एलोरा गुफाएं

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एलोरा गुफ़ाएं*
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल

कैलाशनाथ मन्दिर, (गुफा 16) चट्टान के ऊपर से लिया चित्र
राष्ट्र पार्टी Flag of India.svg भारत
मानदंड (i)(iii)(vi)
देश {{{country}}}
क्षेत्र एशिया-प्रशांत
प्रकार सांस्कॄतिक
आईडी b 243
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख 1983  (7th सत्र)
* नाम, जो कि विश्व धरोहर सूची में अंकित है
यूनेस्को द्वारा वर्गीकृत क्षेत्र

एलोरा या एल्लोरा (मूल नाम वेरुल) एक पुरातात्विक स्थल है, जो भारत में औरंगाबाद, महाराष्ट्र से 30 कि.मि. (18.6 मील) की दूरी पर स्थित है। इन्हें राष्ट्रकूट वंश के शासकों द्वारा बनवाया गया था। अपनी स्मारक गुफाओं के लिये प्रसिद्ध, एलोरा युनेस्को द्वारा घोषित एक विश्व धरोहर स्थल है।

एलोरा भारतीय पाषाण शिल्प स्थापत्य कला का सार है, यहां 34 "गुफ़ाएं" हैं जो असल में एक ऊर्ध्वाधर खड़ी चरणाद्रि पर्वत का एक फ़लक है। इसमें हिन्दू, बौद्ध और जैन गुफ़ा मन्दिर बने हैं। ये पांचवीं और दसवीं शताब्दी में बने थे। यहां 12 बौद्ध गुफ़ाएं (1-12), 17 हिन्दू गुफ़ाएं (13-29) और 5 जैन गुफ़ाएं (30-34) हैं। ये सभी आस-पास बनीं हैं और अपने निर्माण काल की धार्मिक सौहार्द को दर्शाती हैं।

एलोरा के 34 मठ और मंदिर औरंगाबाद के निकट 2 किमी के क्षेत्र में फैले हैं, इन्हें ऊँची बेसाल्ट की खड़ी चट्टानों की दीवारों को काट कर बनाया गया हैं। दुर्गम पहाड़ियों वाला एलोरा 600 से 1000 ईसवी के काल का है, यह प्राचीन भारतीय सभ्यता का जीवंत प्रदर्शन करता है। बौद्ध, हिंदू और जैन धर्म को भी समर्पित पवित्र स्थान एलोरा परिसर न केवल अद्वितीय कलात्मक सृजन और एक तकनीकी उत्कृष्टता है, बल्कि यह प्राचीन भारत के धैर्यवान चरित्र की व्याख्या भी करता है।[1] यह यूनेस्को की विश्व विरासत में शामिल है।[2]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]


यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "अतुल्य भारत". इनक्रेडेबल इंडिया. http://hindi.incredibleindia.org/heritage/ellora_caves.htm. अभिगमन तिथि: 2007-6-23. 
  2. "Ellora UNESCO World Heritage Site". http://whc.unesco.org/en/list/243. अभिगमन तिथि: 2006-12-19. 

बाहरी सूत्र[संपादित करें]

निर्देशांक: 20°01′35″N, 75°10′45″E