रहली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रहली सागर जिला की महत्वपूर्ण तहसील और विधानसभा क्षेत्र है। कहावतों के अनुसार रहली को चौदहवीं शताब्दी में अहीरों ने बसाया और यह छत्रसाल बुंदेला के राज्‍य में रहा। उसने 1731 में इसे पेशवा बाजीराव को दे दिया, फिर अंग्रेजों ने इस पर कब्जा कर लिया। इस क्षेत्र में अकूत पुरा संपदा बिखरी पड़ी है। रहली का सूर्य मंदिर‎ लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। वहीं ढाना में अहीरो व हजारी घराने ने शासन किया। गढ़िया का निर्माण सन 1500 के पहले हुआ मूलतः ढाना में अहीरों का शासन था

सागर जिले में एक नई तहसील जैैसीनगर भी बनाई गई है ।

रहली धार्मिक क्षेत्र में भी अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान निभाती है। यहां पर मां हरसिद्धि रानगिर एवं टिकीटोरिया मंदिर काफी चमत्कारी व प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है जहां पर श्रद्धालु हजारों की संख्या में पहुंचते है। रहली में अनेक छोटे-छोटे उद्योग भी है जिनमें पापड़ मशीन , बीड़ी प्रिंटिंग मशीन आदि। रहली तहसील का 1 ग्राम सिमरिया नायक जो अपनी एक अलग पहचान बनाए हुए है यहां के लोगों में एक अलग सी चाहत है। यहां की आबादी लगभग 1000 नागरिकों की है यहां पर 50% मुस्लिम वर्ग वाह 50% हिंदू वर्ग निवास करते है । यहां पर करीब 10 से 11जातियों वा दो धर्मों के लोग निवास करते हैं लेकिन इन के बीच में एक अलग सा भाईचारा है जो एकता और अखंडता का सूचक है।