देव आनन्द

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
देव आनन्द

इंडो-अमेरिकन समुदाय द्वारा देव आनंद का सम्मान
जन्म धरमदेव पिशोरीमल आनंद
26 सितम्बर 1923
शकरगढ़, गुरदासपुर, पंजाब, ब्रितानी भारत, वर्तमान पंजाब, पाकिस्तान में।[1]
मृत्यु 3 दिसम्बर 2011(2011-12-03) (उम्र 88)
लंदन, इंगलैण्ड
निवास मुम्बई, महाराष्ट्र, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
अन्य नाम देव साहब
व्यवसाय अभिनेता, निर्माता, निर्देशक, नवकेतन फ़िल्मस के सह-संस्थापक (1949)
सक्रिय वर्ष 1946–2011
जीवनसाथी कल्पना कार्तिक (1954–2011 his death)
संतान सुनील आनन्द
हस्ताक्षर 150px

देव आनन्द उर्फ़ धरमदेव पिशोरीमल आनंद[2] (जन्म २६ सितंबर १९२३- मृत्यु ३ दिसंबर २०११) हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध अभिनेता थे।

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

धर्मदेव आनंद, जो की देव आनन्द के नाम से प्रसिद्ध थे, का जन्म २६ सितम्बर १९२३ में गुरदास पुर (जो अब नारोवाल जिला, पकिस्तान में है) में हुआ और उनका निधन ३ दिसंबर २०११ रात १० बजे को लंदन में हृद्याघात से हुआ। वे भारतीय सिनेमा के बहुत ही सफल कलाकार, निर्देशक और फिल्म निर्माता थे। उनके पिता किशोरीमल आनंद पेशे से वकील थे। उन्होंने गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर से अंग्रेजी साहित्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। देव आनंद के भाई, चेतन आनंद और विजय आनंद भी भारतीय सिनेमा में सफल निर्देशक थे। उनकी बहन शील कांता कपूर प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक शेखर कपूर की माँ है। भारतीय सरकार ने देव आनंद को भारतीय सिनेमा के योगदान के लिए २००१ में पद्मा भूषण और २००२ में दादा साहब फाल्के पुरस्कारों से सम्मानित किया।

फिल्मी सफर[संपादित करें]

देव आनंद काम की तलाश में मुंबई आये और उन्होंने मिलट्री सेंसर ऑफिस में १६० रुपये प्रति माह के वेतन पर काम की शुरुआत की! शीघ्र ही उन्हें प्रभात टाकीज़ एक फिल्म हम एक हैं में काम करने का मौका मिला! और पूना में शूटिंग के वक़्त उनकी दोस्ती अपने ज़माने के सुपर स्टार गुरु दत्त से हो गयी! कुछ समय बाद अशोक कुमार के द्वारा उन्हें एक फिल्म में बड़ा ब्रेक मिला! उन्हें बॉम्बे टाकीज़ प्रोडक्शन की फिल्म ज़िद्दी में मुख्य भूमिका प्राप्त हुई, और इस फिल्म में उनकी सहकारा थीं कामिनी कौशल, ये फिल्म १९४८ में रिलीज़ हुई और सफल भी हुई! १९४९ में देव आनंद ने अपनी एक फिल्म कम्पनी बनाई, जिसका नाम नवकेतन रखा गया, इस तरह अब वो फिल्म निर्माता बन गए! देव आनंद साहब ने अपने मित्र गुरुदत्त का डाइरेक्टर के रूप में चयन किया और एक फिल्म का निर्माण किया, जिसका नाम था बाज़ी, ये फिल्म १९५१ में प्रदर्शित हुई और काफी सफ़ल हुई।

इसके बाद देव साहब नें कुछ भूमिकाएं निभाई जो कुछ नकरात्मक शेड लिए थीं! जब राज कपूर की आवारा पर्दर्शित हुई, तभी देव आनंद की राही और आंधियां भी प्रदर्शित हुईं! इसके बाद आई टेक्सी ड्राईवर, जो हिट साबित हुई! इस फिल्म में इनके साथ थीं कल्पना कार्तिक, जिन्होंने देव साहब के साथ विवाह किया, और १९५६ में इन्हें एक पुत्र हुआ, जिसका नाम सुनील आनंद रखा गया।

इसके बाद उनकी कुछ फिल्में आयीं जैसे, मुनीम जी, सी आई डी और पेइंग गेस्ट, उसके बाद तो हर नौजवान उनके स्टाइल का दीवाना हो गया और उनका स्टाइल अपनाने की कोशिश करता! १९५५ में उन्होंने उस ज़माने के एक और सुपर स्टार दिलीप कुमार के साथ काम किया, और फिल्म का नाम था इंसानियत. १९५८ में उनको फिल्म काला पानी के लिए बेहतरीन कलाकार के पुरस्कार से नवाज़ा गया।

इसके बाद उनके जीवन में सुरैय्या आईं, जिनके साथ उन्होंने ६ फिल्मो में काम किया! एक बार देव आनंद ने शूटिंग के दौरान सुरैया को पानी में डूबने से बचाया तब से वो उन्हें प्यार करने लगीं, लेकिन सुरैया की दादी धार्मिक कारणों से इनके रिश्ते के खिलाफ थीं! सुरैय्या आजीवन कुंवारी ही रहीं! देव आनंद ने अभी कुछ ही समय पहले स्वीकार किया, की वो उनसे प्यार करते थे, यदि उनकी शादी सुरैया के साथ हो गयी होती तो उनका जीवन शायद कुछ और ही होता।

१९६५ में उनकी पहली रंगीन फिल्म प्रदर्शित हुई, जिसका नाम था गाइड, ये एक मशहूर लेखक आर के नारायण के अपन्यास पर आधारित थी, जिसका निर्माण उनके छोटे भाई विजय आनंद ने किया था, इस फिल्म में देव आनंद के साथ थीं वहीदा रहमान! ये फिल्म देव साहब ही बेहतरीन फिल्मों में से एक है, जिसके बारे में कहा जाता है की अब दुबारा गाइड कभी नहीं बन सकती, ऐसी फिल्म सिर्फ एक बार ही बनती है।

उसके बाद उन्होंने विजय आनंद के साथ मिल कर एक और फिल्म का निर्माण किया, जिसका नाम था ज्वेल थीफ, इसमें उनके साथ थीं, वैजयंती माला, तनूजा, अंजू महिन्द्रू और हेलेन! इसके बाद उनकी अगली फिल्म थी जॉनी मेरा नाम, जो उस समय सफलतम फिल्मों में से एक थी।

१९७० में बतौर निर्देशक उनकी पहली फिल्म आई प्रेम पुजारी, जो सफल नहीं हुई, लेकिन अगले ही वर्ष उनके द्वारा निर्देशित फिल्म हरे राम हरे कृष्णा ने सफलता का स्वाद चखा इस फिल्म में उनकी खोज ज़ीनत अमान ने "जेनिस" नाम की लड़की का किरदार निभाया, जो माता पिता के तनाव से तंग आ कर हिप्पियों के समूह में शामिल हो जाती है।

इसी वर्ष उनकी एक और फिल्म तेरे मेरे सपने पर्दर्शित हुई, जिसमें उनके साथ थीं मुमताज़, ये फिल्म ए.जे क्रोनिन के उपन्यास The Citadel पर आधारित थी, इस फिल्म को उनके भाई विजय आनंद द्वारा निर्देशित किया गया था! ज़ीनत अमान के बाद उनकी नयी खोज थी टीना मुनीम, जिनके साथ उन्होंने १९७८ में फिल्म देस परदेस का निर्माण किया, ये भी उनकी एक सफल फिल्म थी।

१९७७ में उन्होंने एक राजनितिक दल नेशनल पार्टी ऑफ़ इंडिया का निर्माण किया, जो की तत्कालीन प्रधान मंत्री श्रीमति इंदिरा गाँधी के खिलाफ था ! लेकिन ये राजनितिक दल ज्यादा समय तक नहीं रहा।

देव आनंद की फिल्में उनके संगीत के कारण भी प्रसिद्ध है, उनकी फिल्मों का संगीत आज भी लोगों को मंत्र मुग्ध करता है! उन्होंने जिन संगीतकारों, लेखकों और गायकों के साथ काम किया उनमे से कुछ इस प्रकार हैं, शंकर-जयकिशन, ओ पी नैयर, कल्याण जी- आनंद जी, सचिन देव बर्मन, राहुल देव बर्मन, लेखक: हसरत जयपुरी, मज़रूह सुल्तानपुरी, नीरज, शैलेन्द्र, आनंद बख्शी, गायक: मोह्हमद रफ़ी, महेंद्र कपूर, किशोर कुमार, मुकेश आदि।

सितम्बर २००७ में उनकी आत्मकथा रोमांसिंग विद लाइफ उनके जन्म दिवस के अवसर पर प्रदर्शित की गयी, जहाँ भारत के प्रधान मंत्री श्री मनमोहन सिंह जी भी उपस्थित थे।

प्रमुख फिल्में[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म पात्र/चरित्र टिप्पणी
2005 मिस्टर प्राइम मिनिस्टर
2003 अमन के फरिश्ते
2003 लव एट टाइम्स स्क्वैर
2001 सेंसर
1996 रिटर्न ऑफ ज्वैलथीफ
1994 गैंगस्टर
1991 सौ करोड़
1990 अव्वल नम्बर
1989 सच्चे का बोलबाला
1989 लश्कर
1985 हम नौजवान
1984 आनन्द और आनन्द
1982 स्वामी दादा
1980 मन पसन्द
1980 लूटमार
1978 देस परदेस वीर साहनी
1977 साहेब बहादुर
1977 डार्लिंग डार्लिंग
1977 कलाबाज़ विजय
1976 जानेमन
1976 बुलेट
1975 वारंट
1974 अमीर गरीब
1974 इश्क इश्क इश्क
1974 प्रेम शस्त्र
1973 शरीफ़ बदमाश
1973 छुपा रुस्तम
1973 जोशीला
1973 बनारसी बाबू
1973 हीरा पन्ना
1972 यह गुलिस्ताँ हमारा
1971 गैम्बलर
1971 तेरे मेरे सपने
1971 हरे रामा हरे कृष्णा
1970 जॉनी मेरा नाम
1970 प्रेम पुजारी
1970 द ईविल विद इन
1969 महल
1968 दुनिया
1968 कहीं और चल
1967 ज्वैलथीफ
1966 प्यार मोहब्बत
1965 गाइड
1965 तीन देवियाँ
1964 शराबी
1963 तेरे घर के सामने
1963 किनारे किनारे
1962 असली नकली
1962 बात एक रात की
1961 जब प्यार किसी से होता है
1961 हम दोनों
1961 माया
1961 रूप की रानी चोरों का राजा
1960 जाली नोट
1960 बम्बई का बाबू
1960 एक के बाद एक
1960 काला बाज़ार
1960 मंज़िल
1960 सरहद
1959 लव मैरिज
1958 काला पानी
1958 अमर दीप
1958 सोलवाँ साल
1957 बारिश
1957 दुश्मन
1957 नौ दो ग्यारह
1957 पेइंग गेस्ट
1956 सी आई डी
1956 फंटूश
1956 पॉकेटमार
1955 मुनीम जी
1955 फ़रार
1955 हाउस नम्बर 44
1955 इन्सानियत
1955 मिलाप
1954 टैक्सी ड्राइवर
1954 बादबाँ
1954 कश्ती
1953 अरमान
1953 हमसफर
1953 पतिता
1953 राही
1952 आँधियां
1952 जाल
1952 तमाशा
1952 ज़लज़ला
1951 आराम
1951 बाज़ी
1951 दो सितारे
1951 नादान
1951 सनम
1951 सज़ा
1951 स्टेज
1950 निराला
1950 अफ़सर
1950 बिरहा की रात
1950 दिलरुबा
1950 हिन्दुस्तान हमारा
1950 खेल
1950 मधुबाला
1950 निली
1949 जीत
1949 शाइर
1949 शायर
1949 उधार
1948 हम भी इंसान हैं
1948 विद्या
1948 ज़िद्दी
1947 आगे बढ़ो
1947 मोहन
1946 हम एक हैं

बतौर लेखक[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
1993 प्यार का तराना
1978 देस परदेस

बतौर निर्माता[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
1998 मैं सोलह बरस की
1993 प्यार का तराना
1978 देस परदेस

बतौर निर्देशक[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2005 मिस्टर प्राइम मिनिस्टर
2003 लव एट टाइम्स स्क्वैर
2001 सेंसर
1998 मैं सोलह बरस की
1994 गैंगस्टर
1993 प्यार का तराना
1991 सौ करोड़
1990 अव्वल नम्बर
1989 सच्चे का बोलबाला
1985 हम नौजवान
1984 आनन्द और आनन्द
1980 लूटमार
1978 देस परदेस
1974 इश्क इश्क इश्क
1973 हीरा पन्ना
1971 हरे रामा हरे कृष्णा
1970 प्रेम पुजारी

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

देव आनंद को सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Hindus Contribution Towards Making Of Pakistan (पाकिस्तान निर्माण में हिन्दुओं का योगदान) 22 मई 2010 अभिगमन तिथि: 27 सितम्बर 2013
  2. "देव आनंद का सदाबहार सफ़र". बीबीसी हिन्दी. 26 सितम्बर 2013. http://www.bbc.co.uk/hindi/multimedia/2013/09/130926_dev_anand_piuc_gallery_pkp.shtml. अभिगमन तिथि: 27 सितम्बर 2013. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]