रसलीन (रीतिग्रंथकार कवि)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रसलीन का पूरा नाम सैयद गुलाम नबी था। ये रसलीन उपनाम से कविता लिखते थे। इनके पिता का नाम सैयद मुहम्मद बाकर था। ये हरदोई जिला के प्रसिद्ध कस्बा बिलग्राम के रहने वाले थे। इनका जन्म सन् १६८९ ई० माना जाता है। इनकी मृत्यु सन् १७५० ई० में हुयी। एक प्रसिद्ध दोहा-

अमिय, हलाहल मद भरे, सेत, स्याम, रतनार।
जियत, मरत, झुकि झुकि परत, जेहि चितवत इक बार।।

जिसे बहुधा लोग बिहारी का समझा करते हैं रसलीन का ही है। इनके लिखे दो ग्रंथ अत्यन्त प्रसिद्ध हैं- अंग दर्पण, जिसकी रचना सन् १७३७ ई० में हुई और इसमें १८० दोहे हैं। दूसरा रस प्रबोध जिसमें ११२७ दोहे हैं, इसकी रचना सन् १७४७ ई० में हुई है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. हिन्दी साहित्य कोश, भाग-२, संस्करण-१९८६, प्रकाशक-ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी, पृष्ठ- ४८०