सम्प्रीति सेतु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
सम्प्रीति सेतु
Sampreeti Bridge 02.jpg
सम्प्रीति सेतु और पुरानी जुबली ब्रिज(सामने)
निर्देशांक22°54′25″N 88°24′16″E / 22.90687°N 88.40441°E / 22.90687; 88.40441
आयुध सर्वेक्षण राष्ट्रीय ग्रिड[1]
वहनदो लेन रेल ब्रिज
पारहुगली नदी
आधिकारिक नामसम्प्रीति सेतु
अन्य नामनई जुबली ब्रिज
लक्षण
सामग्रीस्टील और कंक्रीट
कुल लम्बाई415 मीटर (1,362 फीट)
चौड़ाई12 मीटर (39 फीट)
रेल
इतिहास
निर्माण पूर्ण२०१६
खुला२०१६
सांख्यिकी
सन्दर्भ

सम्प्रीति सेतु, भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में हुगली नदी पर स्थित एक रेलवे पुल है। ११ अगस्त, वर्ष २०१६ को इस पुल का उद्घाटन किया गया था। यह गारीफ़ रेलवे स्टेशन और हुगली घाट रेलवे स्टेशन के बीच यह नैहाटी-बण्डेल शाखा लाइन पर स्थित है। इस पुल को जुबली ब्रिज के प्रतिस्थापन के रूप में बनाया गया था। यह पुल कुल ४१५ मीटर लंबा है।[1][2]

निर्माण[संपादित करें]

नई जुबली ब्रिज(सम्प्रीति सेतु) निर्माणाधीन, २०१५

वर्ष २००० में, भारत के रेल मंत्री ने इस पुल के निर्माण की परियोजना पारित की थी, परन्तु कुछ समस्याओं के कारण, इस परियोजना को २००७ में ही मंजूरी मिल सकी। तत्पश्चात निर्माण कार्य शुरू हुआ, लेकिन बहुत धीमी गति से। नतीजतन, परियोजना की लागत में तय लागत से बहुत अधिक वृद्धि हो गयी। वित्तीय समस्याओं के कारण अंत्यतः, प्राथमिक निर्माण कंपनी ने निर्माणकार्य बंद कर दिया था। इसके बाद, एक नई कंपनी ने पुल का निर्माण कार्य शुरू कर दिया। तथा वर्ष २०१६ के अंत तक इस पल का निर्माण पूरा हुआ। इस पुल को उसी वर्ष, अगस्त में शुरू कर दिया गया।[1]

पुल की विशिष्टियाँ[संपादित करें]

  • अवधि लंबाई- ३१५ मीटर (१,०३३ फीट)
  • सामग्री- कंक्रीट और स्टील
  • प्रकार-रेल ब्रिज
  • लेन- समानांतर में दो रेलवे पटरियाँ

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "সেতু দেখে মনে পড়ল ছেলেবেলা". আনন্দবাজার প্রত্রিকা. मूल से 10 जुलाई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ০২-০১-২০১৭. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. "বিকল্প তৈরির কাজ থমকেই, ছুটি পাচ্ছে না জুবিলি সেতু". আনন্দবাজার প্রত্রিকা. मूल से 11 जुलाई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ০২-০১-২০১৭. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • structure.net-सम्प्रीति सेतु की तकनीकी विशिष्ठियाँ