मोहरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मोहरा
मोहरा (1994 फ़िल्म).jpg
मोहरा का पोस्टर
निर्देशक राजीव राय
निर्माता गुलशन राय
अभिनेता अक्षय कु मार
सुनील शेट्टी
नसीरुद्दीन शाह
परेश रावल
संगीतकार विजू शाह
छायाकार दामोदर नायडू
संपादक राजीव राय
वितरक त्रिमूर्ति फिल्म्स
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1 जुलाई, 1994
समय सीमा 177 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

मोहरा वर्ष 1994 की हिन्दी भाषा की राजीव राय द्वारा निर्देशित एक्शन-थ्रिलर फिल्म है। फिल्म की मुख्य भूमिकाओं में अक्षय कुमार, नसीरुद्दीन शाह, सुनील शेट्टी एवं रवीना टंडन के साथ सह-अभिनेताओं में सदाशिव अमरापुरकर, परेश रावल, रज़ा मुराद एवं गुलशन ग्रोवर आदि सम्मिलित हैं। फिल्म वर्ष 1994 की दूसरी सबसे ज्यादा व्यावसायिक रूप से सफलता अर्जित करने वाली फिल्म थी। अभिनेता अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी और परेश रावल की यह पहली फिल्म है। उनकी लोकप्रिय तिकड़ी को कई सफल फिल्मों में दोहराया गया। फिल्म की मुख्य अभिनेत्री के लिये पहले दिव्या भारती को अनुबंध किया जाना था लेकिन उनकी असमय मौत के पश्चात यह भूमिका रवीना टंडन को सौंपी गई और फिल्म के लोकप्रिय संगीत 'तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त' गीत के बाद वह 'मस्त-मस्त गर्ल' के उपनाम से मशहूर भी हुई।[1]

संक्षेप[संपादित करें]

विशाल अग्निहोत्री (सुनील शेट्टी) को चार अपराधियों के एक समूह की हत्या के लिए कैद की सजा दी गई है। उन्होंने उसकी साली का क्रूरता से बलात्कार किया था और मार डाला था। विशाल अदालत में न्याय पाने की कोशिश करता है, लेकिन असफल रहता है और भ्रष्ट वकील की मदद से पुरुषों को जेल से रिहा कर दिया जाता है। फिर अपराधी विशाल के घर जाते हैं क्योंकि उसने उनके खिलाफ मुकदमा दायर करने की कोशिश की थी। चारों अपराधी विशाल की पत्नी प्रिया (पूनम झावर) से बलात्कार करने की कोशिश करते हैं, लेकिन वह खुद को एक चाकू से मार लेती है। इस सब से नाराज विशाल इस मामले को अपने हाथों में लेने का फैसला करता है और चारों अपराधियों की हत्या कर देता है। इस अपराध के लिए उसे जेल में सजा सुनाई जाती है।

जब पत्रकार रोमा सिंह (रवीना टंडन) एक रिपोर्ट लिखने के लिए जेल जाती हैं, तो कुछ कैदी उससे बलात्कार करने की कोशिश करते हैं। इसे देखकर विशाल को अपनी दुर्भाग्य की याद आती है और वह हस्तक्षेप करता है और रोमा को बचाता है। रोमा विशाल की कहानी सुनती है और उसे जेल से मुक्त करने में मदद करने का फैसला करती है। अंधे व्यवसायी श्री जिंदल (नसीरुद्दीन शाह) द्वारा यह सब सुन लिया जाता है। वह विशाल को हिट-मैन के रूप में भर्ती करने की कोशिश करते हैं। वह चाहते हैं कि विशाल शहर में कुछ असामाजिक तत्वों को मार डालें। मुख्य रूप से दो शक्तिशाली नशीली दवाओं के व्यापारी जिब्रान (रज़ा मुराद) और टायसन (गुलशन ग्रोवर) और उनके लिए काम करने वाले सभी लोग। श्री जिंदल विशाल को बताते हैं कि इन नशीली दवाओं के मालिक सड़कों पर दवाएं लाने और स्थानीय लोगों को भ्रष्ट करके, उन चार लोगों के समूह की तरह लोगों को बनाने के लिए जिम्मेदार हैं। विशाल पहले इनकार करता है क्योंकि वह अभी जेल से बाहर निकला है और अब सामान्य जीवन जीना चाहता है। हालांकि अपने घर में जब वह अकेले दिन बिताता है, तो उसे अपनी परिवार के हत्यारों की याद आती है। फिर वह जिंदल के लिए काम करने के लिए सहमत होता है।

इंस्पेक्टर साहू (परेश रावल) बहुत लालची है और जिब्रान के लिए एक सूचनार्थी बन जाता है। वह पैसे के बदले में जिब्रान को पुलिस विभाग के सभी आंतरिक मामलों का खुलासा करता है।

पुलिस इंस्पेक्टर अमर सक्सेना (अक्षय कुमार) दवा-व्यापार संदिग्धों को पकड़ने की कोशिश कर रहा है। वह विशाल की रिहाई के बारे में नाखुश है। वह मानता है कि उसके द्वारा की गई हत्याओं के कारण वह जेल में रहने का हकदार है। चीजें और भी जटिल हो जाती हैं जब अमर को जहर-व्यापार में शामिल अपराधियों के अधिकांश हत्या दृश्यों में विशाल मिलता है। विशाल हत्या पर हत्या किये जाता है। जब तक वह महसूस नहीं करता कि आयुक्त (सदाशिव अमरापुरकर) भी सोचता है कि अज्ञात हत्यारा पुलिस की तुलना में समाज की अधिक मदद कर रहा है। विशाल आयुक्त को मारने से इंकार कर देता है। इस प्रकार वह अपने मालिक जिंदल को गुस्सा दिला देता है। विशाल तब महसूस करता है कि जिंदल अंधे नहीं है और असली खलनायक वही है। वह उसे मोहरा की तरह इस्तेमाल कर रहे थे।

जिंदल विशाल को बताता है कि जिब्रान और टायसन उसके प्रतिद्वंद्वियों थे। उसने यह भी स्वीकार किया कि उसने सच्चाई को छुपाने के लिये अपनी पत्नी पूजा (प्रिया तेंडुलकर) और इंस्पेक्टर करण सक्सेना (जो अमर के पिता थे) की हत्या कर दी थी। फिर पुलिस से बचने के लिये अंधेपन का नाटक किया।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

यह एल्बम 1994 की दूसरी सबसे ज्यादा बिकने वाली एल्बम थी। गीत "ना कजरे की धार" गीत मूल रूप से कल्याणजी-आनंदजी द्वारा रचित था। गीत मूल रूप से मुकेश द्वारा गाया गया था।

सभी गीत विजू शाह द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."दिल हर कोई"इन्दीवरकुमार सानु, अलका याज्ञिक5:04
2."काश कहीं ऐसा होता"आनंद बख्शीकुमार सानु5:05
3."तू चीज बडी है"आनंद बख्शीउदित नारायण, कविता कृष्णमूर्ति6:26
4."ना कजरे की धार"इन्दीवरपंकज उधास, साधना सरगम5:24
5."ना कजरे की तस्वीर तेरी"इन्दीवरपंकज उधास1:18
6."ना कजरे की कोई और नहीं"इन्दीवरसाधना सरगम1:18
7."सुबह से लेकर"आनंद बख्शीसाधना सरगम, उदित नारायण5:56
8."टिप टिप बरसा पानी"आनंद बख्शीअलका याज्ञिक, उदित नारायण6:03
9."मैं चीज बडी हूँ"आनंद बख्शीकविता कृष्णमूर्ति6:03
कुल अवधि:42:37

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "श्रीदेवी के ठुकराए इन रोल से सुपरस्टार बन गईं रवीना-माधुरी जैसी एक्ट्रेसेस". दैनिक भास्कर. 25 फरवरी 2018. अभिगमन तिथि 6 दिसम्बर 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]