मेनका

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मेनका
Menaka Vishwamitra by RRV.jpg
अप्सरा ऋषि विश्वामित्र की तपस्या भंग करते हुए।

मेनका स्वर्गलोक की छह सर्वश्रेष्ठ अप्सराओं में से एक है। यह उल्लेख किया गया है कि उसने ऋषि विश्वामित्र की तपस्या भँंग की। मेनका को स्वर्ग की सबसे सुन्दर अप्सरा माना जाता था।

मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी। अर्जुन के जन्म समारोह तथा स्वागत में इसने नृत्य किया था। अपूर्व सुंदरी होने से पृषत् इस पर मोहित गया जिससे द्रुपद नामक पुत्र उत्पन्न हुआ। इंद्र ने विश्वामित्र को तप भ्रष्ट करने के लिये इसे भेजा था जिसमे यह सफल हुई और इसने एक कन्या को जन्म दिया। उसे यह मालिनी तट पर छोड़कर स्वर्ग चली गई। शकुन पक्षियों द्वारा रक्षित एवं पालित होने के कारण महर्षि कण्व ने उस कन्या को शकुन्तला नाम दिया जो कालान्तर में दुष्यन्त की पत्नी और भरत की माता बनी।

सन्दर्भ[संपादित करें]

मेनका अप्सरा को इंद्र ने वृषि विश्वमित्रको उनकी तपस्या भंग करने को भेजा था। मेनका ने जब वृषि विश्वामित्र की तपस्या भंग की थी तब विश्वमित्रने मेनका को श्राफ दिया। कुछ दिन बाद मेनका ने विश्वामित्र के पुत्र को जन्म दिया। मेनका ने उस पुत्र को जंगल में छोड़ दिया था।