क्राइस्ट द रिडीमर (प्रतिमा)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
क्राइस्ट द रिडीमर
क्राइस्ट द रिडीमर
निकटतम शहर रियो डि जेनेरो, ब्राज़ील
निर्देशांक 22°57′6″S 43°12′39″W / 22.95167°S 43.21083°W / -22.95167; -43.21083Erioll world.svgनिर्देशांक: 22°57′6″S 43°12′39″W / 22.95167°S 43.21083°W / -22.95167; -43.21083
स्थापित Dedicated October 12, 1931
Consecrated October 12, 2006
New Seven Wonders of the World July 7, 2007

क्राइस्ट द रिडीमर (पुर्तगाली : Cristo Redentor) ब्राज़ील के रियो डी जेनेरो में स्थापित ईसा मसीह की एक प्रतिमा है जिसे दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा आर्ट डेको स्टैच्यू माना जाता है। [1] [2] यह प्रतिमा अपने 9.5 मीटर (31 फीट) आधार सहित 39.6 मीटर (130 फ़ुट) लंबी और 30 मीटर (98 फ़ुट) चौड़ी है। इसका वजन 635 टन (700 शॉर्ट टन) है और तिजुका फोरेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है700 मीटर (2,300 फ़ुट) जहाँ से पूरा शहर दिखाई पड़ता है। यह दुनिया में अपनी तरह की सबसे ऊँची मूर्तियों में से एक है (बोलीविया के कोचाबम्बा में स्थित क्राइस्टो डी ला कोनकोर्डिया की प्रतिमा इससे थोड़ी अधिक ऊँची है)। ईसाई धर्म के एक प्रतीक के रूप में यह प्रतिमा रियो और ब्राजील की एक पहचान बन गयी है। [3] यह मजबूत कांक्रीट और सोपस्टोन से बनी है, इसका निर्माण 1922 और 1931 के बीच किया गया था। [1][4][5]

इतिहास[संपादित करें]

हेलिकॉप्टर से देखी गयी प्रतिमा का एक दृश्य

कोर्कोवाडो की चोटी पर एक विशाल प्रतिमा खड़ी करने का विचार पहली बार 1850 के दशक के मध्य में सुझाया गया था जब कैथोलिक पादरी पेड्रो मारिया बॉस ने राजकुमारी ईसाबेल से एक विशाल धार्मिक स्मारक बनाने के लिए धन देने का आग्रह किया था। राजकुमारी ईसाबेल ने इस विचार पर अधिक ध्यान नहीं दिया और ब्राजील के एक गणतंत्र बन जाने के बाद 1889 में इसे खारिज कर दिया गया, जिसके क़ानून में चर्च और राज्य को अलग-अलग रखने की अनिवार्यता थी। [6] पर्वत पर एक अभूतपूर्व प्रतिमा स्थापित करने का दूसरा प्रस्ताव रियो के कैथोलिक सर्कल द्वारा 1921 में लाया गया। [7] इस समूह ने प्रतिमा के निर्माण के समर्थन में दान राशि और हस्ताक्षर जुटाने के लिए सेमाना डू मोनुमेंटो ("मोनुमेंट वीक") नामक एक कार्यक्रम का आयोजन किया। दान ज्यादातर ब्राजील के कैथोलिक समुदाय से आए। [1] "ईसा मसीह की प्रतिमा" के लिए चुने गए डिजाइनों में ईसाई क्रॉस का एक प्रतिनिधित्व, अपने हाथ में पृथ्वी को लिए ईसा मसीह की एक मूर्ति और विश्व का प्रतीक एक चबूतरा शामिल था। [8] खुली बाहों के साथ क्राइस्ट द रिडीमर की प्रतिमा को चुना गया। यह शांति का एक प्रतीक भी है। पक्षियों के इस पर बैठने से रोकने के लिए प्रतिमा के शीर्ष पर छोटी-छोटी कीलें भी लगाई गयी हैं।

पीछे की ओर से प्रतिमा का नजारा

स्थानीय इंजीनियर हीटर डा सिल्वा कोस्टा ने प्रतिमा को रूपांकित किया; प्रतिमा का ढांचा फ्रांसीसी मूर्तिकार पॉल लैंडोव्स्की द्वारा तैयार किया गया। [1][9] इंजीनियरों और तकनीशियनों के एक समूह ने लैंडोव्स्की द्वारा की गयी प्रस्तुतियों का अध्ययन किया और फौलाद की बजाय संरचना को सुदृढ़ कांक्रीट से (अलबर्ट कैकोट द्वारा रूपांकित किया गया) तैयार करने का निर्णय लिया गया, जो क्रॉस के स्वरूप की प्रतिमा के लिए अधिक उपयुक्त था। [6] बाहरी परतें सोपस्टोन की हैं जिसे इसके चिरस्थाई गुणों और इस्तेमाल में आसानी के कारण चुना गया था। [4] निर्माण में 1922 से 1931 तक नौ साल लग गए और इसकी लागत 250,000 अमेरिकी डॉलर के समकक्ष (2009 में लगभग 3.5 मिलियन अमेरिकी डॉलर) थी। स्मारक को 12 अक्टूबर 1931 को खोला गया था। [4][5] प्रतिमा को शॉर्टवेव रेडियो के अग्रणी गुग्लियेल्मो मार्कोनी5,700 मील (9,200 किमी) द्वारा रिमोट के जरिये रोम[7] से दूर स्थित फ्लडलाइटों की बैटरी द्वारा प्रकाशित किया जाना था लेकिन खराब मौसम ने सिगनल को प्रभावित किया और इसे रियो में ही कर्मियों द्वारा प्रकाशित किया गया। [6]

अक्टूबर 2006 में प्रतिमा की 75वीं सालगिरह के अवसर पर रियो कार्डिनल यूसेबियो ऑस्कर शील्ड के आर्कबिशप ने प्रतिमा के नीचे एक चैपल (ब्राजील के संरक्षक संत--नोस्सा सेन्होरा एपारेसिडा या "अवर लेडी ऑफ द एप्पारिशन" के नाम पर) की स्थापना की। यह कैथोलिक धर्म के लोगों को वहाँ नामकरण और शादियों का आयोजन करने की अनुमति देता है। [5]

10 फ़रवरी 2008, रविवार को एक प्रचंड बिजली के तूफ़ान के दौरान प्रतिमा पर बिजली गिरने से इसकी उंगलियों, सिर और भौहों को कुछ नुकसान पहुँचा था। सोपस्टोन की कुछ बाहरी परतों को बदलने और प्रतिमा पर लगायी गयी बिजली की छड़ों की मरम्मत के लिये रियो डी जेनेरो की राज्य सरकार और आर्कडायोसीज द्वारा एक जीर्णोद्धार का प्रयास किया गया। [10][11][12]

15 अप्रैल 2010 को प्रतिमा के सिर और दाहिने हाथ पर भित्ति चित्र (ग्राफीती) का स्प्रे कर दिया गया। मेयर एडुआर्डो पेस ने इस कार्य को "राष्ट्र के विरुद्ध एक अपराध" करार दिया और इन असभ्य लोगों को जेल भेजने की कसम खाई और यहाँ तक कि इनकी गिरफ़्तारी का कारण बनने वाली किसी भी सूचना के लिये 10,000 रोमन डॉलर (R$) के ईनाम की पेशकश कर दी। [13][14] मिलिट्री पुलिस ने अंततः इस बर्बरतापूर्ण कार्य के लिये संदिग्ध के रूप में हाउस पेंटर पाउलो सूजा डोस सैन्टोस की पहचान की।

दुनिया के नये सात अजूबे[संपादित करें]

7 जुलाई 2007 को स्विटजर्लैड-स्थित द न्यू ओपन वर्ल्ड कारपोरेशन द्वारा बनायी गयी एक सूची में क्राइस्ट द रिडीमर को दुनिया के नये सात अजूबों में से एक का नाम दिया गया। [15] बैंको ब्राडेस्को और रेडे ग्लोबो सहित प्रमुख कॉरपोरेट प्रायोजकों ने प्रतिमा को शीर्ष सात में चुने जाने के लिये पैरवी की। [16]

जीर्णोद्धार[संपादित करें]

वर्ष 2009 में आईपीएचएन (IPHAN) के नेशनल हेरिटेज इन्स्टिट्यूट द्वारा संरक्षित स्मारक घोषित किये गये क्राइस्ट द रिडीमर स्मारक का जीर्णोद्धार कार्य 1980 में पोप जॉन पॉल द्वितीय के आगमन से पहले पूरा किया गया।

इससे आगे का जीर्णोद्धार कार्य 1990 में रियो डी जेनेरो के आर्कडायोसीज, मीडिया कंपनी रेडे ग्लोबो, तेल कंपनी शेल डो ब्रासील, पर्यावरण नियामक आईबीएएमए (IBAMA), नेशनल हेरिटेज सेक्रेटेरियेट एसपीएचएएन (SPHAN) और रियो डी जेनेरो शहर की सरकार के बीच हुए एक समझौते के जरिये पूरा किया गया।

प्रतिमा और इसके आसपास का और अधिक कार्य 2003 में और 2010 की शुरुआत में पूरा किया गया। 2003 में प्रतिमा के आसपास प्लेटफ़ार्म तक पहुँचने की सुविधा के लिये सीढ़ियों, पैदल रास्तों और ऊँचे चबूतरों (एलिवेटर्स) के एक सेट की स्थापना की गयी।

2010 में चार-महीने का जीर्णोद्धार कार्य[17] खनन कंपनी वेल द्वारा आर्कडायोसीज की भागीदारी के साथ पूरा किया गया[कृपया उद्धरण जोड़ें] जिसमें स्वयं प्रतिमा पर ध्यान केंद्रित किया गया। प्रतिमा की आंतरिक संरचना का पुनर्निर्माण किया गया और कवक एवं अन्य सूक्ष्मजीवों की एक परत को हटाकर और छोटी-छोटी दरारों की मरम्मत कर इसकी सोपस्टोन मोजाइक की परत को फ़िर से बनाया गया। प्रतिमा के सिर और बाँहों पर लगी बिजली की छड़ों को भी दुरुस्त किया गया।

पुनर्निर्माण में एक सौ लोग शामिल हुए और पत्थरों के 60,000 से भी ज्यादा टुकड़ों का इस्तेमाल किया गया जिन्हें उसी खदान से लाया गया जहाँ से असली प्रतिमा को लाया गया था। [17] पुनर्निर्मित प्रतिमा के अनावरण के दौरान 2010 के फ़ीफ़ा विश्व कप में खेलने वाली ब्राजील की राष्ट्रीय फ़ुटबाल टीम के समर्थन में इसे हरी और पीली रोशनी से प्रकाशित किया गया। [17]

तेज हवाओं और वर्षा के कारण समय-समय पर प्रतिमा के रख-रखाव का कार्य किया जाना आवश्यक है। [18]

काल्पनिक कथाओं में चित्रण[संपादित करें]

क्राइस्ट द रिडीमर को काल्पनिक कथाओं और मीडिया की विभिन्न रचनाओं में दिखाया गया है। प्रतिमा को फ़िल्म 2012 में एक विनाशकारी दृश्य में प्रदर्शित किया गया था.इसे कई वीडियोगेमों में दिखाया गया है जैसे कि, टॉम क्लैंसी के एच.ए.डब्ल्यू.एक्स। (H.A.W.X.), ड्राइवर 2, ट्रोपिको 3, Call of Duty: Modern Warfare 2, ओएसएस 117 – लॉस्ट इन रियो, Civilization IV: Beyond the Sword और सिविलाइजेशन V। इसे जैनेट जैक्शन की "रनअवे" के वीडियो में और लैटिन ग्रुप विसिन एंड यैंडेल की "पैम पैम" के वीडियो में देखा जा सकता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • क्राइस्टो रेडेन्टोर, मैराटिया, इटली के क्राइस्ट द रिडीमर
  • वियतनाम में वुंग ताउ के क्राइस्ट (32 मीटर)
  • पुर्तगाल में क्राइस्टो-रेई: क्राइस्ट द रिडीमर की एक 28 मीटर ऊँची प्रतिकृति
  • दिल्ली की क्राइस्टो रेई: तिमोर-लेस्टे के दिल्ली में एक 27 मीटर ऊँची प्रतिमा
  • मेक्सिको के गुआनाजुआटो में सेरो डेल क्यूबिलेट: क्राइस्ट द रिडीमर द्वारा प्रेरित एक 23 मीटर ऊँची प्रतिमा
  • जैलिस्को के एजुत्ला में क्राइस्टो रेय: रियो डी जेनेरो की एक प्रतिमा से प्रेरित
  • संयुक्त राज्य अमेरिका के अर्कंसास में क्राइस्ट ऑफ द ओजार्क्स: क्राइस्ट द रिडीमर द्वारा प्रेरित एक 20 मीटर ऊँची प्रतिमा
  • क्यूबा के हवाना में क्राइस्ट ऑफ हवाना: क्राइस्ट द रिडीमर द्वारा प्रेरित एक 20 मीटर ऊँची प्रतिमा
  • एंडीज (अर्जेंटीना/चिली) में क्राइस्ट द रिडीमर
  • बोलिविया के कोचाबम्बा में क्राइस्टो डी ला कोनकोर्डिया
  • पेरू के कुज़्को में क्राइस्टो ब्लैंको
  • मैक्सिको के टेरियोन में क्राइस्टो डी लास नोआस
  • विभिन्न स्थानों पर पानी के नीचे मौजूद क्राइस्ट द एबीस
  • क्राइस्टो रेडेन्टर डेल टीडे, टेनेरिफ़े, कैनारी द्वीप, स्पेन
  • पोलैंड के स्वीबोडज़िन में पोलिश : Pomnik Chrystusa Króla, 33 मीटर (108 फ़ुट) ऊँचे और 440 टन वजन[19] के क्राइस्ट द किंग

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Christ the redeemer". TIME. 1931-10-26. http://www.time.com/time/magazine/article/0,9171,742502,00.html. अभिगमन तिथि: 2007-07-11. 
  2. "How big is Jesus?". London: Guardian.co.uk. 2010-10-28. http://www.guardian.co.uk/world/interactive/2010/oct/28/poland-jesus-christ-statue. अभिगमन तिथि: 2010-11-06. 
  3. "The new Seven Wonders of the world". Hindustan Times. 2007-07-08. http://www.hindustantimes.com/StoryPage/StoryPage.aspx?id=c7e6494a-0e6c-46b4-9982-60b6b4bf20c1&ParentID=f702d4d5-e16e-4a07-bd0a-5bebf5c9b825&MatchID1=4488&TeamID1=8&TeamID2=10&MatchType1=1&SeriesID1=1120&PrimaryID=4488&Headline=The+new+Seven+Wonders+of+the+World. अभिगमन तिथि: 2007-07-11. 
  4. "Brazil: Crocovado mountain - Statue of Christ". Travel Channel. http://travel.discovery.com/video/video.html?videoRef=c8fbe1ab8af1bb5087cbd1d996d8baf851e4672b. अभिगमन तिथि: 2007-07-07. 
  5. "Sanctuary Status for Rio landmark". BBC. 2006-10-13. http://news.bbc.co.uk/2/hi/americas/6046538.stm. अभिगमन तिथि: 2007-07-07. 
  6. "O Dia Online - Cristo Redentor". http://odia.terra.com.br/especial/outros/cristo70/historia.htm. 
  7. "Cristo Redentor - Histórico da Construção" (Portuguese में). http://www.rio.rj.gov.br/riotur/pt/atracao/?CodAtr=3912. 
  8. Victor, Duilo. "Redentor, carioca até a alma" (Portuguese में). Jornal do Brasil. http://jbonline.terra.com.br/jb/papel/cidade/2005/10/11/jorcid20051011001.html. अभिगमन तिथि: 2008-07-17. 
  9. Phillip, Martin (2007-06-29). "Vote now for Phonehenge". The Sun (London). http://www.thesun.co.uk/article/0,,2-2007270934,00.html. 
  10. "Cristo Redentor vai passar por restauração até junho (Christ the Redeemer under restoration 'til June)". Estadão. http://www.estadao.com.br/noticias/geral,cristo-redentor-vai-passar-por-restauracao-ate-junho,532383,0.htm. 
  11. Moratelli, Valmir. "Cristo Redentor, castigado por raios, passa por ampla reforma (Christ the Redeemer, punished by lightnings, go by ample refit)". Último Segundo. http://ultimosegundo.ig.com.br/brasil/2010/04/01/cristo+redentor+castigado+por+raios+passa+por+ampla+reforma+9445658.html. 
  12. ["Cristo Redentor renovado para 2010" www.obras.rj.gov.br/boletins/Boletim_Dezembro_2009.pdf ""Cristo Redentor renovado para 2010""]. Rio de Janeiro Government. 2010-Dec. "Cristo Redentor renovado para 2010" www.obras.rj.gov.br/boletins/Boletim_Dezembro_2009.pdf. 
  13. "Vandals cover Rio's Christ statue with graffiti". Reuters. 2010-04-16. http://www.reuters.com/article/idUSTRE63F49G20100416. 
  14. Tabak, Bernardo. "Estátua do Cristo Redentor é alvo de pichação". Globo. http://g1.globo.com/rio-de-janeiro/noticia/2010/04/estatua-do-cristo-amanhece-pichada.html. 
  15. "Global vote picks Seven Wonders। It was drew by Carlos Oswald, whose family still lives in Rio and apreciate a lot his work.". BBC News. 2007-07-07. http://news.bbc.co.uk/2/hi/in_depth/6281284.stm. अभिगमन तिथि: 2007-07-10. 
  16. Dwoskin, Elizabeth (2007-07-09). "Vote for Christ". Newsweek (copy). http://www.new7wonders.com/file/download/mediendb/1/id/15597/. अभिगमन तिथि: 2007-12-21. 
  17. "Brazil's Christ statue returns after renovation". BBC News. 1 July 2010. http://news.bbc.co.uk/2/hi/world/latin_america/10471781.stm. अभिगमन तिथि: 1 July 2010. 
  18. साँचा:Cite uhbubybybynews
  19. "Rio wschodu". 2009-01-29. http://przekroj.pl/cywilizacja_otworz_artykul,3984,0.html. अभिगमन तिथि: 2010-11-04. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]