प्रिया तेंडुलकर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
प्रिया तेंडुलकर
Priya Tendulkar
PriyaTendulkar.jpg
जन्म 19 अक्टूबर 1954
मृत्यु 19 सितम्बर 2002(2002-09-19) (उम्र 47)
मुंबई, भारत
मृत्यु का कारण दिल का दौरा
जीवनसाथी करन राजदान (1988; 1995)

भारत की पहली टीवी स्टार[1] प्रिया तेंडुलकर ने अनेक फिल्मों व टीवी धारावाहिकों में भूमिका निभाई पर संभवतः वे संपूर्ण जीवन अपने सबसे पहले टीवी अवतार "रजनी" के नाम से ही बेहतर पहचानी जाती रहीं। 1985 में निर्मित व बासू चटर्जी द्वारा निर्देशित इस धारावाहिक में उन्होंने भ्रष्टाचार और सामाजिक बुराइयों के खिलाफ बेखौफ आवाज़ उठाने वाली एक साधारण गृहणी का किरदार निभाया था। वह लेखिका भी थी।

प्रिया प्रसिद्ध नाटककार विजय तेंडुलकर की सुपुत्री थीं। उनका जन्म 19 अक्टुबर, 1954 को हुआ, उनकी दो बहनें और एक भाई था। प्रिया का विवाह अभिनेता व लेखक करण राजदान से 1988 में हुआ। पर यह विवाह सात साल ही चल सका और इसके बाद उनका संबंध विच्छेद हो गया। करण व प्रिया ने "रजनी" और "किस्से मियाँ बीवी के" धारावाहिकों में पती पत्नी के वास्तविक जीवन के किरदार भी निभाये। 1974 में श्याम बेनेगल की फिल्म अंकुर में निभाई भूमिका के कारण प्रिया के अभिनेता अनंत नाग से भी संबंध जोड़े जाते रहे।[2]

प्रिया का प्रारंभ से ही अभिनय की और झुकाव था। 1939 में जब वे स्कूल में थीं, उन्होंने सत्यदेव दुबे के निर्देशन तले गिरीश कर्नाड के लिखे पौराणिक नाटक "हयवदन" में गुड़िया की भूमिका निभाई। इस नाटक में निर्देशिका कल्पना लाज़मी उनकी सह कलाकार थीं। इसके बाद पिग्मेलियन, अंजी, कमला, कन्यादान, सखाराम बाइंडर, ती फूलराणी, एक हठी मुलगी जैसे अनेकों मराठी नाटकों में उन्होंने भूमिकायें कीं। प्रिया ने टीवी पर जहाँ गुलज़ार निर्देशित स्वयंसिद्ध जैसे नारीवादी धारावाहिक में काम किया वहीं "हम पाँच" जैसे हास्य धारावाहिक में फोटो फ्रेम से बोलती मृत बीवी की भूमिका भी अदा की और "द प्रिया तेंडुलकर शो" और "ज़िम्मेदार कौन" जैसे सफल टॉक शो भी किये जिसमें वे काफी आक्रामक तेवर के लिये जानी जाती थीं। अंकुर, मोहरा और त्रिमूर्ती जैसी कुछ हिन्दी फिल्मों में भी उन्होंने काम किया पर कोई उल्लेखनीय भूमिकायें नहीं।

शायद "रजनी" के किरदार और अपने पिता का ही प्रभाव था कि प्रिया सामाजिक मुद्दों के प्रति सदा जागरूक रहीं। उनका व्यक्तित्व खुला और साहसी था। "द प्रिया तेंडुलकर शो" की बुलंदी पर शिवसेना समेत कई राजनीतिक दलों ने उन्हें अपने दल में शामिल करने का प्रयास किया पर वे मन नहीं बना पाईं।[3]

वे स्वयं लघु कथायें लिखती रहती थीं। ज्याचा त्याचा प्रश्न, जन्मलेला प्रत्येकला, असंहीपंचतारांकित उनकी कुछ कृतियाँ हैं, जिनमें से कुछ पुरस्कृत भी हुईं।

19 सितंबर, 2002 में 47 वर्ष की अल्पायु में उनका हृदयाघात से देहांत हो गया। वे कुछ समय कैंसर से भी लड़ती रहीं। उनकी असमय मृत्यु पर तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा, "रजनी के रूप में उनकी जिहादी भूमिका ने अनेक सामाजिक मुद्दों को मुखरित किया"।

उनका अभिनय सफर[संपादित करें]

  • 1974 - अंकुर
  • 1978 - देवता
  • 1983 - माहेरची मानसे, रानीने दाव जिंकाला
  • 1984 - गोंघळत गोंधळ
  • 1985 - मुम्बईचा फौजदार, रजनी (टीवी धारावाहिक)
  • 1987 - कालचक्र
  • 1988 - किस्से मियाँ बीवी के (टीवी धारावाहिक)
  • 1989 - एक शून्य (टीवी धारावाहिक)
  • 1990 - घर (टीवी धारावाहिक)
  • 1994 - मोहरा
  • 1995 - त्रिमूर्ति
  • 1996 - द प्रिया तेंदुलकर शो (टीवी टॉक शो)
  • 1997 - और प्यार हो गया, ज़िम्मेदार कौन (टीवी टॉक शो), गुप्त, हम पाँच (टीवी धारावाहिक)
  • 2000 - राजा को रानी से प्यार हो गया
  • 2001 - प्यार इश्क और मुहब्बत

पुस्तक[संपादित करें]

  • पंचतारांकित - अनुभव प्रधान लेखन २००६, डिंपल प्रकाशन और राजहंस प्रकाशन पुणे, भारत. ISBN ८१-७४३४-२३२-X
  • असंही -
  • ज्याचा त्याचा प्रश्न

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]