मिथिलाक्षर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ब्राह्मी लिपि से जन्मी लिपियाँ

उत्तरी ब्राह्मी

दक्षिणी ब्राह्मी

तिरहुता लिपि का प्रयोग कुछ लोग उत्तर बिहार की मैथिली भाषा को लिखने के लिये करते हैं। इसे 'मैथिली लिपि' और 'मिथिलाक्षर' भी कहा जाता है। इस लिपि का प्राचीनतम् नमूना दरभंगा जिले के कुशेश्वरस्थान के निकट तिलकेश्वरस्थान के शिवमन्दिर में है। इस मन्दिर में पूर्वी मागधी प्राकृत में लिखा है कि मन्दिर 'कात्तिका सुदी' ( अर्थात कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा) शके १२५ (अर्थात २०३ ई सन्) में बना था। इस मन्दिर की लिपि और आधुनिक तिरहुता लिपि में बहुत कम अन्तर है।

किन्तु २०वीं शताब्दी में क्रमश: अधिकांश मैथिली लोगों ने मैथिली लिखने के लिये देवनागरी का प्रयोग करना आरम्भ कर दिया। किन्तु अब भी कुछ पारम्परिक ब्राह्मण (पण्डित) 'पाता' (विवाह आदि से सम्बन्धित पत्र) भेजने के लिये इसका प्रयोग करते हैं। सन् २००३ ईसवी में इस लिपि के लिये फॉण्ट का विकास किया गया था।

यह लिपि बंगला लिपि से मिलती-जुलती है किन्तु उससे थोड़ी-बहुत भिन्न है। यह पढ़ने में बंगला लिपि की अपेक्षा कठिन है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]