हिन्दी साहित्य के इतिहास का लेखन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी के आरंभिक काल से लेकर आधुनिक व आज की भाषा में आधुनिकोत्तर काल तक साहित्य इतिहास लेखकों के शताधिक नाम गिनाये जा सकते हैं। हिन्दी साहित्य के इतिहास को शब्दबद्ध करने का प्रश्न अधिक महत्वपूर्ण था। हिन्दी साहित्य के इतिहास-लेखन का कार्य विभिन्न कालों में किसी न किसी रूप में अवश्य मिलता है।

साहित्येतिहास तो बहुत पहले से 'बाँटकर' देखा, सोचा और लिखा जाता रहा है। युगों, धाराओं और विधाओं के इतिहास तो सर्वमान्य हैं, साहित्येतिहास तो सम्प्रदायों के आधार पर लिखे गये, (जैसे निर्गुण काव्यधारा, पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल ; जम्भोजी और विश्नोई सम्प्रदाय, हीरालाल माहेश्वरी ; वल्लभसम्प्रदाय- डॉ. दीनदयालु गुप्त ; राधावल्लभ-सम्प्रदाय : सिद्धान्त और साहित्य, डॉ. विजयेन्द्र स्नातक ; श्री हितहरिवंश गोस्वामी सम्प्रदाय और साहित्य-ललित शरण गोस्वामी ; चैतन्यमत और ब्रजसाहित्य-प्रभुदयाल मीतल आदि–आदि) विभिन्न भूखण्डों और उनकी बोलियों के आधार पर लिखे गये (जैसे कि, बुन्देलखण्ड के कवियों का विवरण-गौरीशंकर द्विवेदी ; राजस्थान साहित्य की रूपरेखा -मोतीलाल मेनारिया ; राजस्थानी भाषा और साहित्य - हीरालाल माहेश्वरी ; पंजाब प्रान्तीय हिन्दी साहित्य का इतिहास - चन्द्रकान्त बाली ; हिन्दी साहित्य और बिहार - शिवपूजन सहाय ; कानपुर का हिन्दी साहित्य - नरेशचन्द्र चतुर्वेदी आदि-आदि), विशिष्ट राजदरबारों के आधार पर लिखे गये, (जैसे कि अकबरी दरबार के हिन्दी कवि - डॉ. सरयूप्रसाद अग्रवाल ; भगवन्त राम खींची और उनके मण्डल के कवि - डॉ. महेन्द्र प्रताप सिंह ; भोंसला राजदरबार के हिन्दी कवि - डॉ. कृष्ण दिवाकर आदि) यहाँ तक कि जातिगत आधार पर साहित्येतिहास लिखे गये (जैसे कि, सुकवि सरोज—सनाढ्य ब्राह्मणों का इतिहास ; गौरीशंकर द्विवेदी, ब्रह्मभट्ट कवि सरोज—ब्रह्मभट्ट कवियों की विवेचना आदि) ।[1]

आरंभिक काल[संपादित करें]

आरंभिक काल में मात्र कवियों के सूची संग्रह को इतिहास रूप में प्रस्तुत कर दिया गया। भक्तमाल आदि ग्रन्थों में यदि भक्त कवियों का विवरण दिया भी गया तो धार्मिक दृष्टिकोण तथा श्रद्धातिरेक की अभिव्यक्ति के अतिरिक्त उसकी और कुछ उपलब्धि नहीं रही। 19वीं सदी में ही हिन्दी भाषा और साहित्य दोनों के विकास की रूपरेखा स्पष्ट करने के प्रयास होने लगे। प्रारंभ में निबंधों में भाषा और साहित्य का मूल्यांकन किया गया जिसे एक अर्थ में साहित्य के इतिहास की प्रस्तुति के रूप में भी स्वीकार किया गया। डॉ॰ रूपचंद पारीक, गार्सा-द-तासी के ग्रन्थ इस्त्वार द ल लितरेत्यूर ऐन्दूई ऐन्दूस्तानी को हिन्दी साहित्य का प्रथम इतिहास मानते हैं। उन्होंने लिखा है - हिन्दी साहित्य का पहला इतिहास लेखक गार्सा-द-तासी हैं, इसमें संदेह नहीं है। परंतु डॉ॰ किशोरीलाल गुप्त का मंतव्य है- तासी ने अपने ग्रन्थ को 'हिन्दुई और हिन्दुस्तानी साहित्य का इतिहास' कहा है, पर यह इतिहास नहीं हैं, क्योंकि इसमें न तो कवियों का विवरण काल क्रमानुसार दिया गया है, न काल विभाग किया गया है और अब काल विभाग ही नहीं है तो प्रवृत्ति निरूपण की आशा ही कैसे की जा सकती है।

वैसे तासी और सरोज को हिन्दी साहित्य का प्रथम और द्वितीय इतिहास मानने वालों की संख्या अल्प नहीं है परंतु डॉ॰ गुप्त का विचार है कि ग्रियर्सन का द माडर्न वर्नाक्यूलर लिटरेचर ऑफ हिन्दुस्तान हिन्दी साहित्य का प्रथम इतिहास है। डॉ॰ रामकुमार वर्मा ने इसके विपरीत अनुसंधानात्मक प्रवृत्ति की दृष्टि से तासी के प्रयास को अधिक महत्वपूर्ण निरूपित किया है।

पाश्चात्य और प्राच्य विद्वानों ने हिन्दी के इतिहास लेखन के आरंभिक काल में प्रशंसनीय भूमिका निभाई है। शिवसिंह सरोज साहित्य इतिहास लेखन के अनन्य सूत्र हैं। हिन्दी के वे पहले विद्वान हैं जिन्होंने हिन्दी साहित्य की परंपरा के सातत्य पर समदृष्टि डाली है। अनन्तर मिश्र बंधुओं ने साहित्यिक इतिहास तथा राजनीतिक परिस्थितियों के पारस्परिक संबंधों का दर्शन कराया। डॉ॰ सुमन राजे के शब्दों में - काल विभाजन की दृष्टि से भी मिश्रबंधु विनोद प्रगति की दिशा में बढ़ता दिखाई देता है।

नया युग[संपादित करें]

आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने हिन्दी साहित्य का प्रथम व्यवस्थित इतिहास लिखकर एक नये युग का समारंभ किया। उन्होंने लोकमंगल व लोक-धर्म की कसौटी पर कवियों और कवि-कर्म की परख की और लोक चेतना की दृष्टि से उनके साहित्यिक अवदान की समीक्षा की। यहीं से काल विभाजन और साहित्य इतिहास के नामकरण की सुदृढ़ परंपरा का आरंभ हुआ। इस युग में डॉ॰ श्याम सुन्दर दास, रमाशंकर शुक्ल 'रसाल', सूर्यकांत शास्त्री, अयोध्या सिंह उपाध्याय, डॉ॰ रामकुमार वर्मा, राजनाथ शर्मा प्रभृति विद्वानों ने हिन्दी साहित्य के इतिहास विषयक ग्रन्थों का प्रणयन कर स्तुत्य योगदान दिया। आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने शुक्ल युग के इतिहास लेखन के अभावों का गहराई से अध्ययन किया और हिन्दी साहित्य की भूमिका (1940 ई.), हिन्दी साहित्य का आदिकाल (1952 ई.) और हिन्दी साहित्य; उद्भव और विकास (1955 ई.) आदि ग्रन्थ लिखकर उस अभाव की पूर्ति की। काल विभाजन में उन्होंने कोई विशेष परिवर्तन नहीं किया। शैली की समग्रता उनकी अलग विशेषता है।

आधुनिक काल[संपादित करें]

वर्तमान युग में आचार्य द्विवेदी के अतिरिक्त साहित्येतिहास लेखन में अन्य प्रयास भी हुए परंतु इस दिशा में विकास को अपेक्षित गति नहीं मिल पाई। वैसे डॉ॰ गणपति चंद्र गुप्त, डॉ॰ रामखेलावन पांडेय के अतिरिक्त डॉ॰ लक्ष्मी सागर वार्ष्णेय, डॉ॰ कृष्णलाल, भोलानाथ तथा डॉ॰ शिवकुमार की कृतियों के अतिरिक्त काशी नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी द्वारा प्रकाशित हिन्दी साहित्य का इतिहास एवं डॉ नगेन्द्र के संपादन में प्रकाशित हिन्दी साहित्य का इतिहास आधुनिक युग की उल्लेखनीय उपलब्धियाँ हैं। हरमहेन्द्र सिंह बेदी ने भी हिन्दी साहित्येतिहास दर्शन की भूमिका लिखकर साहित्य के इतिहास और उसके प्रति दार्शनिक दृष्टि को नये ढंग से रेखांकित किया है।

हिन्दी साहित्य के इतिहासकार और उनके ग्रन्थ[संपादित करें]

हिन्दी साहित्य के मुख्य इतिहासकार और उनके ग्रन्थ निम्नानुसार हैं -

1. गार्सा द तासी : इस्तवार द ला लितेरात्यूर ऐंदुई ऐंदुस्तानी (फ्रेंच भाषा में; फ्रेंच विद्वान, हिन्दी साहित्य के पहले इतिहासकार)

2. शिवसिंह सेंगर : शिव सिंह सरोज

3. जार्ज ग्रियर्सन : द मॉडर्न वर्नाक्यूलर लिट्रेचर ऑफ हिंदोस्तान

4. मिश्र बंधु : मिश्र बंधु विनोद

5. रामचंद्र शुक्ल : हिन्दी साहित्य का इतिहास

6. हजारी प्रसाद द्विवेदी : हिन्दी साहित्य की भूमिका; हिन्दी साहित्य का आदिकाल; हिन्दी साहित्य :उद्भव और विकास

7. रामकुमार वर्मा : हिन्दी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास

8. डॉ धीरेन्द्र वर्मा : हिन्दी साहित्य

9. डॉ नगेन्द्र : हिन्दी साहित्य का इतिहास; हिन्दी वाङ्मय २०वीं शती

10. रामस्वरूप चतुर्वेदी : हिन्दी साहित्य और संवेदना का विकास, लोकभारती प्रकाशन, इलाहाबाद, 1986

11. बच्चन सिंह : हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास, राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली।

विस्तृत सूची नीचे दी गयी है-[2]

क्रमांक लेखक इतिहास ग्रन्थ एवं प्रकाशक प्रकाशन वर्ष
1 गार्सा-द-तासी इस्त्वार द ला लितरेत्यूर ऐन्दुई ऐन्दुस्तानी दो भागों में ; 1839 ई० व 1847 ई०
2 मौलवी करीमुद्दीन तबका तश्शुअहा में तजकिरान्ई जुअहा- ई हिंदी
3 शिवसिंह सेंगर शिवसिंह सरोज १८७८ ई
4 जार्ज ग्रियर्सन द माडर्न वर्नाक्यूलर लिटरेचर ऑफ हिन्दुस्तान १८८८ ई
5 मिश्र बन्धु मिश्रबंधु-विनोद प्रथम तीन भाग-1913 ई, चतुर्थ भाग-1934 ई
एडविन ग्रीव्स (1854-1941 ई०) ए स्केच ऑफ हिन्दी लिटरेचर
(हिन्दी साहित्य का संक्षिप्त इतिहास)
1918 ई०
एफ० ई० के० (1879-1974 ई०) ए हिस्ट्री ऑफ हिन्दी लिटरेचर
(हिन्दी साहित्य का परिचय मात्र )
1920 ई०
6 आचार्य रामचन्द्र शुक्ल हिंदी साहित्य का इतिहास १९२९ ; संवर्धित संस्करण १९४० ई
7 डा. रामकुमार वर्मा हिंदी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास
8 बाबू श्यामसुन्दर दास हिंदी भाषा और साहित्य
9 आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी हिंदी साहित्य की भूमिका
हिंदी साहित्य का आदिकाल
हिंदी साहित्य का उद्भव और विकास
1940 ई०,
1952 ई०,
1953 ई०
10 डा. धीरेन्द्र वर्मा हिंदी साहित्य
11 डा. गणपतिचन्द्र गुप्त हिंदी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास
राममूर्ति त्रिपाठी (1929-2009 ई०) हिंदी साहित्य का इतिहास
12 डा. नगेन्द्र हिन्दी साहित्य का इतिहास, रीतिकाव्य की भूमिका
13 डा. बच्चन सिंह हिंदी साहित्य का नवीन इतिहास 1996
14 डा. भोला नाथ तिवारी हिंदी साहित्य
15 विश्वनाथप्रसाद मिश्र हिंदी साहित्य का अतीत
16 परशुराम चतुर्वेदी उत्तरी भारत की संत परम्परा
17 प्रभुदयाल मीतल चैतन्य सम्प्रदाय और उसका साहित्य
18 डा. नलिन विलोचन शर्मा हिंदी साहित्य का इतिहास दर्शन
19 डा. मोतीलाल मेंनारिया राजस्थानी पिंगल साहित्य, राजस्थानी भाषा और साहित्य
20 कृपाशंकर शुक्ल आधुनिक हिंदी साहित्य का इतिहास
21 पं. राम नरेश त्रिपाठी कविता कौमुदी (दो भाग )
22 सूर्यकान्त शास्त्री हिंदी साहित्य का विवेचनात्मक इतिहास
23 पं. महेश दत्त शुक्ल हिंदी काव्य संग्रह
24 डा. टीकम सिंह तोमर हिंदी वीर काव्य
25 आचार्य चतुरसेन हिंदी साहित्य का इतिहास
26 डा. रामस्वरुप चतुर्वेदी हिन्दी साहित्य और संवेदना का इतिहास
27 डा. भगीरथ मिश्र हिंदी काव्य शास्त्र का इतिहास
28 डा. रामखेलावन पाण्डेय हिंदी साहित्य का नया इतिहास
29 डा. विजयेन्द्र स्नातक राधावल्लभ सम्प्रदाय – सिद्धान्त और साहित्य
30 पदुमलाल पुन्ना लाल बख्शी हिंदी साहित्य विमर्श
31 आयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' हिंदी भाषा और उसके साहित्य का इतिहास
32 डा. विश्वनाथ त्रिपाठी हिंदी साहित्य का संक्षिप्त इतिहास
33 नागरी प्रचारिणी सभा, काशी हिंदी साहित्य का बृहत् इतिहास १९५७ से १९८४ तक
34 सुमन राजे हिन्दी साहित्य का आधा इतिहास २००३

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. [हिन्दी साहित्य का आधा इतिहास ; सुमन राजे]
  2. साहित्येतिहास

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]