गुजराती लिपि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुजराती लिपि वो लिपि है जिसमें गुजराती और कच्ची भाषाएं लिखी जाती है ।

ब्राह्मी लिपि से जन्मी लिपियाँ

उत्तरी ब्राह्मी

दक्षिणी ब्राह्मी

स्वर[संपादित करें]

अक्षर विशेषक ક का विशेषक देवनागरी में
बराबरी अक्षर
खड़ी बोली
हिंदी में उच्चार
आय पी ए विशेषक
का नाम[1]
ə
કા a कानो
િ કિ i ह्रस्व अज्जु
કી दीर्घ अज्जु
કુ u ह्रस्व वरड़ुं
કૂ दीर्घ वरड़ुं
કૃ रू ɾu
કે ए, ऐ e, ɛ एक मात्र
કૈ अय əj बे मात्र
કો ओ, औ o, ɔ कानो एक मात्र
કૌ अव əʋ कानो बे मात्र
કૅ æ
કૉ ɔ

व्यंजन[संपादित करें]

यहाँ प्रस्तुत हैं गुजराती लिपि के व्यंजन उनके हिंदी-देवनागरी और आय पी ए बराबरी के साथ ।

स्पर्श अनुनासिक अन्तःस्थ ऊष्मान्
अघोष घोष
अल्पप्राण महाप्राण अल्पप्राण महाप्राण
कण्ठ्य khə ɡə ɡɦə ŋə
तालव्य tʃə hə dʒə ɦə ɲə ʃə
मूर्धन्य ʈə ʈhə ɖə ɖɦə ɳə ɾə
दन्त्य t̪ə hə d̪ə ɦə
ओष्ठ्य phə bɦə ʋə
ऊष्मान् ɦə
मूर्धन्य ɭə
ક્ષ क्ष kʃə
જ્ઞ ज्ञ ɡɲə

अहमदाबाद की पढी लिखी बोलीओं में ફ का उच्चार फ़ होता है ।

सँदर्भ[संपादित करें]

  1. (Tisdall 1892, p. 20)