खारे पानी के मगरमच्छ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Saltwater Crocodile
SaltwaterCrocodile('Maximo').jpg
संरक्षण स्थिति
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: Animalia
संघ: Chordata
वर्ग: Reptilia
गण: Crocodylia
कुल: Crocodylidae
उपकुल: Crocodylinae
प्रजाति: Crocodylus
जाति: C. porosus
द्विपद नाम
Crocodylus porosus
(Schneider, 1801)
Range of the saltwater crocodile in black
Range of the saltwater crocodile in black
कायर्न्स, क्वींसलैंड के बाहर खारे पानी के मगरमच्छ

खारे पानी का मगरमच्छ या एस्टूएराइन क्रोकोडाइल (estuarine crocodile) (क्रोकोडिलस पोरोसस) सबसे बड़े आकार का जीवित सरीसृप है। यह उत्तरी ऑस्ट्रेलिया, भारत के पूर्वी तट और दक्षिण-पूर्वी एशिया के उपयुक्त आवास स्थानों में पाया जाता है।

शारीरिक रचना और आकारिकी[संपादित करें]

खारे पानी के मगरमच्छ की थूथन, मगर कहलाने वाले मगरमच्छ से अधिक लम्बी होती है: आधार पर इसकी लम्बाई चौड़ाई से दोगुनी होती है।[1] अन्य प्रकार के मगरमच्छों की तुलना में, खारे पानी के मगरमच्छ की गर्दन पर कवच प्लेटों की संख्या कम होती है और अधिकांश अन्य पतले शरीर के मगरमच्छों की तुलना में इसके शरीर का चौड़ा होना, इस असत्यापित मान्यता को जन्म देता है की सरीसृप एक एलीगेटर (घड़ियाल) था।[2]

चित्र:Saltieskull.JPG
जूलॉजी के संग्रहालय, सेंट पीटर्सबर्ग से खारे पानी के मगरमच्छ की खोपड़ी

एक वयस्क नर खारे पानी के मगरमच्छ का भार 600 से 1,000 किलोग्राम (1,300–2,200 पाउन्ड) और लम्बाई सामान्यतया 4.1 से 5.5 मीटर (13–18 फ़ुट) होती है। हालांकि परिपक्व नर की लम्बाई 6 मीटर (20 फ़ुट) या अधिक और भार 1,300 किलोग्राम (2,900 पाउन्ड) या अधिक भी हो सकता है।[3][4][5] किसी अन्य आधुनिक मगरमच्छ प्रजाति की तुलना में, इस प्रजाति में लैंगिक द्विरुपता सबसे अधिक देखने को मिलती है, इनमें मादा नर की तुलना में काफी छोटे आकार की होती है। एक प्रारूपिक मादा के शरीर के लम्बाई 2.1 से 3.5 मीटर (7–11 फ़ुट) की रेंज में होती है।[2][6][7] अब तक दर्ज की गयी सबसे बड़े आकार की मादा की लम्बाई लगभग 4.2 मीटर (14 फ़ुट) नापी गयी है।[5] पूरी प्रजाति का औसत भार मोटे तौर पर 450 किलोग्राम (1,000 पाउन्ड) है।[8]

खारे पानी के मगरमच्छ का सबसे बड़ा आकार काफी विवाद का विषय है। अब तक थूथन से लेकर पूंछ तक मापी गयी सबसे लम्बे मगरमच्छ की लम्बाई 6.1 मीटर (20 फ़ुट) थी, जो वास्तव में एक मृत मगरमच्छ की त्वचा थी।

चूंकि मृत त्वचा की परत के हटाये जाने के बाद (carcass) त्वचा थोड़ी सी सिकुड़ जाती है, इसलिए जीवित अवस्था में इस मगरमच्छ की अनुमानित लम्बाई 6.3 मीटर (21 फ़ुट) रही होगी और संभवतया इसका वजन 1,200 किलोग्राम (2,600 पाउन्ड) से अधिक रहा होगा.[9] ऐसा दावा किया गया है कि अधूरे अवशेष (उड़ीसा में शूट किये गए एक मगरमच्छ की खोपड़ी[10]) एक 7.6 मीटर (25 फ़ुट) मगरमच्छ के हैं, परन्तु विशेषज्ञों के द्वारा किये गए परीक्षण बताते हैं कि इसकी लम्बाई 7 मीटर (23 फ़ुट) से अधिक नहीं होगी.[9] 9 मीटर (30 फ़ुट) की रेंज में मगरमच्छों के असंख्य दावे किये गए हैं: बंगाल की खाड़ी में 1940 में शूट किये गए एक मगरमच्छ को 10 मीटर (33 फ़ुट) पर दर्ज किया गया; एक और मगरमच्छ को 1823 में फिलिपिन्स में ल्युज़ोन के प्रमुख द्वीप पर जलजला में मारा गया, इसे 8.2 मीटर (27 फ़ुट) पर दर्ज किया गया; 7.6 मीटर (25 फ़ुट) पर दर्ज किये गए एक मगरमच्छ को कलकत्ता के अलीपुर जिले में हुगली नदी में मारा गया। हालांकि, इन जानवरों की खोपड़ियों के परीक्षण वास्तव में इंगित करते हैं कि ये जानवर 6 से 6.6 मीटर (20–22 फ़ुट) की रेंज से थे।

हाल ही में खारे पानी के मगरमच्छ के आवास की बहाली और शिकार को कम किये जाने के कारण, यह संभव हो पाया है कि 7 मीटर (23 फ़ुट) मगरमच्छ आज जीवित हैं।[11] गिनीज ने इस दावे को स्वीकार किया है कि एक 7 मीटर (23 फ़ुट) नर खारे पानी का मगरमच्छ भारत के उड़ीसा राज्य में भीतरकनिका पार्क में रहता है,[10][12] हालांकि, एक बहुत बड़े आकार के जीवित मगरमच्छ को पकड़ने और इसके मापन में होने वाली कठिनाई के कारण, इन आयामों की सटीकता का सत्यापन अब तक किया जाना बाकी है।

1957 में क्वींसलैंड में शूट किये गए एक मगरमच्छ की लम्बाई 8.5 मीटर (28 फ़ुट) थी, लेकिन इस माप को सत्यापित नहीं किया गया और ना ही इस मगरमच्छ के कोई अवशेष अब मौजूद हैं। इस मगरमच्छ की एक "प्रतिकृति" बनाई गयी है जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन गयी है।[13][14][15]

8 मीटर से अधिक लम्बे (28 फीट से लम्बे) कई मगरमच्छों को भी दर्ज किया गया है लेकिन इनकी पुष्टि नहीं हुई है,[16][17] और इनकी संभावना अत्यधिक कम है।

वितरण[संपादित करें]

एडिलेड नदी में कूदते हुए मगरमच्छ
खारे पानी मगरमच्छ का प्रमुख

खारे पानी का मगरमच्छ भारत में पाई जाने वाली मगरमच्छ की तीन प्रजातियों में से एक है, इसके अलावा मगर कहे जाने मगरमच्छ और घड़ियाल पाए जाते हैं।[18]

भारत के पूर्वी तट के अलावा, यह मगरमच्छ भारतीय उपमहाद्वीप में अत्यंत दुर्लभ है। खारे पानी के मगरमच्छों की एक बड़ी आबादी (इनमें कई बड़े आकार के व्यस्क हैं, एक 7 मीटर की लम्बाई का नर भी शामिल है) उड़ीसा के भीतरकनिका वन्यजीव अभयारण्य में मौजूद है और ये सुंदरवन के भारतीय और बांग्लादेश के हिस्सों में कम संख्या में पाए जाते हैं।

उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में (जिसमें उत्तरी क्षेत्र के उत्तरी हिस्से, पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और क्वीन्सलैंड शामिल हैं) खारे पानी के मगरमच्छ संख्या में खूब बढ़ रहें हैं, विशेष रूप से डार्विन के पास बहुल नदी प्रणाली में (जैसे एडिलेड, मेरी और डेली नदियां और इनके साथ इनसे जुडी हुई नदशाखाएं और ज्वारनदमुख) जहां बड़े आकार के जीव (6 मीटर से अधिक) आम हैं। ऑस्ट्रेलियाई खारे पानी के मगरमच्छों की आबादी अनुमानतः 100,000 और 200,000 वयस्कों के बीच है।

ये पूरे उत्तर क्षेत्री तट में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में ब्रूम से लेकर क्वीन्सलैंड में नीचे रॉकहैम्प्टन तक फैले हुए हैं। ताजे पानी में पाए जाने वाले मगरमच्छों की तुलना में खारे पानी के मगरमच्छों के एलीगेटर से मिलते जुलते होने के कारण, उत्तरी ऑस्ट्रेलिया की एलीगेटर नदियों का नाम बदल गया है। ताजे पानी के मगरमच्छ उत्तरी क्षेत्र में भी रहते हैं।न्यू गिनी में भी वे आम हैं, जो सभी ज्वारनदमुख और मैंग्रोव सहित देश में लगभग सभी नदी प्रणालियों के तटीय क्षेत्रों में पाए जाते हैं। वे बिस्मार्क द्वीपसमूह, काई द्वीप, आरू द्वीप, मालुकु द्वीप और तिमोर क्षेत्र में आने वाले द्वीपों और टोरेस स्ट्रेट के भीतर अधिकांश द्वीपों में भी अलग अलग संख्या में पाए जाते हैं।

खारे पानी का मगरमच्छ ऐतिहासिक रूप से पूरे दक्षिण पूर्वी एशिया में पाया गया, लेकिन अब इस रेंज में से विलुप्त हो चुका है। इस प्रजाति को इंडोचाईना के अधिकांश भागों में दशकों से जंगलों में दर्ज नहीं किया गया है और थाईलैंड, लाओस, वियतनाम और संभवतः कम्बोडिया में यह विलुप्त हो चुकी है। म्यांमार एक अधिकांश हिसों में इस प्रजाति की स्थिति जटिल है, लेकिन इर्रवाड्डी डेल्टा में कई बड़े आकार के वयस्कों की एक स्थिर आबादी है।[19] यह संभव है कि म्यांमार इंडोचाइना में एकमात्र देश है जहां आज भी इस प्रजाति की जंगली आबादी मौजूद है। हालांकि एक समय था जब मेकोंग डेल्टा (जहां से वे 1980 के दशक में गायब हो गए) और अन्य नदी प्रणालियों में खारे पानी के मगरमच्छ बहुत आम थे, इंडोचाइना में इस प्रजाति का भविष्य खतरे में नज़र आ रहा है। हालांकि, इस बात की संभावना भी बहुत कम है कि मगरमच्छ पुरी दुनिया से विलुप्त हो जाये, क्योंकि इसका वितरण व्यापक है और उत्तरी ऑस्ट्रेलिया तथा न्यू गिनी में इसकी आबादी का आकार पूर्व-औपनिवेशिक प्रकार का है।

इंडोनेशिया और मलेशिया में इसकी आबादी छिटपुट है, जबकि कुछ क्षेत्रों में अधिक आबादी भी है (जैसे बोर्नियो) और कई अन्य स्थानों पर इसकी आबादी बहुत कम है, जो जोखिम (विलुप्त होने के कगार पर) पर है, (उदाहरण फिलिपीन्स). सुमात्रा और जावा में इस प्रजाति की स्थिति बड़े पैमाने पर अज्ञात है (हालांकि समाचार एजेंसियों और विश्वसनीय स्रोतों के द्वारा सुमात्रा के पृथक्कृत क्षेत्रों में बड़े मगरमच्छों के द्वारा मनुष्यों पर हमला किये जाने की रिपोर्टें हाल ही में दर्ज की गयी हैं).उत्तरी ऑस्ट्रेलिया के आस पास मगरमच्छों के पाए जाने के बावजूद, बाली में अब मगरमच्छ नहीं बचे हैं। खारे पानी का मगरमच्छ दक्षिण प्रशांत के बहुत सीमित हिस्से में भी पाया जाता है, सोलोमन द्वीप में इसकी आबादी औसत है, वानुअतु (जहां आबादी अधिकारिक तौर पर केवल तीन रह गयी है) में इसकी आबादी बहुत कम, आक्रामक और जल्दी ही विलुप्त होने वाली है और पलाऊ में यह आबादी आक्रामक नहीं है, परन्तु जोखिम पर है (जिसके बढ़ जाने की संभावना है).एक समय था जब खारे पानी के मगरमच्छ सेशेल्स द्वीप में अफ्रीका के उत्तरी तट से लेकर पश्चिम तक पाए जाते थे। ऐसा माना जाता था कि ये मगरमच्छ नील नदी की आबादी हैं, लेकिन बाद में यह प्रमाणित हो गया कि वे ये क्रोकोडिलस पोरोसस हैं।[2]

क्योंकि समुद्र में लम्बी दूरी की यात्रा करना इस प्रजाति की प्रवृति है, इसलिए कभी कभी ये मगरमच्छ ऐसे अजीब स्थानों पर भी देखे जाते हैं, जहां के वे स्थानीय निवासी नहीं हैं। आवार किस्म के जीव भी ऐतिहासिक रूप से न्यू कैलेडोनिया, लवो जिमा, फिजी और यहां तक कि जापान के अपेक्षाकृत उदासीन समुद्र (उनके स्थानीय आवास स्थान से हजारों मील दूर) में भी पाए गए हैं। 2008 के दशक के अंत /2009 के दशक के प्रारंभ में फ्रेजर द्वीप की नदी प्रणाली में कई वन्य खारे पानी के मगरमच्छ पाए गए, इन्हें इनकी सामान्य क्वीन्सलैंड रेंज से हजारों किलोमीटर दूर अधिक ठन्डे पानी में पाया गया। ऐसा पाया गया कि वास्तव में ये मगरमच्छ गर्म और नम मौसम के दौरान उत्तरी क्वीन्सलैंड से अप्रवास कर के दक्षिण में आ जाते थे और संभवतया तापमान गिरने पर फिर से उत्तर को लौट आते थे। फ्रेजर द्वीप की जनता में आश्चर्य के बावजूद, यह ज़ाहिर तौर पर कोई नया व्यवहार नहीं है और इससे पहले भी कई बार ऐसा पाया गया है कि वन्य मगरमच्छ गर्म नम मौसम के दौरान दक्षिण में जैसे ब्रिसबेन तक आ गए हों.

आवास[संपादित करें]

खारे पानी का मगरमच्छ ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी क्षेत्र में कोरोबोरे में धूप सेंकते हुए.

खारे पानी के मगरमच्छ आमतौर पर उष्णकटिबंधीय नम मौसम के दौरान दलदल और ताजे पानी की नदियों में पाए जाते हैं और शुष्क मौसम में नीचे की ओर ज्वारनदमुख की तरफ चले जाते हैं, कभी कभी बहुत दूर तक यात्रा करते हुए समुद्र के बाहर तक भी आ जाते हैं। मगरमच्छ को विशेष रूप से सबसे उपयुक्त ताजे पानी की नदियों में जगह पाने के लिए प्रभावी नर जीवों के साथ, खूब प्रतिस्पर्धा करनी पड़ती है। इस प्रकार से छोटे मगरमच्छ सीमांत नदी प्रणालियों और कभी कभी समुद्र में जाने कि लिए मजबूर हो जाते हैं। यह तथ्य इस जानवर के व्यापक वितरण को स्पष्ट करता है (यह भारत के पूर्वी तट से लेकर उत्तरी ऑस्ट्रेलिया तक पाया जाता है). साथ ही कभी कभी इसका अजीब स्थानों में पाया जाना भी इससे स्पष्ट हो जाता है (जैसे जापान के समुद्र में). खारे पानी के मगरमच्छ छोटे समूहों में तैरते हैं,15 से 18 मील प्रति घंटा (6.7 से 8.0 मी/सेक) लेकिन जब बड़े समूह में तैरने लगते हैं 2 से 3 मील/घंटा (0.9 से 1.3 मी/सेक)

आहार और व्यवहार[संपादित करें]

ककादु राष्ट्रीय उद्यान से तैरने के कोई संकेत नहीं.

खारे पानी का मगरमच्छ एक अवसरवादी शीर्ष शिकारी है जो इसके क्षेत्र में प्रवेश करने वाले लगभग किसी भी जानवर का शिकार कर सकता है, चाहे वह पानी में हो या शुष्क भूमि पर. वे इनके क्षेत्र में प्रवेश करने वाले मनुष्यों पर भी हमला करने के लिए जाने जाते हैं। किशोर जीवों को छोटे जानवरों का शिकार करने की मनाही होती है जैसे कीट, उभयचर, केंकड़े, छोटे सरीसृप और मछली.जैसे जैसे जानवर बड़ा होता जाता है, इसके आहार में कई प्रकार के जानवर शामिल होते जाते हैं, हालांकि अपेक्षाकृत छोटे आकार के शिकार भी एक व्यस्क के आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा बनाते हैं। बड़े आकार के व्यस्क खारे पानी के मगरमच्छ अपनी रेंज में आने वाले किसी भी जानवर को खा सकते हैं, इसमें बन्दर, कंगारू, जंगली सूअर, डिंगो (एक प्रकार का कुत्ता), गोआना, पक्षी, घरेलू पशु, पालतू जानवर, मनुष्य, पानी की भैंस, गौर, चमगादड़ और यहां तक कि शार्क भी शामिल है।[20][21][11][22] घरेलू पशु, घोड़े, पानी की भैंस और गौर, वे सभी जिनका वजन एक टन से भी अधिक होता है, वे नर मगरमच्छ के द्वारा किये जाने वाले सबसे बड़े शिकार माने जाते हैं। आम तौर पर ये बहुत सुस्त होते हैं- यह एक ऐसी विशेषता है जिसकी वजह से ये कई महीनों तक भोजन के बिना जीवित रह सकते हैं- ये अक्सर पानी में मटरगश्ती करते हैं और दिन में धूप सेंकते हैं और रात में शिकार करना पसंद करते हैं। खारे पानी के मगरमच्छ जब पानी से हमला करते हैं तब विस्फोटक गति से आगे बढ़ते हैं।

मगरमच्छ की कहानियों को भूमि पर कम दूरी के लिए रेस के घोड़े की तुलना में अधिक जाना जाता है, ये शहरी कहानियों से कुछ बढ़कर हैं। पानी के किनारे पर, तथापि, वे दोनों पैरों और पूंछ से प्रणोदन गठजोड़ कर सकते हैं, इसका प्रत्यक्ष दर्शन दुर्लभ है।

हमला करने से पहले यह आमतौर पर इन्तजार करता है कि शिकार पानी के किनारे पर आ जाये, इसके बाद यह अपनी पूरी क्षमता से जानवर को पानी में खींच लेता है। ज्यादातर शिकार किये जाने वाले जानवरों को मगरमच्छ के जबड़े के दबाव से ही मार दिया जाता है, हालांकि कुछ जानवर संयोग से डूब जाते हैं। यह एक शक्तिशाली जानवर है, यह एक पूर्ण विकसित पानी की भैंस को नदी में घसीट सकता है, या पूर्ण विकसित बोविड को अपने जबड़ों से कुचल सकता है। इसकी शिकार की प्ररुपिओक तकनीक को "डेथ रोल" के रूप में जाना जाता है: यह जानवर को जकड का पूरी क्षमता के साथ रोल कर देता है। इससे किसी भी संघर्षरत जानवर का संतुलन बिगड़ जाता है, जिससे इसे पानी में खींचना आसान हो जाता है। "डेथ रोल" तकनीक का उपयोग एक मृत जानवर को फाड़ने के लिए भी किया जाता है।

खारे पानी के शिशु मगरमच्छ छिपकली, शिकारी मछली, पक्षी और कई अन्य शिकारियों का शिकार भी बन सकते हैं। किशोर अपनी रेंज के बंगाल टाइगर और तेंदुओं का भी शिकार बन सकते हैं, हालांकि यह दुर्लभ है।

होशियारी (सहजज्ञान)[संपादित करें]

एक शोधकर्ता, डॉ॰ एडम ब्रित्तन,[23] ने मगरमच्छों की होशियारी या सहजज्ञान पर अध्ययन किया है। उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई मगरमच्छों के आवाजों के संग्रह को संकलित किया है,[24] और इन्हें उनके व्यवहार के साथ सम्बंधित किया है।

उनके अनुसार मगरमच्छ के मस्तिष्क का आकार स्तनधारियों की तुलना में काफी छोटा होता है (खारे पानी के मगरमच्छ में शरीर के भार का सिर्फ 0.05%), वे बहुत कम शर्तों के साथ बहुत मुश्किल काम को भी सीख सकते हैं। उन्होंने यह भी निष्कर्ष निकाला है कि मगरमच्छ की आवाज में भाषा की गहन क्षमता निहित है। जबकि वर्तमान में इस क्षमता को इतना अधिक स्वीकार नहीं किया गया है। उनका सुझाव है कि खारे पानी के मगरमच्छ चालाक जानवर हैं, जो प्रयोगशाला चूहों की तुलना में अधिक तेजी से सीख सकते हैं। वे मौसम में परिवर्तन के साथ अपने शिकार के अप्रवासी मार्ग का पता लगाना भी सीख लेते हैं।

मनुष्यों पर हमले[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया के बाहर हमलों के आंकड़े सीमित हैं। ऑस्ट्रेलिया में हमले दुर्लभ हैं और जब कभी ये हमले होते हैं, तो राष्ट्रीय समाचार प्रकाशनों में दिखाई देते हैं। देश में हर साल लगभग एक या दो घातक हमले दर्ज किये जाते हैं।[25] छोटे स्तर के हमले संभवतया ऑस्ट्रेलिया में वन्यजीव अधिकारीयों के द्वारा किये जाने वाले गहन प्रयासों के कारण होते हैं, जब वे कई जोखिम युक्त नदमुखों, नदियों, झीलों और समुद्र के किनारों पर चेतावनी के संकेत लगाने का काम कर रहे होते हैं। आर्न्हेम भूमि के बड़े आदिवासी समुदायों पर होने वाले हमले दर्ज ही नहीं किये जाते.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

हाल ही में बोर्नियो,[26] सुमात्रा,[27] पूर्वी भारत (अंडमान द्वीप समूह)[28][29] और म्यांमार में हमले हुए हैं,[30] जिनका अधिक प्रचार नहीं हुआ।

19 फ़रवरी 1945 को रामरी द्वीप की लड़ाई में जब जापानी सैनिक लौट रहे थे, उस समय खारे पानी के मगरमच्छों ने उन पर हमला किया और इसमें 400 जापानी सैनिकों की मौत हो गयी। ब्रिटिश सैनिकों ने उस दलदल को घेर लिया, जहां से जापानी लौट रहे थे, एक रात के लिए जापानियों को उस मैंग्रोव में रुकना पड़ा, जहां हजारों की संख्या में खारे पानी के मगरमच्छ रहते थे।

रामरी के मगरमच्छ के इस हमले को गिनीज़ बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया है, इसका शीर्षक है "द ग्रेटेस्ट डिसास्टर सफर्ड फ्रॉम एनिमल्स".[31]

यह भी देखें[संपादित करें]

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. Guggisberg, C.A.W. (1972). Crocodiles: Their Natural History, Folklore, and Conservation. प॰ 195. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0715352725. 
  2. 'Crocodylus porosus' (Schneider, 1801), मगरमच्छ की प्रजाति की सूची से एडम ब्रित्तन के द्वारा
  3. "Crocodilian Species - Australian Saltwater Crocodile (Crocodylus porosus)". Flmnh.ufl.edu. http://www.flmnh.ufl.edu/cnhc/csp_cpor.htm. अभिगमन तिथि: 2010-12-26. 
  4. "Saltwater Crocodile". Australianfauna.com. http://www.australianfauna.com/saltwatercrocodile.php. अभिगमन तिथि: 2010-08-18. 
  5. वुड, दी गिनीज बुक ऑफ एनीमल फेक्ट्स एंड फीस्ट्स. स्टर्लिंग पब सह (1983) इंक, आई एस बी एन 978-0-85112-235-9
  6. "Crocodilian Species - Australian Saltwater Crocodile (Crocodylus porosus)". Flmnh.ufl.edu. http://www.flmnh.ufl.edu/cnhc/csp_cpor.htm. अभिगमन तिथि: 2010-12-26. 
  7. http://www.answers.com/topic/saltwater-crocodile-1
  8. "Saltwater Crocodiles, Saltwater Crocodile Pictures, Saltwater Crocodile Facts - National Geographic". Animals.nationalgeographic.com. http://animals.nationalgeographic.com/animals/reptiles/saltwater-crocodile.html. अभिगमन तिथि: 2010-08-18. 
  9. Which is the largest species of crocodile?
  10. Guinness: India Park Home to World's Largest Crocodile; 23 Feet
  11. Seven-metre maneating crocodile shot dead, डेली टेलीग्राफ.
  12. World's Largest Reptile Found in India: Giant estuarine crocodile finds place in Guinness World Records
  13. NORMANTON - Home of largest Crocodile ever shot!
  14. Krys the crocodile, Normanton, Queensland
  15. http://animals.nationalgeographic.com/animals/reptiles/saltwater-crocodile.html
  16. Warm, fuzzy, weird, funny: The Museum(s) of Natural History spin some tall tales, एल्विन पोवेल, हार्वर्ड गजेट.
  17. Saltwater Crocodile नेशनल ज्योग्राफिक पर
  18. Hiremath, K.G.. Recent advances in environmental science. Discovery Publishing House, 2003. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8171416799, 9788171416790. 
  19. "Crocodile kills man in wildlife sanctuary - World news - World environment - msnbc.com". MSNBC. 2008-04-20. http://www.msnbc.msn.com/id/24226179/. अभिगमन तिथि: 2010-08-18. 
  20. No Bull: Saltwater Crocodile Eats Shark
  21. photograph of crocodile eating a shark
  22. Mother's tug-of-war with child-eating crocodile
  23. Big Gecko
  24. "Crocodile Talk"
  25. Crocodile Attack in Australia: An Analysis of Its Incidence and Review of the Pathology and Management of Crocodilian Attacks in General
  26. "Search - Global Edition - The New York Times". International Herald Tribune. 2009-03-29. Archived from the original on 2007-04-29. http://web.archive.org/web/20070429022201/http://www.iht.com/articles/ap/2007/04/25/asia/AS-GEN-Malaysia-Crocodile-Attacks.php. अभिगमन तिथि: 2010-08-18. 
  27. Telegraph.co.uk "Woman saves daughter from crocodile"
  28. Kalinga Times "Two injured in crocodile attack"
  29. MSNBC TODAY "Croc kills woman 4 years after her sister’s death"
  30. "Search - Global Edition - The New York Times". International Herald Tribune. 2009-03-29. Archived from the original on 2008-05-17. http://web.archive.org/web/20080517023623/http://www.iht.com/articles/ap/2008/04/20/asia/AS-GEN-Myanmar-Crocodile.php. अभिगमन तिथि: 2010-08-18. 
  31. "Massacre by Crocodiles on Ramree Island - Wild world - Nature, conservation and wildlife holidays". Iberianature.com. 1945-02-19. http://iberianature.com/wildworld/tag/massacre-by-crocodiles-on-ramree-island/. अभिगमन तिथि: 2010-08-18. 

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक[संपादित करें]