विकिपीडिया:भाषा संबंधी कठिनाइयाँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तकनीकी प्रश्न[संपादित करें]

मैं जब भी हिंदी या संस्कृत विकिपीडिया के संपादन-बॉक्स में देवनागरी लिखना चाहता हूँ तो साथ में उसमें रोमन लिपि लिखना कठिन हो जाता है, क्योंकि रोमन लिपि के शब्द अपने सही स्वरूप में न दिखकर गार्बेज(निरर्थक आकृतियाँ) दिखते हैं। क्या ऐसी कोई विधि है जिससे दोनों लिपियाँ एडिट बॉक्स में एक साथ दिख सकें? यद्यपि नोटपैड इत्यादि एप्लीकेशनों में तो ये एक साथ दिखती ही हैं। यह भी बता देना प्रासंगिक होगा कि टाइप करते समय मैं विंडोज़ के regionalization द्वारा देवनागरी चुनकर इंस्क्रिप्ट-कीबोर्ड का प्रयोग करता हूँ। यदि आपमें से किसी के पास समाधान हो तो बताएँ। -धन्यवाद -Hemant wikikosh ०८:४७, १ जुलाई २००९ (UTC)

हेमंत जी, अगर आप इंस्क्रिप्ट-कीबोर्ड का प्रयोग कर रहे हैं तो नीचे जिस बटन से भाषा परिवर्तित करते हैं अंग्रेज़ी चुनें और एडिट बाक्स के ठीक ऊपर (और बोल्ड आदि बटनों के ठीक नीचे) बने चेक बाक्स में क्लिक कर के सही का निशान निकाल दें। पुनः हिंदी लिखने के लिए चेक बाक्स में सही का निशान लाना होगा और नीचे के बटन को हिंदी करना होगा। इससे आसान यह भी हो सकता है कि नोटपैड पर लिखकर, कॉपी करके यहाँ चिपका दिया जाय।--मुक्ता पाठक १४:४९, १ जुलाई २००९ (UTC)

मुक्ता जी उत्तर के लिए धन्यवाद। मैं मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स में कार्य कर रहा हूँ, और इसमें ऐसा कोई चेकबॉक्स नहीं दिख रहा है, समस्या यही है। आपके बताए उपाय पर जाँच करते समय मुझे पता चला कि माइक्रोसॉफ़्ट इंटरनेट एक्सप्लोरर में सब ठीक चल रहा है। चलिए मैं एडिट जैसे कार्य उसी ब्राउसर पर करके काम चला लूँगा। एक बार फिर धन्यवाद। -Hemant wikikosh ०४:४४, २ जुलाई २००९ (UTC)

हेमंत जी phonetic transliteration अभी फायरफाक्स से साथ उपलब्ध नहीं है। इन्टरनेट एक्स्प्लोरर या फिर flock उपयोग करें। मेरे ब्राउसर भी फायरफाक्स है इसलिए मैंने Baraha indic को अपने computer पर इंस्टाल कर लिया जिसके मदद से आप नोटपेड में देवनागरी में लिख सकते है और फिर उसे विकी मे पेस्ट कर सकते है। --गुंजन वर्मासंदेश ०४:५९, २ जुलाई २००९ (UTC)

हेमंत जी, फायरफाक्स के एडआन anykey का इस्तेमाल कर देखें, शायद आपकी समस्या का समाधान मिल जाए। --Charu ०८:३७, २ जुलाई २००९ (UTC)

आप की सभी समस्याओं का एक ही हल उपलब्ध है।फ्लॉक १.२.६ इसमें आपको अधिकतम विकल्प, चेक बॉक्स आदि मिलेंगे। यदि फोनेटिक ही प्रयोग करना चाहें तो इनके साथ बाराहाइंडिक इन्स्टॉल करें। चेकबॉक्स की आवश्यकता ही नहीं रहेगी। और सीधे ही ब्राउज़र में टाइप करें। --आशीष भटनागर  वार्ता  १०:००, ३ जुलाई २००९ (UTC)

धन्यवाद। ये सभी उपाय अपनी जगह ठीक हैं परंतु एक ही बॉक्स में हिंदी व अंग्रेजी एक साथ दिखना संभव नहीं दिख रहा है। जबकि माइक्रोसॉफ्ट विंडोज़ अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभा रहा है, अन्य एप्लीकेशन्स के किसी भी बॉक्स में केवल alt+shift दबाकर लिपियों के बीच स्विच किया जा सकता है, और इन सारी लिपियों के वर्ण एक साथ दिख सकते हैं, जबकि हिंदी विकि के एडिट बॉक्स में ऐसा नहीं हो पा रहा है। इस पर मैंने जो खोजबीन की है उससे पता चला कि इसी मोज़िला में तमिल, पंजाबी व अंग्रेजी विकि के एडिट बॉक्सों में उनकी खुद की लिपि व अन्य सभी यूनीकोड समर्थित लिपियाँ एक साथ लिखी व देखी जा सकती हैं (मोज़िला पर भी)। केवल हिंदी विकि के एडिट बॉक्स में कुछ ऐसा है जो अंग्रेजी नहीं दिखा पा रहा है।.....अरेरे लिखते लिखते जाँच करते हुए मेरी समस्या सुलझ गयी है। दरअसल मेरे ब्राउसर का डिफाल्ट फॉन्ट DV-TTYogesh सेट किया हुआ था, जिसे Times New Roman या Mangal कर देने से रोमन लिपि के शब्द भी साफ दिखने लगे। ऐसी समस्या अन्य किसी भाषा के विकिपीडिया पर नहीं आ रही थी जिससे पता चलता है कि हिंदी विकि के एडिट बॉक्स व अन्य भाषाओं के एडिट बॉक्स के specification में कुछ अंतर होगा। हिंदी विकिपीडिया का एडिट बॉक्स, अंग्रेजी दिखाने के लिए, ब्राउसर का डिफाल्ट फॉन्ट लेता है जबकि अन्य विकिपीडियाओं के एडिट बॉक्स अंग्रेजी के लिए फॉन्ट specify करते हैं। आप सभी का सहयोग के लिए धन्यवाद। -Hemant wikikosh १०:५६, ३ जुलाई २००९ (UTC)

सुझाव[संपादित करें]

बहुत से सदस्यों ने देखा होगा कि अंग्रेज़ी विकिपीडिया के मुखपृष्ठ से हिंदी विकिपीडिया का लिंक निकाल दिया गया है। इसका कारण यह है कि अब वहाँ प्रदर्शित होने के लिए न्यूनतम लेख संख्या ४०,००० निर्धारित की गई है, यह पहले २५,००० थी। एक सुझाव है कि हम सभी इस ओर ध्यान दें और जल्दी ४०,००० लेखों की संख्या पार करें। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि निरंतर इस ओर प्रयत्न जारी रहें ताकि वहाँ से हटने की नौबत न आए।--मुक्ता पाठक ०६:०७, ११ जुलाई २००९ (UTC)

करोड़ों लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा की विकिपीडिया की यह दशा वाकई शर्मनाक है। मैं मुक्ता जी की बात का पूरी तरह समर्थन करती हूँ एवं प्रतिदिन अधिक से अधिक नए लेख बनाने का प्रयास करूंगी।
--Munita Prasadवार्ता १३:३४, १२ जुलाई २००९ (UTC)
यह हमारे लिए बहुत ही शर्म की बात है। इस पर गंभीरता से और शीघ्रता से विचार करना ही चाहिए। कुछ न्यूनतम लक्ष्य निर्धारित किए जाने चाहिएं, कि कम से कम कुछ सक्रिय सदस्य प्रतिदिन अमुक संख्या के लेख बनायें। प्रतिदिन जैसे ५० लेख हों, तो सप्ताह के ३५० लेख हो गये। अब आवश्यक नहीं कि प्रतिदिन ५० ही हों, किंतु साप्ताहिक ३५० का लक्ष्य रखें। ऐसे यदि १० सक्रिय सदस्य हों तो सप्ताह में ३५०० लेख तैयार हो जायेंगे। और एक माह में ५ सप्ताहों में १७,५०० लेख हो जायेंगे। अरे ये तो बहुत हो गये। १०,००० ही चाहिये थे। तो इस प्रकार का लक्ष्य रखें तो १०००० तो पार हो ही जायेंगे।
लेखों की न्यूनतम पाठ सामग्री भी निर्धारित की जा सकती है। उदा० के लिए जैसे हमने पहले ईरान के शहर बनाए थे। और अकार्बनिक यौगिक, कार्बनिक यौगिक। मैंने भारतीय रेल की २००० गाड़ियों के लेख बनाये हैं। कम से कम २ वाक्य, एक श्रेणी, और इनमें न्यूनतम एक कड़ी भी हो। इस प्रकार से कोई भी लंबी संख्या के विषय उठा लें। जैसे चीन के शहर, इत्यादि। हां यह आशा रखें, कि लक्ष्य अवश्य मिलेगा। मैं भी किसी के संदेश की प्रतीक्षा ना करके अभी से शुरु हो जाता हूं।
--आशीष भटनागर  वार्ता  १२:५३, १३ जुलाई २००९ (UTC)
मुझे अभी अभी एक लेख मिला है विश्व के देशों में शहरों की सूचियाँ उसे देखकर उसके लिंक नीले किये जा सकते हैं\ इन कि नीला करने में सभी देशों के शहरों की सूचियां अंग्रेज़ी से लेकर नामोपं का हिन्दी अनुवाद किया जा सकता है।--आशीष भटनागर  वार्ता  १२:५८, १३ जुलाई २००९ (UTC)
मैं आशीष जी की बात का समर्थन करती हूँ एवं उनके द्वारा सुझाये गए लक्ष्य ५० लेख प्रतिदिन के लक्ष्य को स्वीकार करती हूँ। आज सोमवार है अगले सोमवार तक ३५० लेख बनाने का पूरा प्रयाश करूंगी। अन्य सदस्य जो हमारे विचारों से सहमत हों वे कृपया यहाँ अपने विचार रखें।

--Munita Prasadवार्ता १६:०९, १३ जुलाई २००९ (UTC)

मैने तो मुक्ता जी के उपरोक्त संदेश के बाद ही काम शुरु कर दिया था। अभी अफ्रीका में विश्व धरोहर स्थलों की सूची लेख मे कड़ीयां नीली कर रह हू। उसके बाद {{अफ़्रीकी-विषय}} पर कार्य़ जारी रखुँगा। एक और सुझाव, अगर कोई रोहित जी से संपर्क साध सकता है तो उनको भी इस स्थिती से अवगत करा दे। उन्होने बहुत ही कम समय मे बहुत सारे लेख बनाय थे। बाकी लोगो से भी मेरा नम्र निवेदन है की लेखो की संख्या बड़ाने को भी प्राथमिकता दे। धन्यवाद --गुंजन वर्मासंदेश १६:१८, १३ जुलाई २००९ (UTC)
मैंने सूची बनायी है: एशिया में शहरों की सूची। इसकी कड़ियों के पृष्ठ बनाता हूं। जिसके द्वारा बहुत से शहरों के लेख बन जायेंगे।
--आशीष भटनागर  वार्ता  ०४:०७, १४ जुलाई २००९ (UTC)
मेरे तो आज ही १४० से अधिक लेख हो गए हैं। आर्मेनिया के प्रांत एवं आर्मेनिया के शहरों की सूची। तीन दिनों का कोटा पूरा।--आशीष भटनागर  वार्ता  ०७:५८, १४ जुलाई २००९ (UTC)
इसमें कोई सन्देह नहीं है कि आशीष जी बहुत तेजी से लेख बनाने में समर्थ हैं, इसलिए आशीष जी आपका औसत हम ५० से अधिक रहने की ही उम्मीद करते हैं। आप लगे रहें जी हम सब भी अपना औसत बनाएँ रखने की पूरी कोशिस करेगें।

--Munita Prasadवार्ता ०८:५३, १४ जुलाई २००९ (UTC)

कृपया यह लिंक देखे, यहॉ से बहुत सारी सूचीयों का अनुवाद किया जा सकता है। --गुंजन वर्मासंदेश ०२:५२, १५ जुलाई २००९ (UTC)
मेरा भी सोचना है कि सूचियाँ बनाना जितना आसान है उतना ही अधिक उनमें सूचना होती है। अतः हमे उपयोगी सूचियों को ढ़ूढ़-ढ़ूढ़ कर उनका हिन्दीकरण करना चाहिये। केवल ध्यान इस बात का रखें कि इसमें भारत और हिन्दी की दृष्टि से सामग्री हो तो अच्छा है। साथ ही इनमें भारत और हिन्दी के हिसाब से कुछ जो।दना या हटाना पड़े तो उसे अवश्य करना चाहिये।

एक बात और... . अंग्रेजी विकी के मुखपृष्ट पर हिन्दी विकि का लिंक दिखे तो बहुत अच्छा है किन्तु इससे हमे विचलित हुए बिना हिन्दी विकि का विकास करना है। अधिक महत्वपूर्न यह है कि जो लेख लिखे जा रहे हैं वे अधिकाधिक लोगों के लिये उपयोगी हों। लेखों की संख्या का महत्व इसके बाद आता है।

अनुनाद सिंह ०७:१४, १५ जुलाई २००९ (UTC)

ध्वन्यात्मक रोमन-से-देवनागरी के लिए सुझाव[संपादित करें]

यह टूल अभी बीटा मे है , इसमे कई खामियां हैं जैसे आप इसमे अड्डा नहीं लिख सकते आदि। मेरा सभी को यह आमंत्रण है कि कृपया निम्न टेबल मे कमियों के बारे मे अवगत करयें व सुझाव दें , सुझावों व कमियों को देख कर कुछ दिन बाद मै टूल मे सुधार कर दूंगा --सुमित सिन्हावार्ता १८:५१, २६ जुलाई २००९ (UTC)

वांछित शब्द/अक्षर क्या वांछित शब्द/अक्षर गत
टूल से लिखा जा सकता है (हाँ /नहीं /कठिन है)
वांछित शब्द/अक्षर के लिए क्या कुञ्जी होनी चाहिए इससे क्या किसी शब्द/अक्षर पर असर पड़ेगा जानकारी देने वाले के हस्ताक्षर व टिप्पणी (कोई भी सदस्य टिप्पणी दे सकता है)
अड्डा नहीं aDDaa DD से ड़् / DDa से ड़ लिखा जाता है सुमित सिन्हावार्ता १९:१८, २६ जुलाई २००९ (UTC)
मैं विकि की ध्वन्यात्मक लिपि प्रयोग नहीं करता, इसलिए क्या समस्याएं आती हैं, कह नहीं सकता।--आशीष भटनागर  वार्ता  ०४:०८, २७ जुलाई २००९ (UTC)
मै देवनागरी लिखने के लिए गूगल transliteration टूल या फिर बारहा इंडिक पेड का उपयोग करता हूँ। फोनेटिक टूल न प्रयोग करने के दो कारण है १. यह फायरफोक्स (3.0.3) पर उपलब्ध नहीं है २. IE पर लेख सहेजने या पूर्वालोकन में firefox/chrome से ज्यादा समय लगता है। इसके आलावा मैंने इस टूल का उपयोग ज्यादा नहीं किया इसलिए शब्द संरचना के बारे में ज्यादा कुछ नहीं लिख पाऊंगा। --गुंजन वर्मासंदेश ०५:०९, २७ जुलाई २००९ (UTC)
जब से फायरफाक्स ३ आया, उस पर यह ध्वन्यात्मक सम्पादित्र नहीं चलता है (फायरफाक्स २ पर चलता था।) इसलिये अब मैं 'ट्रान्सलिटरेटर' नामक एक फायरफाक्स 'ऐड-आन' प्रयोग करता हूँ जो मुझे किसी भी टेक्स्ट विन्डो में सीधे हिन्दी लिखने की सुविधा देता है। यह एक रूसी सज्जन द्वारा विकसित 'ऐड-आन' है जिसे मैने हिन्दी के लिये भी ढ़लवा लिया।

मुझे लगता है कि अपने पुराने ध्वन्यात्मक सम्पादित्र में आवश्यक परिवर्तन कराकर उसे फायरफाक्स ३ के किये भी तैयार करना चाहिये। इससे बहुत से लोगों को लाभ होगा।

अनुनाद सिंह ०५:४३, २७ जुलाई २००९ (UTC)

ठीक है , मै इस टूल को फायरफाक्स ३ , क्रोम व अन्य के लिए तैयार करने का प्रयास करूंगा --सुमित सिन्हावार्ता १६:४१, २७ जुलाई २००९ (UTC)
बहोत पहले मैने मराठी विक्शनरीपर इस सिलसिलेमे कुछ निरिक्षण लिखे थे। शायद आपको उपयोगी सिद्ध हो।
संस्कृत विकिपीडियाककी आवश्यकतांओके लिए सदस्य हेमंत विकिकोश कि राय ले।
आपकी इस पहल के लिए धन्यवाद।

Mahitgar १४:४८, २८ जुलाई २००९ (UTC)