लोकतांत्रिक पूंजीवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

लोकतांत्रिक पूंजीवाद, जिसे कल्याण पूंजीवाद के रूप में भी जाना जाता है, एक आर्थिक प्रणाली है जो पूंजीवादी सिद्धांतों को एक मजबूत कल्याणकारी राज्य से जोड़ती है, ताकि व्यक्तिगत स्वतंत्रता की ज्यादतियों पर अंकुश लगाया जा सके। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद पूंजीवाद और लोकतंत्र (विशेष रूप से यूरोप में) सह-अस्तित्व में देखे गए थे। इस काल के अपेक्षाकृत स्थिर राजनीतिक माहौल में आधुनिक कल्याणकारी राज्य के तथ्य का समर्थन किया गया था जो सोवियत साम्यवाद के विपरीत सामाजिक लोकतंत्र के पक्ष में था[1]

यह सभी देखें[संपादित करें]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. Muller, Jerry Z. (March 2013). "Capitalism and Inequality". Foreign Affairs.

संदर्भ[संपादित करें]

  • Benne, Robert (1981), The Ethic of Democratic Capitalism: A Moral Reassessment, Philadelphia: Fortress Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8006-1445-3 Benne, Robert (1981), The Ethic of Democratic Capitalism: A Moral Reassessment, Philadelphia: Fortress Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8006-1445-3
  • J. Michael Miller, संपा॰ (1996), The Encyclicals of John Paul II, Huntington: Our Sunday Visitor
  • Prindle, David (2006), The Paradox of Democratic Capitalism: Politics and Economics in American Thought, Baltimore, MD: The Johns Hopkins University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8018-8411-X Prindle, David (2006), The Paradox of Democratic Capitalism: Politics and Economics in American Thought, Baltimore, MD: The Johns Hopkins University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8018-8411-X