गोआ वेल्हा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गोवा वेल्हा (पुराना गोवा)
—  शहर  —
निर्देशांक: (निर्देशांक ढूँढें)
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य Goa
ज़िला उत्तर गोवा
जनसंख्या 5,411 (2001 के अनुसार )
गोवा के गिरजाघर और कोन्वेंट*
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल

बॉम जीसस बेसिलिका
राष्ट्र पार्टी Flag of India.svg भारत
मानदंड ii, iv, vi
देश {{{country}}}
क्षेत्र एशिया-प्रशांत
प्रकार सांस्कृतिक
आईडी 234
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख 1986  (10th सत्र)
* नाम, जो कि विश्व धरोहर सूची में अंकित है
यूनेस्को द्वारा वर्गीकृत क्षेत्र

गोवा वेल्हा (पुर्तगाली भाषा में "वेल्हा" यानि पुराना), भारत के राज्य गोवा के उत्तर गोवा जिले का एक शहर है।

इतिहास[संपादित करें]

The city was founded in the 15th century as a port for the Vijayanagar and Bahamani kings. Old Goa was the second capital of Bijapur under the rule of Adil Shah. It was surrounded by a moat and contained the Shah's palace, and his mosques and temples. The city of Goa in south-western India was under Portuguese rule from 1510 and became the administrative seat of Portuguese India, although the Viceroy's residence was transferred in 1759 to the future capital, Panaji (then Pangim). It was incorporated in the Republic of India in 1961.

The population was roughly 200,000 by 1543. Malaria and cholera epidemics ravaged the city in the 17th century and it was largely abandoned, only having a remaining population of 1,500 in 1775. It was then that the viceroy moved the palace of Adil Shah to Panaji. In 1835 after religious suppression the city was virtually deserted.

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

As of 2001 India census[1], Goa Velha had a population of 5411. Males constitute 53% of the population and females 47%. Goa Velha has an average literacy rate of 77%, higher than the national average of 59.5%: male literacy is 82%, and female literacy is 71%. In Goa Velha, 9% of the population is under 6 years of age.

पुराने गोवा के गिरजाघर[संपादित करें]

Old Goa contains churches affiliated to various congregations, including the Se Cathedral (the seat of the Archbishop of Goa), the church of St Francis of Assis, the church of S. Caetano, and notably, the Basilica of Bom Jesus which contains the incorruptible body of Saint Francis Xavier

यह भी देखें[संपादित करें]

दीर्घा[संपादित करें]

बाहरी कड़िया[संपादित करें]

निर्देशांक: 15°30′08″N, 73°54′42″E

संदर्भ[संपादित करें]

साँचा:Goa-geo-stub

शहर में स्थापित किया गया था [15 वीं सदी]] के लिए एक बंदरगाह के रूप में विजयनगर और [[बहमनी] राजा. ओल्ड गोवा की दूसरी राजधानी थी बीजापुर के शासन के अधीन आदिल शाह. यह एक खाई से घिरा हुआ था और शाह [[]] ', महल और अपने मस्जिदों और [मंदिरों []]. निहित गोवा के दक्षिण - पश्चिमी में शहर भारत के तहत किया गया. पुर्तगाली से शासन [[1510] और प्रशासनिक सीट बन गया पुर्तगाली भारत, हालांकि वाइसराय निवास में स्थानांतरित किया गया था [ [1759]] भविष्य राजधानी पणजी (तब Pangim). यह भारत के गणराज्य में शामिल किया गया था 1961.

जनसंख्या 1543 200.000 मोटे तौर पर किया गया था. 17 वीं सदी में मलेरिया और हैजा महामारी शहर तबाह और यह मोटे तौर पर छोड़ दिया गया था, केवल 1775 में 1500 के शेष आबादी वाले. यह तो था कि वाइसराय आदिल शाह के महल चले गए पणजी. 1835 में धार्मिक दमन के बाद शहर के लगभग सुनसान था.

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

[[] के रूप में 2001 के भारत] [[जनगणना] [1]
सन्दर्भ त्रुटि: <ref> टैग मौजूद हैं, किन्तु कोई <references/> टैग नहीं मिला