भिवानी जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भिवानी
भ्याणी • Bhiwani
छोटी काशी
—  जिला  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य हरियाणा
ज़िला भिवानी
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर
जनसंख्या 1,69,424
आधिकारिक भाषा(एँ) हरियाणवी, हिंदी, अंग्रेजी
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 225 मीटर (738 फी॰)

निर्देशांक: 28°47′N 76°08′E / 28.78°N 76.13°E / 28.78; 76.13 भिवानी भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला है जिसका मुख्यालय भिवानी है। क्षेत्रफल की दृष्टि से यह हरियाणा का सबसे बड़ा जिला है। इसकी स्थापना 22 दिसम्बर, 1972 को हुई थी जब इसे हिसार से अलग कर दिया गया था। इसके जिला मुख्यालय का नाम भी भिवानी ही है। इसका क्षेत्रफल 5140 वर्ग किमी है। 442 गावों को समेटे इस जिले की जनसँख्या 1,425, 022 है जो जनसंख्या की दृष्टि से भिवानी को हरियाणा में तीसरा बड़ा जिला बना देता है (पहले और दुसरे पर क्रमशः फरीदाबाद और हिसार हैं)। जिला मुख्यालय भिवानी भारत की राजधानी दिल्ली से 124 किलोमीटर दूर है।

भिवानी के उत्तर में हिसार, पूर्व में रोहतक, दक्षिण में महेंद्रगढ़, दक्षिण पूर्व में रेवाड़ी तथा पशिम और दक्षिण पश्चिम में राजस्थान है। ये हरियाणा के सबसे नीचे जल स्तर के जिलों में आता है।

नामकरण[संपादित करें]

भिवानी जिले का नाम इसके मुख्यालय के नाम से लिया गया है। इस सम्बन्ध में ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य यह है कि ये राजपूत रानी 'भानी' के नाम से सम्बंधित है।

इतिहास[संपादित करें]

भिवानी के एक गाँव, मीताथल में की गयी खुदाई से प्राप्त प्रमाण बताते हैं कि यह स्थान हडप्पा संस्कृति के समय से ही आबाद था। भिवानी के समीप नौरंगाबाद गाँव में की गयी खुदाई के दौरान प्राप्त वस्तुएं लगभग ढाई हज़ार साल पुरानी हैं। आइन-ए-अकबरी में भिवानी शहर का ज़िक्र मिलता है।

तहसील[संपादित करें]

भिवानी में पाँच तहसील हैं - भिवानी, बवानी खेड़ा, तोशाम, लोहारू और सिवानी।

कृषि[संपादित करें]

अधिकाँश लोगों का व्यवसाय कृषि है। यहाँ की फ़सल बाजरा मुख्या है। इसके अलावा ज्वार, गेहूँ, गन्ना, सरसों, धान और चना है। भिवानी के दक्षिणी इलाके थार रेगिस्तान के संपर्क में आते हैं। अतः वहाँ पर बालू मिटटी अधिक है। अतः वहाँ पर पानी की पूर्ती भूमिगत जल को निकाल कर की जाती है जहाँ सूखे कूएँ दो सौ फीट की गहराई तक जाते हैं जिनमें पानी की मोटर स्थायी रूप से रख दी जाती है। बाकी स्थानों पर हरियाणा सरकार द्वारा प्रदान की गयी नहर की सेवा ज़मीन को उपजाऊ बनाये रखने में मदद करती है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]