विशालविविध देश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
१७ देश जिन्हें कंज़र्वेशन इण्टरनेशनल ने विशाल विविध देश माना है।

विशालविविध देश कुछ देशों का समूह है जहाँ पृथ्वी पर पाए जाने वाली अधिकतर प्रजातियाँ उपस्थित है और इसीलिए इन्हें सर्वाधिक जैव विविधता वाला देश माना जाता है। १९९८ में कंज़र्वेशन इण्टरनेशनल ने १७ देशों को विशालविविध माना है जिनमे से अधिकतर उष्णकटिबन्धीय देश हैं[1][2]

सन २००२ में मेक्सिको ने एक अलग संस्था बनाई जिसका ध्यान ऐसे जैवविविध देशों पर केन्द्रित था जिनके पास पारम्परिक ज्ञान भी है। इस संस्था के सदस्य, कंज़र्वेशन इण्टरनेशनल के सारे सदस्य देश नहीं हैं।[3]
वर्णमाला के क्रम में, १७ विशाल विविध देश हैं:

कैनकन पहल और समान विचारधारा वाले विशालविविध देश की घोषणा[संपादित करें]

१८ फरवरी २००२ को ब्राजील, चीन, कोलंबिया, कोस्टा रिका, भारत, इंडोनेशिया, केन्या, मेक्सिको, पेरू, फिलीपींस, दक्षिण अफ्रीका और वेनेजुएला, के प्रतिनिधि कैनकन में इकट्ठे हुए। इन देशों ने समान विचारधारा वाले विशालविविध देश का एक समूह गठित करने की घोषणा की जिस्से उनके हितों, संरक्षण और जैव विविधता के निरंतर उपयोग से संबंधित प्राथमिकताओं को बढ़ावा दिया जा सके। यहा उन देशों भी बुलाने का फैसला हुआ जो जैव विविधता सम्मेलन, जैव सुरक्षा पर कार्टाजेना प्रोटोकॉल और क्योटो प्रोटोकॉल का हिस्सा नहीं बन सके।
इस सम्मेलन में यह निर्णय हुआ की:

  • समय-समय यह राष्ट्र मिलकर विविध विसषयों और समस्याओं पर चर्चा करेंगे और सहयोग के माध्यम से हल निकालेंगे।
  • अगले सम्मेलन के लिए मेजबान देशों का फैसला अंतिम दिन पर किया जाएगा।

निम्नानुसार समान विचारधारा वाले विशालविविध देश संगठन के वर्तमान सदस्य देशों सूची हैं:[4]

संदर्भ[संपादित करें]

Wikisource
विकिसोर्स में Declaration of Cancún (Spanish) लेख से संबंधित मूल साहित्य है।