोक में जाते हैं और नीचे आते हैं। (खलीक) ईश्वर (खलक) संसार में बारह ऋतुएँ अर्थात् छ: मास सदा करता है। कबीर परमेश्वर अल-खिज्र हैं संत गरीबदास जी ने कहा है कि: अनंत कोटि अवतार है, नौ चितवै बुद्धिनाश। खालिक खेले खलक में, 6 ऋतु बारह मास।।। अर्थात् जिनके पास ज्ञान नहीं है वे केवल नौ अवतारों को ही मानते हैं और इसी कारण से उन्हें विष्णु का अवतार मानते हैं। लेकिन सारी लीला कबीर सत्यपुरुष करता है।

अलखिज्र जीवित है[संपादित करें]

कुछ मुस्लिम विद्वानों का मानना है अलखिज्र को अमृत(अबू हयात ) पीने से अमरता प्राप्त है । अल-खिज्र आज भी धरती पर मौजूद हैं । कभी भी किसी भी जगह भक्त की पुकार सुनकर प्रकट हो जाते है और भक्त के सभी कष्टों को समाप्त कर देते है भक्तों को तत्वज्ञान देते हैं । भक्त उनसे मोक्ष पाने को लालायित रहते हैं । सूफी संतों के अनुसार वो अपने जीवन काल में एक बार अलखिज्र से अवश्य मिलते हैं । श्री लंका में अलखिज्र के गाँव कतरगामा में भारत समेत कई देशों से भक्तगण वर्ष में एक बार उनकी खोज में आते हैं ।

अल-खिज्र हरे महात्मा हैं[संपादित करें]

कुछ लोगो का मानना है कि अलखिज्र का अर्थ है हरा रंग वाला । तत्वदर्शी संत अल-खिज्र किसी बंजर भूमि पर बैठते है तो वह भूमि हरी भरी और उपजाऊ हो जाती है इसी कारण किसान, पशु चरवाह उन्हें हरे महात्मा या वनस्पति के देवता के रूप में भी पूजते हैं । जब अकाल पड़ता है तो अल- खिज्र ही जल संकट से बचाते है तब उन्हें वरुण देवता भी कहा जाता है । हरे कपड़े पहने ये बाबा अनेक लोगों को दर्शन देते हैं इसलिए भी इन्हें हरे महात्मा के नाम से भी जाना जाता है[4][5]

पारसी धर्म में[संपादित करें]

ईरान में कई ऐसी शख्सियतें हैं जिनकी जगह खिज्र ने इस्लामीकरण की प्रक्रिया में ले ली थी। उनमें से एक विरोधाभासी रूप से एक महिला आकृति, अनाहिता है। यज़्द में सबसे लोकप्रिय मंदिर अनाहिता को समर्पित है। पारसी में, यज़्द के तीर्थयात्रियों के लिए, छह पीर में से सबसे महत्वपूर्ण पीर-ए सब्ज़ ("हरा तीर्थ") है। मंदिर का नाम अभयारण्य के चारों ओर उगने वाले पत्ते की हरियाली से निकला है। यह अभी भी एक कार्यात्मक मंदिर है और ईरान में रहने वाले वर्तमान पारसी लोगों के लिए सबसे पवित्र स्थल है।[6] प्रत्येक वर्ष 14-18 जून से, ईरान, भारत और अन्य देशों के हजारों पारसी लोग पीर-ए सब्ज़ को समर्पित पवित्र झरने वाले पहाड़ी कुटी में पूजा करने के लिए ईरान में यज़्द की तीर्थयात्रा करते हैं । यहां उपासक उर्वर वर्षा के लिए प्रार्थना करते हैं और प्रकृति की हरियाली और जीवन के नवीनीकरण का जश्न मनाते हैं। जैसा कि बाबयान कहते हैं, "खिजर पारसी जल देवी अनाहिता से संबंधित है , और ईरान में उसके कुछ पूर्व अभयारण्य उसे (पीर-ए सब्ज़) को समर्पित किए गए थे"।

तुलनात्मक पौराणिक कथा[संपादित करें]

जीवन के फव्वारे के सामने अल-खिज्र और सिकंदर महान

विभिन्न खातों में अल-खिज्र को धू अल- करनयन की आकृति से जोड़ा गया है , जिसे या तो साइरस द ग्रेट या हिमायराइट किंग aʿb के रूप में पहचाना जाता है एक संस्करण में, अल-खिज्र और धुल-क़रनैन जीवन के जल को खोजने के लिए अंधेरे की भूमि को पार करते हैं । धुल-क़र्नायन वसंत की तलाश में खो जाता है लेकिन अल-खिएर इसे पाता है और अनन्त जीवन प्राप्त करता है। इब्न हिशाम द्वारा उद्धृत वहब इब्न मुनाबिह के अनुसार , राजा aʿb को यरूशलेम में मिलने के बाद अल-खिज्र द्वारा धू अल-करनयन की उपाधि दी गई थी। लेक्जेंडर रोमांस के भी कई संस्करण हैंजिसमें अल-खिज्र सिकंदर महान के सेवक के रूप में चित्रित है । एक अज्ञात लेखक द्वारा एस्कंदरनामा में, अल-खिज्र को धुल-कर्णन ने उसे और उसकी सेनाओं को जीवन के जल में ले जाने के लिए कहा है। [7] अल-खिज्र सहमत हैं, और अंततः अपने दम पर जीवन के जल पर ठोकर खाते हैं। [8] खिज्र की भूमिका का विस्तार 13वीं शताब्दी के सूरत अल-इस्कंदर में हुआ , जहां वह पूरे समय सिकंदर का साथी रहा। [9] कुछ विद्वानों का सुझाव है कि अल-खिज्र को आर्थरियन कहानी सर गवेन और ग्रीन नाइट में ग्रीन नाइट के रूप में भी दर्शाया गया है । [10]कहानी में, ग्रीन नाइट सर गवेन के विश्वास को तीन बार लुभाता है। धर्मयुद्ध के दौरान संस्कृतियों के मिश्रण के माध्यम से अल-खिज्र का चरित्र यूरोपीय साहित्य में आ सकता है । [11] यह भी संभव है कि कहानी एक आयरिश मिथक से निकली हो, जो धर्मयुद्ध से पहले की है, जिसमें कु चुलैनन और दो अन्य नायक क्यूरेडमिर के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं।, दावतों में चैंपियनों को दिया जाने वाला चुनिंदा हिस्सा; अंततः, कु चुलैनन ही एक विशाल को जाने देने के लिए तैयार है - वास्तव में एक राजा जिसने जादुई रूप से खुद को प्रच्छन्न किया है - उनके समझौते के अनुसार उसका सिर काट दिया। भारत के कुछ हिस्सों में , अल-खिज्र को ख्वाजा खिज्र के नाम से भी जाना जाता है , जो कुओं और नदियों की एक नदी है। [12] सिकंदर-नामा में उनका उल्लेख एक संत के रूप में किया गया है जो अमरता के कुएं की अध्यक्षता करते हैं, और हिंदू और मुस्लिम दोनों द्वारा पूजनीय हैं। [12] उन्हें कभी-कभी हरे रंग के कपड़े पहने एक बूढ़े व्यक्ति के रूप में चित्रित किया जाता है, और माना जाता है कि वे एक मछली पर सवार थे।[12] उनका मुख्य मंदिर पंजाब, पाकिस्तान में भाकर द्वारा सिंधु नदी के एक द्वीप पर है । [12] प्रसिद्ध विज्ञान कथा लेखक फिलिप जोस फार्मर द्वारा द अनरेज़निंग मास्क में , जबकि अल-बुराक के कप्तान रामस्तान , एक दुर्लभ मॉडल अंतरिक्ष यान, जो दो बिंदुओं के बीच तात्कालिक यात्रा करने में सक्षम है, एक अज्ञात प्राणी को रोकने का प्रयास करता है जो पूरे ग्रहों पर बुद्धिमान जीवन को नष्ट कर रहा है। ब्रह्मांड, वह अल-खिएर से मिलने की दृष्टि को दोहराकर प्रेतवाधित है।

अन्य नाम[संपादित करें]

अरबी में अल-किद्र, अल कद्र, अल काद्र, अल केद्र पवित्र कुरान में खबीरा, कबीरन , खबीरन; पवित्र फ़जले अमल में कबीर यहूदियों की यदिस भाषा में हुद्र, फारसी में किसिर और तुर्क में हिज़िर दक्षिण भारत और श्री लंका में कतर,खादर, खादिर, खिजर, खिद्र, अल खिद्र हिन्दी में कबीर, कबीरा, पवित्र वेदों और संस्कृत में कविर्देव, कविरदेव पवित्र ऑर्थडाक्स जूइश बाइबल में कबीर पवित्र गुरुग्रंथसाहिब में कबीर मध्य पूर्व और ग्रीस में एल्लियाह , इलियास दक्षिण पूर्वी यूरोप के बाल्कन पेनिनसुला क्षेत्र के राज्यों में ग्रीन जॉर

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Who Is Al Khidr In Islam Must Read This - bhaktigyans". 2 दिसम्बर 2020. अभिगमन तिथि 7 जुलाई 2022.
  2. "Who is al-Khidr?". Jagranjosh.com. 25 मई 2020. अभिगमन तिथि 7 जुलाई 2022.
  3. "Stories of the Prophets | Alim.org". www.alim.org (अंग्रेज़ी में).
  4. Turkestan, Light of East (16 मई 2021). "The Green One, Al-Khidr". Freedom Of Thought (अंग्रेज़ी में).
  5. "al-Khiḍr | Islamic mythology | Britannica". www.britannica.com (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 8 जुलाई 2022.
  6. Kathryn Babayan (2002). Mystics, Monarchs and Messiahs: Cultural Landscapes of Early Modern Iran. Harvard University Press. पृ॰ 368. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-932885-28-4. Babayan cites Mary Boyce (1967). "Bibi Sharbahnu and the Lady of Pars". Bulletin of the School of Oriental and African Studies (30): 32. Babayan also cites something listed only as "Mīrshokrā'i, Tahlīl az Rasm-i Sunni-yi Chihilum-i Bahār, Kirmanshenasi, Kirman (1982), 365–374."
  7. Anonymous (1978). Iskandarnamah. New York: Columbia University. पृ॰ 55.
  8. Anonymous (1978). Iskandarnamah. New York: Columbia University. पृ॰ 57.
  9. Zuwiyya, Z. David (2011). "The Alexander Romance in the Arabic Tradition". प्रकाशित Z. David Zuwiyya (संपा॰). A Companion to Alexander Literature in the Middle Ages. Brill. पपृ॰ 73–112..
  10. लासेटर, एलिस ई. (1974). स्पेन से इंग्लैंड: अरबी, यूरोपीय और अंग्रेजी साहित्य का एक तुलनात्मक अध्ययन मध्य युग। मिसिसिपी के यूनिवर्सिटी प्रेस।
  11. अहमद, हज़रत अल-हज मिर्जा बशीरुद्दीन महमूद - खलीफातुल मसीह II। तफ़सीर ए कबीर iv. (10 खंड। रबवाह, 1962)।
  12. Longworth Dames, M.। "Khwadja Khidr". Encyclopedia of Islam, Second Edition