सिरोंज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह स्थान विदिशा से ५० मील की दूरी पर एक तहसील है। मध्यकाल में इस स्थान का विशेष महत्व था। कई इमारतें व उनसे जुड़ी ऐतिहासिक घटनाएँ इस बात का प्रमाण है। सिरोंज के दक्षिण में स्थित पहाड़ी पर एक प्राचीन मंदिर है। इसे उषा का मंदिर कहा जाता है। इसी नाम के कारण कुछ लोग इसे बाणासुर की राजधानी श्रोणित नगर के नाम से जानते थे। संभवतः यही शब्द बिगड़कर कालांतर में "सिरोंज' हो गया। नगर के बीच में पहले एक बड़ी हवेली हुआ करती थी, जो अब ध्वस्त हो चुकी है, इसे रावजी की हवेली के नाम से जाना जाता है। इसका निर्माण संभवतः मराठा- अधिपत्य के बाद ही हुआ होगा। ऐसी मान्यता है कि यह मल्हाराव होल्कर के प्रतिनिधि का आवास था।

सिरोंज के दक्षिण में स्थित पहाड़ी पर काले पत्थरों के ऐसे सहस्रों उद्गम है, जो जलहरी सहित शिवलिंग की भाँति दिखाई देते हैं। ऐसा संभवतः भुकंप के कारण हुआ है।

आल्हखण्ड के रचयिता जगनक भाट भी इसी स्थान से जुड़े हैं। वैसे तो उनसे संबद्ध निश्चित स्थान का पता नहीं है, परंतु यह स्थान बाजार में स्थित एक प्राचीन मंदिर के आस- पास ही कहीं होने की संभावना है, जहाँ राजमहलों के होने का भी अनुमान है।

सिरोंज कभी राजस्थान के कोटा जिला के एक शहर(तहसील) हुआ करती थी इसके बाद इसे मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में जगह मिली फिलहार सिरोंज विदिशा जिले की एक तहसील हैं।

एंटोनी मांसेराट ने अपनी यात्रा विवरण में सिरोंज नगर का जिक्र किया। यह फादर एक्कविवा के साथ लगभग 1578 ईसवी में मुगल बादशाह अकबर के दरबार में आया था। मांसेराट ने अपनी यात्रा का विवरण प्रस्तुत किया है। इसे शहजादा मुराद का शिक्षक नियुक्त किया गया था। मांसेराट के अनुसार उस समय शहजादों और शहजादियों की शिक्षा पर अधिक ध्यान दिया जाता था उसने उन शहरों के बारे में विस्तार से लिखा है जिन शहरों और मार्गो से होकर उसने यात्रा की मासेराट ने मांडू,सूरत,सिरोंज,दिल्ली,ग्वालियर,पानीपत,लाहौर समेत अन्य शहरों का विवरण दिया है।

सेमरखेड़ी[संपादित करें]

सेमरखेड़ी सिरोंज के पास स्थित है। यह संत तारण की दीक्षा स्थली है। यहाँ मंदिर दर्शनीय है।

माहेश्वरी समाज[संपादित करें]

टोंक के एक नवाब, जिसके अधिपत्य में यह क्षेत्र था, ने एक बार इस क्षेत्र का दौरा किया। उसी रात की यहाँ के माहेश्वरी सेठ की पुत्री का विवाह था। संयोग से रास्ते में डोली में से पुत्री की कीमती चप्पल गिर गई। किसी व्यक्ति ने उसे नवाब के खेमे तक पहुँचा दिया। नवाब को यह भी कहा गया कि चप्पल से भी अधिक सुंदर इसको पहनने वाली है। यह जानने के बाद नवाब द्वारा सेठ की पुत्री की माँग की गई। यह समाचार सुनते ही माहेश्वरी समाज में खलबली मच गई। नवाब को यह सूचना दे दिया गया कि प्रातः होते ही डोला दे दिया जाएगा। इससे नवाब प्रसन्न हो गया। इधर माहेश्वरियों ने रातों- रात पुत्री सहित शहर से पलायन कर दिया तथा उनके पूरे समाज में यह निर्णय लिया गया कि कोई भी माहेश्वरी में न तो इस स्थान का पानी पिएगा, न ही निवास करेगा।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]