छत्रपति शिवाजी टर्मिनस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छत्रपति शिवाजी टर्मिनस

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, पूर्व में: विक्टोरिया टर्मिनस (वी.टी.)
छत्रपति शिवाजी टर्मिनस is located in मुंबई
Location within मुंबई
सामान्य जानकारी
स्थापत्य कला वैनेशियन गोथिक
कस्बा या शहर मुंबई
देश भारत
निर्देशांक 18°56′24″N 72°50′07″E / 18.9400, 72.8353
निर्माण आरंभ 1889
पूर्ण 1897
लागत 1,614,000 रुपये
डिजाइन और निर्माण
ग्राहक मुम्बई सरकार
वास्तुकार ऐक्सेल हर्मन, फ्रेडरिक विलियम्स स्टीवन्स
अभियंता फ्रेडरिक विलियम्स स्टीवन्स
छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (पूर्व में विक्टोरिया टर्मिनस)*
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल
राष्ट्र पार्टी Flag of India.svg भारत
मानदंड ii, iv
देश {{{country}}}
क्षेत्र एशिया-प्रशांत
प्रकार सांस्कृतिक
आईडी 945
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख 2004  (28वां सत्र)
* नाम, जो कि विश्व धरोहर सूची में अंकित है
यूनेस्को द्वारा वर्गीकृत क्षेत्र

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (मराठी: छत्रपती शिवाजी टरमीनस), पूर्व में जिसे विक्टोरिया टर्मिनस कहा जाता था, एवं अपने लघु नाम वी.टी., या सी.एस.टी. से अधिक प्रचलित है। यह भारत की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई का एक ऐतिहासिक रेलवे-स्टेशन है, जो मध्य रेलवे, भारत का मुख्यालय भी है। यह भारत के व्यस्ततम स्टेशनों में से एक है, जहां मध्य रेलवे की मुंबई में, व मुंबई उपनगरीय रेलवे की मुंबई में समाप्त होने वाली रेलगाड़ियां रुकती व यात्रा पूर्ण करती हैं। आंकड़ों के अनुसार यह स्टेशन ताजमहल के बाद; भारत का सर्वाधिक छायाचित्रित स्मारक है।

इस स्टेशन की अभिकल्पना फ्रेडरिक विलियम स्टीवन्स, वास्तु सलाहकार १८८७-१८८८, ने १६.१४ लाख रुपयों की राशि पर की थी। स्टीवन ने नक्शाकार एक्सल हर्मन द्वारा खींचे गये इसके एक जल-रंगीय चित्र के निर्माण हेतु अपना दलाली शुल्क रूप लिया था। इस शुल्क को लेने के बाद, स्टीवन यूरोप की दस-मासी यात्रा पर चला गया, जहां उसे कई स्टेशनों का अध्ययन करना था। इसके अंतिम रूप में लंदन के सेंट पैंक्रास स्टेशन की झलक दिखाई देती है। इसे पूरा होने में दस वर्ष लगे, और तब इसे शासक सम्राज्ञी महारानी विक्टोरिया के नाम पर विक्टोरिया टर्मिनस कहा गया।सन १९९६ में, शिव सेना की मांग पर, तथा नामों को भारतीय नामों से बदलने की नीति के अनुसार, इस स्टेशन का नाम, राज्य सरकार द्वारा सत्रहवीं शताब्दी के मराठा शूरवीर शासक छत्रपति शिवाजी के नाम पर छत्रपति शिवाजी टर्मिनस बदला गया। फिर भी वी.टी. नाम आज भी लोगों के मुंह पर चढ़ा हुआ है। २ जुलाई, २००४ को इस स्टेशन को युनेस्को की विश्व धरोहर समिति द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया।

इस स्टेशन की इमारत विक्टोरियन गोथिक शैली में बनी है। इस इमारत में विक्टोरियाई इतालवी गोथिक शैली एवं परंपरागत भारतीय स्थापत्यकला का संगम झलकता है। इसके अंदरूनी भागों में लकड़ी की नक्काशि की हुई टाइलें, लौह एवं पीतल की अलंकृत मुंडेरें व जालियां, टिकट-कार्यालय की ग्रिल-जाली व वृहत सीढ़ीदार जीने का रूप, बम्बई कला महाविद्यालय (बॉम्बे स्कूल ऑफ आर्ट) के छात्रों का कार्य है। यह स्टेशन अपनी उन्नत संरचना व तकनीकी विशेषताओं के साथ, उन्नीसवीं शताब्दी के रेलवे स्थापत्यकला आश्चर्यों के उदाहरण के रूप में खड़ा है।

मुंबई उपनगरीय रेलवे (जिन्हें स्थानीय गाड़ियों के नाम पर लोकल कहा जाता है), जो इस स्टेशन से बाहर मुंबई नगर के सभी भागों के लिये निकलतीं हैं, नगर की जीवन रेखा सिद्ध होतीं हैं। शहर के चलते रहने में इनका बहुत बड़ा हाथ है। यह स्टेशन लम्बी दूरी की गाड़ियों व दो उपनगरीय लाइनों – सेंट्रल लाइन, व बंदरगाह (हार्बर) लाइन के लिये सेवाएं देता है। स्थानीय गाड़ियां कर्जत, कसरा, पन्वेल, खोपोली, चर्चगेटदहनु पर समाप्त होतीं हैं।

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियां[संपादित करें]

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस
अगला स्टेशन दक्षिण:
कोई नहीं
मुंबई उपनगरीय रेलवे : सेंट्रल रेलवे अगला स्टेशन उत्तर:
मस्जिद बंदर
स्टॉप संख्या: 1 आरंभ से कि.मी.: 0 प्लेटफॉर्म: 17
छत्रपति शिवाजी टर्मिनस
अगला स्टेशन दक्षिण:
कोई नहीं
मुंबई उपनगरीय रेलवे : सेंट्रल रेलवे (हार्बर लाइन) अगला स्टेशन उत्तर:
मस्जिद बंदर
स्टॉप संख्या: 1 आरंभ से कि.मी.: 0 प्लेटफॉर्म: 17