अंजाम (1994 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अंजाम
अंजाम.jpg
अंजाम का पोस्टर
निर्देशक राहुल रवैल
निर्माता महारूख जोखी
रीटा रवैल
लेखक रुमी जाफ़री (संवाद)
पटकथा सुतानू गुप्ता
कहानी सुतानू गुप्ता
गौतम राजाध्यक्ष
अभिनेता माधुरी दीक्षित,
शाहरुख़ ख़ान,
दीपक तिजोरी,
टिन्नू आनन्द,
जॉनी लीवर,
कल्पना अय्यर,
हिमानी शिवपुरी,
सुधा चन्द्रन,
बीना बैनर्जी,
किरण कुमार
संगीतकार आनंद-मिलिंद
छायाकार समीर आर्य
संपादक सुरेश चतुर्वेदी
स्टूडियो शिव-भारत फिल्म्स
प्रदर्शन तिथि(याँ) 22 अप्रैल, 1994
समय सीमा 171 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी
लागत 2.65 करोड़[1]
कुल कारोबार अनुमानित16.67 करोड़[1]

अंजाम राहुल रवैल द्वारा 1994 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। फ़िल्म में माधुरी दीक्षित, शाहरुख खान, दीपक तिजोरी, हिमानी शिवपुरी, टिन्नू आनन्द, कल्पना अय्यर और किरण कुमार कलाकार हैं।[2] फिल्म का संगीत आनंद-मिलिंद द्वारा बनाया गया था, जिसमें समीर द्वारा लिखे गए गीत हैं। फ़िल्म गलती के अंजाम पर केन्द्रित है। साथ ही यह महिलाओं के खिलाफ किए गए अत्याचारों पर भी केन्द्रित है।

इस फिल्म में यह पहली बार था कि माधुरी दीक्षित और शाहरुख खान एक साथ काम किये थे। माधुरी दीक्षित ने अपनी भूमिका के लिए फिल्मफेयर का सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री की श्रेणी में नामांकन अर्जित किया था। लेकिन उन्हें पुरस्कार हम आपके हैं कौन में उनके प्रदर्शन के लिए मिला। शाहरुख खान ने नकारात्मक किरदार निभाया था जिसके लिये उन्हें भी फिल्मफेयर पुरस्कार प्राप्त हुआ था। इस फिल्म के सर्वाधिकार रेड चिलीज़ एंटरटेनमेंट के पास है।

संक्षेप[संपादित करें]

विजय अग्निहोत्री (शाहरुख़ खान) एक बिगड़ा हुआ अमीरजादा है जो मुंबई में अपनी माँ के साथ रहता है। एक दिन उसकी मुलाक़ात एयर इंडिया में विमान-परिचारिका (एयर होस्टस) शिवानी चोपड़ा (माधुरी दीक्षित) से होती है और विजय उसे चाहने लगता है। पर शिवानी को उससे प्यार नहीं है। यह विजय को नहीं रोकता और वह अपनी मां को सूचित करता है कि वह शिवानी से शादी करना चाहता है। जब वे प्रस्ताव के साथ शिवानी के परिवार से संपर्क करते हैं तो उन्हें पता चलता है कि शिवानी की शादी विमान-चालक (पायलट) अशोक चोपड़ा (दीपक तिजोरी) से तय हो गई है। विजय को दिल से धक्का लगा और वो चौंक गया। शिवानी और अशोक अमेरिका जाने का फैसला करते हैं।

चार साल बाद, विजय अभी भी शिवानी को नहीं भूल सका और बार-बार अपनी माँ द्वारा लाए गए विवाह प्रस्तावों को नामंजूर कर देता है। वह फिर से शिवानी और अशोक से मिलता है, जिनकी अब एक बेटी पिंकी है। विजय ने नकली एयरलाइन परियोजना के साथ अशोक से शिवानी के करीब आने की उम्मीद में मित्रता की। अशोक विजय के असली इरादों से पूरी तरह से अनजान है, इस हद तक कि वह शिवानी पर विश्वास नहीं करता है जब वह उसे विश्वास दिलाने की कोशिश करती है कि विजय उनके खिलाफ क्या योजना बना रहा है। एक दिन, अशोक ने बहस के बाद शिवानी को उनके घर से बाहर कर दिया। विजय इसे देखता है और अशोक को गंभीर रूप से पीटता है, जिससे वह बेहोश हो जाता है। जब अशोक का अस्पताल में इलाज किया जा रहा होता है, विजय ने ऑक्सीजन मास्क को हटा दिया, जिससे ऑक्सीजन आपूर्ति के बिना अशोक मर गया। शिवानी पुलिस को मनाने की कोशिश करती है कि अशोक की मौत के लिए विजय जिम्मेदार है। हालांकि, विजय अपने मित्र, इंस्पेक्टर अर्जुन सिंह (किरण कुमार) को एक ऐलिबाय प्रदान करने के लिए रिश्वत देता है और विजय बिना आरोप के बरी किया गया जाता है। विजय तब शिवानी के घर पहुँचा और उससे कहा कि कहे कि वह उससे प्यार करती है। जब उसने मना कर दिया, तो उसने शिवानी को अपनी हत्या करने के प्रयास में फँसवा दिया और उसे जेल में तीन साल की सजा सुनाई गई। जबकि पिंकी को शिवानी की बहन (सुधा चन्द्रन) और शराबी जीजा मोहनलाल (टिन्नू आनन्द) की देखभाल में रखा गया। उसका जीजा पिंकी पे बेहद बुरी तरह से व्यवहार करता है। एक दिन, मोहनलाल ने अपनी पत्नी को घर से पिंकी को निकालने के लिए कहा और उसने मना कर दिया। उसके इनकार करने के जवाब में, मोहनलाल ने शिवानी की बहन और शिवानी की बेटी पिंकी दोनों को घर से बाहर कर दिया। विजय ने अनजाने में शिवानी की बहन और बेटी को अपनी कार से कुचलकर मार दिया। शिवानी को उनकी मौतों के बारे में पता चलता है और वो बदला लेने के लिए किसी भी हद तक जाने का फैसला करती है। जेल से बचने के प्रयास में, वह अपने जेल गार्ड की क्रूरता के बारे में शिकायत करती है। फिर, उसकी याचिका को नजरअंदाज कर दिया जाता है। जेल में, उसे पता चला कि वह अशोक के बच्चे के साथ गर्भवती है। जब जेल गार्ड जान जाती है कि शिवानी ने शिकायत करने की कोशिश की, तो वह उसे गंभीर तरह से पीटती है जिससे उसका गर्भपात हो जाता है। शिवानी जल्द ही फाँसी पर लटकाकर जेल गार्ड को मार देती है। लेकिन कोई सबूत नहीं होने के कारण, उसके लिए उसे दोषी नहीं ठहराया जाता।

तीन साल बाद, शिवानी को जेल से रिहा कर दिया गया। सबसे पहले, वह अपने जीजा के घर जाती है और उसके गले में रुपये के नोट्स ठूस के मार देती है। इंस्पेक्टर अर्जुन हत्या के बारे में जान जाता है और शिवानी को संदिग्ध मानता है। जब शिवानी अपनी बेटी के लिए शोक कर रही होती है, अर्जुन उसकी कब्र पर सीधे पैर रख देता है। वह उसका एक खलिहान में पीछा करता है और उससे बलात्कार करने का प्रयास करता है। लेकिन शिवानी बच निकलती है और बाद में वहाँ आग लगा देती है जिससे अर्जुन मर जाता है। तब वह विजय की खोज करती है, जहां उसे पता चलता है कि वह टिकमगढ़ चला गया है। वह मानसिक रूप से बीमार के लिए अस्पताल में काम करती है और विजय को पाती है, जो शिवानी के परिवार पर कार चलाने के बाद लकवाग्रस्त हो गया है। वह उसकी देखभाल करने और उसे ठीक करने के लिये स्वयंसेवक बन जाती है। ठीक होने पर शिवानी ने विजय से प्यार का नाटक किया और उसने अपनी बाहों को उसके लिये खोल दिया। उनके गले लगने के दौरान, वह उसमें चाकू भोंक देती है। वह कबूल करती है कि उसने उसे एक उद्देश्य के लिए ठीक किया: उसे मारने के लिए। वह कहती है कि एक विकलांग व्यक्ति को मारना पाप है, जो खुद की रक्षा नहीं कर सकता है। आखिरकार, वे दोनों एक चट्टान से लटकते हैं (विजय शिवानी का पैर पकड़े हुए)। विजय का कहना है कि यदि वह अगर मरेगा तो वह शिवानी को उसके साथ ले जाएगा। यह निर्णय लेकर कि विजय का मरना उसके जीने से ज्यादा महत्वपूर्ण है, शिवानी ने हाथ छोड़ दिया जिससे दोनों की चट्टान से गिरकर मौत हो जाती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत आनंद-मिलिंद द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."बड़ी मुश्किल है खोया मेरा दिल है"अभिजीत5:25
2."चने के खेत में"पूर्णिमा5:58
3."बरसों के बाद आई मुझको"अलका याज्ञिक4:13
4."मैं कोल्हापुर से आई हूँ"साधना सरगम5:02
5."तू सामने जब आता है"अलका याज्ञिक, उदित नारायण5:53
6."सुन मेरी बन्नो"अलका याज्ञिक5:54
7."प्रतिघात की ज्वाला"सपना अवस्थी1:49

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
माधुरी दीक्षित फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामित
शाहरुख खान फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार जीत

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Anjaam - Movie - Box Office India". boxofficeindia.com. अभिगमन तिथि 2016-08-11.
  2. "इस विलेन के गम में आजतक नहीं की इस एक्ट्रेस ने शादी, अब कर रही ये काम". दैनिक भास्कर. 23 अप्रैल 2018. अभिगमन तिथि 26 अक्टूबर 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]