अमेरिकी सीनेट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अमेरिका में व्यवस्थापिका को कांग्रेस के नाम से जाना जाता है। इसके दो सदन है--- 1. प्रतिनिधि सभा और 2. सीनेट अमेरिकी सीनेट की स्थापना का मुख्य उद्देश्य अमरीका की संघीय व्यवस्थापिका मे राज्यों को समानता के आधार पर प्रतिनिधित्व प्रदान करना है।  प्रत्येक राज्य से दो सीनेट के प्रतिनिधि चुने जाते है।

युनाई टेड स्टेट्स सेनेट अमरीकी काँग्रेस की उपरी प्रतिनिधि सभा है। हाउस ऑफ रेप्रेसेंटेटिव काँग्रेस की निचली प्रतिनिधि सभा है। भारतीय लोकतंत्र में सेनेट की तुलना राज्यसभा से की जा सकती है।

सिनेट के विशेषाधिकार हैं:

  • (१) उपराष्ट्रपति का निर्वाचन,
  • (२) महाभियोग का निर्णयन,
  • (३) राष्ट्रपति द्वारा की गई नियुक्तियों का पुष्टीकरण,
  • (४) विदेशी राज्यों के साथ की गई संधियों का पुष्टीकरण।

कांग्रेस के दोनों सदनों के वर्णित विशेषाधिकारों के अतिरिक्त कुछ अधिकार ऐसे हैं जो दोनों सदनों को समान रूप से प्राप्त हैं और दोनों सदन मिलकर संविधान के अंतर्गत इनका प्रयोग करते हैं। ये अधिकतर निम्नलिखित हैं :

  • (१) कांग्रेस के दोनों सदनों को दो तिहाई बहुमत से संविधान में संशोधन के प्रस्ताव प्रस्तुत करने का अधिकार,
  • (२) दोनों सदनों का अपने-अपने निर्वाचनों के समय, स्थान तथा निर्वाचन के ढंग को निश्चित करना,
  • (३) संघीय कार्यपालिका के विभिन्न विभागों तथा विभिन्न संघीय पदाग़कधिकारियों के पदों के निर्माण का अधिकार,
  • (५) न्याय संबंधी कतिपय अधिकार भी कांग्रेस के अंतर्गत हैं,
  • (६) परराष्ट्र-संबंध-संचालन तथा अंतरराष्ट्रीय मामलों से संबद्ध कतिपय अधिकार,
  • (७) कांग्रेस को १३ विषयों में विधिनिर्माण का अधिकार है।