सदस्य:Ankur.jaimatadi/स्व समालोचना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्व समालोचना एक रस्म या कार्य है जो कि विशेष रूप से भारत के कुछ भागों में धार्मिक अनुशासन के एक रूप में अपने आप को कोडो की मार से,की जाती है। आत्म समालोचना का यह अनुष्ठान यहूदी, ईसाई, इस्लाम और हिंदू धर्म की तरह कई धर्मों द्वारा माना जाता है। स्व समालोचना यहूदी धर्म के अनुसार शारीरिक दंड का एक प्रकार है। यहूदी धर्म में कुछ कानून हैं,जैसे टोरा और रबी कानून,जिसमें कोड़ा पलकों अपराधों कि सजा है जिन्हे मौत की सजा नहीं है, और यह् पलकें आमतौर पर तीन के सेट में दिया जाता है जिसकि संख्या ३९ से अधिक नहीं हो सकती हैं।

ईसाई धर्म में समालोचना[संपादित करें]

प्रारंभिक मे ईसाइयों का मानना था कि शारीरिक तपस्या की धारणा से भगवान की पूजा में पूरी तरह से ध्यान केंद्रित कर सकते है,इस काय्र् से शरीर और भावनाओं पर नियंत्रण कीया जा सकता है।एक बार जब व्यक्ति को मार पड़ रही है और तुरंत,अगर वह और कोडो की मार सह सकता है तो आगे समालोचना जारी रखते हैं ,और नहीं तो चाबुक की संख्या में कमी कर दी जाती है। ईसाई धर्म में ,युवा पुरुषों के ऐतिहासिक रोमन त्योहार लुपरसेलिया के समय में,युवा पुरुष चमड़े की एक संकरी पट्टी के साथ (जोकि बकरियों कि चमडी से बनती हैं)सड़कों पर भागते है, और जो महिलाओं खुद अपने आपको समालोचना चाहती है, वो इन युवा पुरुषों से कोडे की मार लेती है, ज्यादातर हाथो पे। वार्षिक उत्सव डाइस सेंगनीस, के दौरान गली की बधिया पुजारी खुद की समालोचना करते हैं जब तक पुरे शरीर से खून नही बहता। ग्रीक, रोमन रहस्य धर्मों भी कभी कभी,स्व समालोचना के किस्से सुनाई देते हैं। ईसाई धर्म के अनुसार,स्व समालोचना भी मसीह की समालोचना समान है, जो मसीह यीशु के सूली पर चढ़ने की तुलना में है।

स्व समालोचना का औज़ार्

"डिसिप्लिन":स्व् समालोचना[संपादित करें]

एक हल्के तरह के स्व् समालोचना, मठवासी आदेश के सदस्यों और कैथोलिक द्वारा एक साधन "डिसिप्लिन्" के साथ अभ्यास किया जाता है। डिसिप्लिन् आमतौर पर गांठीले तार के साथ एक कैटेल कोड़ा का बना है और निजी प्रार्थना के समय में यह व्यक्तियों के कंधो पर दराज रहता हैं। पोप जॉन पॉल॥ डिसिप्लिन् नियमित रूप से लेते थे।

इस्लाम और स्व समालोचना[संपादित करें]

इनसान् परमेश्वर की स्तुति पाने के लिए खून बहा रहा है।

इस्लामी लोगों के अनुसार स्व समालोचना सजा का एक प्रकार है इस्लामी शरीयत कानून में, जो आम तौर पर एक बड़ी भीड़ के सामने किया जाता। पाकिस्तान में शिया, और भारत के कुछ भागों में मोहर्रम के जुलूस के दौरान खुद को समालोचित किया जाता है। इस तरह की सजा उन लोगों को दी जाती है जो- विवाहेतर संबंधों मे होते है, ड्रग्स और मदीरा का इस्तेमाल करते हैं, और जो लोग एक व्यक्ति की प्रतिष्ठा के खिलाफ झूठे बयान देने के गलतियाँ करते हैं । हालांकि कुछ इस्लामी विद्वानों के अनुसार स्व समालोचना के इस कृत्य इस्लामी शिक्षाओं के खिलाफ है। एक औरत के समालोचना के दौरान आमतौर पर एक हाथ के नीचे कुरान के साथ किया जाता है ताकि सजा कम से कम हो।

संदर्भ[संपादित करें]