भारत की पर्वतीय रेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


Mountain Railways of India*
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल

The Darjeeling Toy Train.
राष्ट्र पार्टी Flag of India.svg भारत
मानदंड ii, iv
देश {{{country}}}
क्षेत्र Asia-Pacific
प्रकार Cultural
आईडी 944
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख 1999  (23rd सत्र)
विस्तार 2005
* नाम, जो कि विश्व धरोहर सूची में अंकित है
यूनेस्को द्वारा वर्गीकृत क्षेत्र

कई रेलवे भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में कई जगह रेलवे व्यवस्था की गयी थी सामूहिक रूप से ये भारत की पर्वतीय रेलवे के रूप में जाना जाता है| इन रेलों में से चार अभी भी चल रही हैं एवं इन्हें युनेस्को विश्व धरोहर में शामिल किया गया है ।

The collective designation refers to the current project by the Indian government to nominate a representative example of its historic railways to UNESCO as a World Heritage Site.

The Darjeeling Himalayan Railway was recognized in 1999, while the Nilgiri Mountain Railway was added as an extension to the site in 2005. They were recognized for being outstanding examples of bold, ingenious engineering solutions for the problem of establishing an effective rail link through a rugged, mountainous terrain.

Both the Kalka-Shimla Railway and the Matheran Hill Railway are on the tentative nomination list for that site.

External links[संपादित करें]