गाजर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गाजर
Carrots with stems.jpg
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: पादप
(अश्रेणिकृत) एंजियोस्पर्म
(अश्रेणिकृत) बीजपत्री
(अश्रेणिकृत) ऐस्टरिड्स
गण: एपियालेस
कुल: ऐपियेशी
प्रजाति: डॉकस
जाति: D. carota
द्विपद नाम
Daucus carota
L.
Carrot, raw
पोषक मूल्य प्रति 100 ग्रा.(3.5 ओंस)
उर्जा 40 किलो कैलोरी   170 kJ
कार्बोहाइड्रेट     9 g
- शर्करा 5 g
- आहारीय रेशा  3 g  
वसा 0.2 g
प्रोटीन 1 g
विटामिन A equiv.  835 μg  93%
- बीटा-कैरोटीन  8285 μg  77%
थायमीन (विट. B1)  0.04 mg   3%
राइबोफ्लेविन (विट. B2)  0.05 mg   3%
नायसिन (विट. B3)  1.2 mg   8%
विटामिन B6  0.1 mg 8%
विटामिन C  7 mg 12%
कैल्शियम  33 mg 3%
लोहतत्व  0.66 mg 5%
मैगनीशियम  18 mg 5% 
फॉस्फोरस  35 mg 5%
पोटेशियम  240 mg   5%
सोडियम  2.4 mg 0%
प्रतिशत एक वयस्क हेतु अमेरिकी
सिफारिशों के सापेक्ष हैं.
भिन्न रंगों की गाजरें

गाजर एक सब्ज़ी का नाम है| यह लाल, काली, नारंगी, कई रंगों में मिलती है। यह पौधे की मूल (जड़) होती है।

स्वास्थ्य वर्धक[संपादित करें]

गाजर के रस का एक गिलास पूर्ण भोजन है। इसके सेवन से रक्त में वृद्धि होती है। [1]मधुमेह आदि को छोड़कर गाजर प्रायः हरेक रोग में सेवन की जा सकती है। गाजर के रस में विटामिन ‘ए’,'बी’, ‘सी’, ‘डी’,'ई’, ‘जी’ , और ‘के’ मिलते हैं। यह पीलिया की प्राकृतिक औषधि है। इसका सेवन ल्यूकेमिया (ब्लड कैंसर ) और पेट के कैंसर में भी लाभदायक है। इसके सेवन से कोषों और धमनियों को संजीवन मिलता है। गाजर में बिटा-केरोटिन नामक औषधीय तत्व होता है, जो कैंसर पर नियंत्रण करने में उपयोगी है। [2] गाजर का सेवन नियमित रूप से करने से शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ती है और हड्डियां मजबूत होती है| [3]

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी सूत्र[संपादित करें]